C.Ramchandra लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
C.Ramchandra लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

अरे जा रे हट नटखट - Are Ja Re Hat Natkhat (Mahendra Kapoor, Asha Bhosle, Navrang)



Movie/Album: नवरंग (1959)
Music By: सी.रामचंद्र
Lyrics By: भरत व्यास
Performed By: चितलकर, महेंद्र कपूर, आशा भोंसले

अटक-अटक झटपट पनघट पर
चटक मटक इक नार नवेली
गोरी-गोरी ग्वालन की छोरी चली
चोरी चोरी मुख मोरी मोरी मुसकाये अलबेली
कँकरी गले में मारी कंकरी कन्हैये ने
पकरी बाँह और की अटखेली
भरी पिचकारी मारी (सारारारारा)
भोली पनिहारी बोली

अरे जा रे हट नटखट
ना छू रे मेरा घूँघट
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे
अरे जा रे हट नटखट...
मुझे समझो न तुम भोली-भाली रे

आया होली का त्यौहार
उड़े रंग की बौछार
तू है नार नखरेदार मतवाली रे
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे

तक-तक ना मार पिचकारी की धार
कोमल बदन सह सके ना ये मार
तू है अनाड़ी, बड़ा ही गँवार
कजरे में तूने अबीर दिया डार
तेरी झकझोरी से, बाज़ आयी होरी से
चोर तेरी चोरी निराली रे
मुझे समझो ना तुम भोली-भाली रे
अरे जा रे हट नटखट...

धरती है लाल आज, अम्बर है लाल
उड़ने दे गोरी गालों का गुलाल
मत लाज का आज घूँघट निकाल
दे दिल की धड़कन पे, धिनक धिनक ताल
झाँझ बजे चंग बजे, संग में मृदंग बजे
अंग में उमंग खुशियाली रे
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे
अरे जा रे हट नटखट...


आधा है चन्द्रमा रात आधी - Aadha Hai Chandrama (Navrang, Mahendra Kapoor, Asha Bhosle)



Movie/Album: नवरंग (1959)
Music By: सी.रामचंद्र
Lyrics By: भरत व्यास
Performed By: महेंद्र कपूर, आशा भोंसले

आधा है चन्द्रमा रात आधी
रह न जाए तेरी मेरी बात आधी
मुलाक़ात आधी
आधा है चन्द्रमा...

पिया आधी है प्यार की भाषा
आधी रहने दो मन की अभिलाषा
आधे छलके नयन
आधी पलकों में भी है बरसात आधी
आधा है चन्द्रमा...

आस कब तक रहेगी अधूरी
प्यास होगी नहीं क्या ये पूरी
प्यासा प्यासा पवन
प्यासा प्यासा गगन
प्यासे तारों की भी है बारात आधी
आधा है चन्द्रमा...

सुर आधा है श्याम ने साधा
राधा राधा का प्यार भी आधा
नैन आधे खिले
होंठ आधे मिले
रही पल में मिलन की वो बात आधी
आधा है चन्द्रमा...


श्यामल श्यामल बरन - Shyamal Shyamal Baran (Mahendra Kapoor, Navrang)



Movie/Album: नवरंग (1959)
Music By: सी.रामचंद्र
Lyrics By: भरत व्यास
Performed By: महेंद्र कपूर

श्यामल श्यामल बरन
कोमल कोमल चरण
तेरे मुखड़े पे चंदा गगन का जड़ा
बड़े मन से विधाता ने तुझको गढ़ा

तेरे बालों में सिमटी सावन की घटा
तेरे गालों पे छिटकी पूनम की छटा
तीखे तीखे नयन
मीठे मीठे बयन
तेरे अंगों पे चम्पा का रंग चढ़ा
बड़े मन से विधाता ने...

ये उमर, ये कमर, सौ सौ बल खा रही
तेरी तिरछी नज़र तीर बरसा रही
नाज़ुक नाज़ुक बदन
धीमे धीमे चलन
तेरी बाँकी लटक में है जादू बड़ा
बड़े मन से विधाता ने...

किस पारस से सोना ये टकरा गया
तुझे रचकर चितेरा भी चकरा गया
न इधर जा सका
न उधर जा सका
रह गया देखता वो खड़ा ही खड़ा
बड़े मन से विधाता ने...


आपका चेहरा माशा अल्लाह - Aapka Chehra Masha Allah (Rafi, Asha, Rootha Na Karo)



Movie/Album: रूठा ना करो (1970)
Music By: सी.रामचंद्र
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: मो.रफ़ी, आशा भोंसले

आपका चेहरा माशा अल्लाह
ज़ुल्फ़ का पहरा सुभान अल्लाह
आप की बातें वल्लाह वल्लाह
इतनी मोहब्बत अल्लाह अल्लाह

ज़ुल्फ़ का सावन, गाल की बिजली
दोनों का दिवाना हूँ
मेरा हक है ओ शहज़ादी
चाहत का परवाना हूँ
आपका चेहरा माशा अल्लाह...

प्यार का सागर इतना गहरा
दो दिल जिसमें डूब चुके हैं
दुनिया वाले भेद ना जाने
डूब के हम तो पार हुए हैं
आप का चेहरा माशा अल्लाह...

इन बाहों के हार तो डालो
अपने गले से मुझे लगा लो
ऐसा नशा है बहकी जाऊँ
आज मुझे तुम खुद ही संभालो
आप का चेहरा माशा अल्लाह...


ऐ मेरे वतन के लोगों - Aye Mere Watan Ke Logon (Lata Mangeshkar)



Movie/Album: एकल गीत (1963)
Music By:
सी.रामचंद्र
Lyrics By: कवि प्रदीप
Performed By: लता मंगेशकर

ऐ मेरे वतन के लोगों, तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सबका, लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर, वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो, कुछ याद उन्हें भी कर लो
जो लौट के घर न आये, जो लौट के घर न आये

ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जब घायल हुआ हिमालय, ख़तरे में पड़ी आज़ादी
जब तक थी साँस लड़े वो, फिर अपनी लाश बिछा दी
संगीन पे धर कर माथा, सो गये अमर बलिदानी
जो शहीद हुए हैं उनकी...

जब देश में थी दीवाली, वो खेल रहे थे होली
जब हम बैठे थे घरों में, वो झेल रहे थे गोली
थे धन्य जवान वो अपने, थी धन्य वो उनकी जवानी
जो शहीद हुए हैं उनकी...

कोई सिख, कोई जाट-मराठा, कोई गुरखा, कोई मद्रासी
सरहद पर मरने वाला, हर वीर था भारतवासी
जो खून गिरा पर्वत पर, वो खून था हिन्दुस्तानी
जो शहीद हुए हैं उनकी...

थी खून से लथपथ काया, फिर भी बंदुक उठा के
दस-दस को एक ने मारा, फिर गिर गये होश गँवा के
जब अंत समय आया तो, कह गये के अब मरते हैं
खुश रहना देश के प्यारों, अब हम तो सफ़र करते हैं
क्या लोग थे वो दीवाने, क्या लोग थे वो अभिमानी
जो शहीद हुए हैं उनकी...

तुम भूल ना जाओ उनको, इसलिए कही ये कहानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी
जय हिंद, जय हिंद की सेना
जय हिंद, जय हिंद की सेना


राधा ना बोले - Radha Na Bole (Lata Mangeshkar, Azaad)



Movie/Album: आज़ाद (1955)
Music By: सी. रामचंद्र
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: लता मंगेशकर

ना बोले, ना बोले, ना बोले रे
घूँघट के पट ना खोले रे
राधा ना बोले, ना बोले, ना बोले रे

राधा की लाज भरी अँखियों के डोरे
देखोगे कैसे अब गोकुल के छोरे
देखो मोहन का मनवा डोले रे
राधा ना बोले...

याद करो जमुना किनारे, साँवरिया
फोड़ी थी राधा की काहे गगरिया
इस कारण ना तुम संग बोले रे
राधा ना बोले...

रूठी हुई यूँ ना मानेगी छलिया
चरणों में राधा के रख दो मुरलिया
बात बन जायेगी हौले-हौले रे
राधा ना बोले...


अपलम चपलम - Aplam Chaplam (Lata Mangeshkar, Usha Mangeshkar, Azaad)



Movie/Album: आज़ाद (1955)
Music By: सी. रामचंद्र
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: लता मंगेशकर, उषा मंगेशकर

अपलम चपलम
चप लायी रे दुनिया को छोड़
तेरी गली आयी रे, आयी रे, आयी रे
हो दुनिया को छोड़
तेरी गली आयी रे, आयी रे, आयी रे

बड़ा मजबूर किया, हाय तेरे प्यार ने
मार दिया मार दिया, हाय तेरे प्यार ने
अब पछताये दिल, हाय कित जाये दिल
काहे को ये आग लगायी रे, लगायी रे, लगायी रे
अपलम चपलम...

टेढ़ा-मेढ़ा खेल है ये प्यार जो मैं जानती
भूल के भी बात कभी दिल की न मानती
दिल बेईमान हुआ, देखो जी पराया हुआ
रोये-रोये जान गँवायी रे, गँवायी रे, गँवायी रे
अपलम चपलम...

दग़ा देने वाला देखो कैसा दग़ा दे गया
छोड़ गया याद और दिल मेरा ले गया
मैंने ही क़ुसूर किया, ऐसे को जो दिल दिया
सुधबुध सब बिसराई रे
अपलम चपलम...


कैसे आऊँ जमुना - Kaise Aaun Jamuna (Lata Mangeshkar, Devta)



Movie/Album: देवता (1956)
Music By: सी. रामचन्द्र
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: लता मंगेशकर

कैसे आऊँ जमुना के तीर
पाँव पड़ी ज़ंजीर श्यामा
पाँव पड़ी ज़ंजीर हाय
कैसे आऊँ जमुना...

काहे लगाया बैरी, अँखियों में कजरा
अँखियों में कजरा, कलैया में गजरा
रह गयी हार सिंगार किये मैं
कौन बँधाए धीर हो
कैसे आऊँ जमुना के तीर...

श्याम मिलन को जिया मोरा तरसे
काह करूँ कैसे निकलूँ मैं घर से
प्रीत भरे मन की ये दुनिया
हाय न जाने पीर
कैसे आऊँ जमुना के तीर...


मेरे मन का बावरा पंछी - Mere Mann Ka Bawra Panchhi (Lata Mangeshkar, Amar Deep)



Movie/Album: अमरदीप (1958)
Music By: सी.रामचंद्र
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: लता मंगेशकर

मेरे मन का बावरा पंछी, क्यों बार बार डोले
सपनों में आज किसका रह रह के प्यार डोले
मेरे मन का बावरा पंछी...

किसके ख्याल में नज़रें झुकी-झुकी हैं
देखो इधर भी लब पर आहें रुकी-रुकी हैं
तुम हो करार जिस दिल का, वही बेक़रार डोले
मेरे मन का बावरा पंछी...

दिल को लगन है उसकी, मीठी नज़र है जिसकी
हम पास हैं तुम्हारे, फिर दिल में याद है किसकी
तुम जो नज़र मिलाओ, दिल में बहार डोले
मेरे मन का बावरा पंछी...

कब से खड़े हुए हैं, कह दो तो लौट जाएँ
तुम्हें दूर ही से देखें, हरगिज़ न पास आएँ
आँखों में ज़िन्दगी भर तक, तेरा इंतज़ार डोले
मेरे मन का बावरा पंछी...


देख हमें आवाज़ न देना - Dekh Humein Aawaz Na Dena (Md.Rafi, Asha Bhosle, Amar Deep)



Movie/Album: अमर दीप (1958)
Music By: सी.रामचंद्र
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले

देख हमें आवाज़ ना देना
ओ बेदर्द ज़माने, ओ बेदर्द ज़माने
आज चले हम छोड़ के तुझको
दुनिया नई बसाने, ओ बेदर्द ज़माने

चमका शाम का पहला तारा
गगन दुलारा
सबसे पहले उसने देखा प्यार हमारा
आने वाली रात सुनेगी
तेरे मेरे तराने
ओ बेदर्द ज़माने…

दूर कहीं एक पंछी गाये
ये समझाए
प्यार में हो जाते हैं, अपने दर्द पराये
दिल की धड़कन क्या होती है
प्यार करे तो जाने
ओ बेदर्द ज़माने...
देख हमें आवाज़ न देना...


ये जी चाहता है - Ye Jee Chahta Hai (Asha Bhosle, Amar Deep)



Movie/Album: अमर दीप (1958)
Music By: सी.रामचंद्र
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: आशा भोंसले

ये जी चाहता है किसी दिन मैं तेरी
निगाहों की सारी उदासी चुरा लूँ
अगर हो इजाज़त, अगर हो इनायत
तेरे ग़म को मैं अपनी किस्मत बना लूँ
ये जी चाहता है...

किधर जा रहा है मोहब्बत के राही
इधर देख मंज़िल तेरी मेरा दिल है
तुझे क्या ख़बर है, ये दिल तेरा घर है
तू चाहे तो इस दिल में तुझको छुपा लूँ
ये जी चाहता है...

अजब ये सफ़र है तेरी ज़िन्दगी का
के है हर कदम पर अँधेरा-अँधेरा
जो तेरी ख़ुशी हो, तो राहो में तेरी
अमर दीप मैं अपने दिल का जला लूँ
ये जी चाहता है...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com