Raabta लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Raabta लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

राबता - Raabta (Nikhita Gandhi, Arijit Singh, Title Song)



Movie/Album: राबता (2017)
Music By: प्रीतम चक्रबर्ती
Lyrics By: अमिताभ भट्टाचार्य, इरशाद कामिल
Performed By: निकिता गाँधी, अरिजीत सिंह

तुझसे किया है दिल ने बयाँ
किया निगाहों को जुबां
वादा वफ़ा का किया
तुझसे लिया है खुद को मिला
लिया दुआओं का सिला
जीने का सपना लिया
दिल के मकान में तू मेहमान रहा यहाँ
आँखों की ज़ुबान करे है बयान, कहा अनकहा
कुछ तो है तुझसे राबता
कुछ तो है तुझसे राबता
क्यों है ये, कैसे है ये, तू बता
कुछ तो है तुझसे राबता

मेहरबानी जाते-जाते मुझपे कर गया
गुज़रता सा लम्हां एक दामन भर गया
तेरा नज़ारा मिला, रोशन सितारा मिला
तकदीर का जैसे कोई इशारा मिला
तेरा एहसान लगे है जहां में खिला, हाँ खिला
सपनों में मेरे तेरा ही निशान मिला, हाँ मिला
कुछ तो है तुझसे राबता...

हद से ज़्यादा मोहब्बत होती है जो
कहते हैं के इबादत होती है वो
कुसूर है या कोई ये फितूर है
क्यूँ लगे सब कुछ अँधेरा है, बस यही नूर है
जो भी है मंज़ूर है
कुछ तो है तुझसे राबता...
(सहरा में तू, न जाने क्या पता)


इक वारी आ - Ik Vaari Aa (Arijit Singh, Jubin, Raabta)



Movie/Album: राबता (2017)
Music By: प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: अमिताभ भट्टाचार्य
Performed By: अरिजीत सिंह, जुबिन नौटियाल

इक वारी आ भी जा यारा
इक वारी आ
राह तकूँ मैं बेचारा
इक वारी आ
ढल रही शाम है, दिल तेरे नाम है
इसकी आदत बनी है तेरी यारियाँ
चाँद हूँ मैं, तू है तारा
इक वारी आ...

ये इश्क़ की इन्तेहाँ, लेने लगी इम्तेहाँ
हद से गुज़रने लगी हैं मेरी चाहतें
धड़कन की बेताबियाँ, करने लगी इल्तेजा
लग जा गले से ज़रा तो मिले राहतें
बस तुझे चाहना, इक यही काम है
काम आने लगी सारी बेकारियाँ
उसपे समां भी है प्यारा
इक वारी आ...

अरिजीत
है प्यार तो कई दफ़ा किया
तुझसे नहीं किया तो क्या किया
तेरा मेरा ये वास्ता
है इस ज़िन्दगी की दास्ताँ
या फिर कोई हमारा पहले से है राबता
तो इक वारी आ, आ भी जा...

जुबिन
है प्यार तो कई दफ़ा किया
तुझसे नहीं किया तो क्या किया
हुआ है मेरे जिस्म का हर रुआ
जिस दिन से तेरा छुआ
मान मेरा यकीं, मैं मुझसे बेहतर हुआ
तो इक वारी आ, आ भी जा...


दरअसल - Darasal (Atif Aslam, Raabta)



Movie/Album: राबता (2017)
Music By: प्रीतम चक्रबर्ती
Lyrics By: इरशाद कामिल
Performed By: आतिफ़ असलम

तुम तो दरअसल ख्वाब की बात हो
चलती मेरे ख्यालों में तुम साथ-साथ हो
मिलती है जो अचानक वो सौगात हो
तुम तो दरअसल मीठी सी प्यास हो
लगता है ये हमेशा के तुम आस-पास हो
ठहरा है जो लबों पे वो एहसास हो

तेरी अदा, अदा पे मरता मैं
वफ़ा, वफ़ा सी करता क्यूँ
हदों से हूँ गुज़रता मैं
ज़रा, ज़रा, ज़रा, ज़रा
तुम तो दरअसल साँसों का साज़ हो
दिल में मेरे छुपा जो वही राज़, राज़ हो
कल भी मेरा तुम्हीं हो मेरा आज हो

बारिश का पानी हो तुम
कागज़ की कश्ती हूँ मैं
तुझमें कहीं मैं बह जाता हूँ
मिलने हूँ तुमसे आता
वापस नहीं जा पाता
थोड़ा वहीं मैं रह जाता हूँ
तुम तो दरअसल इक नया नूर हो
मुझमें भी हो ज़रा सी, ज़रा दूर दूर हो
जैसी भी हो हमेशा ही मंज़ूर हो

होता है ऐसा अक्सर
लगता हसीं है सारा शहर
अब देख तेरा हो कर
ऐसा असर है मुझपर
हँसता रहूँ मैं आठों पहर
तुम तो दरअसल इश्क हो प्यार हो
आती मेरे फ़सानों में तुम बार-बार हो
इंकार में जो छुपा है वो इकरार हो


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com