Paathshaala लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Paathshaala लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बेकरार - Bekarar (Lucky Ali, Paathshaala)



Movie/Album: पाठशाला (2010)
Music By: हानिफ़ शेख़
Lyrics By: हानिफ़ शेख़
Performed By: लकी अली

बेक़रार, बेक़रार, बेक़रार
सूनी-सूनी राहों पे है तेरा ही इन्तेज़ार
जली-बुझी साँसों में अब तेरा ही है ख़़ुमार
न जाने मैंने क्या खोया, क्या पाया
कुछ भी ना समझे यहाँ
भूला के सारी बातों को जी आया
फिर भी ना आये करार
बेक़रार, बेक़रार...

बातों ने, बातों ने है, मुझको घेरा अभी
तू मिल जाए यही बस सोचूँ मैं हर घड़ी
क्यूँ तरसाए मुझे आखिरी है मेरी ये कदा
बेक़रार, बेक़रार...


मुझे तेरी आँखों की - Mujhe Teri Aankhon Ki (Tulsi Kumar, Hanif Shaikh, Paathshaala)



Movie/Album: पाठशाला (2010)
Music By: हानिफ़ शेख़
Lyrics By: हानिफ़ शेख़
Performed By: तुलसी कुमार, हानिफ़ शेख़

मुझे तेरी आँखों की गहराई में डूबने दे
मुझे तेरी बाहों की जन्नत में खोने दे
तेरे बिना ये जीवन जैसे सूना सपना
तेरे बिना तुझको हर पल ढूंढे ये दिल मेरा
मुझे तेरी आँखों की...

न न नहीं जाना प्यार क्या
नहीं जाना होता है ये इन्तेज़ार क्या
तेरी आँखों ने सब कुछ कहा
क्यूँ ना कहे तेरी ज़ुबां
माना माना मैंने प्यार है
कैसे छाया देखो मुझपे खुमार है
मेरे संग जमीं और आसमां
फिर क्यूँ है खोयी मेरी हर दिशा
मुझे तेरी आँखों की...

तेरी बिना, तेरे बिना हर पल लगे सुना सा
इक तुझसे ही बनता मेरा जहां प्यारा प्यारा
दे दो ना मुझको वो हर ख़ुशी
हाँ कहता है मुझसे ये दिल मेरा
मुझे तेरी आँखों की...

हर ज़र्रे में हर जगह में महसूस करती हूँ मैं
इक तुझको ही, हाँ तुझको ही महफूज़ रखती हूँ मैं
ख्यालो में दिल में मेरी साँसों में
गुनगुनाती हूँ तुझको हर बात में
मुझे तेरी आँखों की...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com