Iqbal Qureshi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Iqbal Qureshi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

फिर आने लगा याद - Phir Aane Lagaa Yaad (Md.Rafi, Usha Khanna, Ye Dil Kisko Doon)



Movie/Album: ये दिल किसको दूं (1963)
Music By: इकबाल कुरैशी, उषा खन्ना
Lyrics By: कमर जलालाबादी
Performed By: मो.रफ़ी, उषा खन्ना

फिर आने लगा याद वो ही प्यार का आलम
इनकार का आलम कभी इक़रार का आलम

वो पहली मुलाक़ात में रंगीन इशारे
फिर बातों ही बातों में वो तक़रार का आलम
फिर आने लगा याद...

वो झूमता बलखाता हुआ सर्व-ऐ-ख़िरामा*
मैं कैसे भुला दूँ तेरी रफ़्तार का आलम
*सर्व-ऐ-ख़िरामा = शान/ शाइस्तगी से चलने वाला

कब आये थे वो कब गये, कुछ याद नहीं है
आँखों में बसा है वो ही दीदार का आलम
फिर आने लगा याद...


एक चमेली के मंडवे तले - Ek Chameli Ke Mandve Tale (Asha Bhosle, Md.Rafi, Cha Cha Cha)



Movie/Album: चा चा चा (1964)
Music By: इक़बाल क़ुरेशी
Lyrics By: मखदूम मोईउद्दीन
Performed By: आशा भोंसले, मो.रफ़ी, जगजीत सिंह

एक चमेली के मंडवे तले
मयकदे से ज़रा, दूर उस मोड़ पर
दो बदन प्यार की आग में जल गये
एक चमेली के मंडवे तले...

प्यार हर्फ़-ए-वफ़ा, प्यार उनका खुदा
प्यार उनकी चिता
दो बदन प्यार की...
एक चमेली के मंडवे तले...

ओस में भीगते, चाँदनी में नहाते हुए
जैसे दो ताज़ा रूह, ताज़ा दम फूल पिछले पहर
ठंडी ठंडी सबकरो-चमन की हवा
सर्फ़े-मातम हुई
काली-काली लटों से लिपट, गर्म रुखसार पर
एक पल के लिये रूक गयी
दो बदन प्यार की...

हमने देखा उन्हें, दिन में और रात में
नूर-ओ-ज़ुल्मात में
मस्जिदों के मीनारों ने देखा उन्हें
मंदिरों के किवाड़ों ने देखा उन्हें
मयकदे के दरारों ने देखा उन्हें
दो बदन प्यार की...

जगजीत सिंह
अज़ अज़ल ता अबद, ये बता चारागर
तेरी जंबील में
नुस्खा-ए-कीमिया-ए-मुहब्बत भी है
कुछ इलाजो-मुदावा-ए-उल्फ़त भी है
दो बदन प्यार की...


मैं अपने आप से - Main Apne Aap Se (Md.Rafi, Bindiya)



Movie/Album: बिंदिया (1960)
Music By: इक़बाल कुरैशी
Lyrics By: राजेंद्र कृष्ण
Performed By: मोहम्मद रफ़ी

मैं अपने आप से घबरा गया हूँ
मुझे ऐ ज़िन्दगी दीवाना कर दे
मुझे ऐ ज़िन्दगी...

कहाँ से ये फ़रेब-ए-आरज़ू मुझको कहाँ लाया
जिसे मैं पूजता था आज तक, निकला वो इक साया
ख़ता दिल की है, मैं शरमा गया हूँ
मैं अपने आप से...

बड़े ही शौक से इक ख़्वाब में खोया हुआ था मैं
अजब मस्ती भरी इक नींद में सोया हुआ था मैं
खुली जब आँख तो, थर्रा गया हूँ, थर्रा गया हूँ
मैं अपने आप से...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com