2006 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
2006 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

भीगी भीगी सी है रातें - Bheegi Bheegi Si Hai Raatein (James, Gangster)



Movie/Album: गैंगस्टर (2006)
Music By: प्रीतम चक्रबर्ती
Lyrics By: मयूर पूरी
Performed By: जेम्स

भीगी भीगी सी है रातें
भीगी भीगी यादें, भीगी भीगी बातें
भीगी भीगी आँखों में कैसी नमी है

सपनों का साया, पलकों पे आया
पल में हंसाया, पल में रुलाया
फिर भी ये कैसी कमी है
ना जाने कोई
कैसी है ये ज़िन्दगानी, ज़िन्दगानी
हमारी अधूरी कहानी

आधी आधी जागी, आधी आधी सोयी
आँखें ये तेरी तो लगता है रोई
लेकर के नाम हमारा
रूठा रूठा रब, छूटा छूटा सब
टूटा टूटा दिल, तेरे बिना अब
कैसे हो जीना गंवारा
ना जाने कोई
कैसी है ये ज़िन्दगानी, ज़िन्दगानी
हमारी अधूरी कहानी...


इश्क ने तेरे - Ishq Ne Tere (KK, Aahista Aahista)



Movie/Album: आहिस्ता आहिस्ता (2006)
Music By:
हिमेश रेशमिया
Lyrics By: इरशाद कामिल
Performed By: के.के., जयेश गाँधी

इश्क ने तेरे इश्क ने
कर दिया बेखबर
बेचैन शाम-ओ-सहर
बस तुझे याद करता हूँ मैं रात भर
इश्क ने तेरे इश्क ने...

आहिस्ता आहिस्ता साथिया, तुने कोई जादू है किया
हो मेरी जवानी की कहानी, डूबी है तेरे प्यार में
हो जा तू हो जा मेरी हो जा, बैठा हूँ तेरे इंतज़ार में
खोया हूँ तेरे प्यार में
इश्क ने तेरे इश्क ने...

मैंने तुम्हें चाहा जिस तरह, चाहेगा न कोई इस तरह
चाहत में तेरी मैं तो यारा, न जाने क्या क्या हो गया
भूला मैं सारी दुनिया को, ख्वाबोँ में तेरे खो गया
चैन भी मेरा खो गया
इश्क ने तेरे इश्क ने...


नमक इस्क का - Namak Isk Ka (Rekha Bhardwaj, Omkara)



Movie/Album: ओमकारा (2006)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: रेखा भारद्वाज

चाँद निगल गयी
हो जी मैं चाँद निगल गयी दैय्या रे
भीतर भीतर आग जले
बात करूँ तो सेक लगे
मैं चाँद निगल..
अंग पे ऐसे छाले पड़े
तेज़ था छौंका का करूँ
सीसी करती, सीसी सीसी करती मैं मरूँ
ज़बां पे लागा लागा रे
नमक इस्क का हाय, तेरे इस्क का
बलम से माँगा माँगा रे, बलम से माँगा रे
नमक इस्क का, तेरे इस्क का
ज़बां पे लागा लागा रे...

सभी छेड़े हैं मुझको, सिपहिये बाँके छमिये
उधारी देने लगे हैं गली के बनिए बनिए
कोई तो कौड़ी तो भी लुटा दे, कौई तो कौड़ी
अजी थोड़ी थोड़ी शहद चटा दे, थोड़ी थोड़ी
तेज़ था तड़का का करूँ...
रात भर छाना रे
रात भर छाना, रात भर छाना छाना रे
नमक इस्क का...

ऐसी फूँक लगी जालिम की
के बाँसुरी जैसी बाजी मैं
अरे जो भी कहा उस चन्द्रभान ने
फट से हो गयी राजी मैं
कभी अँखियों से पीना, कभी होंठों से पीना
कभी अच्छा लगे मरना, कभी मुस्किल लगे जीना
करवट-करवट प्यास लगी थी
अजी बलम की आहट पास लगी थी
तेज था छौंका...
डली भर डाला जी...डाला जी रे
डली भर डाला, डाला डाला रे
नमक इस्क का हाय...


ओमकारा - Omkara (Sukhwinder Singh, Omkara)



Movie/Album: ओमकारा (2006)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: सुखविंदर सिंह

धम धम धड़म धड़य्या रे
सबसे बड़े लड़य्या रे
ओमकारा, हे ओमकारा
आँखें तेज़ तकैय्या, दो-दो जीभ साँप का फुंकारा
ओमकारा, हे ओमकारा
अरे बिजुरी सा कौंधे सर पे जिसकी तलवार का झंकारा
ओमकारा, हे ओमकारा

माथे पर तिरसूल के जैसे, तीन-तीन बल पड़ते हैं
अरे कान पे जूं रेंगे तो भईया, रान बजा चल पड़ते हैं
गली गली में, अरे गली गली में
गली गली में भय बैठा है, चौक पे गूँजा हुँकारा
ओमकारा...

छत पर आ कर गिद्ध बैठें और परनालों से खून बहे
अरे कौन गिरा है, कौन कटा है, किसमा दम है, कौन कहे
छक्के छूट गए दुसमन के, ओमकारा
छक्के छूट गए दुसमन के, धरती माँगे छुटकारा
ओमकारा, हे ओमकारा...


बीड़ी जलाई ले - Beedi Jalai Le (Sukhwinder Singh, Sunidhi Chauhan, Omkara)



Movie/Album: ओमकारा (2006)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: सुखविंदर सिंह, सुनिधि चौहान

ना गिलाफ़, ना लिहाफ़
ठंडी हवा भी खिलाफ, ससुरी
इत्ती सर्दी है किसी का लिहाफ लई ले
जा पड़ोसी के चूल्हे से आग लई ले

बीड़ी जलाई ले, जिगर से पिया
जिगर मा बड़ी आग है
धुंआ ना निकारी ओ लब से पिया
जे दुनिया बड़ी धांक है

ना कसूर,ना फतूर
बिना जुरम के हुजूर
मर गयी, हो मर गयी
ऐसे इक दिन दुपहरी बुलाई लियो रे
बाँध घुँघरू कचेहरी लगाई लियो रे
बुलाई लियो रे, बुलाई लियो रे, दुपहरी
लगाई लियो रे, लगाई लियो रे, कचेहरी
अंगेठी जलाई ले, जिगर से पिया
जिगर मा बड़ी आग है
बीड़ी जलाई ले...

ना तो चक्कुओं की धार
ना डराती, ना कटार
ऐसा काटे के दांत का निसान छोड़ दे
ये कटाई तो कोई भी किसान छोड़ दे
ओ ऐसे जालिम का छोड़ दे मकान छोड़ दे
रे बिल्लो, जालिम का छोड़ दे मकान छोड़ दे
ऐसे जालिम का, ओ ऐसे जालिम का
ऐसे जालिम का छोड़ दे मकान छोड़ दे
ना बुलाया, ना बताया
म्हाने नींद से जगाया, हाय रे
ऐसा चौकैल हाथ में नसीब आ गया
वो इलाईची खिलाई के करीब आ गया

कोयला जलाई ले, जिगर से पिया
जिगर मा आग है
इतनी सर्दी है...


ओ साथी रे - O Saathi Re (Shreya Ghoshal, Vishal Bhardwaj, Omkara)



Movie/Album: ओमकारा (2006)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: विशाल भारद्वाज, श्रेया घोषाल

ओ साथी रे दिन डूबे ना
आ चल दिन को रोकें
धूप के पीछें दौड़ें, छाँव छुए ना
ओ साथी रे...

थका-थका सूरज जब नदी से होकर निकलेगा
हरी-हरी काई पे, पाँव पड़ा तो फिसलेगा
तुम रोक के रखना, मैं जाल गिराऊँ
तुम पीठ पे लेना, मैं हाथ लगाऊँ
दिन डूबे ना हाँ
तेरी मेरी अट्टी-बट्टी
दांत से काटी कट्टी
रे जईयो ना
ओ पीहू रे
ओ पीहू रे, ना जईयो ना

कभी-कभी यूँ करना, मैं डांटूं और तुम डरना
उबल पड़े आँखों से मीठे पानी का झरना
तेरे दोहरे बदन में, सिल जाऊँगी रे
जब करवट लेगा, छिल जाऊँगी रे
संग ले जाऊँगा
तेरी मेरी अंगनी-मंगनी, अंग संग लागी संगनी
संग ले जाऊँ, ओ पीहू रे
ओ साथी रे...


ओ जीजी - O Jiji (Pamela Jain, Shreya Ghoshal, Vivaah)



Movie/Album: विवाह (2006)
Music By: रविन्द्र जैन
Lyrics By: रविन्द्र जैन
Performed By: पामेला जैन, श्रेया घोषाल

ओ जीजी
क्या कह के उनको बुलाओगी
दूल्हा बन के जो आयेंगे
ए-जी, ओ-जी हम न कहेंगे
हम तो इशारों में बातें करेंगे
सब जैसे अपने उनको बुलाते हैं
वैसे हम न बुलायेंगे
ओ छोटी...

शादी है दिल्ली का लड्डू, लड्डू ये हर मन में फूटे
इसका लगे हर दाना भला
जो खाये पछताए, जो ना खाये वो पछताए
तो खाकर ही पछताना भला
ये लड्डू तुझको भी इक दिन खिलायेंगे
तेरे साजन जब आयेंगे
ओ छोटी

मीठी हैं बृज की मिठाई, लड्डू पेड़ा बालूशाही
पर सबसे मीठी हो तुम जीजी
कंचन के जैसी खरी है, रस ये रस की भरी है
गन्ने की गंडेरी है तू छोटी
बृज की ये मीठी मिठाई सदा के लिए
जीजा बांध ले जायेंगे
ओ जीजी

गाने को तुम गा रही हो, जी अपना बहला रही हो
नज़र तो है राहों में लगी
ए छोटी तू खोटी बड़ी है, बहना को बस छेड़ती है
मैं तो यहाँ कामों में लगी
आने दो जीजी तुम्हारे जी की दशा
जीजा को बताएँगे


दो अनजाने अजनबी - Do Anjaane Ajnabi (Shreya Ghoshal, Udit Narayan, Vivaah)



Movie/Album: विवाह (2006)
Music By: रविन्द्र जैन
Lyrics By: रविन्द्र जैन
Performed By: श्रेया घोषाल, उदित नारायण

दो अनजाने अजनबी
चले बाँधने बंधन
हाय रे, दिल में है ये उलझन
मिलकर क्या बोलें...

नयी उमंग नयी ख़ुशी
महक उठा है आँगन
हाय रे, घर आये मनभावन
मिलकर क्या बोलें...

बेचैनी, बेताबी, आज मुझे ये कैसी
आज है जो, पहले ना थी, दिल की हालत ऐसी
आँखों को उसी का इंतज़ार है
उन्हीं के लिए, ये रूप, ये श्रृंगार है
देखी है तस्वीर ही, आज मिलेंगे दर्शन
हाय रे, बढ़ने लगी है उलझन
मिलकर क्या बोलें...

रूप की रानी, आई है, जैसे गगन से उतर के
मेरे लिए, क्या मेरे लिए, ऐसे सज के संवर के
सबसे छुपा के इधर-उधर से
मुझको ही देखे चोर नज़र से
बात लबों पर है रुकी, तेज़ दिलों की धड़कन
हाय रे, कल के सजनी साजन
मिलकर क्या बोले...


मुझे हक़ है - Mujhe Haq Hai (Shreya Ghoshal, Udit Narayan, Vivaah)



Movie/Album: विवाह (2006)
Music By: रविन्द्र जैन
Lyrics By: रविन्द्र जैन
Performed By: श्रेया घोषाल, उदित नारायण

मुझे हक़ है
तुझको जी भर के मैं देखूँ
मुझे हक़ है
बस यूँ ही देखता जाऊँ
मुझे हक़ है
पिया-पिया
पिया-पिया बोले मेरा जिया
तुम्हें हक़ है

ढल रही, पिघल रही, ये रात धीरे-धीरे
बढ़ रही है प्यार की, बात धीरे-धीरे
चूड़ियाँ गुनगुना के, क्या कहे सजना
रात की रात जगाऊँ, मुझे हक़ है
चाँद पूनम का चुराऊँ, मुझे हक़ है
पिया-पिया बोले...

कल सुबह तुझसे मैं दूर चला जाऊँगा
एक पल को भी तुझे भूल नहीं पाऊँगा
ये चेहरा, ये मुस्कान आँखों में भर के
मैं तेरी याद में तड़पूँ, मुझे हक़ है
तुझसे मिलने को मैं तरसूँ, मुझे हक़ है
पिया-पिया बोले...


मिलन अभी आधा अधूरा है - Milan Abhi Aadha Adhura Hai (Shreya Ghoshal, Udit Narayan, Vivaah)



Movie/Album: विवाह (2006)
Music By: रविन्द्र जैन
Lyrics By: रविन्द्र जैन
Performed By: श्रेया घोषाल, उदित नारायण

हार को जीत बना कर बड़ी सच्चाई से
प्रेम ने दिल पे वो चाहत का असर डाला है
आज इनकार की सूरत ही नहीं है कोई
हार हीरों का नहीं, फूलों की जयमाला है

कुछ बातें हो चुकी हैं, कुछ बातें अभी हैं बाकी
बौछार इक पड़ी है, बरसातें अभी हैं बाकी
खुल के नाचने को बेकल मन का मयूरा है
मिलन अभी आधा अधूरा है...

मिले होंगे राधा-कृष्ण, यहीं किसी वन में
प्रेम माधुरी उनकी बसी है पवन में
और भी पास आ गए हम, इस दिव्य वातावरण में
एक मन दिया है, कितनी सौगातें अभी हैं बाकी
बौछार इक पड़ी है, बरसातें अभी हैं बाकी
हमें मिलाने में सबका सहयोग पूरा है
मिलन अभी आधा अधूरा है...

झरना सुहाना ऐसा प्रेम गीत गाये
आने वाले कल के मीठे सपनें दिखाए
ये एहसास पहली बार दिल को गुदगुदाये
सब दिन अभी हैं बाकी, सब रातें अभी हैं बाकी
बौछार इक पड़ी है, बरसातें अभी हैं बाकी
छेड़ दिया पुरवा ने तन का तानपूरा है
मिलन अभी आधा अधूरा है...


कहीं कहीं से हर चहरा - Kahin Kahin Se Har Chehra (Jagjit Singh, Asha Bhosle, Lata Mangeshkar, Ghazal)



Movie/Album: दिल कहीं होश कहीं (2006)
Music By: आदेश श्रीवास्तव
Lyrics By: निदा फ़ाज़ली
Performed By: जगजीत सिंह, लता मंगेशकर, आशा भोसले

कहीं-कहीं से हर चेहरा
तुम जैसा लगता है
तुमको भूल ना पाएँगे हम
ऐसा लगता है

ऐसा भी एक रंग है
जो करता है बातें भी
जो भी इसको पहन ले वो
अपना सा लगता है
तुमको भूल ना पाएँगे हम
ऐसा लगता है...

और तो सब कुछ ठीक है लेकिन
कभी-कभी यूँ ही चलता फिरता शहर
अचानक, अचानक तन्हाँ लगता है
तुमको भूल ना पाएँगे हम
ऐसा लगता है...

अब भी यूँ मिलते हैं
हमसे फ़ूल चमेली के
जैसे इनसे अपना कोई
रिश्ता लगता है
तुमको भूल ना पाएँगे हम
ऐसा लगता है...


जब सामने तुम आ जाते हो - Jab Saamne Tum Aa Jaate Ho (Jagjit Singh, Asha Bhosle)



Movie/Album: दिल कहीं होश कहीं (2006)
Music By: आदेश श्रीवास्तव
Lyrics By: निदा फ़ाज़ली
Performed By: जगजीत सिंह, आशा भोसले

आइना देख के बोले ये सँवरने वाले
अब तो बे-मौत मरेंगे मेरे मरने वाले

देख के तुमको होश में आना भूल गये
याद रहे तुम और ज़माना भूल गये
जब सामने तुम आ जाते हो
क्या जानिए क्या हो जाता है
कुछ मिल जाता है, कुछ खो जाता है
क्या जानिए क्या हो जाता है

चाहा था ये कहेंगे, सोचा था वो कहेंगे
आए वो सामने तो, कुछ भी ना कह सके
बस देखा किये उन्हें हम

देखकर तुमको यकीं होता है
कोई इतना भी हसीं होता है
देख पाते हैं कहाँ हम तुमको
दिल कहीं होश कहीं होता है
जब सामने तुम...

आकर चले न जाना, ऐसे नहीं सताना
देकर हँसी लबों को, आँखों को मत रुलाना
देना ना बेकरारी दिल का करार बन के
यादों में खो ना जाना, तुम इंतज़ार बन के
इंतज़ार बन के

भूलकर तुमको न जी पाएँगे
साथ तुम होगी जहाँ जाएँगे
हम कोई वक़्त नहीं हैं हमदम
जब बुलाओगे चले आएँगे
जब सामने तुम...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com