Bewafa Sanam लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Bewafa Sanam लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

अच्छा सिला दिया तूने - Achha Sila Diya Tune (Sonu Nigam, Bewafa Sanam)



Movie/Album: बेवफा सनम (1995)
Music By: निखिल-विनय
Lyrics By: योगेश
Performed By: सोनू निगम

ना दिन को सुकून है शाकिर
ना रात को सुकून है
ये कैसा हमपे उमर इश्क का जूनून है
जो रचाये हैं तूने हाथ मेहँदी से
वो मेहँदी नहीं है, मेरे दिल का खून है

अच्छा सिला दिया तूने मेरे प्यार का
यार ने ही लूट लिया घर यार का
अच्छा सिला दिया तूने...

मेरे प्यार वाले सभी फूल मुरझाये
काँटें ही फिज़ाओं वाले मेरे हिस्से आ गये
रास ना आया मुझे सपना बहार का
यार ने ही लूट लिया...

अश्कों की माला मेरे गले पहना के
खुश है वो घर किसी और का बसा के
कर दिया खून देखो मेरे ऐतबार का
यार ने ही लूट लिया...

नाज़ तेरे मर के भी हँस के उठाये हैं
अश्कों के मोती तेरी याद में बहाये हैं
सुन कभी शोर मेरे दिल की पुकार का
यार ने ही लूट लिया...


ओ दिल तोड़ के हँसती - O Dil Tod Ke Hansti (Udit Narayan, Bewafa Sanam)



Movie/Album: बेवफा सनम (1995)
Music By: निखिल-विनय
Lyrics By: योगेश
Performed By: उदित नारायण

बिखरी-बिखरी ज़ुल्फ़ें तेरी
पसीना माथे पर है
सच तो ये है तुम गुस्से में
और भी प्यारे लगते हो
राहें तकना तारे गिनना
सादिक काम हमारा हैं
आज मगर क्या बात है
तुम भी जागे-जागे लगते हो

ओ दिल तोड़ के हँसती हो मेरा
वफायें मेरी याद करोगी
ओ दिल तोड़ के...

कर याद वो ज़माना मेरे प्यार का
चैन लूट ना तू दिल के करार का
ओ जब दुनिया में मैं ना रहा
तो किसे बर्बाद करोगी
ओ दिल तोड़ के...

तेरा दिल कोई जब भी दुखायेगा
याद तुझको ये मेरा प्यार आएगा
ओ तेरे दिलवाले टूटे जब तार
तो रो के फरियाद करोगी
ओ दिल तोड़ के...

मेहंदी प्यार वाली हाथों पे लगाओगी
घर मेरे बाद ग़ैर का बसाओगी
हो मुझे मरने से पहले ही यकीन था
ये काम मेरे बाद करोगी
ओ दिल तोड़ के...

जब ताहिर की याद तुझे आएगी
तेरी आँखों से ये नींद रूठ जाएगी
हो मोती अश्कों के गिर जायेंगे
तो जब मुझे याद करोगी
ओ दिल तोड़ के...


वफ़ा ना रास आई - Wafa Na Raas Aayi (Nitin Mukesh, Bewafa Sanam)



Movie/Album: बेवफा सनम (1995)
Music By: निखिल-विनय
Lyrics By: योगेश
Performed By: नितिन मुकेश

वफ़ा ना रास आई. तुझे ओ हरजाई
मुझे ओ बेवफा ज़रा ये तो बता
तूने आग ये कैसी लगाई
वफ़ा ना रास आई...

दौलत के नशे में तूने मुझे
नज़रों से अपनी दूर किया
मेरे प्यार का शीश महल तूने
एक पल में चकनाचूर किया
मुझे दे के यूँ ग़म, ऐसे करके सितम
तूने मेरी वफ़ा ठुकराई
वफ़ा ना रास आई...

तूने रूप खिज़ाओं का बख्शा
मेरे गुलशन की हरियाली को
आबाद नशेमन था जिस पर
तूने काट दिया उस डाली को
मेरे सीने के सुख, दिए तूने हैं दुःख
सारी रस्मे-कसमें भुलाई
वफ़ा ना रास आई...

मोहलत ना मिले शायद मुझको
अब तुझसे बिछड़ के मिलने की
अरमान हुये सब ख़ाक मेरे
ख्वाहिश ना रही अब जीने की
यादों की चुभन, साँसों की अगन
मेरे मन है आज समाई
वफ़ा ना रास आई...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com