Ek Villain लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Ek Villain लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

तेरी गलियाँ - Teri Galliyan (Ankit Tiwari, Ek Villain)



Movie/Album: एक विलेन (2014)
Music By: अंकित तिवारी
Lyrics By: मनोज मुन्तशिर
Performed By: अंकित तिवारी

यहीं डूबे दिन मेरे
यहीं होते हैं सवेरे
यहीं मरना और जीना
यहीं मंदिर और मदीना

तेरी गलियाँ, गलियाँ तेरी गलियाँ
मुझको भावें गलियाँ, तेरी गलियाँ
तेरी गलियाँ, गलियाँ तेरी गलियाँ
यू तड़पावें, गलियाँ तेरी गलियाँ

तू मेरी नींदों मे सोता है
तू मेरे अश्क़ो में रोता है
सरगोशी सी है ख्यालों में
तू न हो, फिर भी तू होता है
है सिला तू मेरे दर्द का
मेरे दिल की दुआयें हैं
तेरी गलियाँ...

कैसा है रिश्ता तेरा-मेरा
बेचहरा फिर भी कितना गहरा
ये लम्हें, लम्हें ये रेशम से
खो जायें, खो ना जायें हमसे
काफिला, वक़्त का रोक ले
अब्र से जुदा ना हो
तेरी गलियाँ...


बंजारा - Banjaara (Mohd. Irfan, Ek VIllain)



Movie/Album: एक विलेन (2014)
Music By: मिथुन
Lyrics By: मिथुन
Performed By: मोहम्मद इरफ़ान

जिसे ज़िन्दगी ढूंढ रही है
क्या ये वो मकाम मेरा है
यहाँ चैन से बस रुक जाऊं
क्यूं दिल ये मुझे कहता है
जज़्बात नये से मिले हैं
जाने क्या असर ये हुआ है
इक आस मिली फिर मुझको
जो क़ुबूल किसी ने किया है

किसी शायर की ग़ज़ल
जो दे रूह को सुकूं के पल
कोई मुझको यूँ मिला है
जैसे बंजारे को घर
नए मौसम की सहर
या सर्द में दोपहर
कोई मुझको यूँ मिला है
जैसे बंजारे को घर

जैसे कोई किनारा, देता हो सहारा
मुझे वो मिला किसी मोड़ पर
कोई रात का तारा, करता हो उजाला
वैसे ही रोशन करे वो शहर
दर्द मेरे वो भुला ही गया
कुछ ऐसा असर हुआ
जीना मुझे फिर से वो सीखा रहा
जैसे बारिश कर दे तर, या मरहम दर्द पर
कोई मुझको यूँ मिला है
जैसे बंजारे को घर...

मुस्काता ये चेहरा, देता है जो पहरा
जाने छुपाता क्या दिल का समंदर
औरों को तो हरदम साया देता है
वो धूप में है खड़ा खुद मगर
चोट लगी है उसे फिर क्यूं
महसूस मुझे हो रहा
दिल तू बता दे क्या है इरादा तेरा
मैं परिंदा बेसबार, था उड़ा जो दरबदर
कोई मुझको यूँ मिला है
जैसे बंजारे को घर...


ज़रुरत - Zaroorat (Mustafa Zahid, Ek Villain)



Movie/Album: एक विलेन (2014)
Music By: मिथुन
Lyrics By: मिथुन
Performed By: मुस्तफा ज़ाहिद

ये दिल तन्हा क्यूं रहे
क्यूं हम टुकड़ों में जिये
क्यूं रूह मेरी ये सहेमैं अधूरा जी रहा हूँ
हरदम ये कह रहा हूँ
मुझे तेरी ज़रूरत है...

अंधेरों से था मेरा रिश्ता बड़ा
तूने ही उजालों से वाक़िफ़ किया
अब लौटा मैं हूँ इन अंधेरों में फिर
तो पाया है खुद को बेगाना यहाँ
तन्हाई भी मुझसे खफा हो गयी
बंजरों ने भी ठुकरा दिया
मैं अधूरा जी रहा हूँ
खुद पर ही इक सज़ा हूँ
मुझे तेरी ज़रूरत है...

तेरे जिस्म की वो खुशबुएं
अब भी इन सांसों में ज़िंदा है
मुझे हो रही इनसे घुटन
मेरे गले का ये फंदा है

तेरे चूड़ियों की वो खनक
यादों के कमरे में गूँजे है
सुनकर इसे, आता है याद
हाथों में मेरे जंजीरें हैं
तु ही आके इनको निकाल ज़रा
कर मुझे यहाँ से रिहा
मैं अधूरा जी रहा हूँ
ये सदायें दे रहा हूँ
मुझे तेरी ज़रूरत है...


आवारी - Awari (Adnan Dhool, Momin Musteshan, Ek Villain)



Movie/Album: एक विलेन (2014)
Music By: सोच
Lyrics By: सोच
Performed By: अदनान धूल, मोमिन मुस्तेशान

तेरी बाहों में जो सकूं था मिला
मैंने ढूँढा बहुत था, फिर ना मिला

दुनिया छूना चाहे मुझको यूं
जैसे उनकी सारी की सारी मैं
दुनिया देखे रूप मेरा
कोई ना जाने बेचारी मैं

हाय टूटी सारी की सारी मैं
तेरे इश्क़ में हुई आवारी मैं
हाय, टूटी सारी की सारी मैं
तेरे इश्क़ में हुई आवारी मैं

कोई शाम बुलाये, कोई दाम लगाये
मैं भी ऊपर से हँसती, पर अंदर से हाय
क्यूं दर्द छुपाये बैठी है
क्यूं तू मुझसे कहती है
मैं तो खुद ही बिखरा हुआ

हाय अंदर-अंदर से टूटा मैं
तेरे इश्क़ में खुद ही से रूठा मैं
हाय अंदर-अंदर से टूटा मैं
तेरे इश्क़ में खुद ही से रूठा मैं

मैं जी भरके रो लूँ, तेरी बाहों में सो लूँ
आ फिर से मुझे मिल. मैं तुझसे ये बोलूं
तू अनमोल थी, पल-पल बोलती थी
ऐसी चुप तू लगा के गयी, सारी खुशियाँ खा के गयी

हाय, अंदर-अंदर से टूटा मैं
तेरे इश्क़ में खुद ही से रूठा मैं
हाय, तेरी हूँ सारी की सारी मैं
हो, तेरे ही लिये ना सारी मैं


हमदर्द - Humdard (Arijit Singh, Ek Villain)



Movie/Album: एक विलेन (2014)
Music By: मिथुन
Lyrics By: मिथुन
Performed By: अरिजीत सिंह

पल दो पल की ही क्यूं है ज़िंदगी
इस प्यार को है सदियाँ काफी नहीं
तो खुदा से माँग लूँ
मोहलत मैं इक नयी
रहना है बस यहाँ
अब दूर तुझसे जाना नहीं
जो तू मेरा हमदर्द है
जो तू मेरा हमदर्द है
सुहाना हर दर्द है
जो तू मेरा हमदर्द है

तेरी मुस्कुराहटें हैं ताक़त मेरी
मुझको इन्हीं से उम्मीद मिली
चाहे करे कोई सितम ये जहां
इनमे ही है सदा हिफाज़त मेरी
जिंदगानी बड़ी खूबसूरत हुई
जन्नत अब और क्या होगी कहीं
जो तू मेरा हमदर्द है...

तेरी धड़कनों से है ज़िन्दगी मेरी
ख्वाहिशें तेरी अब दूआएं मेरी
कितना अनोखा बंधन है ये
तेरी मेरी जान जो एक हुई
लौटूंगा यहाँ तेरे पास मैं हाँ
वादा है मेरा मर भी जाऊं कहीं
जो तू मेरा हमदर्द है...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com