Aamir Khan लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Aamir Khan लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

देखो आई होली - Dekho Aayi Holi (Mangal Pandey)



Movie/Album: मंगल पांडे (1973)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: आमिर खान, चिन्मयी, उदित नारायण, मधुश्री, श्रीनिवास

होली है!
होली आई, रंग फूट पड़े
ये छलक छलक, वो ढलक ढलक
फिर बाजे घुँघरू ढोल बड़े

ये छलक छलक, वो धमक धमक
सब निकले हैं पी पी के घड़े
ये लपक लपक, वो धुमक धुमक
छम छम नाचे परियों की धुनें
ये थिरक थिरक, वो मटक मटक

ये छलक छलक, वो ढलक ढलकये छलक छलक, वो धमक धमक
ये लपक लपक, वो धुमक धुमक
ये थिरक थिरक, वो मटक मटक

देखो आई होली, रंग लायी होली
चली पिचकारी उड़ा है गुलाल
होली की है घटा, मन झूम उठा
रंग छलके हैं नीले हरे लाल
रंग रेली में रंग खेलूंगी, रंग जाऊँगी
रंग गहरे हैं, अबके साल
अब हमें कोई रोके नहीं, अब हमें कोई टोके नहीं
अब होने दो हो जो भी हाल
देखो आई होली...

भीगी चोली चुनरी भी गीली हुई
सजनाजी देखो मैं रंगीली हुई
थोड़ी थोड़ी तू जो नशीली हुई
पतली कमर लचकीली हुई
मन क्यों ना बहके, तन क्यों न दहके
तुम रह रह के, मत फेंको ये नज़रों का जाल
अब हमें कोई रोके नहीं, अब हमें कोई टोके नहीं
अब होने दो हो जो भी हाल
 

देखो आई होली...
आज हुआ एक सा कमाल
रंग ऐसे उड़े देखने में लगे, कोई रंगे हवाओं के बाल

चांदी की थाल से लेके गुलाल
अब राधा से खेलेंगे होली मुरारी
राधा भी नटखट है, पलटी वो झटपट है

मारे कन्हैया को है पिचकारी
देखने वाले तो दंग हुए हैं
के होली में दोनों जो संग हुए हैं
तो राधा काँन्हा एक रंग हुए हैं
कौन है राधा, कौन है काँन्हा
कौन ये समझा, कौन ये जाना

होली में जो सजनी से नयन लड़े

थामी हैं कलाई के बात बढ़े
तीर से जैसे मेरे मन में गड़े

तेरी ये नजरिया जो मुझपे पड़े
जो ये रास रचे, जो ये धूम मचे, कोई कैसे बचे
हमसे पूछो ना तुम ये सवाल
अब हमें कोई रोके नहीं, अब हमें कोई टोके नहीं
अब होने दो हो जो भी हाल
देखो आई होली...



आती क्या खंडाला - Aati Kya Khandala (Aamir Khan, Alka Yagnik, Ghulam)



Movie/Album: गुलाम (1998)
Music By: जतिन-ललित
Lyrics By: समीर
Performed By: अलका याग्निक, आमिर खान

ऐ क्या बोलती तु
ऐ क्या मैं बोलूं
सुन, सुना
आती क्या खंडाला?
क्या करूँ आ के मैं खंडाला
घूमेंगे, फिरेंगे, नाचेंगे, गाएँगे
ऐश करेंगे और क्या
ऐ क्या बोलती तु...

बरसात का सीज़न है, खंडाला जा के क्या करना
बरसात के सीज़न में ही तो मज़ा है मेरी मैना
भीगूँगी मैं, सर्दी खाँसी हो जाएगी मुझको
छाता लेके जाएँगे, पागल समझी क्या मुझको
क्या करूँ समझ में आए ना, क्या करूँ तुझसे मैं जानू ना
अरे इतना तु क्यों सोचे, मैं आगे, तू पीछे
बस अब निकलते हैं और क्या
ऐ क्या बोलती तु...

लोनाव्ले में चिक्की खाएँगे, वॉटरफॉल पे जाएँगे
खंडाला के घाट के ऊपर, फोटो खींच के आएँगे
हाँ भी करता, ना भी करता, दिल मेरा दीवाना
दिल भी साला पार्टी बदले, कैसा है ज़माना
फोन लगा तू अपने दिल को ज़रा
पूछ ले आख़िर है क्या माजरा
अरे पल में फिसलता है, पल में संभलता है
कन्फ्यूज़ करता है बस क्या
ऐ क्या बोलती तु...


इस दीवाने लड़के को - Iss Deewane Ladke Ko (Alka Yagnik, Aamir Khan, Sarfarosh)



Movie/Album: सरफ़रोश (1999)
Music By:
जतिन-ललित
Lyrics By: समीर
Performed By: अलका याग्निक, आमिर खान

अर्ज़ है...
दवा भी काम न आए, कोई दुआ न लगे
दवा भी काम न आए, कोई दुआ न लगे
मेरे ख़ुदा किसी को प्यार की हवा न लगे, आदाब। 

इस दीवाने लड़के को कोई समझाए
प्यार मोहब्बत से न जाने क्यूँ ये घबराए
दर्द-ए-दिल, जाने ना
पास में जितना आऊं, उतनी दूर ये जाए, जाए, हाँ जाए
इस दीवाने लड़के को...

रंग ना देखे, रूप ना देखे
ये जवानी की, धूप ना देखे
अर्ज़ है...
कुछ मजनूँ बने, कुछ रांझा बने
कुछ रोमियो, कुछ फरहाद हुए
इस रंग रूप की चाहत में
जाने कितने बर्बाद हुए, वो देखो

इश्क़ में इसके, बावरी हूँ मैं
ये भला है तो, क्या बुरी हूँ मैं
ये लड़का, है फिर भी, जाने क्यूँ शरमाये, जाने क्यूँ शरमाये, हाय शरमाये
इस दीवाने लड़के को...

जानती हूँ मैं, ये तड़पता है
प्यार में इसका दिल धड़कता है

जिसे देखो दिल की धुनी रमाता
अरे ये मंदिर नहीं है, शिवाला नहीं है
हसीनों से कह दो कहीं और जाएँ
मेरा दिल है दिल, धर्मशाला नहीं है
ये अकेले में, आह भरता है
फिर भी कहने से, ये क्यूँ डरता है
सच कुछ भी, बोले ना, झूठी बात बनाए, झूठी बात बनाए, हाँ बनाए
इस दीवाने लड़के को...


फूल खिलते हैं, बहारों का समां होता है
ऐसे मौसम में ही तो, प्यार जवां होता है
दिल की बातों को, होठों से नहीं कहते
ये फसाना तो, निगाहों से बयां होता है


ऐसा ज़ख़्म दिया है - Aisa Zakhm Diya Hai (Shankar Mahadevan, Udit Narayan, Aamir Khan, Akele Hum Akele Tum)



Movie/Album: अकेले हम अकेले तुम (1995)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: शंकर महादेवन, उदित नारायण, आमिर खान

आया हूँ यारों दिल अपना दे के
आँखों में चेहरा किसी का ले के
वो दिल का कातिल, दिलबर हमारा
जिसके लिये मैं हुआ आवारा
मिलते ही जिसने, चूमा था मुझको
फिर न पलट के, देखा दोबारा
और इसलिये दोस्तों, मैंने फ़ैसला किया
के फिर कभी किसी से प्यार नहीं करूँगा
कभी किसी लड़की को अपना दिल नहीं दूँगा

ऐसा ज़ख़्म दिया है जो ना फिर भरेगा
हर हसीन चेहरे से अब ये दिल डरेगा
हम तो जान देकर यूँ हीं मर मिटे थे
सुन लो ऐ हसीनों ये हमसे अब ना होगा
ऐसा ज़ख़्म दिया है...

रसीले होंठ छलकते गाल
मस्तानी चाल बुरा कर दे हाल
पलक फड़के के दिल धड़के
उम्र की उठान, कड़कती कमाल
कातिल अदा ज़ालिम हया
मेरे ख़ुदा ओ मेरे ख़ुदा
शोला बदन, बहका चमन, मगर यारों
हम तो जान देकर...

तू जो कहे तो तारों में तुझे लेकर चलूँ
तू जो कहे तो क़दमों में उन्हें ला डाल दूँ
सीने से लगा के ये बदन कर दूँ गुलाबी
चेहरा चूम कर के मैं बना दूँ आफताबी
हम तो जान देकर तुमपे मर मिटे हैं
कौन प्यार तुमसे इतना करेगा
ऐसा ज़ख्म दिया है...

आया हूँ यारों दिल अपना ले के
आँखों में चेहरा किसी का ले के
कोई ना कोई मेरा भी होगा
यहीं पे कहीं छुपा ही होगा


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com