Ravindra Rawal लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Ravindra Rawal लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

वाह वाह राम जी - Wah Wah Ram Ji (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

वाह वाह राम जी
जोड़ी क्या बनाई
भैया और भाभी को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से बड़ी है जग में
दिल से दिल की सगाई

आपकी कृपा से ये
शुभ घड़ी आई
जीजी और जीजा को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से बड़ी है जग में
दिल से दिल की सगाई
वाह वाह राम जी...

मेरे भैया जो, चुप बैठे हैं
देखो भाभी ये, कैसे ऐंठे हैं
ऐसे बड़े ही भले हैं
माना थोड़े मनचले हैं
पर आप के सिवा कहीं भी न फिसले हैं
देखो देखो ख़ुद पे, जीजी इतराई
भैया और भाभी को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से...

सुनो जीजाजी, अजी आप के लिये
मेरी जीजी ने, बड़े तप हैं किये
मन्दिरों में किये फेरे
पूजा साँझ-सवेरे
तीन लोक तैंतीस देवों को ये रही घेरे
जैसे मैंने माँगी थी, वैसी भाभी पाई
जीजी और जीजा को
बधाई हो बधाई
सब रसमों से...


लो चली मैं - Lo Chali Main (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर

लो चली मैं, अपने देवर की बारात ले के
लो चली मैं
ना बैण्ड बाजा, ना ही बराती
खुशियों की सौगात ले के
लो चली मैं

देवर दूल्हा बना, सर पे सेहरा सजा
भाभी बढ़कर आज बलैय्याँ लेती है
प्रेम की कालिया खिले, पल पल खुशियाँ मिले
सच्चे मन से आज दुआएं देती है
घोड़े पे चढ़ के, चला है बांका
अपनी दुल्हन से मिलने
लो चली मैं...

वाह वाह रामजी, जोड़ी क्या बनाई
देवर-देवरानी जी, बधाई हो बधाई
सब रस्मों से बड़ी है जग में
दिल से दिल की सगाई

आई है शुभ घड़ी, आज बनी मैं बड़ी
कल तक घर की बहू थी, अब हूँ जेठानी
हुकुम चलाऊंगी मैं, आँख दिखाऊंगी मैं
सहमी खड़ी रहेगी मेरी देवरानी
हजार सपने, पलकों में अपने
दीवानी मैं साथ ले के
लो चली मैं...


आज हमारे दिल में - Aaj Hamare Dil Mein (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, कुमार सानू

आज हमारे दिल में अजब ये उलझन है
गाने बैठे गाना, सामने समधन है
हम कुछ आज सुनाये, ये उनका भी मन है
गाने बैठे गाना, सामने समधन है

कानों की बालियाँ, चाँद सूरज लगे
ये बनारस की, साड़ी खूब सजे
राज़ की बात बताएँ, समधीजी घायल हैं
आज भी जब समधन की, खनकती पायल है

होठों की ये हंसी, आँखों की ये हया
इतनी मासूम तो, होती है बस दुआ
राज की बात बताएँ, समधी खुश किस्मत हैं
लक्ष्मी है समधन जी, जिनसे घर जन्नत है

आज हमारे दिल में अजब ये उलझन है
सामने समधी जी, गा रही समधन है
हमको जो है निभाना, वो नाजुक बंधन है
सामने समधी जी, गा रही समधन है

मेरी छाया है जो, आपके घर चली
सपना बनके मेरी, पलकों में है पली
राज़ की बात बताएँ, ये पूंजी जीवन की
शोभा आज से है ये, आपके आँगन की


ये मौसम का जादू है - Ye Mausam Ka Jadoo (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

ठंडी ठंडी पुरवैया में उड़ती है चुनरिया
धड़के मोरा जिया रामा बाली है उमरिया

दिल पे, नहीं काबू
कैसा, ये जादू

ये मौसम का जादू है मितवा
ना अब दिल पे काबू है मितवा
नैना जिसमें खो गए, दीवाने से हो गए
नजारा वो हरसू है मितवा
ये मौसम का जादू...

सहरी बाबु के संग, मेम गोरी गोरी हे
ऐसे लागे जैसे, चंदा की चकोरी

फूलों कलियों की बहारें, चंचल ये हवाओं की पुकारें
हमको ये इशारों में कहे हम, थम के यहाँ घड़ियाँ गुजारें
पहले कभी तो ना हमसे, बतियाते थे ऐसे फुलवा
ये मौसम का जादू...

सच्ची सच्ची बोलना भेद ना छुपाना
कौन डगर से आये, कौन दिसा है जाना

इनको हम ले के चले हैं, अपने संग अपनी नगरिया
हाय रे संग अनजाने का, उस पर अनजान डगरिया
फिर कैसे तुम दूर इतने, संग आ गयी मेरी गोरिया
ये मौसम का जादू...


जूते दे दो, पैसे ले लो - Joote De Do, Paise Le Lo (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम लक्ष्मण
Lyrics By: रविंदर रावल
Performed By: लता मंगेशकर, एस.पी.बालासुब्रमन्यम

दुल्हे की सालियों
ओ हरे दुपट्टे वालियों
जूते दे दो, पैसे ले लो
दुल्हन के देवर
तुम दिखलाओ ना यूं तेवर
पैसे दे दो, जूते ले लो

अजी नोट गिनो जी (जूते लाओ)
जिद छोड़ो जी (जूते लाओ)
फ्रौड हैं क्या हम (तुम ही जानो)
अकडू हो तुम (जो भी मानो)
अजी बात बढ़ेगी (बढ़ जाने दो)
मांग चढ़ेगी (चढ़ जाने दो)
अड़ो ना ऐसे (पहले जूते)
जूते लिए हैं नहीं चुराया कोई जेवर
दुल्हन के देवर तुम दिखलाओ ना यूं तेवर
पैसे दे दो जूते ले लो...

कुछ ठंडा पी लो (मूड नहीं है)
दही बड़े लो (मूड नहीं है)
कुल्फी खा लो (बहुत खा चुके)
पान खा लो (बहुत खा चुके)
अजी रसमलाई (आपके लिए)
इतनी मिठाई (आपके लिए)
पहले जूते (खायेंगे क्या)
आपकी मर्जी (ना जी तौबा)
किसी बेतुके शायर की बेसुरी कवालियों
दुल्हे की सालियों ओ हरे दुपट्टे वालियों
जूते दे दो, पैसे ले लो...


बाबुल जो तुमने सिखाया - Babul Jo Tumne Sikhaya (Hum Aapke Hain Koun)



Movie/Album: हम आपके हैं कौन (1994)
Music By: राम-लक्ष्मण
Lyrics By: रविन्द्र रावल
Performed By: शारदा सिन्हा

बाबुल जो तुमने सिखाया, जो तुमसे पाया
सजन घर ले चली, सजन घर मैं चली
यादों के लेकर साये, चली घर पराये
तुम्हारी लाडली

कैसे भूल पाऊँगी मैं बाबा
सुनी जो तुमसे कहानियाँ
छोड़ चली आँगन में मैय्या
बचपन की निशानियाँ
सुन मेरी प्यारी बहना, सजाये रहना
ये बाबुल की गली
सजन घर मैं चली...

बन गया परदेस घर जनम का
मिली है दुनिया मुझे नयी
नाम जो पिया से मैंने जोड़ा
नए रिश्तों से बंध गयी
मेरे ससुर जी पिता हैं
पति देवता हैं
देवर छवि कृष्ण की
सजन घर मैं चली...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com