Aao Pyar Karen लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Aao Pyar Karen लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

जहाँ तू है वहाँ फिर - Jahaan Tu Hai Wahan Phir (Md.Rafi, Aao Pyar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: मोहम्मद रफ़ी

बहार-ए-हुस्न तेरी, मौसम-ए-शबाब तेरा
कहाँ से ढूँढ के लाए कोई जवाब तेरा
ये सुबह भी तेरे रुखसार की झलक ही तो है
के नाम ले के निकलता है आफ़ताब तेरा

जहाँ तू है वहाँ फिर चाँदनी को कौन पूछेगा
तेरा दर हो तो जन्नत की गली को कौन पूछेगा
जहाँ तू है…

कली हो हाथ में ले कर, बहारों को न शरमाना
ज़माना तुझको देखेगा कली को कौन पूछेगा
जहाँ तू है वहाँ फिर...

फ़रिश्तों को पता देना, न अपनी रहगुज़ारों का
वो क़ाफ़िर हो गए तो बन्दगी को कौन पूछेगा
जहाँ तू है वहाँ फिर...

किसी को मुस्कुरा के ख़ूबसूरत मौत ना देना
क़सम है ज़िन्दगी की, ज़िन्दगी को कौन पूछेगा
जहाँ तू है वहाँ फिर...


दिलबर दिलबर - Dilbar Dilbar (Md.Rafi, Aao Pyaar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: मोहम्मद रफ़ी

दिलबर दिलबर ओ दिलबर
हय्या हबी ओ दिलबर
तेरा शबाब उफ़ उफ़
आँखे शराब उफ़ उफ़
दीवाना तेरा हूँ इक जाम पीला दे
दिलबर दिलबर...

हुस्न-ओ-जमाल हाय तौबा
मस्ताना चाल हाय तौबा
जुल्फों के जाल हाय तौबा
आँख के डोरे ये गुलाबी
जिनसे बहारें हैं शराबी
क्यूँ ना दिलों की हो ख़राबी
दिलबर दिलबर...

दिल का करार तेरे दम से
आँखें ना फेर ऐसे हमसे
आजा बाहों में मेरी छमसे
फूलों में तुझे मैं बिठा दूँ
चाँद सितारे तुझे ला दूँ
जुरों की मल्लिका बना दूँ
दिलबर दिलबर...

सूरत पे मेरी तू ना जाना
दिल तो है प्यार का ख़ज़ाना
जिसको है तुझपे लुटाना
अल्लाह का नाम ज़रा ले ले
हँस के सलाम ज़रा ले ले
प्यार से काम ज़रा ले ले
दिलबर दिलबर...


एक सुनहरी शाम थी - Ek Sunehri Shaam Thi (Lata Mangeshkar, Aao Pyar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: लता मंगेशकर

एक सुनहरी शाम थी
बहकी-बहकी ज़िन्दगी
राह में हम-तुम मिले
मेरी पलकों के तले
आशियाँ तेरा बन गया
एक सुनहरी शाम...

दो कदम मिलकर चले तो
फासले कम हो गये
प्यार ने दुनिया बदल दी
क्या से क्या हम हो गये
शोले शबनम हो गये
एक सुनहरी शाम थी...

शाम तो अब तक वही है
रंग है लेकिन जुदा
जाने किस वादी में अपना
काफ़िला गुम हो गया
फिर है दिल तन्हाँ मेरा
एक सुनहरी शाम थी...


जिनके लिए मैं दीवाना बना - Jinke Liye Main Deewana Bana (Md.Rafi, Aao Pyaar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेन्द्र कृष्ण
Performed By: मो.रफ़ी

जिनके लिए मैं दीवाना बना
वो भी कहते है दीवाना मुझे
या ख़ुदा या ख़ुदा
जिनके लिए मैं दीवाना...

मेमसाहब, सिगरेट

अफसाना चाहते थे, अफसाना बन गया
दीवाना चाहते थे दीवाना बन गया
वो तो शम्मा न बने मर्ज़ी ये उनकी
मैं तो हुज़ूर देखो, परवाना बन गया
या ख़ुदा या ख़ुदा
जिनके लिए मैं दीवाना...

मुफ्त में नाम खोया दिल भी गँवा बैठे
इश्क़ बुरा हो तेरा रोग लगा बैठे
जाएँ तो जाएँ कहाँ, कोई ठिकाना नहीं
दुनिया को छोड़ के तेरे डर पे आ बैठे
या ख़ुदा या ख़ुदा
जिनके लिए मैं दीवाना...

मेमसाहब सलाम

भूले से पूछ कभी, दीवाने हाल क्या है
आँखें उदास क्यूँ है, दिल में मलाल क्या है
हम तो यही कहेंगे हुस्न की खैर हो
प्यासे दीदार के हैं और सवाल क्या है
या खुदा या खुदा
जिनके लिए मैं दीवाना...


तुम अकेले तो कभी - Tum Akele To Kabhi (Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Aao Pyaar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर

तुम अकेले तो कभी बाग़ में जाया ना करो
आजकल फूल भी दिलवाले हुआ करते हैं
कोई क़दमों से लिपट बैठा
तो फिर, तो फिर क्या होगा

तुम अकेले तो कभी बाग़ में जाया ना करो
आजकल कलियाँ बड़ी शोख़ हुआ करती हैं
कोई शोख़ी पे उतर आयी
तो फिर, तो फिर क्या होगा
तुम अकेले तो कभी...

तुम कभी ज़ुल्फ़ को चेहरे पे गिराया ना करो
बाज़ दिल वाले भी कमज़ोर हुआ करते हैं
कोई नागिन जो समझ बैठा
तो फिर, तो फिर क्या होगा

महफ़िल-ए-हुस्न की चिलमन को उठाया ना करो
बिजलियाँ काली घटाओं में छुपी होती हैं
कोई चुपके से चमक जाए
तो फिर, तो फिर क्या होगा
तुम अकेले तो कभी...

तुम कभी आँख में काजल भी लगाया ना करो
इनहीं आँखों के दरीचों में तो हम बसते हैं
साथ काजल के जो बह निकले
तो फिर, तो फिर क्या होगा

हुस्न वालों के मुक़ाबिल कभी आया ना करो
शरबती आँखों के डोरों में नशा होता है
बिन पिए ही जो बहक जाओ
तो फिर, तो फिर क्या होगा
तुम अकेले तो कभी...

देखो अंगड़ाई को भी बाहें उठाया ना करो
आजतक चाँद के दामन को न पहुँचा कोई
चाँद घबरा के जो गिर जाए
तो फिर, तो फिर क्या होगा

तुम ख्यालों के ये तस्वीरें बनाया ना करो
रेत पर दूर से पानी का गुमाँ होता है
उम्र भर प्यास न बुझ पाई
तो फिर, तो फिर क्या होगा
तुम अकेले तो कभी...

तुम तो आईने से भी आँखें मिलाया ना करो
आजकल ऐसी हसीं चीज़ देखी ना होगी
अपनी सूरत पर जो मर बैठे
तो फिर, तो फिर क्या होगा

तुम तो आईने से भी आँखें मिलाया ना करो
दिल न देने पे बहुत नाज़ किया करते हो
अपनी सूरत पे बिगड़ बैठे
तो फिर, तो फिर क्या होगा
तुम अकेले तो कभी...


मेरी दास्तां मुझे ही - Meri Dastan Mujhe Hi (Lata Mangeshkar, Aao Pyar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेन्द्र कृष्ण
Performed By: लता मंगेशकर

मेरी दास्तां मुझे ही
मेरा दिल सुना के रोये
कभी रो के मुस्कुराये
कभी मुस्कुरा के रोये
मेरी दास्तां मुझे ही...

मिले गम से अपने फ़ुर्सत
तो मैं हाल पूछूँ उसका
शब-ए-ग़म से कोई कह दे
कहीं और जा के रोये
मेरी दास्तां मुझे...

हमें वास्ता तड़प से
हमें काम आँसुओं से
तुझे याद कर के रोये
या तुझे भुला के रोये
मेरी दास्तां मुझे ही…

वो जो आज़मा रहे थे
मेरी बेक़रारियों को
मेरे साथ-साथ वो भी
मुझे आज़मा के रोये
मेरी दास्तां मुझे ही...


तमन्नाओं को खिलने दे - Tamannaon Ko Khilne De (Lata Mangeshkar, Aao Pyar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: लता मंगेशकर

तमन्नाओं को खिलने दें, इरादों को जवां कर लें
मोहब्बत का ये मौसम है, चलो गुस्ताखियाँ कर लें
तमन्नाओं को खिलने दें...

कहाँ तक आरज़ुओं को कोई दिल में दबा रखे
अगर होंठों पे पहरे हैं, तो आँखों को ज़ुबां कर लें
मोहब्बत का ये मौसम है...

कभी हम तुम पे मर बैठें, कभी तुम हम पे मिट जाओ
हमें तुम आज़मा लो, हम तुम्हारा इम्तेहां कर लें
मोहब्बत का ये मौसम है...


दिल के आईने में - Dil Ke Aaine Mein (Md.Rafi, Aao Pyar Karen)



Movie/Album: आओ प्यार करें (1964)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: मोहम्मद रफ़ी

दिल के आईने में तस्वीर तेरी रहती है
मैं ये समझा कोई जन्नत की परी रहती है
दिल के आईने में...

सोचता हूँ मैं कभी, क्या तुझे भी है खबर
के तेरी एक नज़र, है मेरी शाम-ओ-सहर
तू बहारों का है दिल, तू नज़ारों का जिगर
ऐ जान-ए-वफ़ा
दिल के आईने में...

शरबती आँखें तेरी, चम्पई रंग तेरा
शबनमी हुस्न तेरा, ज़िन्दगी भर का नशा
दिल की धड़कन है मेरी, तेरी पायल की तरह
ऐ जान-ए-वफ़ा
दिल के आईने में...

हुस्न-ए-मासूम तेरा कभी मग़रुर न हो
अपनी तारीफ़ तुझे कभी मंज़ूर न हो
इश्क़ वालों पे जफ़ा तेरा दस्तूर न हो
ऐ जान-ए-वफ़ा
दिल के आईने में...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com