1985 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1985 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सात रंग में खेल रही है - Saat Rang Mein Khel Rahi Hai (Anuradha, Amit, Aakhir Kyon)



Movie/Album: आखिर क्यों (1985)
Music By: राजेश रोशन
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: अमित कुमार, अनुराधा पौड़वाल

सात रंग में खेल रही है
दिल वालों की टोली रे
भीगे दामन चोली रे
अरे अपने ही रंग में रंग ले मुझको
याद रहेगी होली रे

लाल-गुलाबी नीले-पीले
रंग है दुनिया वालों के
प्यार के रंग में डूब गए दिल
देखो हम मतवालों के
अरे उजला मुखड़ा देख के तेरा
रंग उड़े है उजालों के
सात रंग में खेल...

हौंदा है इक बार साल विच
फागुन दा महीना
नहा के रंग में निखर गयी है
आज हर इक हसीना
अरे इस मौसम में जो ना भीगे
क्या है उसका जीना
सात रंग में खेल...


सागर जैसी आँखों वाली - Saagar Jaisi Aankhon Waali (Kishore Kumar, Saagar)



Movie/Album: सागर (1985)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: किशोर कुमार

हो, चेहरा है या चाँद खिला है
ज़ुल्फ़ घनेरी शाम है क्या
सागर जैसी आँखों वाली
ये तो बता तेरा नाम है क्या

तू क्या जाने तेरी खातिर, कितना है बेताब ये दिल
तू क्या जाने देख रहा है, कैसे कैसे ख्वाब ये दिल
दिल कहता है तू है यहाँ तो, जाता लम्हा थम जाए
वक़्त का दरिया बहते बहते, इस मंज़र में जम जाए
तूने दीवाना दिल को बनाया, इस दिल पर इल्ज़ाम है क्या
सागर जैसी आँखों वाली...

हो आज मैं तुझसे दूर सही, और तू मुझसे अंजान सही
तेरा साथ नहीं पाऊं तो, खैर तेरा अरमान सही
ये अरमां है शोर नहीं हो, खामोशी के मेले हों
इस दुनिया में कोई नहीं हो, हम दोनों ही अकेले हों
तेरे सपने देख रहा हूँ, और मेरा अब काम है क्या
सागर जैसी आँखों वाली...


सागर किनारे - Saagar Kinaare (Kishore Kumar, Lata Mangeshkar, Saagar)



Movie/Album: सागर (1985)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: किशोर कुमार, लता मंगेशकर

सागर किनारे, दिल ये पुकारे
तू जो नहीं तो मेरा कोई नहीं है

जागे नज़ारे, जागी हवायें
जब प्यार जागा, जागी फिज़ायें
पल भर तो दिल की दुनियाँ सोयी नहीं है
सागर किनारे...

लहरों पे नाचे, किरनों की परियाँ
मैं खोयी जैसे, सागर में नदिया
तू ही अकेली तो खोयी नहीं है
सागर किनारे...


क्या खबर क्या पता - Kya Khabar Kya Pata (Kishore Kumar, Saaheb)



Movie/Album: साहेब (1985)
Music By: बप्पी लाहिड़ी
Lyrics By: अनजान
Performed By: किशोर कुमार

क्या खबर क्या पता
क्या ख़ुशी है, गम है क्या
ले के आँसू जो हँसी दे
ग़म के बदले जो ख़ुशी दे
राज़ ये जाना उसी ने
ज़िन्दगी क्या है ज़िन्दगी
क्या खबर क्या पता...

कल की बातें भूल जा
गुज़री रातें भूल लजा
ख्व़ाब जो सच हो सके ना
उनकी यादें भूल जा
जो न हारें बेबसी से
ना करें शिकवा किसी से
राज़ ये जाना उसी ने...

अपने दिल का दर्द ये
उम्र भर हँसकर पिये
जीना उसका जीना है जो
औरों की खातिर जीये
काम ले ज़िन्दादिली से
यूँ ही खेले ज़िन्दगी से
राज़ ये जाना उसी ने...


सुन साहिबा सुन - Sun Sahiba Sun (Lata Mangeshkar, Ram Teri Ganga Maili)



Movie/Album: राम तेरी गंगा मैली (1985)
Music By: रविन्द्र जैन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: लता मंगेशकर

सुन साहिबा सुन
प्यार की धुन
हो मैंने तुझे चुन लिया
तू भी मुझे चुन
सुन साहिबा सुन...

कोई हसीना कदम, पहले बढ़ाती नहीं
मजबूर दिल से न हो, तो पास आती नहीं
ख़ुशी मेरे दिल को हद से ज़्यादा है
तेरे संग ज़िन्दगी बिताने का इरादा है
ओ प्रीत के ये धागे तू भी संग मेरे बुन
सुन साहिबा सुन...

तू जो हाँ कहे तो बन जाये बात भी
हो तेरा इशारा तो चल दूँ मैं साथ भी
तेरे लिए साहिबा नाचूँगी मैं गाऊँगी
दिल में बसा ले तेरा घर भी बसाऊँगी
हो डाल दे निग़ाह कर दे प्यार का शगुन
सुन साहिबा सुन...

मेरा ही खून-ए-जिगर देता गवाही मेरी
तेरे ही हाथों लिखी शायद तबाही मेरी
दिल तुझपे वारा है जान तुझपे वारूँगी
आये के न आये तेरा रस्ता निहारूँगी
हो कर ले कबूल मुझे होगा बड़ा पुन
सुन साहिबा सुन...


किसी नज़र को तेरा - Kisi Nazar Ko Tera (Asha, Bhupinder, Aitbaar)



Movie/Album: ऐतबार (1985)
Music by: बप्पी लाहिरी
Lyrics By: हसन कमाल
Performed By:आशा भोंसले, भूपिंदर

किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है
कहाँ हो तुम के ये दिल बेक़रार आज भी है
किसी नज़र को तेरा...

वो वादियाँ वो फ़ज़ायें के हम मिले थे जहाँ
मेरी वफ़ा का वहीं पर मज़ार आज भी है
किसी नज़र को तेरा...

न जाने देख के क्यों उनको ये हुआ एहसास
के मेरे दिल पे उन्हें इख्तियार आज भी है
किसी नज़र को तेरा...

वो प्यार जिसके लिये हमने छोड़ दी दुनिया
वफ़ा की राह पे घायल वो प्यार आज भी है
किसी नज़र को तेरा...

यकीं नहीं है मगर आज भी ये लगता है
मेरी तलाश में शायद बहार आज भी है
किसी नज़र को तेरा...

न पूछ कितने मोहब्बत के ज़ख़्म खाये हैं
कि जिनको सोच के दिल सोग़वार आज भी है
वो प्यार जिसके लिये...


दुश्मन ना करे - Dushman Na Kare (Lata, Amit, Aakhir Kyon)



Movie/Album: आख़िर क्यूँ? (1985)
Music By: राजेश रोशन
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: लता मंगेशकर, अमित कुमार

दुश्मन न करे दोस्त ने वो काम किया है
उम्र भर का ग़म हमें ईनाम दिया है
दुश्मन न करे...

तूफ़ाँ में हमको छोड़ के साहिल पे आ गए
नाख़ुदा का हमने इन्हें नाम दिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे

पहले तो होश छीन लिए ज़ुल्म-ओ-सितम से
दीवानगी का फिर हमें इल्ज़ाम दिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे

अपने ही गिराते हैं नशेमन पे बिजलियाँ
ग़ैरों ने आके फिर भी उसे थाम लिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे

बन कर रक़ीब बैठे हैं वो जो हबीब थे
यारों ने ख़ूब फ़र्ज़ को अंजाम दिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे...


ये दौलत भी ले लो - Ye Daulat Bhi Le Lo (Jagjit Singh, Ghazal)



Movie/Album: आज (1985)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: सुदर्शन फाकिर
Performed By: जगजीत सिंह

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी

मुहल्ले की सबसे पुरानी निशानी
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी
वो नानी की बातों में परियों का डेरा
वो चेहरे की झुर्रियों में सदियों का पहरा
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो छोटी सी रातें, वो लंबी कहानी

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया, वो बुलबुल, वो तितली पकड़ना
वो गुड़िया की शादी पे लड़ना-झगड़ना
वो झूलों से गिरना, वो गिर के संभलना
वो पीतल के छल्लों के प्यारे से तोहफ़े
वो टूटी हुईं चूड़ियों की निशानी

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना, बना के मिटाना
वो मासूम चाहत की तस्वीर अपनी
वो ख्वाबों-खिलौनों की ज़ागीर अपनी
ना दुनिया का ग़म था, ना रिश्तों के बन्धन
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िन्दगानी


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com