1954 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1954 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

इन्साफ का मंदिर है ये - Insaf Ka Mandir Hai Ye (Md.Rafi, Amar)



Movie/Album: अमर (1954)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

इन्साफ का मंदिर है ये भगवान का घर है
कहना है जो कह दे तुझे किस बात का डर है

है खोट तेरे मन मे जो भगवान से है दूर
है पाँव तेरे फिर भी तू आने से है मजबूर
हिम्मत है तो आजा, ये भलाई की डगर है
इन्साफ का मंदिर है...

दुःख दे के जो दुखिया से ना इन्साफ करेगा
भगवान भी उसको ना कभी माफ़ करेगा
ये सोच ले हर बात की दाता को खबर है
हिम्मत है तो आजा, ये भलाई की डगर है
इन्साफ का मंदिर है...

है पास तेरे जिसकी अमानत उसे दे दे
निर्धन भी है इंसान, मोहब्बत उसे दे दे
जिस दर पे सभी एक हैं बन्दे, ये वो दर है
इन्साफ का मंदिर है...

मायूस ना हो हार के तक़दीर की बाज़ी
प्यारा है वो गम जिसमें हो भगवान भी राज़ी
दुःख दर्द मिले जिसमें, वही प्यार अमर है
ये सोच ले हर बात की दाता को खबर है
इन्साफ का मंदिर है...


चन्दन का पलना - Chandan Ka Palna (Hemant Kumar, Lata Mangeshkar)



Movie/Album: शबाब (1954)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: हेमंत कुमार, लता मंगेशकर

चन्दन का पलना, रेशम की डोरी
झूला झुलाऊँ निंदिया को तोरी
चन्दन का पलना...

सो जा तू ऐसे मोरी सजनिया
सजिया पे सोये जैसे दुल्हनिया
चन्दा का टीका माथे लगाऊँ
तारों की माला तुझको पिहनाऊँ
तोहे सुलाऊँ गा गा के लोरी
झूला झूलाऊँ निंदिया को तोरी
चन्दन का पलना...

ऊँचे गगन से कोई बुलाये
आई हैं परियां डोला सजाये
साजन से मिलने दूर चली जा
उड़के तू निंदिया फूर चली जा
चन्दा पुकारे आजा चकोरी
झूला झूलाऊँ निंदिया को तोरी
चन्दन का पलना...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com