Amit Kumar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Amit Kumar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सात रंग में खेल रही है - Saat Rang Mein Khel Rahi Hai (Anuradha, Amit, Aakhir Kyon)



Movie/Album: आखिर क्यों (1985)
Music By: राजेश रोशन
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: अमित कुमार, अनुराधा पौड़वाल

सात रंग में खेल रही है
दिल वालों की टोली रे
भीगे दामन चोली रे
अरे अपने ही रंग में रंग ले मुझको
याद रहेगी होली रे

लाल-गुलाबी नीले-पीले
रंग है दुनिया वालों के
प्यार के रंग में डूब गए दिल
देखो हम मतवालों के
अरे उजला मुखड़ा देख के तेरा
रंग उड़े है उजालों के
सात रंग में खेल...

हौंदा है इक बार साल विच
फागुन दा महीना
नहा के रंग में निखर गयी है
आज हर इक हसीना
अरे इस मौसम में जो ना भीगे
क्या है उसका जीना
सात रंग में खेल...


आती रहेंगी बहारें - Aati Rahengi Baharein (Kishore, Asha, Amit, Kasme Vaade)



Movie/Album: कसमे वादे (1978)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: गुलशन बावरा
Performed By: किशोर कुमार, अमित कुमार, आशा भोंसले

आती रहेंगी बहारें, जाती रहेंगी बहारें
दिल की नजर से, दुनियाँ को देखो
दुनियाँ सदा ही हसीं है

मैंने तो बस यही मांगी हैं दुआएं
फूलों की तरह हम सदा मुस्कुरायें
गाते रहे हम खुशियों के गीत
यूँ ही जाये बीत, ज़िन्दगी
आती रहेंगी बहारें...

तुमसे हैं जब जीवन में सहारे
जहाँ जाये नजरें वही हैं नजारे
ले के आयेगी हर नई बहार
रंग भरा प्यार और ख़ुशी
आती रहेंगी बहारें...

हम जो मिले हैं तो दिल को यकीं हैं
धरती पे स्वर्ग जो है सो यही है
भूले से भी ग़म आये ना वहाँ
प्यार हैं जहाँ, बंदगी
आती रहेंगी बहारें...


ये बम्बई शहर हादसों का - Ye Bombay Sheher Haadson Ka (Amit Kumar, Haadsaa)



Movie/Album: हादसा (1983)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: एम.जी.हशमत
Performed By: अमित कुमार

हे, ये बम्बई शहर हादसों का शहर है
यहाँ ज़िन्दगी हादसों का सफ़र है
यहाँ रोज़-रोज़ हर मोड़-मोड़ पे
होता है कोई न कोई
हादसा, हादसा...

यहाँ की ख़ुशी और गम हैं अनोखे
बड़े खूबसूरत से होते हैं धोखे
बहुत तेज़ रफ़्तार है ज़िन्दगी की
है फुर्सत किसे कोई कितना भी सोचे
ख़ुशी हादसा है, गम हादसा है
हकीकत भुला कर हर इक भागता है
यहाँ रोज़-रोज़ की भाग-दौड़ में
होता है कोई न कोई
हादसा, हादसा...

यहाँ आदमी आसमां चूमते हैं
नशे में तरक्की के सब झूमते हैं
हरी रौशनी देख भागी वो कारें
अचानक रुकी फिर से बन के कतारें
यहाँ के परिंदों की परवाज़ देखो
हसीनों के चलने का अंदाज़ देखो
यहाँ हुस्न इश्क की आब-ओ-हवा में
होता है कोई न कोई
हादसा, हादसा...


तिरछी टोपी वाले - Tirchi Topi Wale (Sapna, Amit, Tridev)



Movie/Album: त्रिदेव (1989)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: सपना मुख़र्जी, अमित कुमार

भाग - १
ओये ओये ओये ओ आ
तिरछी टोपी वाले
ओ बाबू भोले-भाले
तू याद आने लगा है
दिल मेरा जाने लगा है

ओ तिरछे नैनों वाली
ओ बीबी भोली-भाली
तू याद आने लगी है
जाँ मेरी जाने लगी है

अँखियाँ मिला, मुझे दिल में बसा, पलकों पे बिठा
इस बात का, साफ़ मतलब बता, तेरी मर्ज़ी है क्या
मेरा चैन उड़ा दे ज़ुल्मी, मेरी नींद चुरा ले
तिरछी टोपी वाले...

झूठा सही तेरा वादा मगर, मुझे सच्चा लगा
ये तो बता तुझे मुझमें भला, क्या अच्छा लगा
ये गोरा-गोरा मुखड़ा तेरा, ऑंखें काली-काली
तिरछे नैनों वाली...

भाग - २
तिरछे नैनों वाली
ओ बीबी भोली-भाली
तू याद आने लगी है
जाँ मेरी जाने लगी है

तिरछी टोपी वाले
ओ बाबू भोले-भाले
तू याद आने लगा है
दिल मेरा जाने लगा है

मैं गाँव का सीधा-साधा बलम, कहाँ मैं आ गया
इस शहर में मेरा जानम भला, आ के घबरा गया
ओ मेरी दुनिया से ये तेरी दुनिया है निराली
तिरछी नैनों वाली...

लगता है डर कलियाँ प्यार की, यहाँ खिलती नहीं
मिलते हैं दिल तकदीरें मगर, सदा मिलती नहीं
मोहब्बत के दुश्मन होते हैं दुनिया वाले
तिरछी टोपी वाले...


दुश्मन ना करे - Dushman Na Kare (Lata, Amit, Aakhir Kyon)



Movie/Album: आख़िर क्यूँ? (1985)
Music By: राजेश रोशन
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: लता मंगेशकर, अमित कुमार

दुश्मन न करे दोस्त ने वो काम किया है
उम्र भर का ग़म हमें ईनाम दिया है
दुश्मन न करे...

तूफ़ाँ में हमको छोड़ के साहिल पे आ गए
नाख़ुदा का हमने इन्हें नाम दिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे

पहले तो होश छीन लिए ज़ुल्म-ओ-सितम से
दीवानगी का फिर हमें इल्ज़ाम दिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे

अपने ही गिराते हैं नशेमन पे बिजलियाँ
ग़ैरों ने आके फिर भी उसे थाम लिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे

बन कर रक़ीब बैठे हैं वो जो हबीब थे
यारों ने ख़ूब फ़र्ज़ को अंजाम दिया है
उम्र भर का...
दुश्मन न करे...


एक दो तीन - Ek Do Teen (Alka Yagnik, Amit Kumar, Tezaab)



Movie/Album: तेज़ाब (1988)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: अल्का याग्निक, अमित कुमार

अलका याग्निक
एक दो तीन चार पाँच छः सात आठ नौ दस ग्यारह बारह तेरह
तेरा करूँ दिन गिन-गिन के इंतज़ार
आजा पिया आई बहार
एक दो तीन...

चौदह को तेरा संदेसा आया
पंद्रह को आऊँगा ये कहलाया
चौदह को आया न पंद्रह को तू
तड़पा के मुझको तूने क्या पाया
सोलह को भी, सोलह किये थे सिंगार
आजा पिया आई...

सत्रह को समझी संग छूट गया
अठारह को दिल टूट गया
रो-रो गुज़ारा मैंने सारा उन्नीस
बीस को दिल के टुकड़े हुए बीस
फिर भी नहीं दिल से गया तेरा प्यार
आजा पिया आई...

इक्कीस बीती, बाईस गई
तेईस गुज़री, चौबीस गई
पच्चीस छब्बीस ने मारा मुझे
बिरहा की चक्की में मैं पिस गई
दिन बस महीने के हैं और चार
आजा पिया आई...

दिन बने हफ़्ते, रे हफ़्ते महीने
महीने बन गये साल
आके ज़रा तू देख तो ले
क्या हुआ है मेरा हाल
दीवानी दर-दर मैं फिरती हूँ
न जीती हूँ, ना मैं मरती हूँ
तन्हाई की रातें सहती हूँ
आजा-आजा-आजा-आजा-आजा
आजा के दिन गिनती रहती हूँ
एक दो तीन...

अमित कुमार
एक दो तीन चार पाँच छः सात आठ नौ दस ग्यारह बारह तेरह
तेरा करूँ दिन गिन-गिन के इंतज़ार
आजा सनम आई बहार
एक दो तीन...

चौदह को जब मैंने कहलाया था
पंद्रह को आऊँगा, मैं आया था
पंद्रह को परदे से निकली न तू
तुझको ना पा के मैं घबराया था
सोलह को भी सुबह से था बेक़रार
आजा सनम आई...

सत्रह को सोया नहीं रात भर
अठारह को भी तू न आई नज़र
उन्नीस को मैं दीवाना हुआ
बीस को घर से रवाना हुआ
गलियों में गूंजे दीवाने की पुकार
आजा सनम आई...

इक्कीस को आई, ना बाईस को तू
जब न मिली तेईस-चौबीस को तू
पच्चीस को समझाया सबने मुझे
मत जान दे देना छब्बीस को
दुनिया में बस दिन हैं मेरे और चार
आजा सनम आई...

दिन लगे हफ़्ते, रे हफ़्ते महीने
महीने लगते साल
आके ज़रा तू देख तो ले
क्या हुआ है मेरा हाल
दीवाना दर-दर मैं फिरता हूँ
ना जीता हूँ, ना मैं मरता हूँ
तन्हाई की रात सहता हूँ
आजा-आजा-आजा-आजा-आजा
आजा के दिन गिनता रहता हूँ
एक दो तीन...


दिल ले गई तेरी बिंदिया - Dil Le Gayi Teri Bindiya (Udit Narayan, Sapna Mukherjee, Amit Kumar, Mohd. Aziz, Vishwatma)



Movie/Album: विश्वात्मा (1992)
Music By: विजू शाह
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: उदित नारायण, सपना मुख़र्जी, अमित कुमार, मोहम्मद अज़ीज़

दिल ले गयी तेरी बिंदिया
याद आ गया मुझको इंडिया
मैं कहीं भी रहूँ इस जहान में
मेरा दिल है हिंदुस्तान में

तू ले गया मेरी निंदिया
याद आ गया मुझको इंडिया
बस जा मेरे जी जान में
मेरा घर है हिंदुस्तान में

हम दोनों हिन्दुस्तानी
ये अपनी प्रेम कहानी
इक दूजे को दे बैठे
हम दिल ओ दिलबर जानी
इक प्यार भरी मुस्कान में
मैं कहीं भी रहूँ...

जो बात है तेरे दिल में
वो बात है मेरे दिल में
होठों पर आ ना जाये
ये बात भरी महफ़िल में
इस बात को रखना ध्यान में
बस जा मेरे जी जान में...

नैनों से नैन मिला दूँ
परदेस में देस दिखा दूँ
कुर्बान तेरे हो जाऊँ
दिल क्या मैं जान गँवा दूँ
तेरी चाहत के इम्तहान में
मैं कहीं भी रहूँ...


तेरे नाम के हम दीवाने हैं - Tere Naam Ke Hum Deewane Hain (Amit, Anuradha, Shailendra, Chandrani, Judaai)



Movie/Album: जुदाई (1980)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: अमित कुमार, चंद्राणी मुखर्जी, अनुराधा पौडवाल, शैलेंद्र सिंह

तेरे नाम के हम दीवाने हैं
ये तेरे प्यार के दिन सुहाने हैं
होठों पे दिल के जो फ़साने हैं
जीने के मरने के ये बहाने हैं
तेरे नाम के हम...

तेरे बिन इतने दिन, हम थे बड़े अकेले
एक तेरे मिलने से खिलने लगे हैं मेले
अरमां हैं, वादे हैं, तराने हैं
तेरे नाम के हम...

आँखों ही आँखों में, अब तो कटेंगी रातें
कहने को सुनने को, जाने है कितनी बातें
ये किस्से, सुनने हैं, सुनाने हैं
तेरे नाम के हम...

लहरा के छाया है, कैसा समां ना जाने
कुछ हमसे मत पूछो, हम है कहाँ न जाने
कुछ ऐसी मस्ती में मस्ताने हैं
तेरे नाम के हम...


अजी ठहरो ज़रा देखो - Aji Thahro Zara Dekho (Asha Bhosle, Amit Kumar, Shailendra Singh, Aarti Mukherjee, Parvarish)



Movie/Album: परवरिश (1977)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed by: आरती मुखर्जी, आशा भोंसले, अमित कुमार, शैलेन्द्र सिंह

अजी ठहरो ज़रा देखो
कुछ सोचो ज़रा समझो

हम तो मर जाएँगे ले के तेरा नाम
टूट गया जब दिल तो जीने से क्या काम
हम तो चले जो कहा-सुना हो माफ़ कर देना
ओ जाते हो जाने जाना
आखिरी सलाम लेते जाना
हमको वहाँ ना बुलाना
आखिरी सलाम लेते जाना
जाते हो जाने जाना

प्यार न जाने पापी दुनिया, तो आ चल कर यारा
रेल की पटरी पर सो जाएँ, मिल जाए छुटकारा
जल्दी कर मेरी जाँ तू, जल्दी कर मेरी जाँ तू
अजी सुनिए ज़रा सुनिए
ऐसे नादाँ मत बनिए
ओ हम तो काट जाएँगे
अब गाड़ी के नीचे
वो आने वाली है दो घंटे के पीछे
ऐसा है तो हाथ लगाकर हमको उठाना
तो लेटे रहिए मौसन है सुहाना
आखिरी सलाम लेते...

प्यार हमारा सच है कितना, दिखला दें हम दोनों
तेल छिड़क कर आग लगा लें, जल जाएँ हम दोनों
जल्दी कर मेरी जाँ तू, जल्दी कर मेरी जाँ तू
अजी दो पल रुक जाना
के हँसेगा ये ज़माना
ओ हमने तो कर ली है, जलने की तैय्यारी
डब्बे में पानी था, तेल नहीं था प्यारी
माचिस में भी आग नहीं है कैसा ज़माना
तो लाइटर से काम चलाना
आखिरी सलाम लेते...

इधर आओ बतलाएँ हम जानेमन
तुम्हें जान देने के लाखों जतन
हमें शौक मरने का कब है सनम
बस इक बार कह दो तुम्हारे हैं हम
हम उनके नहीं जिनकी आदत बुरी
मगर अब तो चोरी से तौबा मेरी
अब तौबा मेरी तौबा
तौबा तौबा मेरी तौबा
ऐसा है तो फिर जाने जाना
प्यार का सलाम लेते जाना
हमको भी यार न भूलाना
यार का सलाम लेते जाना
ऐसा है तो फिर जाने जाना
प्यार का सलाम लेते जाना


गोल माल है - Gol Maal Hai (Sapan Chakraborty, R.D.Burman, Gol Maal)



Movie/Album: गोल माल (1979)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: सपन चक्रबर्ती, आर.डी.बर्मन

गोल माल है भई सब गोल माल है
हर सीधे रस्ते की एक टेढ़ी ही चाल है
गोल माल है भाई...

भूख रोटी की हो तो पैसा कमाइए
पैसा कमाने के लिए भी पैसा चाहिए
मांगे से न मिले तो पसीना बहाइए
बहता है जब पसीना तो रुमाल चाहिए
हो गोल माल है भाई...

रुमाल बन गया भी गर कमीज फाड़ कर
कमीज के लिए भी तो फिर कपड़ा चाहिए
अरे कपड़ा किसी ने दान ही में दे दिया चलो
दर्ज़ी के पास जा के वो पहले सिलाइये
हो गोल माल है भाई...

बिन सिली कमीज़ पे तो कुछ नहीं लिया
सिली हुई कमीज पे सिलाई चाहिए
सिलाई देने के लिए फिर पैसा चाहिए
पैसा कमाने के लिए फिर पैसा चाहिए
हो गोल माल है भाई...


एक दिन सपने में - Ek Din Sapne Mein (Kishore Kumar, Amit Kumar, Gol Maal)



Movie/Album: गोल माल (1979)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: किशोर कुमार

एक दिन सपने में देखा सपना
क्या
अरे वो जो है न अमिताभ अपना
बच्चन? हाँ
मार्किट से आउट हुआ, लोगों को डाउट हुआ
मेरी वजह से वो गया गया गया गया
किस्मत तो बदली, क्या कहूँ रियली
मैं अमिताभ हो गया
हो सपने में देखा सपना

दाएँ में हेमा मालिनी, बाएँ में ज़ीनत
अमान?
सामने रेखा, पीछे जो देखा
दाये में हेमा, बाएँ में ज़ीनत
सामने रेखा, पीछे जो देखा
तो क्या हुआ?
रत्ना खड़ी थी, हाथ में छड़ी थी
देखते-देखते मैं भाग रहा था
देखा मैं जाग रहा था
हो सपने में देखा सपना, हाँ

हाँ एक और याद आया
सुनाओ
एक दिन सपने में देखा सपना
अरे वो जो है ना  मिस्टर पेले अपना
कॉसमॉस?
कहते खिलाड़ी हैं, बड़ा अनाड़ी है
मेरे साथ मैच हो गया, गया गया गया गया
अरे मारा जो छक्का तो कैच हो गया
फुटबॉल में क्रिकेट, हाँ कहा ना
सपने में देखा सपना...

और एक!
एक दिन छोटी सी देखी सपनी
सपनी?
वो जो है ना, लता अपनी
लता गा रही थी, मैं तबले पे था
वो मुखड़े पे थी, मैं अंतरे पे था
ताल कहाँ, सम कहाँ, तुम कहाँ, हम कहाँ
तिरकिट धूम नरगद धूम
तिरकिट धूम नरगद धूम, तुम हम तुम
लताफट फटफट लताफट फटाफट
नरकट करमत ता थई थई ता
ता थई थई ता, ता थई थई ता
थैया थैया थई
तकत धूम तकत धूम ताकत हाँ
सपने में देखा सपना
हो सपने में देखा सपना हाँ


तुमसा नहीं मिला - Tumsa Nahin Mila (Amit Kumar, Asha Bhosle, Ustadi Ustad Se)



Movie/Album: उस्तादी उस्ताद से (1982)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: गौहर कानपुरी
Performed By: आशा भोंसले, अमित कुमार

दुनिया ज़माना देखा
देखे सौ ठिकाने पर
तुमसा नहीं मिला
अरे ना ना ना ना ना ना
हुस्न के मेरे हैं
लाखों परवाने पर
तुमसा नहीं मिला
अरे वाह वाह वाह
दुनिया ज़माना देखा...

छोड़ो सनम शिकवे गिले
किस्मत में हैं ये सिलसिले
दुनिया में तुम हमको मिले
मौसम बिना गुलशन खिले
हम दोनों इक जाँ हैं दो बदन
दुनिया ज़माना देखा...

आओ चलें मिल के गले
ऐसा ना हो रात ढले
कोई चले हाथ मले
जानेजहां हम तो चले
दिल से दिल का ये तो मेल है
दुनिया ज़माना देखा...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com