Don 2 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Don 2 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

ज़रा दिल को थाम लो - Zara Dil Ko Tham Lo (Vishal Dadlani, Anusha Mani, Don 2)



Movie/Album: डॉन २ (2011)
Music By: शंकर-एहसान-लॉय
Lyrics By: जावेद अख़्तर
Performed By: विशाल ददलानी, अनुषा मणी

दिलकशी और दिलबरी
उसकी है जादूगरी ओ
जिसकी आँखे है तारे
ठहरे जिस पल हैं सारे
ऐ दिल ये सच है क्या
आज वो है क्या आ ही गया
ज़रा दिल को थाम लो
नाम लो कह भी दो है कौन
आ गया, आ गया
लौट के, देखो डॉन

जो ना समझा कोई मैं वो ही राज़ हूँ
जो किसी का नहीं है वो अंदाज़ हूँ
मैं समंदर से गहरा, मैं कहीं कब हूँ ठहरा
मै हूँ जैसे धुआं, ये धुआं कहीं है रुकता कहाँ
ज़रा दिल को थाम लो...

तू नहीं है धुआं, एक शोला है तू मेरी जाँ
पास तेरे मगर आऊँगी
तुझमें ही जल के मर जाऊँगी
मुझको चाहा तो पाओगी क्या
मैं कहाँ जाऊँगा मेरा क्या है पता
ज़रा दिल को थाम लो...


आ रहा हूँ पलट के - Aa Raha Hoon Palat Ke (Shahrukh Khan, Don 2)



Movie/Album: डॉन 2 (2011)
Music By: शंकर-एहसान-लॉय
Lyrics By: जावेद अख़्तर
Performed By: शाहरुख ख़ान

मेरे दुश्मन समझ रहे थे
मैं अब कभी लौट के ना आऊँगा
एक गुमनामी का समंदर है
उसमें ही जा के डूब जाऊँगा
अभी बाकी मेरी कहानी है
सारी दुनिया को जो सुनानी है
मुझे पहचानो, देखो मै हूँ कौन
आ रहा हूँ पलट के मै हूँ डॉन, डॉन, डॉन


है ये माया - Hai Ye Maya (Usha Uthup, Don 2)



Movie/Album: डॉन 2 (2011)
Music By: शंकर-एहसान-लॉय
Lyrics By: जावेद अख़्तर
Performed By: उषा उत्थुप

ना कोई रात है, ना कोई दिन यहाँ
क्या ये अँधेरा है, के सिर्फ है धुआं
आँखें धोखा खाती हैं ये किसको पता नहीं
जाने क्या है यहाँ और जाने यहाँ क्या नहीं
है ये माया

हीरे जो लगते हैं वो, मुमकिन है अंगारें हों
चिंगारी लगते हैं जो, हो सकता है तारे हों
आँखें धोखा खाती हैं...

चेहरे है सब एक से, तू कैसे पहचानेगा
दुश्मन है या दोस्त है, तू कैसे ये जानेगा
आँखें धोखा खाती हैं...


दुश्मन मेरा - Dushman Mera (Sunitha Sarathy, Shankar Mahadevan, Don 2)



Movie/Album: डॉन 2 (2011)
Music By: शंकर-एहसान-लॉय
Lyrics By: जावेद अख़्तर
Performed By: सुनीता सारथी, शंकर महादेवन

कोई जाने ना, ये कैसी आग है
मेरे दिल को डसता, ये कैसा नाग है
हर घड़ी मैं जिसको ढूँढू, बच के ना जायेगा
हाँ कहीं ना कहीं तो इक दिन, मुझे मिल ही जायेगा
दुश्मन मेरा

मुझे ढूँढना आसान है कहाँ
ज़मीं देख लो या आसमां
मैं इक पल यहाँ, मैं इक पल हूँ वहाँ
नहीं पाओगे मेरा निशाँ
जो कोई भी मुझको ढूँढे, वो कुछ ना पायेगा
दिल में ही वो दिल के अरमां वापस ले जायेगा
समझे ज़रा, दुश्मन मेरा

इन आँखों में है जाने कैसी ज्वाला
इसको मत बुझने देना, सुन लो मेरा कहना
गुस्से में कितनी तुम दिलकश लगती हो
जब तक भी रह पाओ तुम गुस्से में ही रहना
मेरा गुस्सा तो, देखोगे एक दिन
मेरे दिल में क्या है, जानोगे एक दिन
तुमसे मैं इतना कह दूँ, वो दिन जब आएगा
दिल में ही वो दिल के अरमां, वापस ले जायेगा
समझे ज़रा, दुश्मन मेरा


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com