1983 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1983 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मेरी पहले ही तंग थी चोली - Meri Pahle Hi Tang Thi Choli (Kishore, Anuradha, Souten)



Movie/Album: सौतन (1983)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: सावन कुमार
Performed By: किशोर कुमार, अनुराधा पौड़वाल

रंग लाल पीला नीला हरा नीला
ओ मेरी पहले ही तंग थी चोली
ऊपर से आ गई बैरन होली
ज़ुल्म तूने कर डाला
प्यार में रंग डाला
मैं तो सरम से पानी पानी हो ली

हो तुझको सिलवा दूंगा नई चोली
के अब तू सोलह बरस की हो ली
ज़ुल्म तूने कर डाला
प्यार में रंग डाला
ओ हो बिना बन्दूक चल गई गोली
मेरी पहले ही तंग थी...

रंगीला रंगीला मौसम, रंगीला मौसम आया
तेरे मेरे प्यार के चर्चे होने लगे हैं गली गली
दुनिया वाले करने लगे हैं
बातें अब तो जली जली
ज़ुल्म तूने कर डाला...

साजन अब तो तुम बिन
हमसे रहा न जाएगा
जल्दी ही दीवाना तेरा
डोली लेकर आएगा
ज़ुल्म तूने कर डाला...


तू मइके मत जइयो - Tu Maike Mat Jaiyo (Amitabh Bachchan, Pukaar)



Movie/Album: पुकार (1983)
Music By:
आर.डी.बर्मन
Lyrics By:
गुलशन बावरा
Performed By: अमिताभ बच्चन

तू मइके मत जइयो, मत जइयो मेरी जान
मत जइयो मेरी जान, तू मइके मत जइयो

जनवरी, फ़रवरी
जनवरी फ़रवरी के दो महीने लगती है मुझको सर्दी
तू क्या जाने, तू क्या जाने
तू क्या जाने सर्दी ने जो हालत पतली कर दी
तू मइके मत जइयो...

मार्च, अप्रैल में बहार कुछ ऐसे झूम के आये (कैसे?)
देख के तेरा, देख के तेरा
देख के तेरा गदरा बदन हाय जी मेरा ललचाये
तू मइके मत जइयो...

मई और जून का आता है जब रंगों भरा महीना
देख तेरा मलमल का कुरता, अरे छूटे मेरा पसीना
तू मइके मत जइयो...

जुलाई, अगस्त में सावन ऐसे रिमझिम रिमझिम बरसे

बन्द कमरे में, बन्द कमरे में!
बन्द कमरे में बैठेंगे हम निकलेंगे न घर से
तू मइके मत जइयो...

सेप्तम्बर, अक्तूबर का मौसम होता है प्यारा
सुनो मेरे लम्बू रे, सुनो मेरे मितवा
सुनो मेरा साथी रे
ऐसे में मैं, ऐसे में मैं
ऐसे में मैं रहूँ अकेला ये नहीं मुझे गंवारा
तू मइके मत जइयो...

हाय नवम्बर और दिसम्बर का तू पूछ न हाल
सच तो ये है, सच तो ये है
सच तो ये है पगली हम न बिछड़ें पूरा साल
तू मइके मत जइयो...


जब हम जवां होंगे - Jab Hum Jawaan Honge (Lata Mangeshkar, Shabbir Kumar, Betaab)



Movie/Album: बेताब (1983)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By:
आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर, शब्बीर कुमार

जब हम जवां होंगे, जाने कहाँ होंगे
लेकिन जहाँ होंगे, वहाँ फ़रियाद करेंगे
तुझे याद करेंगे

ये बचपन का प्यार अगर खो जाएगा
दिल कितना खाली खाली हो जाएगा
तेरे ख़यालों से इसे आबाद करेंगे
तुझे याद करेंगे...

ऐसे हँसती थी, वो ऐसे चलती थी
चाँद के जैसे छुपती और निकलती थी
सबसे तेरी बातें, तेरे बाद करेंगे
तुझे याद करेंगे...

तेरे शबनमी ख्वाबों की तस्वीरों से
तेरी रेशमी ज़ुल्फों की ज़ंजीरों से
कैसे हम अपने आप को आज़ाद करेंगे
तुझे याद करेंगे...

जहर जुदाई का पीना पड़ जाए तो
बिछड़ के भी हमको जीना पड़ जाए तो
सारी जवानी बस यूँ ही बरबाद करेंगे
तुझे याद करेंगे...


ये बम्बई शहर हादसों का - Ye Bombay Sheher Haadson Ka (Amit Kumar, Haadsaa)



Movie/Album: हादसा (1983)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: एम.जी.हशमत
Performed By: अमित कुमार

हे, ये बम्बई शहर हादसों का शहर है
यहाँ ज़िन्दगी हादसों का सफ़र है
यहाँ रोज़-रोज़ हर मोड़-मोड़ पे
होता है कोई न कोई
हादसा, हादसा...

यहाँ की ख़ुशी और गम हैं अनोखे
बड़े खूबसूरत से होते हैं धोखे
बहुत तेज़ रफ़्तार है ज़िन्दगी की
है फुर्सत किसे कोई कितना भी सोचे
ख़ुशी हादसा है, गम हादसा है
हकीकत भुला कर हर इक भागता है
यहाँ रोज़-रोज़ की भाग-दौड़ में
होता है कोई न कोई
हादसा, हादसा...

यहाँ आदमी आसमां चूमते हैं
नशे में तरक्की के सब झूमते हैं
हरी रौशनी देख भागी वो कारें
अचानक रुकी फिर से बन के कतारें
यहाँ के परिंदों की परवाज़ देखो
हसीनों के चलने का अंदाज़ देखो
यहाँ हुस्न इश्क की आब-ओ-हवा में
होता है कोई न कोई
हादसा, हादसा...


सुरमई अँखियों में - Surmayi Ankhiyon Mein (Yesudas, Sadma)



Movie/Album: सदमा (1983)
Music By: इल्लयराजा
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: येसुदास

सुरमई अँखियों में
नन्हाँ-मुन्ना एक सपना दे जा रे
निंदिया के उड़ते पाख़ी रे
अँखियों में आजा साथी रे

सच्चा कोई सपना दे जा
मुझको कोई अपना दे जा
अंजाना सा, मगर कुछ पहचाना सा
हल्का-फुल्का शबनमी, रेशम से भी रेशमी
सुरमई अँखियों में...

रात के रथ पर जाने वाले
नींद का रस बरसाने वाले
इतना कर दे कि मेरी आँखें भर दे
आँखों में बसता रहे, सपना ये हँसता रहे
सुरमई अँखियों में...


धीरे धीरे ज़रा ज़रा - Dheere Dheere Zara Zara (Asha Bhosle, Agar Tum Na Hote)



Movie/Album: अगर तुम न होते (1983)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: गुलशन बावरा
Performed By: आशा भोंसले

धीरे-धीरे, ज़रा-ज़रा
जान-ए-जानां, होने लगा
तेरी मीठी बातों पे यकीं
धीरे-धीरे-ज़रा ज़रा...

कल तक मेरा दिल न माना
तू क्या है ये आज ही जाना
अब दिल पिघलने लगा
तूने छेड़ा तार ऐसा
जान-ए-जानां होने लगा
तेरी मीठी बातों पे...

अब जी भर के प्यार करेंगे
संग जियेंगे, संग मरेंगे
ये फ़ैसला कर लिया
कभी-कभी, ज़रा-ज़रा
जान-ए-जानां मुझे हुआ
तेरी मीठी बातों पे यकीं
अभी-अभी, पूरा-पूरा
जान-ए-जानां हो ही गया
तेरी मीठी बातों पे यकीं...


कोई ये कैसे बताए - Koi Ye Kaise Bataye (Jagjit Singh, Arth)



Movie/Album: अर्थ (1983)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: कैफ़ी आज़मी
Performed By: जगजीत सिंह

कोई ये कैसे बताये के वो तन्हाँ क्यों है
वो जो अपना था, वही और किसी का क्यों है
यही दुनिया है तो फिर, ऐसी ये दुनिया क्यों है
यही होता है तो, आख़िर यही होता क्यों है

इक ज़रा हाथ बढ़ा दे तो, पकड़ लें दामन
उसके सीने में समा जाए, हमारी धड़कन
इतनी क़ुर्बत है तो फिर, फासला इतना क्यों है

दिल-ए-बरबाद से निकला नहीं अब तक कोई
इक लुटे घर पे दिया करता है दस्तक कोई
आस जो टूट गयी, फिर से बंधाता क्यों है

तुम मसर्रत का कहो या इसे ग़म का रिश्ता
कहते हैं प्यार का रिश्ता है जनम का रिश्ता
है जनम का जो ये रिश्ता तो बदलता क्यों है


तू नहीं तो ज़िन्दगी में - Tu Nahin To Zindagi Mein (Chitra Singh, Arth)



Movie/Album: अर्थ (1983)
Music By: कुलदीप सिंह
Lyrics By: इफ्तिकार इमाम सिद्दीकी
Performed By: चित्रा सिंह

तू नहीं तो ज़िन्दगी में और क्या रह जायेगा
दूर तक तन्हाईयों का सिलसिला रह जायेगा
तू नहीं तो ज़िन्दगी में...

दर्द की सारी तहें, और सारे गुज़रे हादसे
सब धुआँ हो जायेंगे, इक वाक़िया रह जायेगा
तू नहीं तो ज़िन्दगी में...

यूँ भी होगा वो मुझे, दिल से भुला देगा मगर
ये भी होगा खुद उसी में, इक ख़ला रह जायेगा
तू नहीं तो ज़िन्दगी में...

दायरे इन्कार के, इक़रार की सरगोशियाँ
ये अगर टूटे कभी तो, फ़ासला रह जायेगा
तू नहीं तो ज़िन्दगी में...


तेरे खुशबू में बसे ख़त - Tere Khushboo Mein Base Khat (Jagjit Singh, Arth)



Movie/Album: अर्थ (1983)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: राजिंदरनाथ रहबर
Performed By: जगजीत सिंह

तेरे ख़ुशबू में बसे ख़त, मैं जलाता कैसे
प्यार में डूबे हुये ख़त, मैं जलाता कैसे
तेरे हाथों के लिखे ख़त, मैं जलाता कैसे

जिनको दुनिया की निगाहों से छुपाये रखा
जिनको इक उम्र कलेजे से लगाये रखा
दीन जिनको, जिन्हें ईमान बनाये रखा
तेरे खुशबू में बसे ख़त...

जिनका हर लफ़्ज़ मुझे याद था पानी की तरह
याद थे मुझको जो पैग़ाम-ए-ज़ुबानी की तरह
मुझको प्यारे थे जो अनमोल निशानी की तरह
तेरे खुशबू में बसे ख़त...

तूने दुनिया की निगाहों से जो बचकर लिखे
साल-हा-साल मेरे नाम बराबर लिखे
कभी दिन में तो कभी रात को उठ कर लिखे
तेरे खुशबू में बसे ख़त...

तेरे ख़त आज मैं गंगा में बहा आया हूँ
आग बहते हुये पानी में लगा आया हूँ
तेरे खुशबू में बसे ख़त...


ओ बबुआ ये महुआ - O Babua Ye Mahua (Asha Bhosle, Sadma)



Movie/ Album: सदमा (1983)
Music By: इल्लयराजा
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: आशा भोंसले

ओ बबुआ, ये महुआ
महकने लगा है
आ मेरे साँस जलते हैं
बदन में साँप चलते हैं
तेरे बिना
ओ बबुआ...

शाम सुलगती है जब भी
तेरा ख़याल आता है
सूनी सी गोरी बाँहों में
धुँआ सा भर जाता है
बर्फ़ीला रास्ता कटता नहीं
ज़हरीला चाँद भी हटता नहीं
तेरे बिना
ओ बबुआ...

खोई हुई सी आँखों से
चादर उतर जाती है
झुलसी हुई रह जाती हूँ
रात गुज़र जाती है
ऐसे में तुम कभी देखो अगर
काटा है किस तरह शब का सफ़र
तेरे बिना
ओ बबुआ...


निंदिया से जागी बहार - Nindiya se Jaagi Bahar (Lata Mangeshkar, Hero)



Movie/Album: हीरो (1983)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर

निंदिया से जागी बहार
ऐसा मौसम देखा पहली बार
कोयल कूके-कूके, गाये मल्हार
निंदिया से जागी बहार...

प नि सं प, प नि प सं
मैं हूँ अभी कमसिन-कमसिन
नि ध नि ध म प
प म प म र ग
ग र ग र ऩ स ग प
जानूँ ना कुछ इस बिन, इस बिन
रातें जवानी की, बाली उमर के दिन
कब क्या हो नहीं ऐतबार
ऐसा मौसम देखा...

कैसी ये रुत आई, रुत आई
सुन के मैं शरमाई-शरमाई
कानों में कह गयी क्या, जाने ये पुरवाई
पहने फूलों ने किरणों के हार
ऐसा मौसम देखा...
निंदिया से जागी बहार...


दिन महीने साल - Din Mahine Saal (Kishore Kumar, Lata Mangeshkar, Avtaar)



Movie/Album: अवतार (1983)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्शी
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

दिन महीने साल गुज़रते जायेंगे
हम प्यार में जीते, प्यार में मरते जायेंगे
देखेंगे, देख लेना
दिन महीने साल...

मत शरमाओ, आ जाओ मेरी बाहों में
देखो अपनी तस्वीर मेरी निग़ाहों में
क्या हुआ गर काँटे हैं अपने राहों में
इन राहों में फूल बिखरते जायेंगे
हम प्यार में जीते...

तुमको हमने मान लिया रब तुम जानो
हम ये जाने बाकि सब तुम जानो
क्या कहना है, क्या नहीं ये अब तुम जानो
तुम जो कहोगे हम वो करते जायेंगे
हम प्यार में जीते...

दुःख-सुख का साथी हाँ जी तुम्हें बनाया है
हमने जीवन का साझी, हाँ जी तुम्हें  बनाया है
दिल की नैय्या का मांझी तुम्हें बनाया है
इस पार से उस पार उतरते जायेंगे
हम प्यार में जीते...


प्यार किया नहीं जाता - Pyar Kiya Nahin Jaata (Lata Mangeshkar, Shabbir Kumar, Woh Saat Din)



Movie/Album: वो सात दिन (1983)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्शी
Performed By: लता मंगेशकर, शब्बीर कुमार

प्यार किया नहीं जाता
हो जाता है
दिल दिया नहीं जाता
खो जाता है

प्यार पे ज़ोर नहीं कोई
नींदें हज़ारों ने खोई
आकर दिल की बातों में
लम्बी-लम्बी रातों में
प्रेमी जागते रहते हैं
इसीलिए तो कहते हैं
के प्यार किया नहीं जाता...

दिल का बंधन ऐसा है
हाल ना पूछो कैसा है
जान हमारी जाती है
याद तुम्हारी आती है
आँख से आँसू बहते हैं
इसीलिए तो कहते हैं के प्यार किया नहीं जाता...

इन झूलों के मौसम में
इन फूलों के मौसम में
काँटें प्यार चुभोता है
दर्द जिगर में होता है
हँस के हम सब सहते हैं
इसीलिए तो कहते हैं
के प्यार किया नहीं जाता...


ज़माने से कुछ लोग डरते नहीं - Zamaane Se Kuch Log Darte Nahin (Yesudas, Zara Si Zindagi)



Movie: ज़रा सी ज़िन्दगी (1983)
Music By: लक्ष्मीकान्त प्यारेलाल
Lyrics By:आनंद बक्षी
Performed By: येसुदास

जिसे मौत आई सुकूँ मिल गया
के मुरझा गया फूल तो खिल गया
तड़पते वही हैं जो मरते नहीं
ज़माने से कुछ लोग डरते नहीं
किसी की भी परवाह करते नहीं
ज़माने से कुछ लोग डरते नहीं

कहें और क्या, हम तो हैरान हैं
ख़ुदा जाने कैसे, ये इन्सान है
कभी टूट कर जो बिखरते नहीं
ज़माने से कुछ लोग...

निगाहों में मौसम है, बरसात का
बने कुछ बने, बहाना मुलाकात का
जुदाई में अब दिन गुजरते नहीं
ज़माने से कुछ लोग...

कई ज़िन्दगी से हैं हारे हुए
कई ज़िन्दगी के हैं मारे हुए
सभी मौत आने से मरते नहीं
ज़माने से कुछ लोग...


दो नैना और एक कहानी - Do Naina Aur Ek Kahani (Aarti Mukherji, Masoom)



Movie/Album: मासूम (1983)
Music By: आर.डी. बर्मन
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: आरती मुख़र्जी

दो नैना और एक कहानी
थोड़ा-सा बादल, थोड़ा-सा पानी
और एक कहानी

छोटी सी दो, झीलों में वो, बहती रहती है
कोई सुने या ना सुने, कहती रहती है
कुछ लिख के और कुछ ज़ुबानी
थोड़ा सा बादल...

थोड़ी सी है जानी हुई, थोड़ी सी नयी
जहाँ रुके आँसू वहीं, पूरी हो गयी
है तो नयी फिर भी है पुरानी
थोड़ा सा बादल...

इक ख़त्म हो तो दूसरी, रात आ जाती है
होठों पे फिर भूली हुई, बात आ जाती है
दो नैनों की है ये कहानी
थोड़ा सा बादल...


शायद मेरी शादी का ख्याल - Shayad Meri Shaadi Ka Khayal (Lata Mangeshkar, Kishore Kumar, Souten)



Movie/Album: सौतन (1983)
Music By: ऊषा खन्ना
Lyrics By: सावन कुमार
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

शायद मेरी शादी का ख्याल दिल में आया है
इसीलिए मम्मी ने मेरी, तुम्हें चाय पे बुलाया है
क्या कहा फिर से दोहराओ
शायद मेरी शादी...

पंछी अकेला देख मुझे, ये जाल बिछाया है
इसीलिए मम्मी ने तेरी, मुझे चाय पे बुलाया है
क्यों है ना
नहीं नहीं

ठीक तुम चार बजे घर चले आना
मेरा हाथ मांग लेना ज़रा ना शरमाना
सात फेरे मेरे संग, सपने देख रही हो
खिली हुई धूप में, तारे देख रही हो
अरे नहीं नहीं बाबा, चाय नहीं पीना
क्यों क्यों
तौबा-तौबा मेरी तौबा, माफ़ कर देना
इन्हीं अदाओं पर तो हाय, अपना दिल आया है
इसीलिए मम्मी ने मेरी...
ना ना ना ना
पंछी अकेला देख...

दिल्लगी न करो, छेड़ो न हमको सनम
हाँ कहो, घर चलो, तुमको मेरी क़सम
जान-ए-मन माना हम, तुमपे मरते हैं
प्यार तो ठीक है, शादी से डरते हैं
शादी से पहले तो, सब अच्छा लगता है
सारी उम्र को फिर, रोना पड़ता है
इन्हीं अदाओं पर तो हाय, अपना दिल आया है
इसीलिए मम्मी ने मेरी...
अरे पंछी अकेला देख...

तुम्हें मेरी क़सम आओगे न
नहीं बिलकुल नहीं
हाँ तेरी क़सम आऊँगा


ज़माना तो है नौकर - Zamana To Hai Naukar (Kishore Kumar, Nishi Kohli, Naukar Biwi Ka)



Movie/Album: नौकर बीवी का (1983)
Music By: बप्पी लहरी
Lyrics By: अंजान
Performed By: किशोर कुमार, निशि कोहली

हे संभल
अरे लोग मुझे क्यूँ देते हैं ताना
हाँ मैं हूँ बीवी का दीवाना
अरे तो क्या हुआ
ज़माना तो है नौकर बीवी का

सारे शहर को आँख दिखाए
सबकी उड़ाए खिल्ली
शौहर बाहर शेर बने
पर घर में भीगी बिल्ली
घर-घर का दस्तूर यही है
बम्बई हो या दिल्ली
क्या
ज़माना तो है नौकर...

जय हो पत्नी रानी
हर पूजा से बढ़ कर देखी
मैंने पत्नी पूजा
प्यार में डूबा बीवी के तो
और नहीं कुछ सूझा
दुनिया में खुश रहने का
कोई और न रास्ता दूजा
क्यूँ
क्योंकि ज़माना तो है नौकर...

बीवी ऐसी कहाँ दूसरी महूँ महूँ महूँ
करूँगा सारी उम्र नौकरी महूँ महूँ महूँ
दूँगा मैं दिन रात सलामी
करूँगा मैं दिन रात गुलामी
प्यार मुझे तू सच्चा दे दे
क्या
दे दे बस एक बच्चा दे दे
ओ डोंट बी सिली शट अप
मैं तो बोलूँगा, मैं तो बोलूँगा
कोई कुँवारा माने न माने
शादी जो कर ले, ये वो ही जाने
ज़माना तो है नौकर...


नैनों में सपना - Nainon Mein Sapna (Lata Mangeshkar, Kishore Kumar, Himmatwala)



Movie/Album: हिम्मतवाला (1983)
Music By: बप्पी लहरी
Lyrics By: इंदीवर
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

ता थैया ता थैया ओ ओ
नैनों में सपना, सपनो में सजना
सजना पे दिल आ गया
कि सजना पे दिल आ गया
कई अलबेले देखे, जवानी के रेले देखे
हसीनों के मेले देेखे
दिल पे, तू ही छा गया
नैनों में सपना, सपनो में सजनी
सजनी पे दिल आ गया
कि सजनी पे दिल आ गया

तू नहीं आ, मैं नहीं आ, अब दिल एक है
दो तन इक प्राण, दो दिल इक जान
मंज़िल एक है
अंग से आ, अंग मिले आ, अरमां खिल गए
पूरब पश्चिम से, पश्चिम पूरब से
कैसे मिल गए
प्यार के ज़माने मिले, हुस्न के ख़ज़ाने मिले
जीने के बहाने मिले
मन में, जो तू आ गया
नैनो मैं सपना...

साँचे में आ, तेरे ही आ, मैं तो ढल गयी
तूने तोड़ा है, ऐसा मोड़ा है
हो गयी मैं नयी
साँसों में आ, होठों पे आ, तेरा ही नाम है
लेना देना है, क्या मुझे दुनिया से
तुझसे काम है
रंगीं नज़ारे मिले, तूफाँ में किनारे मिले
दिल के सहारे मिले
दिल में, जो तू आ गया
नैनो में सपना...


समुंदर में नहा के - Samundar Mein Naha Ke (R.D.Burman, Pukaar)



Movie/Album: पुकार (1983)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: गुलशन बावरा
Performed By: राहुल देव बर्मन

जुली, जुली!

समुन्दर में नहा के और भी नमकीन हो गई हो
अरे लगा है प्यार का वो रंग के रंगीन हो गई हो
समुन्दर में नहा के...

देखा तुझको दिल में आया देखता ही रहूँ
भीगे-भीगे बदन को तेरे खिलता कमल कहूँ
मेरी नज़र की तुम भी शौक़ीन हो गई हो
समुन्दर में नहा के...

हँसती हो तो दिल की धड़कन हो जाये और जवाँ
चलती हो जब लहरा के तो दिल में उठे तूफ़ाँ
पहले थी बेहतर अब तो बेहतरीन हो गई हो
समुन्दर में नहा के...


आया सनम आया दीवाना - Aaya Sanam Aaya Deewana (Kishore Kumar, Bade Dil Wala)



Movie/Album: बड़े दिल वाला (1983)
Music By: राहुल देव बरमन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: किशोर कुमार

आया सनम आया दीवाना तेरा
(ओ सनम ओ सनम ओ सनम)
अनोखा इश्क मेरा, निराली आन बान
निशाने पर ये दिल है, हथेली पर है जान
(ओ जानी ओ जानी ओ जानी)
आया सनम आया दीवाना तेरा...

वो ही नहीं या मैं ही नहीं
अब यार की महफ़िल में
मैं भी तो देखूँ ज़ोर है कितना
बाजू-ए-कातिल में
तेरे पीछे मैं हूँ मेरे पीछे जहां
निशाने पर ये दिल है हथेली पर है जाँ
(ओ जानी ओ जानी ओ जानी)
आया सनम आया दीवाना तेरा...

देख रहा मैं सर पे मेरे
मौत खड़ी मुस्काये
फिर भी तुझको प्यार करूँगा
जान रहे या जाए
अनोखा इश्क मेरा, निराली आन बान
निशाने पर ये दिल है, हथेली पर है जान
(ओ जानी ओ जानी ओ जानी)
आया सनम आया दीवाना तेरा...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com