Harshdeep Kaur लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Harshdeep Kaur लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

हीर - Heer (Harshdeep Kaur, Jab Tak Hai Jaan)



Movie/Album: जब तक है जान (2012)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: हर्षदीप कौर

हीर हीर ना आँखों अड़ियो
मैं ते साहेबा होई
घोड़ी ले के आवे लै जाए
हो मैनू लै जाए मिर्ज़ा कोई

ओहदे जे ही मैं, ते ओह मेरे वरगा
हंसदा-ए सजर-सवेरे वरगा
अन्खां बंद कर लै ते
ठन्डे हनेरे वरगा
ओहदे जे ही मैं, ते ओह मेरे मिर्ज़ा वरगा
हीर हीर ना...

नाल नाल टुर ना ते विथ रखणा
हद रख लेणा विच दिल रखणा
छाँवे-छाँवे पावे असी तेरी
पर छाँवे टुर ना
ओहदे जे ही मैं ते ओ मिर्ज़ा मेरे वरगा
हीर हीर ना...


जलते दीये - Jalte Diye (Harshdeep Kaur, Shabab Sabri, Anweshaa, Prem Ratan Dhan Payo)



Movie/Album: प्रेम रतन धन पायो (2015)
Music By: हिमेश रेशमिया
Lyrics By: इरशाद क़ामिल
Performed By: हर्षदीप कौर, शबाब सबरी, अन्वेषा

आज अगर मिलन की रात होती
जाने क्या बात होती
तो क्या बात होती

सुनते हैं जब प्यार हो तो
दीये जल उठते हैं
तन में, मन में और नयन में
दीये जल उठते हैं
आजा पिया आजा, आजा पिया आजा हो
आजा पिया आजा, तेरे ही तेरे ही लिए
जलते दीये
बितानी तेरे साये में, साये में, ज़िन्दगानी

कभी-कभी ऐसे दीयों से लग है जाती आग भी
धुले-धुले से आंचलों पे लग है जाते दाग भी
हैं वीरानों में बदलते देखे मन के बाग़ भी
सपनों में श्रृंगार हो तो दीये जल उठते हैं
ख्वाहिशों के और शर्म के दीये जल उठते हैं
आजा पिया आजा...

मेरा नहीं है वो दीया जो जल रहा है मेरे लिए
मेरी तरफ क्यूँ ये उजाले आये हैं इनको रोकिये
यूँ बेगानी रौशनी में, कब तलक कोई जिए
साँसों में झनकार हो तो दीये जल उठते हैं
झान्झारों में, कंगनों में, दीये जल उठते हैं
आजा पिया...


झक मार के - Jhak Maar Ke (Harshdeep Kaur, Neeraj Shridhar, Desi Boyz)



Movie/Album: देसी ब्वायज़ (2011)
Music By: प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: इरशाद कामिल
Performed By: हर्षदीप कौर, नीरज श्रीधर

अब ना तू रखना तू
मेरे दिल का ये छोट-मोटा हक़ मार के
गलती से गलती की
तभी पीछे-पीछे आया तेरे झक मार के
तुझपे ना ऐतबार मुझे
फ़ीका लगे तेरा प्यार मुझे
मैं ना बनाऊँ दिलदार तुझे
सारे सपने थे झूठे अब तक प्यार के
दिल जाने रब जाने
रह गया मैं तेरे आगे दिल हार के
गलती से गलती की
तभी पीछे-पीछे आया तेरे झक मार के

जब जब यारा ढूँढू तुझको, पा लूँ मैं खुद को ही
तू ही है मेरा पता
दुनिया भर की कसमें खाकर. कर के वादे कहता हूँ
आगे से ना होगी ख़ता
तुझसे अब ना मोहब्बत है
तेरी न मुझको ज़रुरत है
मेरी तो ऐसी सूरत है
लग जाएँगे यहाँ अब दिल हार के
लाखों मे इक मैं हूँ
कोई आएगा ना आगे अब इस यार के
गलती से गलती की...

तेरी आँखों में डूबी मैं, देखूँ अपनी आँखों को
ओ बीते यूँ ही सारी उमर
तेरी बाहों में लिपटी मैं, मेरी बाहों में तू हो
दुनिया की हो ना खबर
हो ना ज़रुरत बातों की
मिले लकीरे हाथों की
सालों से उमर हो रातों की
ऐसे भी देखे दोनों पल प्यार के
कल ऐसे, पल ऐसे
आनी तेरी मेरी चाहतों को इकरार के
गलती से गलती की...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com