Rekha Bhardwaj लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Rekha Bhardwaj लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बड़ी धीरे जली - Badi Dheere Jali (Rekha Bhardwaj, Ishqiya)



Movie/Album: इश्किया (2010)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: रेखा भारद्वाज

बड़ी धीरे जली रैना, धुआं धुआं नैना
रातों से हौले हौले, खोली है किनारी
अँखियों ने तागा तागा भोर उतारी
खारी अँखियों से धुआं जाए ना

पलकों पे सपनों की अग्नि उठाये
हमने दो अँखियों के आलने जलाये
दर्द ने कभी लोरियाँ सुनाई तो
दर्द ने कभी नींद से जगाया रे
बैरी अँखियों से ना जाए धुआं जाए ना
बड़ी धीरे जली...

जलते चरागों में अब नींद ना आये
फूँकों से हमने सब तारे बुझाए
जाने क्या खली रात की पिटारी से
खोले तो कोई भोर की किनारी रे
सूजी अँखियों से ना जाए धुआं जाए ना
बड़ी धीरे जली...


बादळ उठ्या - Badal Uthiya (Rekha Bhardwaj, Matru Ki Bijlee Ka Mandola)



Movie/Album: मटरू की बिजली का मंडोला (2012)
Music By: विशाल भरद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: रेखा भरद्वाज

बादळ उठ्या री सखी
मेरे सासरे की ओढ़ पानी
बरसेगा सिरतोर
बादळ उठ्या...

मोटी मोटी बूँद भटा-भट
कुटण लगे गोड़े से
पाणी के बहा के अगे
बह ग्ये नल के तोड़े से
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम
हवा के चकोड़े से
जंग्ड़्या के के वाड़ मूंदे
खुल ग्ये ओड़े सोड़े से
किसा पुल टूट्या री सखी
बह ग्ये नदी नाले जोड़ पाणी
बरसेगा सिरतोर
बादळ उठ्या...


जुदाई - Judaai (Arijit Singh, Rekha Bhardwaj, Badlapur)



Movie/Album: बदलापुर (2014)
Music By: सचिन-जिगर
Lyrics By:
दिनेश विजन, प्रिया सरैया
Performed By: अरिजीत सिंह, रेखा भारद्वाज

रांझण ढूँढण मैं चलेया
रांझण मिलेया नाये
जिगरा विचों अगन लगा के रब्बा
लकीरां विच लिख दी जुदाई

खो गया, गुम हो गया
वक्त से चुराया था जो
अपना बनाया था
हो तेरा, वो मेरा
साथ निभाया था जो
अपना बनाया था

चदरिया झीनी रे झीनी
चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये, भीनी ये, भीनी
यादें झीनी रे, झीनी रे, झीनी

ऐसा भी क्या मिलना, साथ होके तन्हां
ऐसी क्यूँ सज़ा हमने है पाई, रांझण वे
फिर से मुझे जीना, तुझपे है मरना
फिर से दिल ने दी है ये दुहाई, साजना वे
लकीरों पे लिख दी क्यूँ जुदाई
हो गैर सा हुआ खुद से भी, ना कोई मेरा
दर्द से कर ले चल यारी, दिल ये कह रहा
खोलूँ जो बाहें, बस गम ये सिमट रहे हैं
आँखों के आगे लम्हें ये क्यूँ घट रहे हैं
जाने कैसे कोई सहता जुदाईयाँ
चदरिया झीनी रे झीनी...
रांझण ढूँढण मैं चलेया...


ज़िन्दगी कुछ तो बता - Zindagi Kuch To Bata (Jubin, Rahat, Rekha, Bajrangi Bhaijaan)



Movie/Album: बजरंगी भाईजान (2015)
Music By:
प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: नीलेश मिश्रा
Performed By: जुबिन नौटियाल, प्रीतम, राहत फ़तेह अली खान, रेखा भरद्वाज

इक दिन मोहब्बत ओढ़ कर
इक दिन गली के मोड़ पर
तेरी हथेली पर लिखूं
मेरा नाम, तेरे नाम पर
फिर तु तक़ल्लुफ़ छोड़ कर
फिर तु झुका कर के नज़र
रखना मेरे काँधे पे सर
ज़िन्दगी
कुछ तो बता ज़िन्दगी
अपना पता ज़िन्दगी

तारों भरी इक रात में, तेरे ख़त पढ़ेंगे साथ में
कोरा जो पन्ना रह गया, एक कांपते से हाथ में
थोड़ी शिक़ायत करना तू, थोड़ी शिक़ायत मैं करूँ
नाराज़ बस ना होना तू ज़िन्दगी
कुछ तो बता ज़िन्दगी
अपना पता ज़िन्दगी...

(तू है तो मैं हूँ, तू है तो मैं हूँ
तू है तो फ़लक, तू है तो ज़मीं)

कोई रस्ता, कोई डगर
कोई निशाँ तो दे मुझे
कुछ तो बता ज़िन्दगी
ज़िन्दगी


नमक इस्क का - Namak Isk Ka (Rekha Bhardwaj, Omkara)



Movie/Album: ओमकारा (2006)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: रेखा भारद्वाज

चाँद निगल गयी
हो जी मैं चाँद निगल गयी दैय्या रे
भीतर भीतर आग जले
बात करूँ तो सेक लगे
मैं चाँद निगल..
अंग पे ऐसे छाले पड़े
तेज़ था छौंका का करूँ
सीसी करती, सीसी सीसी करती मैं मरूँ
ज़बां पे लागा लागा रे
नमक इस्क का हाय, तेरे इस्क का
बलम से माँगा माँगा रे, बलम से माँगा रे
नमक इस्क का, तेरे इस्क का
ज़बां पे लागा लागा रे...

सभी छेड़े हैं मुझको, सिपहिये बाँके छमिये
उधारी देने लगे हैं गली के बनिए बनिए
कोई तो कौड़ी तो भी लुटा दे, कौई तो कौड़ी
अजी थोड़ी थोड़ी शहद चटा दे, थोड़ी थोड़ी
तेज़ था तड़का का करूँ...
रात भर छाना रे
रात भर छाना, रात भर छाना छाना रे
नमक इस्क का...

ऐसी फूँक लगी जालिम की
के बाँसुरी जैसी बाजी मैं
अरे जो भी कहा उस चन्द्रभान ने
फट से हो गयी राजी मैं
कभी अँखियों से पीना, कभी होंठों से पीना
कभी अच्छा लगे मरना, कभी मुस्किल लगे जीना
करवट-करवट प्यास लगी थी
अजी बलम की आहट पास लगी थी
तेज था छौंका...
डली भर डाला जी...डाला जी रे
डली भर डाला, डाला डाला रे
नमक इस्क का हाय...


ससुराल गेंदा फूल - Sasural Genda Phool (Rekha Bhardwaj, Shraddha Pandit, Sujata Majumdar, Delhi 6)



Movie/Album: डेल्ही ६ (2009)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: प्रसून जोशी
Performed By: रेखा भारद्वाज, श्रद्धा पंडित, सुजाता मजुमदार

सैय्याँ छेड़ देवे, ननद चुटकी लेवे
ससुराल गेंदा फूल
सास गारी देवे, देवर समझा लेवे
ससुराल गेंदा फूल
छोड़ा बाबुल का अंगना
भावे डेरा पिया का हो
सास गारी देवे...

सैय्याँ हैं व्यापारी, चले हैं परदेस
सुरतिया निहारूँ, जियारा भारी होवे
ससुराल गेंदा फूल
सास गारी देवे...

बुशट पहिने, खाईके बीड़ा पान
पूरे रायपुर से अलग है
सैय्याँ जी की शान
ससुराल गेंदा फूल
सैयां छेड़ देवे...


तेरी फरियाद - Teri Fariyad (Jagjit Singh, Rekha Bhardwaj, Tum Bin 2)



Movie/Album: तुम बिन 2 (2016)
Music By: निखिल-विजय, अंकित तिवारी
Lyrics By: फैज़-अनवर, शकील आज़मी
Performed By: जगजीत सिंह, रेखा भारद्वाज

अब कोई आस ना उम्मीद बची हो जैसे
तेरी फ़रियाद मगर मुझमें दबी हो जैसे
जागते-जागते इक उम्र कटी हो जैसे
अब कोई आस ना उम्मीद बची हो जैसे

रस्ते चलते हैं मगर पाँव हमें लगते हैं
हम भी इस बर्फ़ के मंज़र में जमे लगते हैं
जान बाकी है मगर साँस रुकी हो जैसे

वक़्त के पास लतीफे भी हैं मरहम भी है
क्या करूँ मैं कि मेरे दिल में तेरा ग़म भी है
मेरी हर साँस तेरे नाम लिखी हो जैसे
कोई फ़रियाद तेरे दिल में दबी हो जैसे

किसको नाराज़ करूँ, किससे खफ़ा हो जाऊँ
अक्स हैं दोनों मेरे किससे जुदा हो जाऊँ
मुझसे कुछ तेरी नज़र पूछ रही हो जैसे

रात कुछ ऐसे कटी है कि सहर ही न हुई
जिस्म से जां के निकलने की ख़बर ही ना मिली
ज़िन्दगी तेज़ बहुत तेज़ चली हो जैसे

कैसे बिछडू़ँ कि वो मुझमे ही कहीं रहता है
उससे जब बच के गुज़रता हूँ तो ये लगता है
वो नज़र छुप के मुझे देख रही हो जैसे


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com