Maine Pyaar Kyun Kiya लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Maine Pyaar Kyun Kiya लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

जस्ट चिल - Just Chill (Amrita Kak, Jayesh Gandhi, Sonu Nigam, Maine Pyaar Kyun Kiya)



Movie/Album: मैंने प्यार क्यूँ किया (2005)
Music By: हिमेश रेशमिया
Lyrics By: समीर
Performed By: अमृता काक, जयेश गाँधी, सोनू निगम

जस्ट चिल, चिल
जस्ट चिल...

सोणिया दिल से मिला दे
सोणिया दिल से मिला दे दिल
जस्ट चिल...
बैरिया दिल से मिला दे
बैरिया दिल से मिला दे दिल
जस्ट चिल...
हम भी तेरे आशिक़ हैं
कभी तू हमसे भी आ के मिल
जस्ट चिल...

जब शाम ढले, अरमां जगे
तेरा ही जादू चले दिलरुबा
ओ तेरे बिना, दिल ना लगे
तेरा ही चेहरा दिखे, हर जगह
जाणिया तेरी अदा है
जाणिया तेरी अदा है कातिल
जस्ट चिल...

मुझे चूम ले, ज़रा झूम ले
इन मस्तियों में भी है एक मज़ा
जिसने किया, उसको पता
है इश्क़ है जानेमन, इक नशा
माहिया दिल की लगी है
माहिया दिल की लगी है मुश्किल
जस्ट चिल...


दिल दी नज़र - Dil Di Nazar (Shaan, Neeraj Shridhar, Shaznine, Maine Pyaar Kyun Kiya)



Movie/Album: मैंने प्यार क्यूँ किया (2005)
Music By: हिमेश रेशमिया
Lyrics By: समीर
Performed By: शान, नीरज श्रीधर, शाज़नीन

दिल दी नज़र, पड़ी तुझपे उधर
बजा जान-ए-जिगर, धड़कन का गजर
मैं बेख़बर, मैं बेसबर
है मुझको ऐ हमसफ़र, यकीं हो चला
यू आर द वन फ़ॉर मी
यो जाना यू'आर माइन...

मैं ना जानूँ कैसे कहाँ प्यार हो गया
बड़ा मुश्किल ये इंतज़ार हो गया
जानेजाना, हो हो हो
अँखियाँ मिली तो इकरार हो गया
आवारा ये दिल बेकरार हो गया
जानेजाना, हो हो हो
तेरा मुझपे हुआ ऐसा असर
बहका ये समाँ, बहकी ये उमर
मैं बेख़बर...

चाहतों को मेरी तू कबूल कर ले
इक बार ये हसीन भूल कर ले
जानेजाना, हो हो हो
मेेरे इश्क़ में अब तू जी ले मर ले
बदले में कुछ भी वसूल कर ले
जानेजाना, हो हो हो
तू ही दिलबर मेरे प्यार का सफ़र
ये तेरी आशिक़ी, गयी जाँ में उतर
मैं बेख़बर...
दिल दी नज़र...


लगा प्रेम रोग - Laga Prem Rog (Alka Yagnik, Kamaal Khan, Maine Pyaar Kyun Kiya)



Movie/Album: मैंने प्यार क्यों किया (2005)
Music By: हिमेश रेशमिया
Lyrics By: समीर
Performed By: अल्का याग्निक, कमाल खान

लिया बेचैनी का जोग
लगा लगा लगा रे
लगा लगा लगा रे
लगा लगा लगा रे
लगा प्रेम रोग...

चुनरी लहराई
पायल छनकायी
चूड़ी खनकाई
लिया बेचैनी का जोग
लगा प्रेम रोग...

तुमसे मिलकर दिल को मेरे
जाने क्या हुआ रे
लगा लगा लगा रे
लगा प्रेम रोग...

दिल था अकेला, अकेली थी मैं
इक अनजानी पहेली थी मैं
क्या हुआ मुझको, मुझे क्या पता
चारों तरफ है नशा ही नशा
है जुदा, है जुदा, आज तेरी अदा
गुमशुदा गुमशुदा तू हुई गुमशुदा
लिया बेचैनी का जोग
लगा प्रेम रोग...

मुझपे ये कैसा गज़ब हो गया
हाल जिया का अजब हो गया
आवारगी से मचलने लगी
न जाने कैसे पिघलने लगी
है बड़ा, है बड़ा ये दीवाना समाँ
बहके अरमान धड़कन भी जवां
लिया बैचैनी का जोग
लगा प्रेम रोग...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com