Atif Aslam लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Atif Aslam लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

तेरा नाम दूं - Tera Naam Doon (Atif Aslam, Shalmali Kholgade, Entertainment)



Movie/Album: एंटरटेनमेंट (2014)
Music By:
सचिन-जिगर
Lyrics By: प्रिया पान्चाल
Performed By: आतिफ असलम, शलमली खोलगड़े

कोई जागे सोये मुझमें
मेरी रातें और मेरे दिन सारे खोये उसमें

कोई इतना अपना लागे
मेरा नादाँ ये दिल जैसे धड़के उसमें

मुझे जो, हुआ है, इसकी ना दवा है
किसी ने छुआ है दिल
ये किसकी नज़र का है असर
पूछे जो कोई तो तेरा नाम दूँ
पूछे जो कोई तो तेरा नाम दूँ
मैं कह दूँ सभी को कि तेरा ही है ये असर
पूछे जो कोई तो तेरा नाम दूँ...

कोई दस्तक देके दिल पे
मिलने को आता है, मुझमें रह जाता है
कोई क़िस्मत जैसा लागे
खुशियाँ इन हाथों पे, लिखता ही जाता है

ये कैसी खता है, जिसकी ना सज़ा है
किसी ने छुआ है दिल
ये किसकी दुआ का है असर
पूछे जो कोई तो तेरा नाम दूँ...

ज़री वाले कागज़ों में लिपटा हुआ
कितने हसीन रंगों में रंगा हुआ
ये क्या तोहफा खुदा ने मुझे है दे दिया
लबों से राज़ ये फिसल ना जाए ना
पिघलने लगा है इसके लिये मेरा सबर
पूछे जो कोई तो तेरा नाम दूँ...


नहीं वो सामने - Nahin Wo Saamne (Atif Aslam, Entertainment)




Movie/Album: एंटरटेनमेंट (2014)
Music By:
सचिन-जिगर
Lyrics By: प्रिया पान्चाल
Performed By: आतिफ असलम, शलमली खोलगड़े

खामोशी के खत वो मेरे नाम कर गया
कोरे कोरे दिल पे मेरे यादें भर गया
पूछूं मैं खुदा से, ये तूने क्या किया
जो तोहफा दिया था वो क्यूँ है ले लिया
नहीं वो सामने ये कैसे मान लूँ
नहीं वो सामने ये कैसे मान लूँ
हाँ कोई बता दे, रखूँ मैं कैसे अब सबर
नहीं वो सामने ये कैसे मान लूँ
नहीं वो सामने ये कैसे मान लूँ




जीना जीना - Jeena Jeena (Atif Aslam, Badlapur)



Movie/Album: बदलापुर (2014)
Music By: सचिन-जिगर
Lyrics By:
दिनेश विजन, प्रिया सरैया
Performed By: आतिफ असलम

दहलीज़ पे मेरे दिल की
जो रखे हैं तूने क़दम
तेरे नाम पे मेरी ज़िन्दगी
लिख दी मेरे हमदम
हाँ सीखा मैंने जीना जीना कैसे जीना
हाँ सीखा मैंने जीना मेरे हमदम
ना सीखा कभी जीना जीना कैसे जीना
ना सीखा जीना तेरे बिना हमदम

सच्ची सी हैं ये तारीफें, दिल से जो मैंने करी हैं
जो तू मिला तो सजी हैं दुनिया मेरी हमदम
हो आसमां मिला ज़मीं को मेरी
आधे-आधे पूरे हैं हम
तेरे नाम पे मेरी ज़िन्दगी...


तु चाहिए - Tu Chahiye (Atif Aslam, Bajrangi Bhaijaan)



Movie/Album: बजरंगी भाईजान (2015)
Music By: प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: अमिताभ भट्टाचार्य
Performed By: आतिफ असलम

हाल-ए-दिल को सुकूं चाहिए
पूरी इक आरज़ू चाहिए
जैसे पहले कभी कुछ भी चाहा नहीं
वैसे ही क्यों चाहिए
दिल को तेरी मौजूदगी
का एहसास यूँ चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए
शाम-ओ-सुबह तु चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए
हर मर्तबा तु चाहिए
जितनी दफ़ा ज़िद्द हो मेरी
उतनी दफ़ा हाँ तु चाहिए

कोई और दूजा क्यूँ मुझे, ना तेरे सिवा चाहिए
हर सफर में मुझे, तु ही रहनुमा चाहिए
जीने को बस मुझे, तु ही मेहरबां चाहिए
हो सीने में अगर तू दर्द है, ना कोई दवा चाहिए
तू लहू की तरह, रगों में रवां चाहिए
अंजाम जो चाहे मेरा, हो आगाज़ यूँ चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए...

मेरे ज़ख्मों को तेरी छुअन चाहिए
मेरी शम्मा को तेरी अगन चाहिए
मेरे ख्वाब के आशियाने में तु चाहिए
मैं खोलूं जो आँखें सिरहाने भी तु चाहिए
वो हो..


तेरे संग यारा - Tere Sang Yaara (Atif Aslam, Rustom)



Movie/Album: रुस्तम (2016)
Music By: आर्को प्रावो मुख़र्जी
Lyrics By: मनोज मुन्तशिर
Performed By: आतिफ असलम

तेरे संग यारा, खुश रंग बहारा
तू रात दीवानी, मैं ज़र्द सितारा

ओ करम खुदाया है, तुझे मुझसे मिलाया है
तुझ पे मर के ही तो, मुझे जीना आया है
ओ तेरे संग यारा, खुश रंग बहारा
तू रात दीवानी, मैं ज़र्द सितारा
ओ तेरे संग यारा, खुश रंग बहारा
मैं तेरा हो जाऊँ, जो तू कर दे इशारा

कहीं किसी भी गली में जाऊँ मैं
तेरी खुशबू से टकराऊँ मैं
हर रात जो आता है मुझे, वो ख्वाब तू
तेरा-मेरा मिलना दस्तूर है
तेरे होने से मुझमें नूर है
मैं हूँ सूना सा इक आसमां, महताब तू
ओ करम खुदाया है, तुझे मैंने जो पाया है
तुझ पे मर के ही तो, मुझे जीना आया है
ओ तेरे संग यारा...
ओ तेरे बिन अब तो, ना जीना गँवारा

मैंने छोड़े हैं बाकी सारे रास्ते
बस आया हूँ तेरे पास रे
मेरी आँखों में तेरा नाम है, पहचान ले
सब कुछ मेरे लिए तेरे बाद है
सौ बातों की इक बात है
मैं न जाऊँगा कभी तुझे छोड़ के, ये जान ले
ओ करम खुदाया है, तेरा प्यार जो पाया है
तुझ पे मर के ही तो, मुझे जीना आया है
ओ तेरे संग यारा...
मैं बहता मुसाफिर, तू ठहरा किनारा


मर जाएँ - Mar Jaayen (Atif Aslam, Loveshhuda)



Movie/Album: लवशुदा (2016)
Music By: मिथुन
Lyrics By:
सैय्यद क़ादरी
Performed By: आतिफ असलम

हर लम्हां देखने को
तुझे इंतज़ार करना
तुझे याद कर के अक्सर
रातों में रोज़ जगना
बदला हुआ है कुछ तो
दिल इन दिनों ये अपना

काश वो पल पैदा ही न हो
जिस पल में नज़र तू न आये
गर कहीं ऐसा पल हो
तो उस पल में मर जाएँ
मर जाएँ, मर जाएँ
मर जायें, हो मर जायें

तुझसे जुदा होने का तसव्वुर
एक गुनाह सा लगता है
जब आता है भीड़ में अक्सर
मुझको तन्हाँ करता है
ख़्वाब में भी जो देख ले ये
रात की नींदें उड़ जाएँ
मर जाएँ, मर जाएँ...

अक्सर मेरे हर एक पल में
क्यूँ ये सवाल सा रहता है
तुझसे मेरा ताल्लुक है ये कैसा
आख़िर कैसा रिश्ता है
तुझको न जिस दिन हम देखें
वो दिन क्यूँ गुज़र ही न पाए
मर जाएँ, मर जाएँ...

Reprise
मैंने जिसे चाहा ही नहीं
वो शख्स क्यूँ अच्छा लगता है
क्यूँ हर लम्हां उसकी तमन्ना
दिल ये हरदम करता है
हो अपने दिल की सुलझन उलझन को
कैसे भला सुलझाएँ
मर जाएँ, मर जाएँ...

तू न मिले जिस रोज़ वो दिन
कब आसानी से कटता है
दिल का धड़कना, साँस का चलना
एक सज़ा सा लगता है
दिल ही जाने बगैर तेरे
हम कैसे जी पाएँ
मर जाएँ, मार जाएँ...


बाख़ुदा तुम्हीं हो - Baakhuda Tumhi Ho (Atif, Alka, Kismat Konnection)



Movie/ Album: किस्मत कनेक्शन (2008)
Music By: प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: सईद क़ादरी
Performed By: आतिफ़ असलम, अलका याग्निक

तुम्हीं एहसासों में
तुम्हीं जज़्बातों में
तुम्हीं लम्हातों में
तुम्हीं दिन-रातों में

बाख़ुदा तुम्हीं हो, हर जगह तुम्हीं हो
हाँ, मैं देखूँ जहाँ जब, उस जगह तुम्हीं हो
ये जहां तुम्हीं हो, वो जहां तुम्हीं हो
इस ज़मीँ से फ़लक के दरमियाँ तुम्हीं हो
तुम ही हो बेशुबा, तुम ही हो
तुम ही हो मुझमें हाँ, तुम ही हो
तुम ही हो, तुम ही हो

कैसे बताएँ तुम्हें और किस तरह ये
कितना तुम्हें हम चाहते हैं
साया भी तेरा दिखे, तो पास जा के
उसमें सिमट हम जाते हैं
रास्ता तुम्हीं हो, रहनुमा तुम्हीं हो
जिसकी ख़्वाहिश है हमको, वो पनाह तुम्हीं हो
तुम ही हो बेशुबा...

कैसे बताएँ तुम्हें, शब में तुम्हारे
ख़्वाब हसीं जो आते हैं
कैसे बताएँ तुम्हें, लम्स वो सारे
जिस्म को जो महकाते हैं
इब्तिदा तुम्हीं हो, इंतिहा तुम्हीं हो
तुम हो जीने का मक़सद, और वजह तुम्हीं हो
बाख़ुदा तुम्हीं हो...


बे इन्तेहाँ - Be Intehaan (Atif, Sunidhi, Race 2)



Movie/Album: रेस २ (2013)
Music By: प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: मयूर पूरी
Performed By: आतिफ असलम, सुनिधि चौहान

सुनो ना कहे क्या, सुनो ना
दिल मेरा सुनो ना, सुनो ज़रा
तेरी बाहों में, मुझे रहना है रात भर
तेरी बाँहों में, होगी सुबह
बे इन्तेहाँ, बे इन्तेहाँ
यूँ प्यार कर, यूँ प्यार कर
बे इन्तेहाँ...
देखा करूँ, सारी उमर, सारी उमर
तेरे निशां, बे इन्तेहाँ
कोई कसर ना रहे
मेरी ख़बर ना रहे
छू ले मुझे इस कदर
बे इन्तेहाँ...

जब साँसों में तेरी सासें घुली तो फिर सुलगने लगे
एहसास मेरे मुझसे कहने लगे
हाँ बाहों में तेरी आ के जहां दो यूँ सिमटने लगे
सैलाब जैसे कोई बहने लगे
खोया हूँ मैं आगोश में, तू भी कहाँ अब होश में
मखमली रात की हो ना सुबह
बे इन्तेहाँ...

गुस्ताखियाँ कुछ तुम करो, कुछ हम करें इस तरह
शर्मा के दो साए हैं जो, मुँह फेर ले हमसे यहाँ
हाँ छू तो लिया है ये जिस्म तूने, रूह भी चूम ले
अल्फ़ाज़ भीगे-भीगे क्यूँ है मेरे
हाँ यूँ चूर हो के मजबूर हो के, क़तरा-क़तरा कहे
एहसास भीगे-भीगे क्यूँ हैं मेरे
दो बेखबर भीगे बदन, हो बेसबर भीगे बदन
ले रहे रात भर अंगड़ाईयाँ
बे इन्तेहाँ...


जाने दे - Jaane De (Atif Aslam, Qarib Qarib Single)



Movie/Album: करीब करीब सिंगल (2017)
Music By: विशाल मिश्रा
Lyrics By: राज शेखर
Performed By: आतिफ असलम

वो जो था ख्वाब सा
क्या कहें जाने दें
ये जो है कम से कम
ये रहे के जाने दें

क्यूँ ना रोक कर खुद को
एक मशवरा कर लें
मगर जाने दे
आदतन तो सोचेंगे
होता यूँ तो क्या होता
मगर जाने दे
वो जो था ख्वाब सा...

बीता जो बीते ना हाय क्यूँ
आये यूँ आँखों में
हमने तो बे-मन भी सोचा ना
क्यूँ आये तुम बातों में
पूछते जो हमसे तुम
जाने क्या-क्या हम कहते
मगर जाने दे
आदतन तो सोचेंगे...

आसां नहीं है मगर
जाना नहीं अब उधर
मालूम है जहाँ दर्द है
वहीं फिर भी क्यूँ जाएँ
वही कश्मकश वही उलझनें
वही टीस क्यूँ लायें
बेहतर तो ये होता
हम मिले ही ना होते
मगर जाने दे
आदतन तो सोचेंगे...


दिल दियाँ गल्लाँ - Dil Diyan Gallan (Atif Aslam, Neha Bhasin, Tiger Zinda Hai)



Movie/Album: टाइगर ज़िन्दा है (2017)
Music By: विशाल-शेखर
Lyrics By: इरशाद कामिल
Performed By: आतिफ असलम, नेहा भसीन

कच्ची डोरियों, डोरियों, डोरियों से
मैनूँ तू बांध ले
पक्की यारियों, यारियों, यारियों में
होंदे ना फासले
ए नाराज़गी कागज़ी सारी तेरी
मेरे सोह्णेया सुण लै मेरी
दिल दियाँ गल्लाँ
करांगे नाळ-नाळ बह के
अन्क्ख नाळे अन्क्ख नूँ मिला के
दिल दियाँ गल्लाँ हाय
करांगे रोज़ रोज़ बह के
सच्चियाँ मोहब्बताँ निभा के
सताये मैनूँ क्यूँ, दिखाए मैनूँ क्यूँ
ऐवें झूठी-मूठी रूस के रूसा के
दिल दियाँ गल्लाँ...

तैनूँ लक्खाँ तों छुपा के रखाँ
अक्खाँ तें सजा के
तू ऐ मेरी वफ़ा, रख अपणा बणा के
मैं तेरे लइयाँ, तेरे लइयाँ यारा
ना पावीं कदे दूरियाँ
मैं जीणा हाँ तेरा
तू जीणा है मेरा
दस लैणा की नखरा दिखा के
दिल दियाँ गल्लाँ...

राताँ कालियाँ, कालियाँ, कालियाँ ने
मेरे दिल साँवले
मेरे हाणियाँ, हाणियाँ, हाणियाँ जे
लग्गे तू ना गले
मेरा आसमां मौसमां दी ना सुने
कोई ख़्वाब ना पूरा बणे
दिल दियाँ गल्लाँ...
पता है मैनूँ क्यूँ, छुपा के देखे तू
मेरे नाम से नाम मिला के
दिल दियाँ गल्लाँ...


ले जा तू मुझे - Le Ja Tu Mujhe (Atif Aslam, F.A.L.T.U)



Movie/Album: फ़ालतू (2011)
Music By: सचिन जिगर
Lyrics By: समीर
Performed By: आतिफ़ असलम

हूँ खुदी से लापता, हूँ खुदी से लापता
चीखती मेरी खामोशियाँ यहाँ
बेख्वाब से ख्वाब हैं ख़्वाबों में मेरे
खुरदुरे सन्नाटों में, कहीं तो कैद मेरी आहटे हैं
बेसाख्ता इस दर्द से, अब ले जा छुड़ा के
ले जा तू मुझे, खुले आसमां में
ले जा तू मुझे, अपने जहां में
ले जा तू मुझे, कर के रिहा तू ले जा
अब ले जा, तू ले जा, मुझे ले जा

अब दबी-दबी आवाज़ है, खोए सभी अल्फाज़ है
नाराज़ क्यूँ साज़ है गानों से मेरे
चुभ रही हैं वो शिकायतें
शिकायतें न जाने क्यों अपनी चाहतें
बेसाख्ता इस दर्द से, अब ले जा छुड़ा के
ले जा तू मुझे...

पल टूटा-टूटा है, भीगा-भीगा है, ख्वाबों का निशाँ
ओ मन रूठा-रूठा है, अब अकेला है यादों का जहां
हो अनजाने लोगों की दुनिया से ले जा
ले जा तू मुझे...


दरअसल - Darasal (Atif Aslam, Raabta)



Movie/Album: राबता (2017)
Music By: प्रीतम चक्रबर्ती
Lyrics By: इरशाद कामिल
Performed By: आतिफ़ असलम

तुम तो दरअसल ख्वाब की बात हो
चलती मेरे ख्यालों में तुम साथ-साथ हो
मिलती है जो अचानक वो सौगात हो
तुम तो दरअसल मीठी सी प्यास हो
लगता है ये हमेशा के तुम आस-पास हो
ठहरा है जो लबों पे वो एहसास हो

तेरी अदा, अदा पे मरता मैं
वफ़ा, वफ़ा सी करता क्यूँ
हदों से हूँ गुज़रता मैं
ज़रा, ज़रा, ज़रा, ज़रा
तुम तो दरअसल साँसों का साज़ हो
दिल में मेरे छुपा जो वही राज़, राज़ हो
कल भी मेरा तुम्हीं हो मेरा आज हो

बारिश का पानी हो तुम
कागज़ की कश्ती हूँ मैं
तुझमें कहीं मैं बह जाता हूँ
मिलने हूँ तुमसे आता
वापस नहीं जा पाता
थोड़ा वहीं मैं रह जाता हूँ
तुम तो दरअसल इक नया नूर हो
मुझमें भी हो ज़रा सी, ज़रा दूर दूर हो
जैसी भी हो हमेशा ही मंज़ूर हो

होता है ऐसा अक्सर
लगता हसीं है सारा शहर
अब देख तेरा हो कर
ऐसा असर है मुझपर
हँसता रहूँ मैं आठों पहर
तुम तो दरअसल इश्क हो प्यार हो
आती मेरे फ़सानों में तुम बार-बार हो
इंकार में जो छुपा है वो इकरार हो


मुसाफ़िर - Musafir (Arijit Singh, Atif Aslam, Palak Muchhal, Sweetie Weds NRI)



Movie/Album: स्वीटी वेड्स एन.आर.आई (2017)
Music By: पलाश मुच्छल
Lyrics By: पलक मुच्छल
Performed By: अरिजीत सिंह, आतिफ़ असलम, पलक मुच्छल

कैसे, जीयूँगा कैसे, बता दे मुझको तेरे बिना
तेरा-मेरा जहां ले चलूँ मैं वहाँ
कोई तुझको ना मुझसे चुरा ले
रख लूँ आँखों में मैं, खोलूँ पलकें ना मैं
कोई तुझको ना मुझसे चुरा ले
मैं अंधेरों से घिरा हूँ
आ दिखा दे तू मुझको सवेरा मेरा
मैं भटकता इक मुसाफ़िर
आ दिला दे तू मुझको बसेरा मेरा

जागी-जागी रातें मेरी, रौशन तुझसे है सवेरा
तू ही मेरे जीने की वजह
जब तक हैं ये साँसे मेरी, उनपे है सदा हक तेरा
पूरी है तुझसे मेरी दुआ
तेरा-मेरा जहां...

कैसे, जीयूँगी कैसे, बता दे मुझको तेरे बिना
तेरा मेरा जहां, ले चलूँ मैं वहाँ
कोई तुझको ना मुझसे चुरा ले
रख लूँ आँखों में...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com