1967 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1967 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

ज़माने ने मारे - Zamane Ne Maare (Md.Rafi)



Movie/Album: बहारों के सपने (1967)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानुरी
Performed By: मो.रफ़ी

ज़माने ने मारे जवाँ कैसे-कैसे
ज़मीं खा गई आसमाँ कैसे-कैसे
पले थे जो कल रंग में धूल में
हुए दर-ब-दर कारवाँ कैसे-कैसे
ज़माने ने मारे...

हज़ारों के तन कैसे शीशे हों चूर
जला धूप में कितनी आँखों का नूर
चेहरे पे ग़म के निशाँ कैसे-कैसे
ज़माने ने मारे...

लहू बन के बहते वो आँसू तमाम
कि होगा इन्हीं से बहारों का नाम
बनेंगे अभी आशियाँ कैसे-कैसे
ज़माने ने मारे...


आजा पिया तोहे - Aaja Piya Tohe Pyar (Asha Bhosle)



Movie/Album: बहारों के सपने (1967)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: आशा भोंसले

आजा पिया, तोहे प्यार दूँ
गोरी बय्याँ, तोपे वार दूँ
किसलिए तू, इतना उदास?
सूखे सूखे होंठ, अखियों में प्यास
किसलिए, किसलिए?
आजा पिया...

जल चुके हैं बदन कई, पिया इसी रात में
थके हुए इन हाथों को, दे दे मेरे हाथ में
सुख मेरा ले ले, मैं दुःख तेरे ले लूं
मैं भी जीयूं, तू भी जिए
आजा पिया...

होने दे रे, जो ये जुल्मी है, पथ तेरे गाँव के
पलकों से छू डालूँगी मैं, कांटे तेरे पाँव के
लट बिखराए, चुनरियाँ बिछाए
बैठी हूँ मैं, तेरे लिए
आजा पिया...

अपनी तो, जब अखियों से, बह चलें धार के
खिल पडी, वही एक हसीं, पिया तेरे प्यार के
मैं जो नहीं हारी, सजन ज़रा सोचो
किसलिए, किसलिए?
आजा पिया...


चुनरी संभाल गोरी - Chunri Sambhal Gori (Manna Dey, Lata Mangeshkar)



Movie/Album: बहारों के सपने (1967)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: मन्ना डे, लता मंगेशकर

चुनरी सम्भाल गोरी, उड़ी चली जाए रे
मार न दे डंक कहीं, नज़र कोई हाय
देख देख पग न फिसल जाए रे

फिसलें नहीं चल के, कभी दुख की डगर पे
ठोकर लगे हँस दें, हम बसने वाले, दिल के नगर के
अरे, हर कदम बहक के सम्भल जाए रे!

किरणें नहीं अपनी, तो है बाहों का सहारा
दीपक नहीं जिन में, उन गलियों में है हमसे उजाले
अरे, भूल ही से चाँदनी खिल जाए रे!

पल छिन पिया पल छिन, अँखियों का अंधेरा
रैना नहीं अपनी, पर अपना होगा कल का सवेरा
अरे, रैन कौन सी जो न ढल जाए रे!


बोल गोरी बोल - Bol Gori Bol (Mukesh, Lata, Milan)



Movie/Album: मिलन (1967)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मुकेश, लता मंगेशकर

बोल गोरी बोल तेरा कौन पिया
कौन है वो तूने जिसे प्यार किया
बोल गोरी बोल...
अरे, तू जाने ना उसका नाम
हर सुबह, हर शाम
दुनिया ने उसी का नाम लिया
बोल तू ही बोल मेरा कौन पिया
बोल गोरी बोल...

है कौन सारे जग से निराला
कोई निशानी बतलाओ बाला
उसकी निशानी वो भोला-भाला
उसके गले में सर्पों की माला
वो कई हैं जिसके रूप
कहीं छाँव कहीं धूप
तेरा साजन है या बहुरूपिया
बोल गोरी बोल...

मन उसका मंदिर, प्राण पुजारी
घोड़ा न हाथी अरे बैल सवारी
कैलाश परबत का वो तो जोगी
अच्छा वही दर-दर का भिखारी
हाँ वो है भिखारी ठीक, लेके भक्ति की भीख
बदले में जगत को मोक्ष दिया
बोल तू ही बोल...

मैं जिसको भाऊँ जो मुझको भाए
इक दोष तो कोई उसमें बताए
तू जिसपे मरती है हाय
वो जटाओं में गंगा बहाए
दो दिन का है साथ युग-युग से मेरी बात
मैं हूँ बाती तू दीया
बोल तू ही बोल...


दीवानों से ये मत पूछो - Deewanon Se Ye Mat Poocho (Mukesh)



Movie/Album: उपकार (1967)
Music By: कल्याणजी आनंदजी
Lyrics By: कमर जलालाबादी
Performed By: मुकेश

दीवानों से ये मत पूछो
दीवानों पे क्या गुज़री है
हाँ उनके दिलों से ये पूछो
अरमानों पे क्या गुज़री है
दीवानों से ये...

औरों को पिलाते रहते हैं
और ख़ुद प्यासे रह जाते हैं
ये पीने वाले क्या जाने
पैमानों पे क्या गुज़री है
दीवानों से ये..

मालिक ने बनाया इन्सां को
इनसान मुहब्बत कर बैठा
वो ऊपर बैठा क्या जाने
इनसानों पे क्या गुज़री है
दीवानों से ये...


कसमें वादे प्यार वफ़ा सब - Kasme Waade Pyar Wafa Sab (Manna Dey, Upkar)



Movie/Album: उपकार (1967)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: मन्ना डे

कसमें वादे प्यार वफ़ा सब
बातें हैं बातों का क्या
कोई किसी का नहीं ये झूठे
नाते हैं नातों का क्या
कसमें वादे प्यार वफ़ा...

होगा मसीहा सामने तेरे
फिर भी न तू बच पायेगा
तेर अपना खून ही आखिर
तुझको आग लगायेगा
आसमान में उड़ने वाले
मिट्टी में मिल जायेगा
कसमें वादे प्यार वफ़ा...

सुख में तेरे साथ चलेंगे
दुख में सब मुख मोड़ेंगे
दुनिया वाले तेरे बनकर
तेरा ही दिल तोड़ेंगे
देते हैं भगवान को धोखा
इन्सां को क्या छोड़ेंगे
कसमें वादे प्यार वफ़ा...

काम अगर ये हिन्दू का है
मंदिर किसने लूटा है
मुस्लिम का है काम अगर ये
खुदा का घर क्यूँ टूटा है
जिस मज़हब में जायज़ है ये
वो मज़हब तो झूठा है
कसमें वादे प्यार वफ़ा...


चले जाना ज़रा ठहरो - Chale Jaana Zara Thahro (Mukesh, Sharda, Around the World)



Movie/Album: अराउंड द वर्ल्ड (1967)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: शारदा राजन इयेंगर, मुकेश

चले जाना ज़रा ठहरो
किसी का दम निकलता है
ये मंज़र देखकर जाना
चले जाना ज़रा...

अभी आए हो बैठो तो, ये मौसम भी सुहाना है
अभी तो हाल-ए-दिल तुमको निगाहों से सुनाना है
नज़र प्यासी, ये दिल प्यासा
किसी का दम...

हसीं झरनों के साये में, अकेला छोड़ जाते हो
हमारे दिल को आख़िर किसलिए तुम तोड़ जाते हो
ज़रा दम लो, कहा मानो
किसी का दम...

हमारी जान हो तुम भी, अगर चल दीं तो फ़िर क्या है
तुम्हारे बिन, बहारों में, ख़ुशी क्या है, मज़ा क्या है
ओ जान-ए-मन न जाओ तुम
किसी का दम...

क़सम खाती हूँ मैं अपनी, तुम्हें अब ना सताऊँगी
तुम्हारी बात जो भी हो, वही मैं मान जाऊँगी
भरी आँखें, रुकी सासें
किसी का दम...


नज़र न लग जाए - Nazar Na Lag Jaaye (Md.Rafi)



Movie/Album: नाईट इन लन्दन (1967)
Music By: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मो.रफ़ी

नज़र न लग जाए किसी की राहों में
छुपा के रख लूँ आ तुझे निगाहों में
तू खो न जाए
ओ माई लव
नज़र न लग जाए...

देखकर तेरी तरफ़ बहार
आज हो रही है बेक़रार
छू रहे हैं फूल यूँ तुझे
जैसे हो इन्हें भी तुझसे प्यार
ये हो न जाए
ओ माई लव
नज़र न लग जाए...

ऐ मेरी हसीन दिलरुबा
मेरे दिल में छुप के बैठ जा
तुझमें मुझमें फ़र्क ना रहे
आ क़रीब आ क़रीब आ
तू खो न जाए
ओ माई लव
नज़र न लग जाए ...

सामने जो एक तू न हो
दिल में कोई आरज़ू न हो
मंज़िलें हज़ार हों मगर
मंज़िलों की जुस्तजू न हो
ये हो न जाए
ओ माई लव
नज़र न लग जाए ...


रुला के गया सपना मेरा - Rula Ke Gaya Sapna Mera (Lata Mangeshkar, Jewel Thief)



Movie/Album: जुअल थीफ (1967)
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: लता मंगेशकर

रुला के गया सपना मेरा
बैठी हूँ कब हो सवेरा
रुला के गया सपना...

वही है ग़म-ए-दिल, वही है चंदा-तारे
वही हम बेसहारे
आधी रात वही है, और हर बात वही है
फिर भी न आया लुटेरा
रुला के गया सपना...

कैसी ये ज़िंदगी, कि साँसों से हम ऊबे
कि दिल डूबा, हम डूबे
इक दुखिया बेचारी, इस जीवन से हारी
उस पर ये ग़म का अन्धेरा
रुला के गया सपना...


आसमां के नीचे, हम आज अपने पीछे - Aasmaan Ke Neeche, Hum Aaj Apne Peeche (Jewel Thief, Kishore, Lata)



Movie/Album: जुअल थीफ (1967)
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

आसमाँ के नीचे, हम आज अपने पीछे
प्यार का जहां, बसा के चले
कदम के निशाँ, बना के चले

तुम चले तो फूल जैसे आँचल के रँग से
सज गई राहें, सज गई राहें
पास आओ मैं पहना दूँ, चाहत का हार ये
खुली खुली बाहें, खुली खुली बाहें
जिसका हो आँचल खुद ही चमन
कहिये, वो क्यूँ, हार बाहों के डाले
आसमाँ के नीचे...

बोलती हैं आज आँखें कुछ भी न आज तुम
कहने दो हमको, कहने दो हमको
बेखुदी बढ़ती चली है, अब तो ख़ामोश ही
रहने दो हमको, रहने दो हमको
एक बार, एक बार, मेरे लिये
कह दो, खनकें, लाल होंठों के प्याले
आसमाँ के नीचे...

साथ मेरे चलके देखो आई हैं धूम से
अब की बहारें, अब की बहारें
हर गली हर मोड़ पे वो दोनों के नाम से
हमको पुकारे, तुमको पुकारे
कह दो बहारों से, आएँ इधर
उन तक, उठकर, हम नहीं जाने वाले
आसमाँ के नीचे...


ऐसा मौका फिर कहाँ मिलेगा - Aisa Mauka Fir Kahan Milega (Md.Rafi, An Evening In Paris)



Movie/Album: ऐन इवनिंग इन पैरिस (1967)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: मो.रफ़ी

अजी ऐसा मौका फिर कहाँ मिलेगा
हमारे जैसा दिल कहाँ मिलेगा
आओ तुमको दिखलाता हूँ
पैरिस की एक रंगीं शाम
देखो देखो देखो देखो देखो
An Evening in Paris

देखो ये परियों की टोली
मीठी मीठी जिनकी बोली
क्या क्या दिल पर रंग जमाए
जलवों की ये आँख मिचौली
अजी ऐसा मौका...

हाथों में हाथों को डाले
फिरते हैं आशिक़ निराले
ढूँढो यहाँ तुम भी साथी
मिल जाएंगे हुस्न वाले
अजी ऐसा मौका...

अपने दिल का दामन भर लो
मर जाओगे प्यार कर लो
कल का सपना किसने देखा
इन राहों से आज गुज़र लो
अजी ऐसा मौका...


अकेले अकेले कहाँ जा रहे हो - Akele Akele Kahan Ja Rahe Ho (Md.Rafi, An Evening In Paris)



Movie/Album: ऐन इवनिंग इन पेरिस (1967)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: मो.रफ़ी

अकेले अकेले कहाँ जा रहे हो
हमें साथ ले लो जहाँ जा रहे हो
अकेले अकेले कहाँ...

कोई मिट रहा है, तुम्हें कुछ पता है
तुम्हारा हुआ है, तुम्हें कुछ पता है
ये क्या माज़रा है, तुम्हें कुछ पता है
अकेले अकेले कहाँ...

तड़पता ना छोड़ो, मेरी जान हो तुम
ये मुखड़ा ना मोड़ो, मेरी जान हो तुम
मेरा दिल ना तोड़ो, मेरी जान हो तुम
अकेले अकेले कहाँ...

कोई रोक लेगा, तो फिर क्या करोगे
कदम थाम लेगा, तो फिर क्या करोगे
खुशामद करेगा, तो फिर क्या करोगे
अकेले अकेले कहाँ...


दीवाने का नाम तो पूछो - Deewane Ka Naam To Poocho (Md.Rafi, An Evening In Paris)



Movie/Album: ऐन इवनिंग इन पैरिस (1967)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: मो.रफ़ी

दीवाने का नाम तो पूछो
प्यार से देखो, काम तो पूछो
चाहे फिर न मिलना
दीवाने का नाम...

गुस्सा छोड़ो, बात तो मानो
इस बन्दे को अपना जानो
दूर से धोखा हो सकता था
पास हूँ अब तो अब पहचानो
दीवाने का नाम तो पूछो...

हट गया आखिर भरम का साया
अब समझा मैं, अब याद आया
ख़्वाब में तुमको, अक़्सर देखा
आज मुजस्सिम सामने आया
दीवान का नाम तो पूछो...

ये पैरिस की शाम सुहानी
प्यार की नगरी, रूप की रानी
बन के रहेगा कोई अफ़साना
छिड़ के रहेगी कोई कहानी
दीवाने का नाम तो पूछो...


रात के हमसफ़र - Raat Ke Humsafar (Md.Rafi, Asha Bhosle, An Evening In Paris)



Movie/Album: ऐन इवनिंग इन पेरिस (1967)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: मो.रफ़ी, आशा भोंसले

रात के हमसफ़र, थक के घर को चले
झूमती आ रही है सुबह प्यार की
देख कर सामने, रूप की रोशनी
फिर लुटी जा रही है सुबह प्यार की

सोने वालों को हँसकर जगाना भी है
रात के जागतों को सुलाना भी है
दिल की है जागने की सदा साथ ही
लोरियाँ गा रही हैं सुबह प्यार की
रात के हमसफ़र...

रात ने प्यार के जाम भर कर दिए
आँखों-आँखों से जो मैंने तुमने पिए
होश तो अब तलक जा के लौटे नहीं
और क्या ला रही है सुबह प्यार की
रात के हमसफ़र...

क्या-क्या वादे हुए किसने खाई कसम
इस नयी राह पर हमने रखे कदम
छुप सका प्यार कब हम छुपाएँ तो क्या
सब समझ पा रही है सुबह प्यार की
रात के हमसफ़र...


आसमान से आया फ़रिश्ता - Aasmaan Se Aaya Farishta (Md.Rafi, An Evening In Paris)



Movie/Album: ऐन इवनिंग इन पैरिस (1967)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: मो.रफ़ी, शर्मीला टैगोर

आसमान से आया फ़रिश्ता
प्यार का सबक सिखलाने
दिल में है तसवीर यार की
लाया हूँ वो दिखलाने
कहो प्यार है तुम से (जा जा)
ओ जाना कहो प्यार है तुम से (जा जा जा)

सीखो, ज़रा सीखो, अंदाज़ प्यार का हमसे तुम
कर लो, अजी कर लो, इक़रार प्यार का हमसे तुम
आसमान से आया फ़रिश्ता...

दिलबर तेरी ख़ातिर, मैं चाँद छोड़ कर आया हूँ
देने नज़राना, मैं अपने प्यार को लाया हूँ
आसमान से आया फ़रिश्ता...

साया हूँ मैं तेरा, तेरे साथ-साथ ही आऊँगा
आशिक़ हूँ मैं तेरा, बाहों से बाँध ले जाऊँगा
आसमान से आया फ़रिश्ता...


हम इंतज़ार करेंगे - Hum Intezaar Karenge (Asha Bhosle, Md.Rafi, Bahu Begum)



Movie/Album: बहु बेगम (1967)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: आशा भोंसले, मो.रफ़ी

हम इंतज़ार करेंगे तेरा क़यामत तक
ख़ुदा करे के क़यामत हो, और तू आए

ये इंतज़ार भी एक इम्तिहां होता है
इसी से इश्क़ का शोला जवां होता है
ये इंतज़ार सलामत हो और तू आए
ख़ुदा करे कि...

बिछाए शौक़ से, सिजदे वफ़ा की राहों में
खड़े हैं दीप की हसरत लिए निगाहों में
क़ुबूल-ए-दिल की इबादत हो और तू आए
ख़ुदा करे कि...

वो ख़ुशनसीब है जिसको तू इंतख़ाब करे
ख़ुदा हमारी मोहब्बत को क़ामयाब करे
जवां सितारा-ए-क़िस्मत हो और तू आए
ख़ुदा करे कि...


तौबा ये मतवाली चाल - Tauba Ye Matwali Chaal (Mukesh, Patthar Ke Sanam)



Movie/Album: पत्थर के सनम (1967)
Music By: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: मुकेश

तौबा ये मतवाली चाल, झुक जाए फूलों की डाल
चाँद और सूरज आकर माँगें, तुझसे रँग-ए-जमाल
हसीना तेरी मिसाल कहाँ

सितम ये अदाओं की रानाइयाँ हैं
कयामत है क्या तेरी अँगड़ाइयाँ हैं
बहार-ए-चमन हो, घटा हो धनक हो
ये सब तेरी सूरत की परछाईयाँ हैं
के तन से, उड़ता गुलाल कहाँ
तौबा ये मतवाली चाल...

हूँ मैं भी दीवानों का इक शाहज़ादा
तुझे देखकर, हो गया कुछ ज़्यादा
ख़ुदा के लिए मत बुरा मान जाना
ये लब छू लिये हैं, यूँ ही बे-इरादा
नशे में इतना ख़याल कहाँ
तौबा ये मतवाली चाल...

यही दिल में है तेरे नज़दीक आ के
मिलूँ तेरे पलकों पे पलके झुका के
जो तुझसा हसीं सामने हो तो कैसे
चला जाऊँ पहलू में दिल को दबा के
कि मेरी इतनी मजाल कहाँ
तौबा ये मतवाली चाल...


वक़्त करता जो वफ़ा - Waqt Karta Jo Wafa (Mukesh, Dil Ne Pukara)



Movie/Album: दिल ने पुकारा (1967)
Music By: कल्याणजी आनंदजी
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: मुकेश

वक्त करता जो वफ़ा, आप हमारे होते
हम भी औरों की तरह आप को प्यारे होते

अपनी तकदीर में पहले ही से कुछ तो गम हैं
और कुछ आपकी फितरत में वफ़ा भी कम है
वरना जीती हुई बाजी तो न हारे होते
वक्त करता जो वफ़ा...

हम भी प्यासे हैं ये साकी को बता भी ना सके
सामने जाम था और जाम उठा भी न सके
काश हम गैरते महफ़िल के न मारे होते
वक्त करता जो वफ़ा...

दम घुटा जाता है सीने में फिर भी ज़िंदा हैं
तुमसे क्या, हम तो ज़िन्दगी से भी शरमिंदा हैं
मर ही जाते ना जो यादों के सहारे होते
वक्त करता जो वफ़ा...


तुम्हारे ज़ुल्फ़ के साए में - Tumhari Zulf Ke Saaye Mein (Md.Rafi, Naunihal)



Movie/Album: नौनिहाल (1967)
Music By: मदन मोहन
Lyrics By: कैफ़ी आज़मी
Performed By: मो.रफ़ी

तुम्हारी जुल्फ के साये में शाम कर लूँगा
सफ़र इस उम्र का पल में तमाम कर लूँगा

नज़र मिलाई तो पूछूंगा इश्क का अंजाम
नज़र झुकाई तो खाली सलाम कर लूँगा
तुम्हारी ज़ुल्फ़ के साए में...

जहान-ए-दिल पे हुकूमत तुम्हें मुबारक हो
रही शिकस्त तो वो अपने नाम कर लूँगा
तुम्हारी जुल्फ के साये में...


बार बार दिन ये आये - Baar Baar Din Ye Aaye (Md.Rafi, Farz)




Movie/Album: फ़र्ज़ (1967)

Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मो.रफ़ी

बार बार दिन ये आये, बार बार दिल ये गाये
तू जिए हज़ारों साल, ये मेरी है आरज़ू
Happy Birthday to you
Happy Birthday to you
Happy Birthday to Sunita
Happy Birthday to you

बेक़रार हो के दामन, थाम लूँ मैं किसका
क्या मिसाल दूँ मैं तेरी, नाम लूँ मैं किसका
नहीं, नहीं, ऐसा हसीं, कोई नहीं है
जिसपे ये नज़र रुक जाये, बेमिसाल जो कहलाये
तू जिये हज़ारों साल...

औरों की तरह कुछ मैं भी, तोहफ़ा आज लाता
मैं तेरी हसीं महफ़िल में, फूल ले के आता
जी ने कहा, उसे क्या है, फूलों की ज़रूरत
जो बहार खुद कहलाये, हर कली का दिल धड़काये
तू जिये हज़ारों साल...

फूलों ने चमन से तुझको, है सलाम भेजा
तारों ने गगन से तुझको, ये पयाम भेजा
दुआ है ये, खुदा करे, ऐ शोख तुझको
चाँद की उमर लग जाए, आये तो क़यामत आये
तू जिए हज़ारों साल...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com