R.D.Burman लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
R.D.Burman लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

ज़माने ने मारे - Zamane Ne Maare (Md.Rafi)



Movie/Album: बहारों के सपने (1967)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानुरी
Performed By: मो.रफ़ी

ज़माने ने मारे जवाँ कैसे-कैसे
ज़मीं खा गई आसमाँ कैसे-कैसे
पले थे जो कल रंग में धूल में
हुए दर-ब-दर कारवाँ कैसे-कैसे
ज़माने ने मारे...

हज़ारों के तन कैसे शीशे हों चूर
जला धूप में कितनी आँखों का नूर
चेहरे पे ग़म के निशाँ कैसे-कैसे
ज़माने ने मारे...

लहू बन के बहते वो आँसू तमाम
कि होगा इन्हीं से बहारों का नाम
बनेंगे अभी आशियाँ कैसे-कैसे
ज़माने ने मारे...


आजा पिया तोहे - Aaja Piya Tohe Pyar (Asha Bhosle)



Movie/Album: बहारों के सपने (1967)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: आशा भोंसले

आजा पिया, तोहे प्यार दूँ
गोरी बय्याँ, तोपे वार दूँ
किसलिए तू, इतना उदास?
सूखे सूखे होंठ, अखियों में प्यास
किसलिए, किसलिए?
आजा पिया...

जल चुके हैं बदन कई, पिया इसी रात में
थके हुए इन हाथों को, दे दे मेरे हाथ में
सुख मेरा ले ले, मैं दुःख तेरे ले लूं
मैं भी जीयूं, तू भी जिए
आजा पिया...

होने दे रे, जो ये जुल्मी है, पथ तेरे गाँव के
पलकों से छू डालूँगी मैं, कांटे तेरे पाँव के
लट बिखराए, चुनरियाँ बिछाए
बैठी हूँ मैं, तेरे लिए
आजा पिया...

अपनी तो, जब अखियों से, बह चलें धार के
खिल पडी, वही एक हसीं, पिया तेरे प्यार के
मैं जो नहीं हारी, सजन ज़रा सोचो
किसलिए, किसलिए?
आजा पिया...


चुनरी संभाल गोरी - Chunri Sambhal Gori (Manna Dey, Lata Mangeshkar)



Movie/Album: बहारों के सपने (1967)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: मन्ना डे, लता मंगेशकर

चुनरी सम्भाल गोरी, उड़ी चली जाए रे
मार न दे डंक कहीं, नज़र कोई हाय
देख देख पग न फिसल जाए रे

फिसलें नहीं चल के, कभी दुख की डगर पे
ठोकर लगे हँस दें, हम बसने वाले, दिल के नगर के
अरे, हर कदम बहक के सम्भल जाए रे!

किरणें नहीं अपनी, तो है बाहों का सहारा
दीपक नहीं जिन में, उन गलियों में है हमसे उजाले
अरे, भूल ही से चाँदनी खिल जाए रे!

पल छिन पिया पल छिन, अँखियों का अंधेरा
रैना नहीं अपनी, पर अपना होगा कल का सवेरा
अरे, रैन कौन सी जो न ढल जाए रे!


एक दिन बिक जाएगा - Ek Din Bik Jaega (Mukesh, Dharam Karam)



Movie/Album: धरम करम (1975)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: मुकेश

इक दिन बिक जाएगा, माटी के मोल
जग में रह जाएँगे, प्यारे तेरे बोल
दूजे के होंठों को, देकर अपने गीत
कोई निशानी छोड़, फिर दुनिया से डोल
इक दिन बिक...

अनहोनी पथ में काँटें लाख बिछाए
होनी तो फिर भी बिछड़ा यार मिलाए
ये बिरहा, ये दूरी, दो पल की मजबूरी
फिर कोई दिल वाला काहे को घबराये
तरमपम धारा जो बहती है, मिल के रहती है
बहती धारा बन जा, फिर दुनिया से डोल
एक दिन बिक जाएगा...

परदे के पीछे बैठी साँवली गोरी
थाम के तेरे मेरे मन की डोरी
ये डोरी ना छूटे, ये बन्धन ना टूटे
भोर होने वाली है, अब रैना है थोड़ी
तरमपम सर को झुकाए तू, बैठा क्या है यार
गोरी से नैना जोड़, फिर दुनिया से डोल
एक दिन बिक जाएगा...


होली के दिन दिल खिल - Holi Ke Din Dil Khil (Kishore, Lata, Sholay)



Movie/Album: शोले (1975)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार, लता मंगेशकर

चलो सहेली, चलो रे साथी
ओ पकड़ो-पकड़ो रे इसे न छोड़ो
अरे बैंया न मोड़ो
ज़रा ठहर जा भाभी, अरे जा रे सराबी
क्या ओ राजा, गली में आजा
होली-होली, भांग की गोली
ओ नखरे वाली, दूँगी मैं गाली
ओ रामू की साली
होली रे होली

होली के दिन दिल खिल जाते हैं
रंगों में रंग मिल जाते हैं
गिले शिक़वे भूल के दोस्तों
दुश्मन भी गले मिल जाते हैं

गोरी तेरे रंग जैसा
थोड़ा सा मैं रंग बना लूँ
आ तेरे गुलाबी गालों से
थोड़ा सा गुलाल चुरा लूँ
जा रे जा दीवाने तू
होली के बहाने तू
छेड़ ना मुझे बेसरम
पूछ ले ज़माने से
ऐसे ही बहाने से
लिए और दिए दिल जाते हैं
होली के दिन दिल...

यही तेरी मरज़ी है तो
अच्छा चल तू ख़ुश हो ले
पास आ के छूना ना मुझे
चाहे मुझे दूर से भिगो ले
हीरे की कनी है तू
मट्टी की बनी है तू
छूने से टूट जाएगी
काँटों के छूने से
फूलों से नाज़ुक-नाज़ुक
बदन छिल जाते हैं
होली के दिन दिल...


आज न छोड़ेंगे बस हमजोली - Aaj Na Chhodenge Bas Humjoli (Kishore, Lata, Kati Patang)



Movie/Album: कटी पतंग (1970)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

आज न छोड़ेंगे बस हमजोली
खेलेंगे हम होली
चाहे भीगे तेरी चुनरिया
चाहे भीगे रे चोली
खेलेंगे हम होली
होली है!

अपनी अपनी किस्मत है ये
कोई हँसे, कोई रोये
रंग से कोई अंग भिगोये रे
कोई असुवन से नैन भिगोये
रहने दो ये बहाना
क्या करेगा ज़माना
तुम हो कितनी भोली
खेलेंगे हम होली
आज ना छोड़ेंगे...

ऐसे नाता तोड़ गए हैं
मुझसे ये सुख सारे
जैसे जलती आग किसी बन में
छोड़ गए बंजारे
दुःख है इक चिंगारी
भर के ये पिचकारी
आयी मस्तों की टोली
खेलेंगे हम होली
आज ना छोड़ेंगे...


होली रे होली रंगों की डोली - Holi Re Holi Rangon Ki Doli (Asha, Manna Dey, Paraya Dhan)



Movie/Album: पराया धन (1971)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: आशा भोंसले, मन्ना डे

होली रे होली
रंगों की डोली
आई तेरे घर पे
मस्तों की टोली
मुख ना छुपा
ओ रानी/राजा सामने आ

जान ना पहचान
अरे मैं तेरा मेहमान
काहे मारी पिचकारी
तूने बेईमान
फागुन की बहार, एक शर्मीली नार
नहीं समझे रे प्यार की बोली
होली रे होली...

फेंकूं मैं गुलाल
के डालूं रंग लाल
आगे आगे राधा दौड़े
पीछे नन्दलाल
काहे करे तंग
मैं ना खेलूं तेरे संग
भीगा मेरा अंग अंग
भीगी चोली
होली रे होली...

नैना मत जोड़
तु बैय्याँ मेरी छोड़
मर जाऊं मैं ना मानूं
चुड़ियां न तोड़
अरे हो जा रज़ामंद
मुझे कर ले पसंद
कर खिड़की ना बंद
हमजोली
होली रे होली...


न कोई उमंग है - Na Koi Umang Hai (Lata Mangeshkar, Kati Patang)



Movie/Album: कटी पतंग (1970)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर

न कोई उमंग है, न कोई तरंग है
मेरी ज़िंदगी है क्या, इक कटी पतंग है
न कोई उमंग है...

आकाश से गिरी मैं, इक बार कट के ऐसे
दुनिया ने फिर न पूछा, लूटा है मुझको कैसे
न किसी का साथ है, न किसी का संग है
मेरी ज़िन्दगी है क्या...

लग के गले से अपने, बाबुल के मैं न रोई
डोली उठी यूँ जैसे, अर्थी उठी हो कोई
यही दुःख तो आज भी मेरा अंग संग है
मेरी ज़िन्दगी है क्या...

सपनों के देवता क्या, तुझको करूँ मैं अर्पण
पतझड़ की मैं हूँ छाया, मैं आँसुओं का दर्पण
यही मेरा रूप है, यही मेरा रँग है
मेरी ज़िन्दगी है क्या...


ये जो मोहब्बत है - Ye Jo Mohabbat Hai (Kishore Kumar, Kati Patang)



Movie/Album: कटी पतंग (1970)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

ये जो मोहब्बत है, ये उनका है काम
महबूब का जो, बस लेते हुए नाम
मर जाएँ, मिट जाएँ, हो जाएँ बदनाम
रहने दो, छोड़ो भी, जाने दो यार
हम ना करेंगे प्यार

टूटे अगर सागर, नया सागर कोई ले ले
मेरे खुदा दिल से कोई किसी के न खेले
दिल टूट जाए तो क्या हो अंजाम
ये जो मोहब्बत है...

आँखे किसी से ना उलझ जाए मैं डरता हूँ
यारों हसीनों की गली से मैं गुज़रता हूँ
बस दूर ही से कर के सलाम
ये जो मोहब्बत है...


तुम आ गए हो नूर - Tum Aa Gaye Ho Noor (Kishore, Lata, Aandhi)



Movie/Album: आँधी (1975)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

तुम आ गए हो, नूर आ गया है
नहीं तो चरागों से लौ जा रही थी
जीने की तुमसे, वजह मिल गयी है
बड़ी बेवजह जिन्दगी जा रही थी

कहाँ से चले, कहाँ के लिए
ये खबर नहीं थी मगर
कोई भी सिरा, जहाँ जा मिला
वहीं तुम मिलोगे
के हम तक तुम्हारी दुआ आ रही थी
तुम आ गए हो...

दिन डूबा नहीं, रात डूबी नहीं
जाने कैसा है सफ़र
ख़्वाबों के दीये, आँखों में लिए
वहीं आ रहे थे
जहाँ से तुम्हारी सदा आ रही थी
तुम आ गए हो...


रोना कभी नहीं रोना - Rona Kabhi Nahin Rona (Kishore Kumar, Apna Desh)



Movie/Album: अपना देश (1972)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

रोना कभी नहीं रोना
चाहे टूट जाए कोई खिलौना
सोना चुपके से सोना
चाहे टूट जाए कोई सपना सलोना
रोना कभी नहीं रोना...

दुःख-सुख की क्या बात है
क्या दिन है क्या रात है
आँसू भी मुस्कान बनें
यह तो अपने हाथ है
आशाओं की डोरी में सदा
तुम मन के फूल पिरोना
रोना कभी नहीं रोना...

देखो बच्चों बाग़ में
सब कलियाँ नहीं खिलतीं
दुनिया में इंसान को
सब चीज़ें नहीं मिलतीं
अपना नहीं तुम उसके लिए
जो अपना है नहीं खोना
रोना कभी नहीं रोना...

रंग से और न धाम से
जात से और न नाम से
इज़्ज़त मिलती है यहाँ
देखो अच्छे काम से
कोई काम बुरा तुम मत करना
बदनाम कभी नहीं होना
रोना कभी नहीं रोना...


आपकी आँखों में कुछ महके - Aapki Aankhon Mein Kuch (Kishore, Lata)



Movie/Album: घर (1978)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: किशोर कुमार, लता मंगेशकर

आपकी आँखों में कुछ महके हुए से राज़ हैं
आपसे भी खूबसूरत आपके अंदाज़ हैं
आपकी आँखों में...

लब हिले तो मोगरे के फूल खिलते हैं कहीं
आपकी आँखों में क्या साहिल भी मिलते हैं कहीं
आपकी खामोशियाँ भी, आप की आवाज़ हैं
आपकी आँखों में...

आपकी बातों में फिर कोई शरारत तो नहीं
बेवजह तारिफ़ करना आपकी आदत तो नहीं
आपकी बदमाशियों के ये नये अंदाज़ हैं
आपकी आँखों में...


फिर वही रात है - Phir Wahi Raat Hai (Kishore Kumar)



Movie/Album: घर (1978)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: किशोर कुमार

फिर वही रात है
फिर वही रात है ख्वाब की
रात भर ख्वाब में देखा करेंगे तुम्हें
फिर वही रात है...

काँच के ख्वाब हैं, आँखों में चुभ जायेंगे
पलकों पे लेना इन्हें, आँखों में रुक जायेंगे
ये रात है ख्वाब की, ख्वाब की रात है
फिर वही रात है...

मासूम सी नींद में, जब कोई सपना चले
हमको बुला लेना तुम, पलकों के पर्दे तले
ये रात है ख्वाब की, ख्वाब की रात है
फिर वही रात है...


आज कल पाँव ज़मीं पर - Aaj Kal Paanv Zameen Par (Lata Mangeshkar, Ghar)



Movie/Album: घर (1978)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: लता मंगेशकर

आज कल पाँव ज़मीं पर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए

जब भी थामा है तेरा हाथ तो देखा है
लोग कहते हैं के बस हाथ की रेखा है
हमने देखा है दो तक़दीरों को जुड़ते हुए
आज कल पाँव...

नींद सी रहती है, हलका सा नशा रहता है
रात-दिन आँखों में इक चेहरा बसा रहता है
पर लगी आँखों को देखा है कभी उड़ते हुए
आज कल पाँव...

जाने क्या होता है हर बात पे कुछ होता है
दिन में कुछ होता है और रात में कुछ होता है
थाम लेना जो कभी देखो हमें उड़ते हुए
आज कल पाँव...


जहाँ तेरी ये नज़र है - Jahan Teri Ye Nazar Hai (Kishore Kumar)



Movie/Album: कालिया (1981)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: किशोर कुमार

जहाँ तेरी ये नज़र है, मेरी जाँ मुझे ख़बर है
बच न सका कोई, आये कितने
लम्बे हैं मेरे हाथ इतने
देख इधर यार, ध्यान किधर है
जहाँ तेरी ये नज़र है...

क्यों नहीं जानी, तू ये समझता
काम नहीं ये, है तेरे बस का
कुकुड़ु कुकू!
होश में आ जा, ध्यान किधर है
जहाँ तेरी ये नज़र है...

मेरी तरफ़ जो उठा है तन के
कट के वही हाथ गिरा बदन से
सामने आये किसका जिगर है
जहाँ तेरी ये नज़र है...

चाल ये बन्दा ऐसी भी चल जाये
बन्द हो मुट्ठी और चीज़ निकल जाये
ये भी करिश्मा देख इधर है
जहाँ तेरी ये नज़र है...


किसका रस्ता देखे - Kiska Rasta Dekhe (Kishore Kumar, Joshila)



Movie/Album: जोशीला (1973)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: किशोर कुमार

किसका रस्ता देखे, ऐ दिल, ऐ सौदाई
मीलों है खामोशी, बरसों है तनहाई
भूली दुनिया, कभी की, तुझे भी, मुझे भी
फिर क्यों आँख भर आई
किसका रस्ता देखे...

कोई भी साया नहीं राहों में
कोई भी आएगा न बाहों में
तेरे लिए, मेरे लिए, कोई नहीं रोने वाला
झूठा भी नाता नहीं चाहों में
तू ही क्यों डूबा रहे आहों में
कोई किसी संग मरे, ऐसा नहीं होने वाला
कोई नहीं जो यूँ ही जहां में, बाँटे पीर पराई
किसका रस्ता देखे...

तुझे क्या बीती हुई रातों से
मुझे क्या खोई हुई बातों से
सेज नहीं, चिता सही, जो भी मिले सोना होगा
गई जो डोरी छूटी हाथों से
लेना क्या टूटे हुए साथों से
खुशी जहाँ माँगी तूने, वहीं मुझे रोना होगा
ना कोई तेरा, ना कोई मेरा, फिर किसकी याद आई
किसका रस्ता देखे...


आजा मेरे प्यार आजा - Aaja Mere Pyar Aaja (Hemant Kumar)



Movie/Album: हीरालाल पन्नालाल (1978)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: हेमंत कुमार

आजा मेरे प्यार आजा
देख ऐसे ना सता
अब तो रहा नहीं जाए
आजा आजा
आ मेरे गले से लग जा

है सूनी तेरे बिन जीवन की डगर
थाम ले मेरी बाहें मेरे हमसफ़र
आजा मेरे प्यार आजा...

आँखों की तमन्ना ये है जाने जां
देखूं पहले तुझको फिर सारा जहां
आजा मेरे प्यार आजा...


लल्ला लल्ला लोरी - Lalla Lalla Lori (Mukesh, Lata, Mukti)



Movie/Album: मुक्ति (1977)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मुकेश, लता मंगेशकर

मुकेश
लल्ला लल्ला लोरी, दूध की कटोरी
दूध में बताशा, मुन्नी करे तमाशा

छोटी-छोटी प्यारी-प्यारी सुन्दर परियों जैसी है
किसी की नज़र ना लगे, मेरी मुन्नी ऐसी है
शहद से भी मीठी, दूध से भी गोरी
चुपके-चुपके, चोरी-चोरी, चोरी
लल्ला लल्ला लोरी...

कारी रैना के माथे पे, चमके चाँद सी बिंदिया
मुन्नी के छोटे-छोटे नैनों में खेले निंदिया
सपनों का पलना, आशाओं की डोरी
चुपके-चुपके, चोरी-चोरी, चोरी
लल्ला लल्ला लोरी...

लता
लल्ला लल्ला लोरी, दूध की कटोरी
दूध में बताशा, जीवन खेल तमाशा

आधी मुरझा जाती है, थोड़ी सी कलियाँ खिलती हैं
सारी की सारी खुशियाँ, जीवन में किसको मिलती हैं
या टूटे पलना, या टूटे डोरी
चुपके-चुपके, चोरी-चोरी, चोरी
लल्ला लल्ला लोरी...

लिखने को लिखवाती मैं, आगे क्या है गाना
लेकिन मैं क्या करती, तेरे पापा को था जाना
मुझसे भी छिपकर, तुझसे भी चोरी
चुपके-चुपके, चोरी-चोरी, चोरी
लल्ला लल्ला लोरी...


ऐसे न मुझे तुम देखो - Aise Na Mujhe Tum Dekho (Kishore Kumar, Darling Darling)



Movie/Album: डार्लिंग डार्लिंग (1977)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: किशोर कुमार

ऐसे न मुझे तुम देखो
सीने से लगा लूँगा
तुमको मैं चुरा लूँगा तुमसे
दिल में छुपा लूँगा

तेरे दिल से ऐ दिलबर, दिल मेरा कहता है
प्यार के दुश्मन लोग, मुझे डर लगता रहता है
थाम लो तुम मेरी बाहें मैं तुम्हें सम्भालूँगा
तुमको मैं चुरा लूँगा तुमसे...

धीमी-धीमी आग से इक शोला भड़काया है
दूर से तुमने इस दिल को कितना तड़पाया (तरसाया) है
मैं अब इस दिल के सारे अरमा निकालूँगा
तुमको मैं चुरा लूँगा तुमसे...

प्यार के दामन में चुन कर, हम फूल भर लेंगे
रास्ते के काँटे सारे दूर कर लेंगे
जान-ए-मन तुमको अपनी मैं जान बना लूँगा
तुमको मैं चुरा लूँगा तुमसे...


आती रहेंगी बहारें - Aati Rahengi Baharein (Kishore, Asha, Amit, Kasme Vaade)



Movie/Album: कसमे वादे (1978)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: गुलशन बावरा
Performed By: किशोर कुमार, अमित कुमार, आशा भोंसले

आती रहेंगी बहारें, जाती रहेंगी बहारें
दिल की नजर से, दुनियाँ को देखो
दुनियाँ सदा ही हसीं है

मैंने तो बस यही मांगी हैं दुआएं
फूलों की तरह हम सदा मुस्कुरायें
गाते रहे हम खुशियों के गीत
यूँ ही जाये बीत, ज़िन्दगी
आती रहेंगी बहारें...

तुमसे हैं जब जीवन में सहारे
जहाँ जाये नजरें वही हैं नजारे
ले के आयेगी हर नई बहार
रंग भरा प्यार और ख़ुशी
आती रहेंगी बहारें...

हम जो मिले हैं तो दिल को यकीं हैं
धरती पे स्वर्ग जो है सो यही है
भूले से भी ग़म आये ना वहाँ
प्यार हैं जहाँ, बंदगी
आती रहेंगी बहारें...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com