Don लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Don लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

खाइके पान बनारस वाला - Khaike Paan Banaras Waala (Kishore Kumar, Don)



Movie/Album: डॉन (1978)
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: अनजान
Performed By: किशोर कुमार

अरे भंग का रंग जमा हो चकाचक
फिर लो पान चबाय
अरे ऐसा झटका लगे जिया पे
पुनर जनम होइ जाय

ओ खाइके पान बनारस वाला
खुल जाए बंद अकल का ताला
फिर तो ऐसा करे धमाल
सीधी कर दे सबकी चाल
ओ छोरा गंगा किनारे वाला
खाइके पान बनारस...

अरे राम दुहाई, कैसे चक्कर में पड़ गया हाय हाय हाय
कहाँ जान फ़ँसाई, मैं तो सूली पे चढ़ गया हाय हाय
कैसा सीधा सादा, मैं कैसा भोला भाला, हाँ हाँ!
अरे कैसा सीधा सादा मैं कैसा भोला भाला
जाने कौन घड़ी में पड़ गया पढ़े-लिखों से पाला
मीठी छूरी से, मीठी छूरी से हुआ हलाल
छोरा गंगा किनारे वाला...

एक कन्या कुँवारी हमरी सूरत पे मर गई, हाय हाय हाय
एक मीठी कटारी, हमरे दिल में उतर गई हाय हाय
कैसी गोरी गोरी ओ तीखी तीखी छोरी, वाह वाह!
अरे कैसी गोरी गोरी ओ तीखी तीखी छोरी
करके जोरा-जोरी, कर गई हमरे दिल की चोरी
मिली छोरी तो, मिली छोरी तो हुआ निहाल
छोरा गंगा किनारे वाला...


मैं हूँ डॉन - Main Hoon Don (Kishore Kumar, Don)



Movie/Album: डॉन (1978)
Music By: कल्याणजी आनंदजी
Lyrics By: अनजान
Performed By: किशोर कुमार

अरे दीवानों, मुझे पहचानो
कहाँ से आया मैं हूँ कौन
मैं हूँ डॉन...

अरे तुमने जो देखा है
सोचा है समझा है जाना है, वो मैं नहीं
लोगों की नज़रों ने
मुझको यहाँ जो भी माना है, वो मैं नहीं
आवारा बादल को, सौदाई पागल को
दुनिया में समझा है कौन
अरे दीवानों मुझे...

अरे यारों का वो यार हूँ
यारी में जाँ लुटा दे जो, मैं हूँ वही
दुश्मन का दुश्मन हूँ वो
दुश्मन के छक्के छुड़ा दे जो, मैं हूँ वही
तुम जानो ना जानो, मैंने तो जाना है
महफ़िल में कैसा है कौन
अरे दीवानों मुझे...

अरे मैंने क्या सोचा है
क्या ख़्वाब है मेरी आँखों में, तुम जानो ना
मैंने भी बदला है क्या
रंग बातों ही बातों में, तुम जानो ना
चेहरे पे चेहरा है, परदे पे परदा है
दुनिया में समझा है कौन
अरे दीवानों मुझे...


जिसका मुझे था इंतज़ार - Jiska Mujhe Tha Intezaar (Kishore, Lata, Don)



Movie/Album: डॉन (1978)
Music By:
कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By:
अनजान
Performed By: किशोर कुमार, लता मंगेशकर

जिसका मुझे था इंतज़ार
जिसके लिए दिल था बेक़रार
वो घड़ी आ गई, आ गई
आज प्यार में हद से गुज़र जाना है
मार देना है तुझको या मर जाना है

मुझपे क्या गुज़री तू क्या जाने
तू क्या समझे ओ दीवाने
ले के रहूँगी बदला तुझसे
आई हूँ दिल की आग बुझाने
ओ क़ातिल मेरी नज़रों से बच के कहाँ जाएगा
दिया है जो मुझको वही तू मुझसे पाएगा
वो घड़ी आ गई, आ गई
तीर बन के जिगर में उतर जाना है
मार देना है...

जादू तेरा किसपे चला
होगा किसी दिन ये फ़ैसला
वो घड़ी आएगी, आएगी
जानां तूने अभी ये कहाँ जाना है
किसे जीना है और किसको मर जाना है
वो घड़ी आएगी...

होगा तेरा आशिक़ ज़माना
औरों का दिल होगा तेरा निशाना
नाज़ न कर यूँ तीर-ए-नज़र पे
आए हमें भी तीर चलाना
जो है खिलाड़ी उन्हें खेल हम दिखाएँगे
अपने ही जाल में शिकारी फँस जाएँगे
वो घड़ी आएगी, आएगी
वक़्त आने पे तुझको ये समझाना है
किसे जीना है...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com