1974 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1974 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बहना ने भाई की कलाई - Behna Ne Bhai Ki Kalai (Suman Kalyanpur, Resham Ki Dori)



Movie/Album: रेशम की डोरी (1974)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: सुमन कल्यानपुर

बहना ने भाई की कलाई से प्यार बाँधा है
प्यार के दो तार से, सँसार बाँधा है
रेशम की डोरी से सँसार बाँधा है

सुंदरता में जो कन्हैया है
ममता में यशोदा मईया है
वो और नहीं दूजा कोई
वो तो मेरा राजा भईया है
बहना ने भाई की कलाई से...

मेरा फूल है तू, तलवार है तू
मेरी लाज का पहरेदार है तू
मैं अकेली कहाँ इस दुनिया में
मेरा सारा सँसार है तू
बहना ने भाई की कलाई से...

हमें दूर भले किस्मत कर दे
अपने मन से न जुदा करना
सावन के पावन दिन भईया
बहना को याद किया करना
बहना ने भाई की कलाई से...


मेरा जीवन कोरा कागज़ - Mera Jeevan Kora Kaagaz (Kishore Kumar)



Movie/Album: कोरा कागज़ (1974)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: एम.जी.हशमत
Performed By: किशोर कुमार

मेरा जीवन कोरा कागज़ कोरा ही रह गया
जो लिखा था आँसुओं के संग बह गया
मेरा जीवन कोरा कागज़...

इक हवा का झोंका आया
टूटा डाली से फूल
ना पवन की, ना चमन की
किसकी है ये भूल
खो गई खुशबू हवा में कुछ न रह गया
मेरा जीवन कोरा कागज़...

उड़ते पंछी का ठिकाना
मेरा न कोई जहां
ना डगर है, ना खबर है
जाना है मुझको कहाँ
बन के सपना हमसफ़र का साथ रह गया
मेरा जीवन कोरा कागज़...

दुख के अन्दर सुख की ज्योती
दुख ही सुख का ज्ञान
दर्द सह के जन्म लेता
हर कोई इंसान
वो सुखी है जो खुशी से दर्द सह गया
मेरा जीवन कोरा कागज़...


आ री आजा निंदिया तू - Aa Ri Aaja Nindiya Tu (Kishore, Lata, Mehmood, Kunwara Baap)



Movie/Album: कुंवारा बाप (1974)
Music By: राजेश रोशन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: किशोर कुमार, लता मंगेशकर, महमूद

आ री आजा
निंदिया तू ले चल कहीं
उड़नखटोले में
दूर दूर दूर, यहाँ से दूर

मेरा तो ये जीवन तमाम
मेरे यार भरा दुःख से
पर मुझको जहां में मिला
सुख कौन बड़ा तुझसे
तेरे लिए मेरी जान
ज़हर हज़ार मैं पी लूँगा
ताज दूंगा दुनिया
एक तेरे संग जी लूँगा
ओ नज़र के नूर
आ री आजा निंदिया...

ये सच है कि मैं अगर
सुख चैन तेरा चाहूँ
तेरी दुनिया से मैं फिर कहीं
अब दूर चला जाऊं
नहीं मेरे डैडी
ऐसी बात फिर से न कहना
रहेगा न जब तू
फिर मुझको भी नहीं रहना
न जा तू हमसे दूर
आ री आजा निंदिया...


मैं ना भूलूँगा - Main Na Bhoolunga (Mukesh, Lata, Roi Kapda Aur Makaan)



Movie/Album: रोटी कपड़ा और मकान (1974)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: संतोष आनंद
Performed By: मुकेश, लता मंगेशकर

मैं ना भूलूँगा, मैं ना भूलूँगी
इन रस्मों को, इन कसमों को
इन रिश्ते नातों को
मैं ना भूलूंगा...

चलो जग को भूले, ख़यालों में झूले
बहारों में डोले, सितारों को छू ले
आ तेरी मैं माँग सवारूँ , तू दुल्हन बन जा
माँग से जो दुल्हन का रिश्ता, मैं ना भूलूंगी
मैं ना भूलूँगा...

समय की धारा में, उमर बह जानी है
जो घड़ी जी लेंगे, वही रह जानी है
मैं बन जाऊँ साँस आखिरी, तू जीवन बन जा
जीवन से साँसों का रिश्ता, मैं ना भूलूंगी
मैं ना भूलूँगा...

बरसता सावन हो, महकता आँगन हो
कभी दिल दूल्हा हो, कभी दिल दुल्हन हो
गगन बन कर झूमें, पवन बन कर घूमे
चलो राहे मोड़ें, कभी ना संग छोड़ें
कहीं पे छुप जाना हैं, नज़र नहीं आना हैं
कहीं पे बस जायेंगे, ये दिन कट जायेंगे
अरे क्या बात चली, वो देखो रात ढली
ये बातें चलती रहें, ये रातें ढलती रहें
मैं मन को मंदिर कर डालू, तू पूजन बन जा
मंदिर से पूजा का रिश्ता मैं ना भूलूंगी
मैं ना भूलूँगा...


ओ हंसिनी - O Hansini (Kishore Kumar, Zahreela Insaan)



Movie/Album: ज़हरीला इंसान (1974)
Music By:
आर.डी.बर्मन
Lyrics By:
मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: किशोर कुमार

ओ हंसिनी मेरी हंसिनी, कहाँ उड़ चली
मेरे अरमानों के पंख लगा के, कहाँ उड़ चली

आजा मेरी सांसो में महक रहा रे तेरा गजरा
आजा मेरी रातों में लहक रहा रे तेरा कजरा
ओ हंसीनी....

देर से लहरों में कमल संभाले हुए मन का
जीवन ताल में भटक रहा रे तेरा हंसा
ओ हंसीनी...


ये जो पब्लिक है - Ye Jo Public Hai (Kishore Kumar, Roti)



Movie/Album: रोटी (1974)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

ऐ बाबू ये पब्लिक है पब्लिक
ये जो पब्लिक है सब जानती है
पब्लिक है..
अजी अंदर क्या है, अजी बाहर क्या है
ये सब कुछ पहचानती है
पब्लिक है..

ये चाहे तो सर पे बिठा ले, चाहे फेंक दे नीचे
पहले ये पीछे भागे, फिर भागो इसके पीछे
अरे दिल टूटे तो, अरे ये रूठे तो
तौबा कहाँ फिर मानती है
ये जो पब्लिक है...

क्या नेता, क्या अभिनेता, दे जनता को जो धोखा
पल में शोहरत उड़ जाये, ज्यों एक पवन का झौंका
अरे ज़ोर ना करना, अरे शोर ना करना
अपने शहर में शांति है
ये जो पब्लिक है...

हीरे-मोती तुमने छुपाये, कुछ हम लोग न बोले
अब आटा-चावल भी छुपा तो, भूखों ने मुंह खोले
अरे भीख ना मांगे, अरे कर्ज़ ना मांगे
ये अपना हक़ मांगती है
ये जो पब्लिक है...


नाच मेरी बुलबुल - Naach Meri Bulbul (Kishore Kumar, Roti)




Movie/Album: रोटी (1974)


Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल


Lyrics By: आनंद बक्षी


Performed By: किशोर कुमार





नाच मेरी बुलबुल की पैसा मिलेगा 


कहाँ कदरदान हमें ऐसा मिलेगा 


घूंघरू बना के पाँव में बाँध ले


फिर मेहरबान हमें ऐसा मिलेगा 


नाच मेरी बुलबुल...




मौसम रंगीन है, आशिक शौक़ीन है
तो जो चाहे करले, मौका हसीन है
फिर कब न जाने हमें ऐसा मिलेगा
नाच मेरी बुलबुल...

कितना प्यासा है, ये पैसे वाला 


तो इसको पीला दे तू, ओ मस्ती का प्याला 


कहीं अनजान हमें ऐसा मिलेगा


नाच मेरी बुलबुल...





अपनी तमन्ना है कितनी छोटी


दो हाथ कपड़ा दो वक़्त रोटी 


कहाँ पे मकान हमें ऐसा मिलेगा


नाच मेरी बुलबुल...



गोरे रंग पे न इतना - Gore Rang Pe Na Itna (Kishore Kumar, Lata Mangeshkar)



Movie/Album: रोटी (1974)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार, लता मंगेशकर

गोरे रंग पे ना इतना गुमान कर
गोरा रंग दो दिन में ढल जायेगा
मैं शमा हूँ तू है परवाना
मुझसे पहले तू जल जायेगा
गोरे रंग पे न इतना...

रूप मिट जाता है
ये प्यार ऐ दिलदार नहीं मिटता
हो फूल मुरझाने से
गुलज़ार ओ सरकार नहीं मिटता
क्या बात कही है, होय (ओये) तौबा
ये दिल बेईमान मचल जायेगा
गोरे रंग पे न इतना...

ओ आपको है ऐसा इनकार
तो ये प्यार यहीं छोड़ो
ओ प्यार का मौसम है
बेकार की तकरार यहीं छोड़ो
हाथों मे हाथ ज़रा दे दो
बातों में वक्त निकल जायेगा
गोरे रंग पे न इतना...

ओ मैं तुझे कर डालूं
मसरूर नशे में चूर तो मानोगे
ओ तुमसे मैं हो जाऊं
कुछ दूर ऐ मगरूर हो मानोगे
तू लाख बचा मुझसे दामन
ये हुस्न का जादू चल जायेगा
गोरे रंग पे न इतना...


करवटें बदलते रहे - Karvatein Badalte Rahe (Lata Mangeshkar, Kishore Kumar, Aap Ki Kasam)



Movie/Album: आप की कसम (1974)
Music By:
आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

करवटें बदलते रहे सारी रात हम
आप की क़सम
ग़म न करो दिन जुदाई के बहुत हैं कम
आप की क़सम

याद तुम आते रहे, इक हूक़ सी उठती रही
नींद मुझसे, नींद से मैं, भागती छुपती रही
रात भर बैरन निगोड़ी चाँदनी चुभती रही
आग सी जलती रही, गिरती रही शबनम
आप की क़सम...

झील सी आँखों में आशिक़, डूब के खो जायेगा
ज़ुल्फ़ के साये में, दिल अरमां भरा सो जायेगा
तुम चले जाओ नहीं तो, कुछ न कुछ हो जायेगा
डगमगा जायेंगे ऐसे हाल में क़दम
आप की क़सम...

रूठ जायें हम तो तुम हमको मना लेना सनम
दूर हों तो पास हमको, तुम बुला लेना सनम
कुछ गिला हो तो गले हमको लगा लेना सनम
टूट न जाये कभी ये प्यार की क़सम
आप की क़सम...


सुनो कहो कहा सुना - Suno Kaho Kaha Suna (Kishore Kumar, Lata Mangeshkar, Aap Ki Kasam)



Movie/Album: आप की कसम (1974)
Music By:
आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

सुनो, कहो
कहा, सुना
कुछ हुआ क्या?
अभी तो नहीं, कुछ भी नहीं
चली हवा
झुकी घटा
कुछ हुआ क्या?
अभी तो नहीं, कुछ भी नहीं

तेरी क़सम ये दिलकश नज़ारे
करते हैं इशारे जो समझे कोई
मेरे सनम ये खमोश आँखें
भी करती हैं बातें जो समझे कोई
समझा नहीं तुम समझा दो
अरे सुनो, कहो, कहा, सुना...

बस जो चले तो सुबह से लेकर
रहूं शाम तक मैं तेरे संग में
गर हो सके तो मैं अपने दिलबर
तेरा नाम लिख दूँ हर इक रंग में
बातों में ना उलझाओ
अरे सुनो, कहो, कहा, सुना...

अच्छा कभी फिर बात छेड़ेंगे
मर्ज़ी नहीं है तुम्हारी अभी
कुछ हो गया तो बड़ी होगी मुशकिल
कि छोटी उमर है हमारी अभी
मैं क्या करूँ, बतला दो
सुनो, कहो, कहा, सुना...

(ज़रा सा कुछ हुआ तो है...)


चोरी चोरी चुपके चुपके - Chori Chori Chupke Chupke (Lata Mangeshkar, Aap Ki Kasam)



Movie/Album: आप की कसम (1974)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर

चोरी चोरी चुपके चुपके
पलकों के पीछे से छुपके
कह गई सारी बतियाँ
अँखियाँ, दो अँखियाँ
ये अँखियाँ, दो अँखियाँ

होंठों पर था लाज का पहरा
धड़क गया ये दिल न ठहरा
बन गई प्रेम की पतियाँ
अँखियाँ, हो अखियाँ...

लाख छुपाये मीरा रानी
मनमोहन की प्रेम दीवानी
जान गई, जान गई, जान गई
जान गई सब सखियाँ
अँखियाँ, हो अँखियाँ...

आने को तो नींद भी आई
कुछ न पूछो राम दुहाई
जागी सारी रतियाँ
अँखियाँ, हो अँखियाँ...


हम बोलेगा तो बोलोगे के - Hum Bolega To Bologe Ke (Kishore Kumar, Kasauti)



Movie/Album: कसौटी (1974)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By:
वर्मा मलिक
Performed By: किशोर कुमार

हम बोलेगा तो बोलोगे के बोलता है

एक मेमसाब है, साथ में साब भी है
मेमसाब सुन्दर-सुन्दर है, साब भी खूबसूरत है
दोनों पास-पास है, बातें खास-खास है
दुनिया चाहे कुछ भी बोले, बोले
हम कुछ नहीं बोलेगा
हम बोलेगा तो...

हमरा एक पड़ोसी है, नाम जिसका जोशी है
वो पास हमरे आता है, और हमको ये समझाता है
जब दो जवाँ दिल मिल जाएँगे, तब कुछ न कुछ तो होगा
जब दो बादल टकराएंगे, तब कुछ न कुछ तो होगा
दो से चार हो सकते है, चार से आठ हो सकते हैं, आठ से साठ हो सकते हैं
जो करता है पाता है, अरे अपने बाप का क्या जाता है
जोशी पड़ोसी कुछ भी बोले, बोले
हम तो कुछ नहीं बोलेगा
हम बोलेगा तो...

मेरी बुढ़िया नानी थी, लेकिन वो बड़ी सयानी थी
गोदी में मुझे बिठाती थी और सच्ची बात सुनाती थी
जब साल सतरवां लागेगा, दिल धड़क-धड़क तो करेगा
किसी सुंदरी से नैनवा लड़ेगा, दिल खुसुर-फुसुर भी करेगा
जब आग से घी मिलेगा, फिर तो वो भी घी पिघलेगा
पिघलेगा जी पिघलेगा
न आग से न घी से, हमको क्या किसी से
नानी चाहे कुछ भी बोले, बोले
हम कुछ नहीं बोलेगा
हम बोलेगा तो...


ये लाल रंग - Ye Lal Rang (Kishore Kumar, Prem Nagar)



Movie/Album: प्रेम नगर (1974)
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

ये लाल रंग कब मुझे छोड़ेगा
मेरा गम कब तलक, मेरा दिल तोड़ेगा

किसी का भी लिया नाम तो
आयी याद तू ही तू
ये तो प्याला शराब का
बन गया ये लहू
ये लाल रंग...

पीने की कसम डाल दी
पिऊंगा किस तरह
ये ना सोचा तूने यार मैं
जिऊंगा किस तरह
ये लाल रंग...

चला जाऊं कहीं छोड़ के
मैं तेरा ये शहर
ना तो यहाँ अमृत मिले
पीने को ना ज़हर
ये लाल रंग...


वादा कर ले साजना - Waada Kar Le Saajna (Lata, Rafi, Haath Ki Safai)



Movie/Album: हाथ की सफाई (1974)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: गुलशन बावरा
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

वादा कर ले साजना
तेरे बिन मैं ना रहू, मेरे बिन तू ना रहे
हो के जुदा, ये वादा रहा
ना होंगे जुदा, ये वादा रहा

मैं धड़कन तू दिल है पिया, मैं बाती तू मेरा दीया
हम प्यार की ज्योत जलाएँ
मैं राही मेरी मंज़िल है तू, मैं हूँ लहर और साहिल है तू
जीवन भर साथ निभायें
वादा कर ले जान-ए-जां
तेरे बिन मैं ना रहूँ, मेरे बिन तू ना रहे
हो के जुदा, ये वादा रहा, ना होंगे जुदा, ये वादा रहा

जबसे मुझे तेरा प्यार मिला, अपनी तो है बस यही दुआ
हर जनम यूँ मिल के रहेंगे
सुंदर सा हो अपना जहां, प्यार अपना रहे सदा जवां
हम सुख दुःख मिल के सहेंगे
वादा कर ले साजना...


मुझे नहीं पूछनी तुमसे - Mujhe Nahin Poochni Tumse (Mukesh, Anjaan Raahein)



Movie/Album: अनजान राहें (1974)
Music By: कल्याणजी आनंदजी
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: मुकेश

मुझे नहीं पूछनी तुमसे बीती बातें
कैसे भी गुज़ारी हों तुमने अपनी रातें
जैसी भी हो बस आज से तुम मेरी हो
मेरी ही बन के रहना
मुझे तुमसे है इतना कहना
मुझे नहीं पूछनी...

बीते हुए कल पे तुम्हारे अधिकार नहीं है मेरा
उस द्वार पे क्यों मैं जाऊँ, जो द्वार नहीं है मेरा
बीता हुआ कल तो बीत चुका
कल का दुख आज न सहना
मुझे नहीं पूछनी...

मैं राम नहीं हूँ फिर क्यूं उम्मीद करूँ सीता की
कोई इन्सानों में ढूँढे क्यों पावनता गंगा की
दुनिया में फ़रिश्ता कोई नहीं
इन्सान ही बनके रहना
मुझे नहीं पूछनी...


जैसे सूरज की गर्मी से - Jaise Suraj Ki Garmi (Sharma Bandhu, Parinay)



Movie/Album: परिणय (1974)
Music By: जयदेव
Lyrics By: रामानंद शर्मा
Performed By: शर्मा बंधू

जैसे सूरज की गर्मी से
जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जबसे शरण तेरी आया, मेरे राम

भटका हुआ मेरा मन था कोई, मिल ना रहा था सहारा
लहरों से लड़ती हुई नाव को जैसे मिल ना रहा हो किनारा
उस लड़खड़ाती हुई नाव को जो किसी ने किनारा दिखाया
ऐसा ही सुख मेरे...

शीतल बने आग चंदन के जैसी, राघव कृपा हो जो तेरी
उजियाली पूनम की हो जाए रातें, जो थी अमावस अंधेरी
युग युग से प्यासी मरूभूमी ने जैसे सावन का संदेस पाया
ऐसा ही सुख मेरे...

जिस राह की मंज़िल तेरा मिलन हो, उस पर कदम मैं बढ़ाऊँ
फूलों में खारों में, पतझड़ बहारों में, मैं ना कभी डगमगाऊँ
पानी के प्यासे को तकदीर ने जैसे जी भर के अमृत पिलाया
ऐसा ही सुख मेरे...


रोज़ शाम आती थी - Roz Shaam Aati Thi (Lata Mangeshkar, Imtihan)



Movie/Album: इम्तिहान (1974)
Music By:  लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: लता मंगेशकर

रोज़ शाम आती थी, मगर ऐसी न थी
रोज़ रोज़ घटा छाती थी, मगर ऐसी न थी
ये आज मेरी ज़िन्दगी में कौन आ गया
रोज़ शाम आती थी...

डाली में ये किसका हाथ, कर इशारे बुलाए मुझे
झूमती चंचल हवा, छू के तन गुदगुदाए मुझे
हौले-हौले, धीरे-धीरे कोई गीत मुझको सुनाए 
प्रीत मन में जगाए, खुली आँख सपने दिखाए
ये आज मेरी ज़िन्दगी...

अरमानों का रंग है, जहाँ पलकें उठाती हूँ मैं
हँस-हँस के है देखती, जो भी मूरत बनाती हूँ मैं
जैसे कोई मोहे छेड़े, जिस ओर भी जाती हूँ मैं
डगमगाती हूँ मैं, दीवानी हुई जाती हूँ मैं
ये आज मेरी ज़िन्दगी...


सुन नीता मैं तेरे प्यार - Sun Neeta Main Tere Pyar (Kishore Kumar, Dil Diwana)



Movie/Album: दिल दीवाना (1974)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

सुन नीता, सुन नीता
मैं तेरे प्यार के गीत गाने लगा हूँ
महफ़िल को
अनजाने अफ़साने सुनाने लगा हूँ
सुन नीता मैं तेरे प्यार...

तूने मुझे कभी दिल दिया
मैंने तुझे कभी दिल दिया
क्या याद नहीं
गुज़री हुई वो रातें तेरी
भूली हुई वो बातें तेरी
तुझको याद दिलाने लगा हूँ
सुन नीता मैं तेरे प्यार...

तुझको नया सनम मिल गया
मुझको नया ये ग़म मिल गया
ये खूब हुआ
शर्माने घबराने लगी
तू उठ कर क्यूँ जाने लगी
महफ़िल से मैं जाने लगा हूँ
सुन नीता मैं तेरे प्यार...


शोर मच गया शोर - Shor Mach Gaya Shor (Kishore Kumar, Badla)



Movie/Album: बदला (1974)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By:
आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

एक दो तीन चार
राजू दादा के चेले होशियार

शोर मच गया शोर
हो देखो, आया माखन चोर
गोकुल की गलियों की ओर
चला निकला माखन चोर, नंदकिशोर
शोर मच गया शोर...

देखी जो ग्वालों की टोली, टोली
कोई गुजरिया बोली बोली
किसकी बारात है ये,
किसकी है डोली, डोली-डोली
जमुना के तट की ओर चला निकला
ओ चला चला चला
चला निकला माखन चोर, नंदकिशोर
शोर मच गया शोर...

ग्वालन के पीछे दौड़े, दौड़े
कंकर से मटकी फोड़े, फोड़े
मारे यशोदा माँ, चोरी ना छोड़े, छोड़े-न छोड़े
देखे नजर की डोर
चला निकला माखन चोर, नन्दकिशोर
शोर मच गया शोर...

एक के ऊपर एक, एक
देख तमाशा देख, देख
तोड़ मटकी तोड़
और ऊँचा और, और
एक दो तीन चार
राजू बड़ा होशियार
गिर न जाना मेरे यार
एक के ऊपर एक...


तेरी मेरी यारी बड़ी पुरानी - Teri Meri Yaari Badi Purani (Asha Bhosle, Charitraheen)



Movie/Album: चरित्रहीन (1974)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: आशा भोंसले

तेरी-मेरी, मेरी-तेरी
तेरी-मेरी यारी बड़ी पुरानी
तूने मुझे पहचाना
मैं हूँ वही तेरी दीवानी
हो, हो जानी, जानी, जानी, हो जानी
तेरी-मेरी हाँ मेरी-तेरी
तेरी-मेरी यारी बड़ी पुरानी

आँखों ने देखा दिल मचल गए
उफ़ हम दोनों कितने बदल गए
कितने मौसम आये निकल गए
उफ़ हम दोनों कितने बदल गए
तूने मुझे पहचाना
मैं हूँ वही भूली कहानी
हो, हो जानी...

सूरत वो लेकिन वो नज़र नहीं
दोनों पे क्या गुज़री खबर नहीं
कोई शिकवा कर लो मगर नहीं
दोनों पे क्या गुज़री खबर नहीं
तूने मुझे पहचाना
मैं हूँ वही सपनों की रानी
हो, हो जानी...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com