1991 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1991 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

हम करें राष्ट्र आराधन - Hum Kare Rashtra Aradhan (Chanakya, Doordarshan)



Movie/Album: चाणक्य [डी.डी.१] (1991)
Music By: अशित देसाई
Lyrics By: 'जयशंकर प्रसाद' या 'विश्वनाथ शुक्ला' या 'हरिवंश प्रसाद शुक्ला'
Performed By: तक्षशिला विश्वविद्यालय के छात्र

हम करें राष्ट्र आराधन, आराधन
हम करें राष्ट्र आराधन, आराधन
तन से, मन से, धन से
तन मन धन जीवन से
हम करें राष्ट्र आराधन, आराधन

अन्तर से, मुख से, कृति से
निश्छल हो निर्मल मति से
श्रद्धा से मस्तक नत से
हम करें राष्ट्र अभिवादन
हम करें राष्ट्र आराधन...

अपने हँसते शैशव से
अपने खिलते यौवन से
प्रौढ़ता पूर्ण जीवन से
हम करें राष्ट्र का अर्चन
हम करें राष्ट्र का अर्चन
हम करें राष्ट्र आराधन...

अपने अतीत को पढ़कर
अपना इतिहास उलटकर
अपना भवितव्य समझकर
हम करें राष्ट्र का चिंतन
हम करें राष्ट्र का चिंतन
हम करें राष्ट्र आराधन...

है याद हमें युग युग की
जलती अनेक घटनायें
जो माँ की सेवा पथ पर
आई बनकर विपदायें
हमने अभिषेक किया था
जननी का अरिशोणित से
हमने श्रृंगार किया था
माता का अरिमुंडो से

हमने ही उसे दिया था
सांस्कृतिक उच्च सिंहासन
माँ जिस पर बैठी सुख से
करती थी जग का शासन
अब काल चक्र की गति से
वह टूट गया सिंहासन
अपना तन मन धन देकर
हम करें राष्ट्र आराधन...


मोहे छेड़ो ना - Mohe Chhedo Na (Lata Mangeshkar, Lamhe)



Movie/Album: लम्हें (1991)
Music By: शिव-हरी
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर

मोहे छेड़ो ना नन्द के लाला
के मैं हूँ बृजबाला, नहीं मैं राधा तेरी
मोहे छेड़ो ना...

काहे पकड़ ली मेरी कलाई
तेरी दुहाई ओ कृष्ण कन्हाई
हरजाई तू बंसरी वाला
के मैं बृजबाला, नहीं मैं राधा तेरी
मोहे छेड़ो ना...

राधा से होगी तेरी ठिठोली
आँख मिचौली तुम हमजोली
होली में क्यों मुझे रंग डाला
के मैं हूँ बृजबाला, नहीं मैं राधा तेरी
मोहे छेड़ो ना...


मैंने प्यार तुम्हीं से - Maine Pyar Tumhi Se (Kumar Sanu, Anuradha Paudwal, Phool Aur Kaante)



Movie/Album: फूल और कांटे (1991)
Music By: नदीम श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: कुमार सानू, अनुराधा पौडवाल

मैंने प्यार तुम्हीं से किया है
मैंने दिल भी तुम्हीं को दिया है
अब चाहे जो हो जाए
मैं दुनिया से अब ना डरूं
तुझी से मैं प्यार करूँ

ऐलान यही करने आया
मैं आज यहाँ मरने आया
रुसवा तुझे मैं कर जाऊँगा
खा के ज़हर अब मर जाऊँगा
मैंने प्यार तुम्ही से...

दिलवाले अगर मिल जाए यहाँ
फिर नींद किसे, फिर चैन कहाँ
ओ तेरे लिए आहें भरता है दिल
तेरी ऐसी बातों से डरता है दिल
मैंने प्यार तुम्ही से...

बाहों में तेरी दिन रात रहूँ
जग छोड़ दूँ मैं, ओ तेरे साथ रहूँ
ओ सांसो में बसा लूं आजा तुझको
तेरे बिना जीना नहीं मुझको
मैंने प्यार तुम्हीं से...


तुमसे मिलने को दिल - Tumse Milne Ko Dil (Kumar Sanu, Alka Yagnik, Phool Aur Kaante)



Movie/Album: फूल और कांटे (1991)
Music By: नदीम श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: कुमार सानू, अलका याग्निक

रुक जाना
तुमसे मिलने को दिल करता है
रे बाबा, तुमसे मिलने को दिल करता है
तुम ही हो जिसपे दिल मरता है
तुमसे मिलने को दिल...

जबसे तुमसे शुरू ये कहानी हुई
लोग कहते हैं मैं तो दीवानी हुई
जाने क्या बात ऐसी है तुझ में सनम
ये दिल तेरे लिए ही मचलता है
तुमसे मिलने को दिल...

दूर तुमसे रहूँ तो हो बेचैनियाँ
पास आओ तो बढाती है बेताबियाँ
हो न जाए कहीं तू मुझसे जुदा
ऐसी बातों से दिल डरता है
रे बाबा तुमसे मिलने को दिल...


धीरे धीरे प्यार को - Dheere Dheere Pyar Ko (Kumar Sanu, Alka Yagnik, Phool Aur Kaante)



Movie/Album: फूल और कांटे (1991)
Music By: नदीम श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: कुमार सानू, अलका याग्निक

धीरे धीरे प्यार को बढ़ाना है
हद से गुज़र जाना है
मुझे बस तुझसे दिल लगाना है
हद से गुज़र जाना है

ऐसी ज़िन्दगी होगी, हर तरफ ख़ुशी होगी
इतना प्यार दूँगा तुझे, ऐ मेरे सनम
अब न कोई गम होगा, ना ये प्यार कम होगा
साथी मेरे मुझको तेरे सर की है कसम
इक दूजे को आज़माना है
हद से गुज़र जाना है
धीरे धीरे प्यार को...

मैं अकेला क्या करता, ऐसे ही आन्हें भरता
तेरे प्यार के लिए तड़पता उम्र भर
जाने क्या मैं कर जाती, यूँ तड़प के मर जाती
बिन तेरे भला कैसे, कटता ये सफ़र
तेरे लिए मर के भी दिखाना है
हद से गुज़र जाना है
धीरे धीरे प्यार को...

तेरा चाँद सा मुखड़ा, तू जिगर का है टुकड़ा
तू हमारे सपनों की झील का कँवल
जान से तु है प्यारा, आँखों का तु है तारा
बिन तेरे जियेंगे अब हम न एक पल
सब कुछ तुझपे ही लुटाना है
हद से गुज़र जाना है
धीरे धीरे प्यार को...

Sad
आँसूं ना बहायेंगे, हँसी ढूंढ लाएंगे
मिलजुल के बांट लेंगे, ज़िन्दगी के गम
बच के कहाँ जायेगी
खुशियाँ लौट आएगी
हारेंगे ना वक़्त की इन आँधियों से हम
धीरे धीरे हौंसला बढ़ाना है
हद से गुज़र जाना है
धीरे धीरे प्यार को बढ़ाना है
हद से गुजर जाना है


तुम्हें अपना बनाने की कसम - Tumhen Apna Banaane Ki Kasam (Anuradha, Kumar, Sadak)



Movie/Album: सड़क (1991)
Music By: नदीम -श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: अनुराधा पौडवाल, कुमार सानू

तुम्हें अपना बनाने की कसम खाई है, खाई है
तेरी आँखों में चाहत ही नज़र आई है, आई है
तुम्हें अपना बनाने...

मुहब्बत क्या है मैं सबको बता दूँगा/दूँगी
ज़माने को तेरे आगे झुका दूँगा/दूँगी
तेरी उल्फ़त मेरी जाना वो रंग लाई है, लाई है
तुम्हें अपना बनाने...

तसव्वुर बनके मैं ख़्वाबों में आऊँगी
तेरी पलकों तले जीवन बिताऊंगी
मेरे दिल में तेरी धड़कन सनम समाई है, समाई है
तुम्हें अपना बनाने...

तेरे होंठों से मैं शबनम चुराऊँगा
तेरे आँचल तले जीवन बिताऊँगा
मेरी नस-नस में तू बन के लहू समाई है, समाई है
तुम्हें अपना बनाने...

तेरी बाहों में हैं दोनों जहां मेरे
मैं कुछ भी तो नहीं दिलबर बिना तेरे
तुझे पा के ज़माने की ख़ुशी पाई है, पाई है
तुम्हें अपना बनाने...


ये इलू इलू क्या है - Ye Ilu Ilu Kya Hai (Kavita, Manhar, Sukhwinder, Udit, Saudagar)



Movie/Album: सौदागर (1991)
Music By:
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: कविता कृष्णमूर्ति, मनहर उदास, सुखविंदर सिंह, उदित नारायण

इलू इलू, इलू इलू
ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
जब बाग़ में कोईफूल खिला, तो भँवरे ने कहा
इलू इलू...
पर्वत पे छाई काली घटा तो बोली हवा
इलू इलू...
जब कोई अच्छा लगता है, बड़ा प्यारा प्यारा लगता है
तो दिल करता है, इलू इलू

ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
इलू का मतलब, आई एल यू, आई एल यू
इलू का मतलब, आई लव यू

इलू इलू, इलू इलू
ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
जब मीठे बोल कोई बोले, मिसरी की मीठी डलियों से
जब मस्त बहारों का मौसम, गुज़रे गाँव की गलियों से
जब मिट्टी से आए खुशबू
तो दिल करता है, इलू इलू...
इलू इलू...
सावन के महीने में शायद, सारे पागल हो जाते हैं
जब मोर पपीहा कोयल सब, बागों में शोर मचाते हैं
आवाज़ आती है हर सूं
तो दिल करता है, इलू इलू...

इलू इलू, इलू इलू
ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
कहते हैं लोग मोहब्बत में, ये दिल दिल से जुड़ जाता है
ये तो ऐसा पंछी है जो, पिंजड़ा लेकर उड़ जाता है
जब प्यार का चलता है जादू
तो दिल करता है, इलू इलू...
इलू इलू...
यारों इस झूठी दुनिया में, जब कोई सच्ची बात कहे
जब भोर भये पंछी जगे, और शिव मंदिर में शंख बजे
जब मस्जिद में हो अल्लाह-हू
तो दिल करता है, इलू इलू...


इमली का बूटा - Imli Ka Boota (Mohammad Aziz, Sadhana, Udit, Saudagar)



Movie/Album: सौदागर (1991)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मोहम्मद अज़ीज़, साधना सरगम, उदित नारायण

हे राजू, चल बीरू
तिनक तिनक तिन तारा...

इमली का बूटा, बेरी का पेड़
इमली खट्टी, मीठे बेर
इस जंगल में हम दो शेर
चल गई जल्दी हो गई देर

जिस दिन से तू रूठ गया
तेरी कसम दिल टूट गया
ना जाने कब रात हुई
ना जाने कब हुई सवेर
इमली का बूटा...

रौनक प्यार के नाम की है
ये दौलत किस काम की है
तेरे बिन हीरे मोती
लगते हैं मिट्टी के ढेर
इमली का बूटा...

मैं कुछ भी कर जाऊँगा
तेरे लिए मर जाऊँगा
मेरे लिए तू इतना कर
गीत वही बचपन का छेड़
तिनक तिनक तिन तारा...


सौदागर सौदा कर - Saudagar Sauda Kar (Manhar, Kavita, Sukhwinder, Saudagar)



Movie/Album: सौदागर (1991)
Music By:
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मनहर उदास, कविता कृष्णमूर्ति

तू पंछी परदेसी, तू जोगी है कि जादूगर
इनमें से कोई भी नहीं, मैं सपनों का सौदागर
सौदागर, सौदा कर
दिल ले ले, दिल दे कर

हाथ किसी का वो पकड़े
जो छोड़े जग सारा
तू ऊंचे महलों वाली
मैं बेघर बंजारा
इक दूजे के दिल में रहेंगे
क्या करना है घर
सौदागर सौदा कर...

तेरे साथ मैं कैसे
प्यार का सौदा कर लूँ
ऐसा कोई वादा कर
मैं जिसपे भरोसा कर लूँ
जो चाहे लिखवा ले मुझसे
कोरे कागज़ पर
सौदागर सौदा कर...

दिल तो है पर दिल के
परवान कहाँ से लाऊँ
डोली सहरा कंगन
सब सामान कहाँ से लाऊँ
थोड़ा सा सिंदूर कहीं से
ले आ बस जा कर
सौदागर, सौदा कर
दिल ले ले, दिल दे कर
सोचा समझ ले
बाद में न पछताना
ये कहकर
सौदागर सौदागर...


ग़म का खज़ाना - Gham Ka Khazana (Jagjit Singh, Lata Mangeshkar, Sajda)



Movie/Album: सजदा (1991)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: शाहिद कबीर
Performed By: जगजीत सिंह, लता मंगेशकर

ग़म का ख़ज़ाना तेरा भी है, मेरा भी
ये अफ़साना तेरा भी है, मेरा भी

अपने ग़म को गीत बना कर गा लेना
राग़ पुराना तेरा भी है, मेरा भी
ग़म का ख़ज़ाना...

तू मुझको और मैं तुझको समझाऊं क्या
दिल दीवाना तेरा भी है, मेरा भी
ग़म का ख़ज़ाना...

शहर मे गलियों-गलियों जिसका चर्चा है
वो अफ़साना तेरा भी है, मेरा भी
ग़म का ख़ज़ाना...

मयख़ाने की बात न कर वाईज़ मुझसे
आना-जाना तेरा भी है, मेरा भी
ग़म का ख़ज़ाना...


उदास शाम किसी ख्वाब - Udaas Shaam Kisi Khwaab (Ghulam Ali, Mahtab)



Movie/Album: महताब (1991)
Music By: गुलाम अली
Lyrics By: क़तील शिफ़ई
Performed By: गुलाम अली

उदास शाम किसी ख्वाब में ढली तो है
यही बहुत है के ताज़ा हवा चली तो है

जो अपनी शाख़ से बाहर अभी नहीं आई
नई बहार की ज़ामिन वही कली तो है
उदास शाम किसी...

धुंआ तो झूठ नहीं बोलता कभी यारों
हमारे शहर में बस्ती कोई जली तो है
उदास शाम किसी...

किसी के इश्क़ में हम जान से गये लेकिन
हमारे नाम से रस्म-ए-वफ़ा चली तो है
उदास शाम किसी...

हज़ार बन्द हो दैर-ओ-हरम के दरवाज़े
मेरे लिये मेरे महबूब की गली तो है
उदास शाम किसी...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com