1990s लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1990s लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

तुम तो ठहरे परदेसी - Tum To Thehre Pardesi (Altaf Raja)



Movie/Album: तुम तो ठहरे परदेसी (1998)
Music By: मोहम्मद शफी नियाज़ी
Lyrics By: ज़हीर आलम
Performed By: अल्ताफ राजा

तुम तो ठहरे परदेसी, साथ क्या निभाओगे
सुबह पहली गाड़ी से, घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से...

जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी
(खिंचे खिंचे हुए रहते हो, ध्यान किसका है
ज़रा बताओ तो ये इम्तेहान किसका है
हमें भुला दो मगर ये तो याद ही होगा
नई सड़क पे पुराना मकान किसका है)
जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी
आँसुओं की बारिश में तुम भी भीग जाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी...

ग़म की धूप में दिल की हसरतें न जल जाएं
(तुझको देखेंगे सितारे तो ज़िया मांगेंगे
और प्यासे तेरी जुल्फों से घटा मांगेंगे
अपने कांधे से दुपट्टा न सरकने देना
वरना बूढ़े भी जवानी की दुआ मांगेंगे (ईमान से))
ग़म की धूप में दिल की हसरतें न जल जाएं
गेसुओं के साए में कब हमें सुलाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी...

मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो
(इस शहर-ए-नामुराद की इज़्ज़त करेगा कौन
अरे हम भी चले गए तो मुहब्बत करेगा कौन
इस घर की देखभाल को वीरानियां तो हों
जाले हटा दिये तो हिफ़ाज़त करेगा कौन)
मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो
मेरे बाद तुम किस पर ये बिजलियां गिराओगे
तुम तो ठहरे परदेसी...

यूं तो ज़िंदगी अपनी मैकदे में गुज़री है
(अश्क़ों में हुस्न-ओ-रंग समोता रहा हूँ मैं
आंचल किसी का थाम के रोता रहा हूँ मैं
निखरा है जा के अब कहीं चेहरा शऊर का
बरसों इसे शराब से धोता रहा हूँ मैं)
(बहकी हुई बहार ने पीना सिखा दिया
पीता हूँ इस गरज़ से के जीना है चार दिन
मरने के इंतज़ार ने पीना सीखा दिया)
यूं तो ज़िंदगी अपनी मैकदे में गुज़री है
इन नशीली आँखों से कब हमें पिलाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी...

क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर
जब तुम से इत्तेफ़ाकन मेरी नज़र मिली थी
अब याद आ रहा है, शायद वो जनवरी थी
तुम यूं मिलीं दुबारा, फिर माह-ए-फ़रवरी में
जैसे कि हमसफ़र हो, तुम राह-ए-ज़िंदगी में
कितना हसीं ज़माना, आया था मार्च लेकर
राह-ए-वफ़ा पे थीं तुम, वादों की टॉर्च लेकर
बाँधा जो अहद-ए-उल्फ़त अप्रैल चल रहा था
दुनिया बदल रही थी मौसम बदल रहा था
लेकिन मई जब आई, जलने लगा ज़माना
हर शख्स की ज़ुबां पर, था बस यही फ़साना
दुनिया के डर से तुमने, बदली थीं जब निगाहें
था जून का महीना, लब पे थीं गर्म आहें
जुलाई में जो तुमने, की बातचीत कुछ कम
थे आसमां पे बादल, और मेरी आँखें पुरनम
माह-ए-अगस्त में जब, बरसात हो रही थी
बस आँसुओं की बारिश, दिन रात हो रही थी
कुछ याद आ रहा है, वो माह था सितम्बर
भेजा था तुमने मुझको, तर्क़-ए-वफ़ा का लेटर
तुम गैर हो रही थीं, अक्टूबर आ गया था
दुनिया बदल चुकी थी, मौसम बदल चुका था
जब आ गया नवम्बर, ऐसी भी रात आई
मुझसे तुम्हें छुड़ाने, सजकर बारात आई
बेक़ैफ़ था दिसम्बर, जज़्बात मर चुके थे
मौसम था सर्द उसमें, अरमां बिखर चुके थे
लेकिन ये क्या बताऊं, अब हाल दूसरा है
अरे वो साल दूसरा था, ये साल दूसरा है
क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर
थोड़ी देर रो लोगे और भूल जाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी...


कहना ही क्या - Kehna Hi Kya (K.S.Chithra, Bombay)



Movie/Album: बॉम्बे (1995)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: महबूब
Performed By: के.एस.चित्रा

कहना ही क्या
ये नैन एक अन्जान से जो मिले
चलने लगे, मोहब्बत के जैसे ये सिलसिले
अरमां नये ऐसे दिल में खिले
जिनको कभी मैं ना जानूँ
वो हमसे, हम उनसे कभी ना मिले
कैसे मिले दिल ना जानूँ
अब क्या करें, क्या नाम लें
कैसे उन्हे मैं पुकारूँ

पहली ही नज़र में कुछ हम, कुछ तुम
हो जातें है यूँ गुम
नैनों से बरसे रिम-झिम, रिम-झिम
हमपे प्यार का सावन
शर्म थोड़ी-थोड़ी हमको, आये तो नज़रें झुक जाएँ
सितम थोड़ा-थोड़ा हमपे, शोख हवा भी कर जाये
ऐसी चली, आँचल उड़े, दिल में एक तूफ़ान उठे
हम तो लुट गये खड़े ही खड़े
कहना ही क्या...

इन होंठों ने माँगा सरगम, सरगम
तू और तेरा ही प्यार है
आँखें ढूंढे है जिसको हर दम, हर दम
तू और तेरा ही प्यार है
महफ़िल में भी तन्हां है दिल ऐसे, दिल ऐसे
तुझको खोना दे, डरता है ये ऐसे, ये ऐसे
आज मिली, ऐसी खुशी, झूम उठी दुनिया ये मेरी
तुमको पाया तो पाई ज़िन्दगी
कहना ही क्या...


वाह वाह राम जी - Wah Wah Ram Ji (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

वाह वाह राम जी
जोड़ी क्या बनाई
भैया और भाभी को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से बड़ी है जग में
दिल से दिल की सगाई

आपकी कृपा से ये
शुभ घड़ी आई
जीजी और जीजा को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से बड़ी है जग में
दिल से दिल की सगाई
वाह वाह राम जी...

मेरे भैया जो, चुप बैठे हैं
देखो भाभी ये, कैसे ऐंठे हैं
ऐसे बड़े ही भले हैं
माना थोड़े मनचले हैं
पर आप के सिवा कहीं भी न फिसले हैं
देखो देखो ख़ुद पे, जीजी इतराई
भैया और भाभी को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से...

सुनो जीजाजी, अजी आप के लिये
मेरी जीजी ने, बड़े तप हैं किये
मन्दिरों में किये फेरे
पूजा साँझ-सवेरे
तीन लोक तैंतीस देवों को ये रही घेरे
जैसे मैंने माँगी थी, वैसी भाभी पाई
जीजी और जीजा को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से...


पहला पहला प्यार है - Pehla Pehla Pyar Hai (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: देव कोहली
Performed By: एस.पी.बालासुब्रमन्यम

पहला पहला प्यार है
पहली पहली बार है
जान के भी अन्जाना
कैसा मेरा यार है

उसकी नज़र, पलकों की चिलमन से मुझे देखती
उसकी हया, अपनी ही चाहत का राज़ खोलती
छुप के करे जो वफ़ा, ऐसा मेरा यार है
पहला पहला प्यार है...

वो है निशा, वो ही मेरी ज़िंदगी की भोर है
उसे है पता, उसके ही हाथों में मेरी डोर है
सारे जहां से जुदा, ऐसा मेरा प्यार है
पहला पहला प्यार है...


दीदी तेरा देवर दीवाना - Didi Tera Dewar Deewana (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: देव कोहली
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

दीदी तेरा देवर दिवाना
हाय राम कुड़ियों को डाले दाना
धंधा है ये उसका पुराना
हाय राम कुड़ियों को डाले दाना

मैं बोली के लाना, तू इमली का दाना
मगर वो छुहारे ले आया दिवाना
मैं बोली की मचले, है दिल मेरा हाय
वो खरबुजा लाया जो नीम्बू मँगाये
पगला है कोई उसको बताना
हाय राम कुड़ियों को...

मैं बोली की लाना, तू मिट्टी पहाड़ी
मगर वो बताशे ले आया अनाड़ी
मैं बोली के ला दे, मुझे तू खटाई
वो बाज़ार से ले के आया मिठाई
मुश्किल है यूं मुझको फँसाना
हाय राम कुड़ियों को...

भाभी तेरी बहना को माना
हाय राम कुड़ियों का है ज़माना
रब्बा मेरे मुझको बचाना
हाय राम कुड़ियों का है ज़माना

हुकूम आपका था, जो मैंने न माना
खतावार हूँ मैं, न आया निभाना
सज़ा जो भी दोगी, वो मँज़ूर होगी
अजी मेरी मुश्किल अभी दूर होगी
बन्दा है ये खुद से बेगाना
हाय राम कुड़ियों का है ज़माना...


मुझसे जुदा होकर - Mujhse Juda Ho Kar (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: देव कोहली
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

मुझसे जुदा हो कर तुम्हें दूर जाना है
पल भर की जुदाई फिर लौट आना है
साथिया, संग रहेगा तेरा प्यार
साथिया, रंग लायेगा इंतज़ार
तुमसे जुदा होकर मुझे दूर जाना है
पल भर की जुदाई...

मैं हूँ तेरी सजनी, साजन है तू मेरा
तू बाँध के आया मेरे प्यार का सेहरा
चेहरे से अब तेरे हटती नहीं अँखियाँ
तेरा नाम ले लेकर, छेड़े मुझे सखियाँ
सखियों से अब मुझको पीछा छुड़ाना है
पल भर की जुदाई...

मेरे तसव्वुर में तुम रोज़ आती हो
चुपके से तुम आकर, मेरा घर सजाती हो
सजनी बड़ा प्यारा ये रूप है तेरा
गजरे की खुशबू से महका है घर मेरा
आँखों से अब तेरी काजल चुराना है
पल भर की जुदाई...


हम आपके हैं कौन - Hum Aapke Hain Koun (Lata Mangeshkar, S.P.Balasubramanium)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: देव कोहली
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

हम आपके हैं कौन
बेचैन है मेरी नजर, है प्यार का कैसा असर
ना चुप रहो इतना कहो, हम आपके आपके हैं कौन

खुद को सनम रोका बड़ा
आखिर मुझे कहना पड़ा
ख्वाबो में तुम आते हो क्यों
हम आपके आपके हैं कौन...

बेचैन है मेरी नजर
है प्यार का कैसा असर
हैं होश गुम पूछो ना तुम
हम आपके आपके हैं कौन...

कैसे कहूँ दिल की लगी
चेहरा मेरा पढ़ लो कभी
ये शर्म की सुर्खी कहे
हम आपके आपके हैं कौन...


धिकताना धिकताना - Dhiktana Dhiktana (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर राव
Performed By: एस.पी.बालासुब्रमन्यम

धिकताना, धिकताना, धिकताना
धिक, धिकताना, धिकताना, धिकताना
भाभी तुम खुशियों का खज़ाना
धिकताना, धिकताना...

पहली किरण जब से उगे
भाभी मेरी तब से जगे
सबका पूरा ध्यान धरे वो
शाम ढले तक काम करे
कल तक रहा, इस छाँव से
मेरा बचपन अनजाना
धिकताना, धिकताना...

होगी मेरी शादी कभी
कहते हैं यह मुझसे सभी
खुद अपनी देवरानी चुनना
बात किसी की मत सुनना
तुम ढूंढ के, रंग रूप में
अपनी परछाई लाना
धिकताना, धिकताना...

कब तक रहूँ सबसे छोटा
आये कोई मुझसे छोटा
हँसता बोलता कोई खिलौना
अब इन बाँहों को दो ना
मांगे तुमसे, घर का आँगन
प्यारा प्यारा नजराना
धिकताना, धिकताना...


लो चली मैं - Lo Chali Main (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर

लो चली मैं, अपने देवर की बारात ले के
लो चली मैं
ना बैण्ड बाजा, ना ही बराती
खुशियों की सौगात ले के
लो चली मैं

देवर दूल्हा बना, सर पे सेहरा सजा
भाभी बढ़कर आज बलैय्याँ लेती है
प्रेम की कालिया खिले, पल पल खुशियाँ मिले
सच्चे मन से आज दुआएं देती है
घोड़े पे चढ़ के, चला है बांका
अपनी दुल्हन से मिलने
लो चली मैं...

वाह वाह रामजी, जोड़ी क्या बनाई
देवर-देवरानी जी, बधाई हो बधाई
सब रस्मों से बड़ी है जग में
दिल से दिल की सगाई

आई है शुभ घड़ी, आज बनी मैं बड़ी
कल तक घर की बहू थी, अब हूँ जेठानी
हुकुम चलाऊंगी मैं, आँख दिखाऊंगी मैं
सहमी खड़ी रहेगी मेरी देवरानी
हजार सपने, पलकों में अपने
दीवानी मैं साथ ले के
लो चली मैं...


आज हमारे दिल में - Aaj Hamare Dil Mein (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, कुमार सानू

आज हमारे दिल में अजब ये उलझन है
गाने बैठे गाना, सामने समधन है
हम कुछ आज सुनाये, ये उनका भी मन है
गाने बैठे गाना, सामने समधन है

कानों की बालियाँ, चाँद सूरज लगे
ये बनारस की, साड़ी खूब सजे
राज़ की बात बताएँ, समधीजी घायल हैं
आज भी जब समधन की, खनकती पायल है

होठों की ये हंसी, आँखों की ये हया
इतनी मासूम तो, होती है बस दुआ
राज की बात बताएँ, समधी खुश किस्मत हैं
लक्ष्मी है समधन जी, जिनसे घर जन्नत है

आज हमारे दिल में अजब ये उलझन है
सामने समधी जी, गा रही समधन है
हमको जो है निभाना, वो नाजुक बंधन है
सामने समधी जी, गा रही समधन है

मेरी छाया है जो, आपके घर चली
सपना बनके मेरी, पलकों में है पली
राज़ की बात बताएँ, ये पूंजी जीवन की
शोभा आज से है ये, आपके आँगन की


माए नी माए - Maye Ni Maye (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: देव कोहली
Performed By: लता मंगेशकर

माये नी माये मुंडेर पे तेरी, बोल रहा है कागा
जोगन हो गयी तेरी दुलारी, मन जोगी संग लागा

चाँद की तरह चमक रही थी उस जोगी की काया
मेरे द्वारे आकर उसने प्यार का अलख जगाया
अपने तन पे भस्म रमा के, सारी रैन वो जागा
जोगन हो गयी तेरी दुलारी...

मन्नत मांगी थी तुने, इक रोज मैं जाऊं बियाही
उस जोगी के संग मेरी तू कर दे अब कुड़माई
इन हाथों में लगा दे मेहँदी, बांध शगुन का धागा
जोगन हो गयी तेरी दुलारी...


ये मौसम का जादू है - Ye Mausam Ka Jadoo (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

ठंडी ठंडी पुरवैया में उड़ती है चुनरिया
धड़के मोरा जिया रामा बाली है उमरिया

दिल पे, नहीं काबू
कैसा, ये जादू

ये मौसम का जादू है मितवा
ना अब दिल पे काबू है मितवा
नैना जिसमें खो गए, दीवाने से हो गए
नजारा वो हरसू है मितवा
ये मौसम का जादू...

सहरी बाबु के संग, मेम गोरी गोरी हे
ऐसे लागे जैसे, चंदा की चकोरी

फूलों कलियों की बहारें, चंचल ये हवाओं की पुकारें
हमको ये इशारों में कहे हम, थम के यहाँ घड़ियाँ गुजारें
पहले कभी तो ना हमसे, बतियाते थे ऐसे फुलवा
ये मौसम का जादू...

सच्ची सच्ची बोलना भेद ना छुपाना
कौन डगर से आये, कौन दिसा है जाना

इनको हम ले के चले हैं, अपने संग अपनी नगरिया
हाय रे संग अनजाने का, उस पर अनजान डगरिया
फिर कैसे तुम दूर इतने, संग आ गयी मेरी गोरिया
ये मौसम का जादू...


जूते दे दो, पैसे ले लो - Joote De Do, Paise Le Lo (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

दुल्हे की सालियों
ओ हरे दुपट्टे वालियों
जूते दे दो, पैसे ले लो
दुल्हन के देवर
तुम दिखलाओ ना यूं तेवर
पैसे दे दो, जूते ले लो

अजी नोट गिनो जी (जूते लाओ)
जिद छोड़ो जी (जूते लाओ)
फ्रौड हैं क्या हम (तुम ही जानो)
अकडू हो तुम (जो भी मानो)
अजी बात बढ़ेगी (बढ़ जाने दो)
मांग चढ़ेगी (चढ़ जाने दो)
अड़ो ना ऐसे (पहले जूते)
जूते लिए हैं नहीं चुराया कोई जेवर
दुल्हन के देवर तुम दिखलाओ ना यूं तेवर
पैसे दे दो जूते ले लो...

कुछ ठंडा पी लो (मूड नहीं है)
दही बड़े लो (मूड नहीं है)
कुल्फी खा लो (बहुत खा चुके)
पान खा लो (बहुत खा चुके)
अजी रसमलाई (आपके लिए)
इतनी मिठाई (आपके लिए)
पहले जूते (खायेंगे क्या)
आपकी मर्जी (ना जी तौबा)
किसी बेतुके शायर की बेसुरी कवालियों
दुल्हे की सालियों ओ हरे दुपट्टे वालियों
जूते दे दो, पैसे ले लो...


चॉकलेट लाईम जूस - Chocolate Lime Juice (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: देव कोहली
Performed By: लता मंगेशकर

चॉकलेट, लाईम जूस, आइसक्रीम, टॉफियाँ
पहले जैसे अब मेरे शौक हैं कहा
गुड़िया, खिलोने, मेरी सहेलियाँ
अब मुझे लगती हैं, सारी पहेलियाँ
ये कौन सा मोड़ है उम्र का

ये कैसा दीवानापन है
क्या जानूँ, मैं क्या जानूँ
मुश्किल हो गया खुद को कैसे
पहचानूँ मैं पहचानूँ
दिन कटता है, कटे ना रतियाँ
किससे कहूँ में ये सारी बतियाँ
गुड़िया, खिलौने...

मन में तरंगे उठने लगी हैं
ये कैसी, ये कैसी
अब जैसी हूँ पहले नहीं थी
मैं ऐसी, मैं ऐसी
खिलने लगी हैं राहों में कलियाँ
अँखियाँ ढूंढे सपनों की गालियाँ
गुड़िया, खिलौने...


तुमसे मिलने की तमन्ना - Tumse Milne Ki Tamanna (S.P.Balasubramanium, Saajan)



Movie/Album: साजन (1992)
Music By: नदीम श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: एस.पी.बालासुब्रमनियम

तुमसे मिलने की तमन्ना है
प्यार का इरादा है
और एक वादा हैं जानम
जो कभी हम मिले
तो ज़माना देखेगा अपना प्यार
ओ मेरे यार

मैं शायर नहीं, दीवाना नहीं
मैं आशिक़ नहीं परवाना नहीं
मिली जबसे नज़र, तब से जान-ए-जिगर
मैं हो गया दीवाना
अब जाने क्या होगा जान-ए-जाना
तुमसे मिलने की तमन्ना...

क्या पता फिर कहाँ कब मुलाकात हो
वो हसीना से फिर दिल की बात हो
उसके जैसी हंसीं मैंने देखी नहीं
रोकेगा क्या ज़माना मैंने दिल में है ठाना
मुझको उसे है अभी अपना बनाना
तुमसे मिलने की तमन्ना...


जीयें तो जीयें कैसे - Jiye To Jiye Kaise (SP Bala, Kumar, Alka, Anuradha, Pankaj, Saajan)



Movie/Album: साजन (1992)
Music By: नदीम-श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: एस.पी.बालासुब्रमनियम, कुमार सानू, अलका याग्निक, अनुराधा पौडवाल, पंकज उदास

जीयें तो जीयें कैसे बिन आपके
लगता नहीं दिल कहीं बिन आपके
जीयें तो जीयें...

कैसे कहूँ, बिना तेरे, ज़िंदगी ये क्या होगी
जैसे कोई सज़ा, कोई बद्दुआ होगी
मैंने किया है ये फ़ैसला
जीना है अब तेरे बिना
जीयें तो जीयें कैसे...

मुझे कोई दे दे ज़हर, हँस के मैं पी लूंगी
हर दर्द सह लूंगी, हर हाल में जी लूंगी
दर-ए-जुदाई सह ना सकूंगी
तेरे बिना मैं रह न सकुंगी
जीयें तो जीयें कैसे...

देख के वो मुझे, तेरा पलकें झुका देना
याद बहुत आए तेरा मुस्कुरा देना
कैसे भुलायूं वो सारी बातें
वो मीठी रातें, वो मुलाकातें
जीयें तो जीयें कैसे...


आवारा भँवरे - Awara Bhanwre (A.R.Rehman, Hema Sardesai)



Movie/Album: सपने (1997)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: हेमा सरदेसाई, मलेशिया वासुदेवन

आवारा भँवरे जो हौले हौले गाएँ
फूलों के तन पे हवा ये सरसराये
कोयल की कुहू कुहू
पपीहे की पिहू पिहू
जंगल में झींगुर भी छाये जाये
नदियाँ में लहरें आयें
बलखायें छलकी जायें
भीगी होंठों से वो गुनगुनाएं
गाता है साहिल, गाता है बहता पानी
गाता है ये दिल सुन
सा रे गा मा पा धा नि सा रे

रात जो आये तो, सन्नाटा छाये तो
टिक-टिक करे घड़ी सुनो
दूर कहीं गुज़रे, रेल किसी पुल से
गूँजे धड़ाधड़ी सुनो
संगीत है ये, संगीत है
मन का संगीत सुनो
बाहों में लेके बच्चा, माँ जो कोई लोरी गाये
ममता का गीत सुनो
आवारा भँवरे...

भीगे परिन्दे जो, ख़ुद को सुखाने को
पर फड़फड़ाते हैं सुनो
गाय भी, बैल भी, गले में पड़ी घंटी
कैसे बजाते हैं सुनो
संगीत है ये, संगीत है
जीवन संगीत सुनो
बरखा रानी बूँदों की
पायल जो झनकाये
धरती का गीत सुनो
हिलको रे, हिलको रे...
आवारा भँवरे...


चंदा रे चंदा रे - Chanda Re Chanda Re (Hariharan, Sadhna Sargam)



Movie/Album: सपने (1997)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: हरिहरन, साधना सरगम

चंदा रे चंदा रे
कभी तो ज़मीं पर आ
बैठेंगे, बातें करेंगे
तुझको आते इधर, लाज आये अगर
ओढ़ के आजा, तू बादल घने

गुलशन-गुलशन, वादी-वादी
बहती है रेशम जैसी हवा
जंगल-जंगल, पर्वत-पर्वत
हैं नींद में सब इक मेरे सिवा
चंदा, चंदा
आजा सपनों की नीली नदिया में नहायें
आजा ये तारे चुनके हम, घार बनाएँ
इन धुँधली-धुँधली राहों में, आ दोनों ही खो जाएं
चंदा रे चंदा रे...

चंदा से पूछेंगे हम सारे सवाल निराले
झरने क्यों गाते हैं, पंछी क्यों मतवाले
क्यों है सावन महीना घटाओं का
चंदा से पूछेंगे हम सारे सवाल निराले
चंदा, चंदा
तितली के पर क्यों इतने रंगीं होते हैं
जुगनू रातों में जागे, तो कब सोते हैं
इन धुँधली-धुँधली राहों में, आ दोनों ही खो जाएं
चंदा रे, चंदा रे...


हम करें राष्ट्र आराधन - Hum Kare Rashtra Aradhan (Chanakya, Doordarshan)



Movie/Album: चाणक्य [डी.डी.१] (1991)
Music By: अशित देसाई
Lyrics By: 'जयशंकर प्रसाद' या 'विश्वनाथ शुक्ला' या 'हरिवंश प्रसाद शुक्ला'
Performed By: तक्षशिला विश्वविद्यालय के छात्र

हम करें राष्ट्र आराधन, आराधन
हम करें राष्ट्र आराधन, आराधन
तन से, मन से, धन से
तन मन धन जीवन से
हम करें राष्ट्र आराधन, आराधन

अन्तर से, मुख से, कृति से
निश्छल हो निर्मल मति से
श्रद्धा से मस्तक नत से
हम करें राष्ट्र अभिवादन
हम करें राष्ट्र आराधन...

अपने हँसते शैशव से
अपने खिलते यौवन से
प्रौढ़ता पूर्ण जीवन से
हम करें राष्ट्र का अर्चन
हम करें राष्ट्र का अर्चन
हम करें राष्ट्र आराधन...

अपने अतीत को पढ़कर
अपना इतिहास उलटकर
अपना भवितव्य समझकर
हम करें राष्ट्र का चिंतन
हम करें राष्ट्र का चिंतन
हम करें राष्ट्र आराधन...

है याद हमें युग युग की
जलती अनेक घटनायें
जो माँ की सेवा पथ पर
आई बनकर विपदायें
हमने अभिषेक किया था
जननी का अरिशोणित से
हमने श्रृंगार किया था
माता का अरिमुंडो से

हमने ही उसे दिया था
सांस्कृतिक उच्च सिंहासन
माँ जिस पर बैठी सुख से
करती थी जग का शासन
अब काल चक्र की गति से
वह टूट गया सिंहासन
अपना तन मन धन देकर
हम करें राष्ट्र आराधन...


मैं कोई ऐसा गीत गाऊँ - Main Koi Aisa Geet Gaoon (Abhijeet, Alka Yagnik, Yes Boss)



Movie/Album: यस बॉस (1997)
Music By: जतिन ललित
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: अभिजीत, अलका याग्निक

मैं कोई ऐसा गीत गाऊँ
कि आरज़ू जगाऊँ
अगर तुम कहो
तुमको बुलाऊँ
कि पलकें बिछाऊँ
कदम तुम जहाँ-जहाँ रखो
ज़मीं को आसमाँ बनाऊँ
सितारों से सजाऊँ
अगर तुम कहो

मैं तितलियों के पीछे भागूँ
मैं जुगनूओं के पीछे जाऊँ
ये रंग है, वो रोशनी है
तुम्हारे पास दोनों लाऊँ
जितनी खुशबूएँ बाग में मिले
मैं लाऊँ, वहाँ पे, के तुम हो जहाँ
जहाँ पे एक पल भी ठहरूँ
मैं गुलसिताँ बनाऊँ
अगर तुम कहो...

अगर कहो तो मैं सुनाऊँ
तुम्हें हसीं कहानियाँ
सुनोगे क्या मेरी जुबानी
तुम एक परी की दास्ताँ
या मैं करूँ, तुम से बयाँ
कि राजा, से रानी, मिली थी कहाँ
कहानियों के नगर में
तुम्हें ले के जाऊँ
अगर तुम कहो...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com