Pakeezah लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Pakeezah लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

चलते चलते यूँ ही कोई - Chalte Chalte Yun Hi Koi (Lata Mangeshkar, Pakeezah)



Movie/Album: पाकीज़ा (1971)
Music By: गुलाम मोहम्मद
Lyrics By: कैफ़ी आज़मी
Performed By: लता मंगेशकर

चलते चलते यूँ ही कोई मिल गया था
सरे राह चलते चलते
वहीँ थम के रह गयी है, मेरी रात ढलते ढलते

जो कही गई ना मुझसे, वो ज़माना कह रहा है
के फ़साना बन गयी है, मेरी बात चलते चलते
यूँ ही कोई मिल...

शब-ए-इंतज़ार आखिर, कभी होगी मुख़्तसर भी
ये चिराग बुझ रहे हैं, मेरे साथ जलते जलते
यूँ ही कोई मिल...


चलो दिलदार चलो - Chalo Dildar Chalo (Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Pakeezah)



Movie/Album: पाकीज़ा (1971)
Music By: गुलाम मोहम्मद
Lyrics By: कैफ भोपाली
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

चलो दिलदार चलो, चाँद के पार चलो
हम हैं तैयार चलो

आओ खो जाएँ सितारों में कहीं
छोड़ दे आज दुनियाँ ये ज़मीं
चलो दिलदार चलो...

हम नशे में हैं संभालो हमें तुम
नींद आती है जगा लो हमें तुम
चलो दिलदार चलो...

ज़िन्दगी ख़त्म भी हो जाये अगर
ना कभी ख़त्म हो उल्फत का सफ़र
चलो दिलदार चलो...


मौसम है आशिकाना - Mausam Hai Aashiqana (Lata Mangeshkar, Pakeezah)



Movie/Album: पाकीज़ा (1971)
Music By: गुलाम मोहम्मद
Lyrics By: कमल अमरोही
Performed By: लता मंगेशकर

मौसम है आशिकाना
ऐ दिल कहीं से उनको ऐसे में ढूंढ लाना

कहना के रुत जवां है, और हम तरस रहे हैं
काली घटा के साये, बिरहन को डस रहे हैं
डर है न मार डाले, सावन का क्या ठिकाना
मौसम है आशिकाना

सूरज कहीं भी जाये, तुम पर ना धूप आये
तुमको पुकारते हैं, इन गेसूओं के साये
आ जाओ मैं बना दूँ, पलकों का शामियाना
मौसम है आशिकाना

फिरते हैं हम अकेले, बाहों में कोई ले ले
आखिर कोई कहाँ तक तनहाईयों से खेले
दिन हो गये हैं ज़ालिम, राते हैं कातिलाना
मौसम है आशिकाना

ये रात ये खामोशी, ये ख्व़ाब से नज़ारें
जुगनू हैं या जमीं पर उतरे हुए हैं तारें
बेख़ाब मेरी आँखे, मदहोश है ज़माना
मौसम है आशिकाना...


इन्हीं लोगों ने - Inhi Logon Ne (Lata Mangeshkar, Pakeezah)



Movie/Album: पाकीज़ा (1971)
Music By: गुलाम मोहम्मद
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: लता मंगेशकर

इन्हीं लोगों ने, इन्हीं लोगों ने
इन्हीं लोगों ने ले लीना दुपट्टा मेरा

हमरी न मानो बजजवा से पूछो
हमरी न मानो सैंया, बजजवा से पूछो
जिसने, जिसने अशरफ़ी गज़ दीना दुपट्टा मेरा

हमरी न मानो रँगरेजवा से पूछो
हमरी न मानो सैयां
जिसने गुलाबी रँग दीना दुपट्टा मेरा
इन्हीं लोगों ने...

हमरी न मानो सिपहिया से पूछो
जिसने बजरिया में छीना दुपट्टा मेरा
इन्हीं लोगों ने...


ठाड़े रहियो ओ बाँके यार रे - Thaade Rahiye O Baanke Yaar Re (Lata Mangeshkar, Pakeezah)



Movie/Album: पाकीज़ा (1971)
Music By: ग़ुलाम मोहम्मद
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: लता मंगेशकर

चाँदनी रात बड़ी देर के बाद आई है
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आई है
आज की रात वो आए हैं बड़ी देर के बाद
आज की रात बड़ी देर के बाद आई है

ठाड़े रहियो ओ बाँके यार रे
ठाड़े रहियो, ठाड़े रहियो

ठहरो लगाईया, नैनों में कजरा
चोटी में गूँध आऊँ फूलों का गजरा
मैं तो कर आऊँ सोलह श्रृंगार रे
ठाड़े रहियो...

जागे न कोई, रैना है थोड़ी
बोले छमाछम पायल निगोड़ी
अजी धीरे से खोलूँगी द्वार रे
सैयाँ धीरे से
मैं तो चुपके से
अजी हौले से खोलूँगी द्वार रे
ठाड़े रहियो...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com