Deewaar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Deewaar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

कह दूँ तुम्हें - Keh Doon Tumhen (Kishore Kumar, Asha Bhosle, Deewaar)



Movie/Album: दीवार (1975)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: किशोर कुमार, आशा भोंसले

कह दूँ तुम्हें, हाँ
या चुप रहूँ, ना
दिल में मेरे आज क्या है, क्या है
कह दूँ तुम्हें या चुप रहूँ
दिल में मेरे आज क्या है
जो बोलो तो जानूँ, गुरू तुमको मानूँ
चलो ये भी वादा है
अच्छा
कह दूँ तुम्हें...

सोचा है तुमने कि चलते ही जाएँ
तारों से आगे कोई दुनिया बसाएँ
ठीक है? अहाँ
तो तुम बताओ? बताऊँ? हाँ
सोचा ये है कि तुम्हें रस्ता भुलाएँ
सूनी जगह पे कहीं छेड़ें डराएँ
हाय रे ना ना, ये ना करना
अरे नहीं रे, नहीं रे, नहीं रे, नहीं रे, नहीं नहीं
कह दूँ तुम्हें...

सोचा है तुमने कि कुछ गुनगुनाएँ
मस्ती में झूमें ज़रा धूमें मचाएँ
अब ठीक है? उहूँ
तो तुम बताओ ना? बताऊँ? हाँ
सोचा ये है कि तुम्हें नज़दीक लाएँ
फूलों से होंठों की लाली चुराएँ
हाय रे ना ना, ये ना करना
अरे नहीं रे, नहीं रे, नहीं रे, नहीं रे, नहीं नहीं
कह दूँ तुम्हें...


मैंने तुझे माँगा - Maine Tujhe Maanga (Asha, Kishore, Deewaar)



Movie/ Album: दीवार (1975)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: आशा भोंसले, किशोर कुमार

मैंने तुझे माँगा तुझे पाया है
तूने मुझे माँगा मुझे पाया है
आगे हमें जो भी मिले
या न मिले, गिला नहीं
मैंने तुझे माँगा...

छाँव घनी ही नहीं, धूप कड़ी भी होती है राहों में
ग़म हो के ख़ुशियाँ हो, सभी को हमें लेना है बाँहों में
दुःखी हो के जीने वाले, क्या ये तुझे पता नहीं
मैंने तुझे माँगा...

ज़िद है तुम्हें तो लो, लब पे न शिकवा कभी भी लाएँगे
हँस के सहेंगे जो दर्द या ग़म भी जहाँ से पाएँगे
तुझको जो बुरा लगे, ऐसा कभी किया नहीं
मैंने तुझे माँगा...


दीवारों का जंगल - Deewaron Ka Jungle (Manna Dey, Deewaar)



Movie/Album: दीवार (1975)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मन्ना डे

दीवारों का जंगल जिसका
आबादी है नाम
बाहर से चुप-चुप लगता है
अंदर है कोहराम

दीवारों के इस जंगल में
भटक रहे इंसान
अपने-अपने उलझें
दामन झटक रहे इंसान
अपनी विपदा छोड़ के
आए कौन किसी के काम
बाहर से चुप-चुप...

सीने खाली आँखें सूनी
चेहरों पर हैरानी
जितने घने हंगामे इसमें
उतनी घनी वीरानी
रातें कातिल, सुबहें मुजरिम
मुल्ज़िम है हर शाम
बाहर से चुप-चुप...


इधर का माल उधर - Idhar Ka Maal Udhar (Bhupinder Singh, Deewaar)



Movie/Album: दीवार (1975)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: भूपिंदर सिंह

इधर का माल, उधर का माल
इधर का माल उधर जाता है
उधर का माल, इधर आता है
अरे हम सब जाने, हम सब जाने
अरे हम सब जाने
किधर-किधर कितना गफला हो जाता है
इधर का माल उधर...

ऐ कितना धंधा कानूनी है
कितना धंधा चोरी का
सागर-सागर फैला रहा है
जाल सुनहरी डोरी का
अरे माल पकड़ कर कोई-कोई
कितना माल बनता है
हम सब जाने...

ऐ चोरों से कुतवाल मिले तो
फिर चोरी कब रूकती है
मजदूरों से आँख मिला ते
आँख सभी की झुकती है
कस्टम से नेताओं के घर तक
किसका किससे नाता है
हम सब जाने...


कोई मर जाये - Koi Mar Jaye (Asha Bhosle, Deewaar)



Movie/Album: दीवार (1975)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: आशा भोंसले

कोई मर जाए किसी पे
ये कहाँ देखा है
छोड़िए-छोड़िए हमने भी जहां देखा है
कोई मर जाए...

अर्ज़ है
के आप मरते हैं हम पर, बड़ी बात है
ये मुहब्बत मगर रात की बात है
रात ढल जाएगी, बात टल जाएगी
ये तबियत अजी, कल संभल जाएगी
इश्क़ करते हैं सभी, जान छिड़कते हैं सभी
ये मगर चंद ही घड़ियों का समां देखा है
हाँ छोड़िए-छोड़िए...

एक नयी शक्ल का तुमको अरमान है
आज इसपे है कल उसपे ईमान है
जब नई शक्ल देखी, मचल ही जाओगे
मौसमों की तरह बदल ही जाओगे
हमने पहले भी कई चाहने वाले देखे
हमने पहले भी ये सब खेल मियाँ देखा है
हाँ छोड़िए-छोड़िए...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com