Dharti Kahe Pukar Ke लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Dharti Kahe Pukar Ke लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

हम तुम चोरी से - Hum Tum Chori Se (Mukesh, Lata Mangeshkar)



Movie/Album: धरती कहे पुकार के (1969)
Music By: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: मुकेश, लता मंगेशकर

जे हम तुम चोरी से
बंधे एक डोरी से
जइयो कहाँ ए हुज़ूर
अरे ई बंधन है प्यार का
जे हम-तुम चोरी...

कजरा वाली फिर तू, ऐईसे काहे निहारे
ई चितवन के गोरी, माने तो समझा जा रे
मतलबवा एक है, एक है नैनन पुकार का
जे हम-तुम चोरी...

देखो बादर आए, पवन के पुकारे
उल्फ़त मेरी जीती, अनाड़ी पिया हारे
आएगा रे मजा, रे मजा अब जीत-हार का
जे हम-तुम चोरी...

घूँघट में से मुखड़ा, दीखे अभी अधूरा
आ बैंया में आजा, मिलन तो हो पूरा
ई मिलना तो नहीं, तो नहीं कुछ एक बार का
जे हम-तुम चोरी...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com