Lajwanti लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Lajwanti लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

कोई आया धड़कन कहती है - Koi Aaya Dhadkan Kehti Hai (Asha, Lajwanti)



Movie/Album: लाजवंती (1958)
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: आशा भोंसले

कोई आया धड़कन कहती है
धीरे से पलकों की ये गिरती, उठती चिलमन कहती है

होने लगी किसी आहट की फुलकारीयाँ
परवाने बनके उडी दिल की चिन्गारीयाँ
झूम गया झिलमिलाता दिया

चाँद हसा लेके दर्पन मेरे सामने
घबरा के मैं लट उलझी लगी थामने
छेड़ गयी मुझे चंचल हवा

आ ही गया मीठी मीठी सी उलझन लिए
खो ही गई मैं तो शरमाई चितवन लिए
गोरे बदन से पसीना बहा


गा मेरे मन - Gaa Mere Mann (Asha Bhosle, Lajwanti)



Movie/Album: लाजवंती (1958)
Music By: सचिन देव बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: आशा भोंसले

गा मेरे मन गा, गा मेरे मन गा
तू गा मेरे मन गा, गा मेरे मन गा
यूँ ही बिताये जा, दिन ज़िन्दगी के
गा मेरे मन...

तेरी टूटी हुई बीना, कहे तुझको है जीना
जीवन को निभा
चाहे भर भर आये, चाहे दुःख बरसाए
तेरे नैनो की घटा, तू नैन मत छलका
गा मेरे मन गा...

ये है दुनिया के मेले
तुझे फिरना अकेले, सह सहके सितम
नफरत का दीवाना, नहीं समझा ज़माना
तेरा दुःख तेरा ग़म, खा ठेस और मुस्का
गा मेरे मन गा...

हर-सू है अँधेरा, फिर कौन है तेरा
जो मैं कहुँ ज़रा सुन
मेरी खो गयी पायल, मेरी गीत है घायल
मेरी ज़ख़्मी है धुन
फिर भी तू झूमे जा
गा मेरे मन गा...


एक हंस का जोड़ा - Ek Hans Ka Joda (Asha Bhosle, Lajwanti)



Movie/Album: लाजवंती (1958)
Music By: सचिन देव बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: आशा भोंसले

कुछ दिन पहले एक ताल में
कमल कुंज के अंदर
रहता था
एक हंस का जोड़ा
कुछ दिन पहले...

रोज़ रोज़ रोज़ भोर होते ही जब
खिल जाते कमल
दूर दूर दूर मोती चुगने को हंस
घर से जाता निकल
संध्या होते घर को आता झूम-झूम के
कुछ दिन पहले...

जब जब जब छिप जाता था दिन
तारे जाते थे खिल
सो जाते हिल-मिल के वो दोनों
जैसे लहरों के दिल
चंदा हँसता दोनों के मुख चूम चूम के
कुछ दिन पहले...

थी उनकी एक नन्हीं सी बेटी
छोटी सी हंसनी
दोनों के नैनों की वो ज्योति
घर की रौशनी
ममता गाती और मुस्काती झूम झूम के
कुछ दिन पहले...

फिर एक दिन ऐसा तूफ़ान आया
चली ऐसी हवा
बेचारे हंसा उड़ गए रे
हो के सबसे जुदा
सागर सागर रोतें हैं अब घूम-घूम के
घूम घूम के...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com