1952 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1952 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

खेलो रंग हमारे संग - Khelo Rang Hamare Sang (Shamshad, Lata, Aan)



Movie/Album: आन (1952)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: शमशाद बेगम, लता मंगेशकर

खेलो रंग हमारे संग
आज दिन रंग रंगीला आया

नज़र नज़र में रिमझिम रिमझिम
रंग अनोखा बरसे
कैसे मैं खेलूं खाक
मेरा दिल पिया मिलन को तरसे

देख मेरी चुनरी सखी धानी हैं
खो ना कहीं देना
ये प्यार की निशानी हैं
मैं हूँ तेरे संग बलम तु है मेरे संग
रंग डालो रंग डालो रंग
खेलो रंग हमारे संग...

आओ आओ सजन हमरे द्वार
रंग डालूंगी तुम पर हज़ार
आज कोई राजा न आज कोई रानी है
प्यार भरे जीवन की एक ही कहानी है
आई खुशी साथ लिए दिल के नए ढंग
रंग डालो रंग डालो रंग...


दूर कोई गाये - Door Koi Gaaye (Shamshad Begum, Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Baiju Bawra)



Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By: नौशाद
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: शमशाद बेगम, मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

दूर कोई गाये, धून ये सुनाये
तेरे बिन छलिया रे, बाजे ना मुरलिया रे

मन के अंदर प्यार की अगनी
नैना खोये खोये, कि अरे रामा नैना खोये खोये
अभी से है ये हाल, तो आगे ना जाने क्या होये
नींद नहीं आये, बिरहा सताये
तेरे बिन छलिया रे...

मोरे अंगना लाज का पहरा
पाँव पड़ी जंजीर, कि अरे रामा पाँव पड़ी जंजीर
याद किसी की जब जब आये, लागे जिया पे तीर
आँख भर आये, जल बरसाये
तेरे बिन छलिया रे...


इन्सान बनो - Insaan Bano (Md.Rafi, Baiju Bawra)



Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By: नौशाद
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफी

निर्धन का घर लूटने वालों, लूट लो दिल का प्यार
प्यार वो धन है जिस के आगे, सब धन हैं बेकार

इन्सान बनो, इन्सान बनो, कर लो भलाई का कोई काम
दुनियाँ से चले जाओगे, रह जायेगा बस नाम

इस बाग में सूरज भी निकलता हैं लिए गम
फूलों की हंसी देख के रो देती है शबनम
कुछ देर की खुशियाँ हैं, तो कुछ देर का मातम
किस नींद में हो जागो, ज़रा सोच लो अंजाम
इन्सान बनो...

लाखों यहाँ शान अपनी दिखाते हुए आये
दम भर के लिए नाच गये धूप में साये
वो भूल गये थे के ये दुनियाँ हैं सराये
आता है कोई सुबह, तो जाता है कोई शाम
इंसान बनो...

क्यों तुमने लगाए हैं यहाँ ज़ुल्म के ढेरे
धन साथ ना जायेगा, बने क्यों हो लुटेरे
पीते हो ग़रीबों का लहू शाम सवेरे
खुद पाप करो, नाम हो शैतान का बदनाम
इंसान बनो...


झूले में पवन के - Jhoole Mein Pawan Ke (Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Baiju Bawra)



Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By:
नौशाद अली
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: लता मंगेशकर, मो.रफ़ी

झूले में पवन के आई बहार
नैनों में नया रंग लाई बहार
प्यार छलके, हो प्यार छलके
डोले मन मोरा सजना, डोले मन मोरा
हो जी हो
डोले मन मोरा सजना
चूनरिया बार-बार ढलके
झूले में पवन के...

मेरी तान से ऊँचा, तेरा झूलना गोरी
मेरे झूलने के संग तेरे प्यार की डोरी
तू है जीवन सिंगार. प्यार छलके
झूले में पवन के...

बादल झूमते आये, गागर प्यार की लाये
कोयल कूकती जाये, बन में मोर भी गाये
छेड़ें हम-तुम मल्हार, प्यार छलके
झूले में पवन के...


ऐ मेरे दिल कहीं और चल - Ae Mere Dil Kahin Aur Chal (Talat, Lata, Daag)



Movie/Album: दाग (1952)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: तलत महमूद, लता मंगेशकर

ऐ मेरे दिल कहीं और चल
ग़म की दुनिया से दिल भर गया
ढूंढ ले अब कोई घर नया
ऐ मेरे दिल कहीं...

चल जहाँ गम के मारे न हों
झूठी आशा के तारे न हों
इन बहारों से क्या फ़ायदा
जिसमें दिल की कलि जल गई
ज़ख़्म फिर से हरा हो गया
ऐ मेरे दिल कहीं...

चार आँसू कोई रो दिया
फेर के मुँह कोई चल दिया
लुट रहा था किसी का जहां
देखती रह गई ये ज़मीं
चुप रहा बेरहम आसमां
ऐ मेरे दिल कहीं...


मान मेरा एहसान - Maan Mera Ehsaan (Md.Rafi, Aan)



Movie/ Album: आन (1952)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकिल बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

मान मेरा एहसान, अरे नादान
कि मैंने तुझसे किया है प्यार
मेरी नज़र की धूप, न भरती रूप
तो होता हुस्न तेरा बेकार
मैंने तुझसे किया है प्यार...

उल्फ़त न सही, नफ़रत ही सही
इसको भी मुहब्बत कहते हैं
तू लाख छुपाए भेद
मगर हम दिल में समाए रहते हैं
तेरे भी दिल में आग उठी है जाग
ज़बाँ से चाहे न कर इक़रार
मैंने तुझसे किया...

अपना न बना लूँ तुझको अगर
इक रोज़ तो मेरा नाम नहीं
पत्थर का जिगर पानी कर दूँ
ये तो कोई मुश्किल काम नहीं
छोड़ दे अब ये खेल, तू कर ले मेल मेरे संग
मान ले अपनी हार
मैंने तुझसे किया...
मान मेरा एहसान...


आज मेरे मन में सखी - Aaj Mere Mann Mein Sakhi (Lata Mangeshkar, Aan)



Movie/ Album: आन (1952)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकिल बदायुनी
Performed By: लता मंगेशकर

आज मेरे मन में सखी
बाँसुरी बजाए कोई
आज मेरे मन में
आज मेरे मन में सखी
बाँसुरी बजाए कोई
प्यार भरे गीत सखी
बार-बार गाए कोई
बाँसुरी बजाए...
बाँसुरी बजाए सखी गाए सखी रे
कोई छैलवा हो
कोई अलबेलवा हो, कोई छैलवा हो

रंग मेरी जवानी का लिए
झूमता घर आया है सावन
हो सखी , हो रे सखी आया है सावन
मेरे नैनों में है साजन
इन ऊदी घटाओं में, हवाओं में
सखी नाचे मेरा मन
हो आँगन में, सावन मन-भावन हो जी
दिल के हिण्डोले पे मोहे झूले न झुलाए कोई
प्यार भरे गीत सखी...

कहता है इशारों में कोई
आ मोहे अम्बुआ के तले मिल
भला वो कौन है घायल
मैं नाम ना लूँ आज लगे लाज
सखी धड़के मेरा दिल
हो सखी धड़के मेरा दिल
हो आँगन में, सावन मन-भावन हो जी
तारों पे जीवन के मधुर रागिनी सुनाए कोई
प्यार भरे गीत सखी...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com