Abhendra Kumar Upadhyay लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Abhendra Kumar Upadhyay लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

कुछ तो हुआ है - Kuch To Hua Hai (Ankit Tiwari, Tulsi Kumar, Singham Returns)



Movie/Album: सिंघम रिटर्न्स (2014)
Music By: अंकित तिवारी
Lyrics By: संदीप नाथ, अभेन्द्र कुमार उपाध्याय
Performed By: अंकित तिवारी, तुलसी कुमार

रातों को अपनी पलकों से
ख़्वाब सजाने दो
फिर ख़्वाबों को आँखों से
नींद चुराने दो
ख़ामोशियाँ रखती हैं
अपनी भी एक जुबां
ख़ामोशी को चुपके से
सब कह जाने दो

कुछ तो हुआ है (ये क्या हुआ)
जो ना पता है (ये जो हुआ)
कुछ तो हुआ है
समझो कुछ समझो ना

जो कदम कदम चलूँ
तुझे ही तय करूँ मैं
साँसें बुनकर तुझे ओढ़ लूं
तू ख्याल सा मिला है
जिसको गिन सकूँ मैं
आदतों में तुझे जोड़ लूं
तुझसे रौशन, रातें सारी
तुझपे ही ख़तम बातें सारी
ख़ामोशियाँ रखती हैं...

तुझे एक बार प्यार से
जो छू सकूँ मैं
वक़्त को फिर वहीँ रोक दूँ
फिर दिल मचल के गर
हदों को भूल जाए
धडकनों का सफ़र छोड़ दूँ
तूने दी है सारी खुशियाँ
तू है तो है मेरी दुनिया
ख़ामोशियाँ रखती हैं...


सुन ले ज़रा - Sun Le Zara (Arijit Singh, Singham Returns)



Movie/Album: सिंघम रिटर्न्स (2014)
Music By: अंकित तिवारी
Lyrics By: संदीप नाथ, अभेन्द्र कुमार उपाध्याय
Performed By: अरिजीत सिंह

दर पे तेरे अाके, मैं खड़ा सिर झुका के 
कर दे करम, अपना धरम मैं निभाऊं
ओ रहनुमा
मेरी दुआ, है इल्तेजा
सुन ले ज़रा, सुन ले ज़रा
सुन ले ज़रा, सुन ले ज़रा
मेरी दुआ...

हर पल दिल में है शोले जलते हुए
खुदको बचाऊँ मैं कैसे पिघलते हुए
ठहरे हुए मेरे कदम
चल ना पाऊं ओ रहनुमा
मेरी दुआ, है इल्तेजा
सुन ले ज़रा...

कर लूं मैं पूरे ख़ुद से जो वादे मेरे
अब तू दिखा दे राहें मैं सदके तेरे
दिल में मेरे कितने भरम
क्या बताऊँ ओ रहनुमा
मेरी दुआ, है इल्तेजा
सुन ले ज़रा...


बूँद बूँद - Boond Boond (Ankit Tiwari, Roy)



Movie/Album: रॉय (2015)
Music By: अंकित तिवारी
Lyrics By: अभेन्द्र कुमार उपाध्याय
Performed By: अंकित तिवारी

बूँद बूँद करके मुझमें गिरना तेरा
और मुझमें मुझसे ज़्यादा होना तेरा
भीगा भीगा सा, मुझको तन तेरा लगे
आजा तुझको पी लूँ, मन मेरा कहे

मैं ना बचा मुझमें थोड़ा सा भी
देख तू ना बचा तुझमें भी
जलने लगा गर्म साँसों से मैं
तू पिघलने लगा मुझमें ही

क़तरा क़तरा मैं जलूँ, शर्म से तेरे मिलूं
जिस्म तेरा मोम का पिघला दूँ
करवटें भी तंग हो, रात भर तू संग हो
तेरे हर एक अंग को सुलगा दूँ
भीगा भीगा सा...

होने दे कुछ गलतियाँ, रेंगती ये उँगलियाँ
जिस्म के तू दरमियां ठहरा दे
लम्हां कोई गरम तू या उबलती बर्फ तू
मुझपे हो जा खर्च तू, यूँ आ के
भीगा भीगा सा...


तू है की नहीं - Tu Hai Ki Nahin (Ankit Tiwari, Tulsi Kumar, Roy)



Movie/Album: रॉय (2015)
Music By: अंकित तिवारी
Lyrics By: अभेन्द्र कुमार उपाध्याय
Performed By: अंकित तिवारी, तुलसी कुमार

मुझसे ही आज मुझको मिला दे
देखूँ आदतों मैं तू है की नहीं
हर साँस से पूछ के बता दे
इनके फासलों में तू है की नहीं
मैं आस पास तेरे और मेरे पास
तू है की नहीं, तू है की नहीं
तू है कि नहीं, तू है कि नहीं

दौड़ते हैं ख्वाब जिनपे रास्ता वो तू लगे
नींद से जो आँख का है वास्ता वो तू लगे
तू बदलता वक़्त कोई खुशनुमा सा पल मेरा
तू वो लम्हा जो ना ठहरे, आने वाला कल मेरा
मैं आस पास तेरे और मेरे पास
तू है की नहीं...

इन लबों पे जो हँसी है, इनकी तू ही है वजह
बिन तेरे मैं कुछ नहीं हूँ, मेरा होना बेवजह
धूप तेरी ना पड़े तो, धुंधला सा मैं लगूं
आके साँसें दे मुझे तू, ताकि ज़िन्दा मैं रहूँ
मैं आस पास तेरे और मेरे पास
तू है की नहीं...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com