Kala Bazaar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Kala Bazaar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

ना मैं धन चाहूँ - Na Main Dhan Chaahoon (Geeta, Sudha, Kala Bazaar)



Movie/ Album: काला बाज़ार (1960)
Music By: सचिन देव बर्मन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: गीता दत्त, सुधा मल्होत्रा

ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
तेरे चरणों की धूल मिल जाए
तो मैं तर जाऊँ
श्याम तर जाऊँ, हे राम तर जाऊँ

मोह मन मोहे, लोभ ललचाए
कैसे-कैसे ये नाग लहराए
इससे पहले कि दिल उधर जाए
मैं तो मर जाऊँ, क्यूँ न मर जाऊँ
न मैं धन चाहूँ...

लाए क्या थे, जो ले के जाना है
नेक दिल ही तेरा ख़ज़ाना है
साँझ होते ही पंछी आ जाए
अब तो घर जाऊँ, अपने घर जाऊँ
तेरे चरणों की धूल...

थम गया पानी, जम गई काई
बहती नदियाँ ही साफ़ कहलाई
मेरे दिल ने ही जाल फैलाई
अब किधर जाऊँ, मैं किधर जाऊँ
अब किधर जाऊँ...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com