Roshan लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Roshan लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

ओह रे ताल मिले - Oh Re Taal Mile (Mukesh, Anokhi Raat)



Movie/Album: अनोखी रात (1968)
Music By: रोशन
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: मुकेश

ओह रे ताल मिले नदी के जल में
नदी मिले सागर में
सागर मिले कौन से जल में
कोई जाने ना
ओह रे ताल मिले..

सूरज को धरती तरसे, धरती को चंद्रमा
पानी में सीप जैसे प्यासी हर आत्मा
ओ मितवा रे...
पानी में सीप...
बूंद छुपी किस बादल में
कोई जाने ना
ओह रे ताल मिले...

अन्जाने होंठों पर ये पहचाने गीत हैं
कल तक जो बेगाने थे जनमों के मीत हैं
ओ मितवा रे...
कल तक जो...
क्या होगा कौन से पल में
कोई जाने ना
ओह रे ताल मिले...


मिले न फूल तो काँटों से - Mile Na Phool To Kaanton Se (Md.Rafi, Anokhi Raat)



Movie/Album: अनोखी रात (1968)
Music By: रोशन
 Lyrics By: कैफ़ी आज़मी
Performed By: मो.रफ़ी

मिले न फूल तो काँटों से दोस्ती कर ली
इसी तरह से बसर हमने ज़िंदगी कर ली

अब आगे जो भी हो अंजाम, देखा जाएगा
ख़ुदा तलाश लिया और बंदगी कर ली
मिले न फूल तो...

नज़र मिली भी न थी और उनको देख लिया
ज़बां खुली भी न थी और बात भी कर ली
मिले न फूल तो...

वो जिनको प्यार है चांदी से, इश्क़ सोने से
वही कहेंगे कभी हमने ख़ुदकशी कर ली
मिले न फूल तो...


जो बात तुझमें है - Jo Baat Tujhmein Hai (Md.Rafi, Taj Mahal)



Movie/Album: ताज महल (1963)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मो.रफ़ी

जो बात तुझमें है, तेरी तस्वीर में नहीं

रंगों में तेरा अक्स ढाला, तू ना ढल सकी
साँसों की आँच, जिस्म की खुशबू ना ढल सकी
तुझ में जो लोच है, मेरी तहरीर में नहीं
जो बात तुझमें है...

बेजान हुस्न में कहाँ, रफ़्तार की अदा
इन्कार की अदा है ना इकरार की अदा
कोई लचक भी जुल्फ-ए-गिरहगीर में नहीं
जो बात तुझमें है...

दुनियाँ में कोई चीज़ नहीं है तेरी तरह
फिर एक बार सामने आजा किसी तरह
क्या और इक झलक मेरी तकदीर में नहीं
जो बात तुझमें है...


जो वादा किया वो - Jo Waada Kiya Wo (Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Taj Mahal)



Movie/Album: ताज महल (1963)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा
रोके ज़माना चाहे, रोके खुदाई, तुमको आना पड़ेगा

तरसती निगाहों ने आवाज दी है
मोहब्बत की राहों ने आवाज दी है
जान-ए-हया, जान-ए-अदा छोड़ो तरसाना
तुमको आना पडेगा...

ये माना हमे जां से जाना पड़ेगा
पर ये समझ लो तुमने जब भी पुकारा
हमको आना पड़ेगा
जो वादा किया वो...

हम अपनी वफ़ा पे ना इलज़ाम लेंगे
तुम्हें दिल दिया है, तुम्हें जां भी देंगे
जब इश्क का सौदा किया, फिर क्या घबराना
हमको आना पड़ेगा
जो वादा किया वो...

चमकते हैं जब तक ये चाँद और तारे
ना टूटेंगे अब ऐह दो पैमां हमारे
एक दूसरा जब दे सदा, हो के दीवाना
हमको आना पड़ेगा
जो वादा किया वो...

Sad
सभी ऐहले दुनिया ये कहते हैं हमसे
के आता नहीं कोई मुल्क-ए-अदम से
आज ज़रा शान-ए-वफ़ा देखे
तुमको आना पड़ेगा
जो वादा किया वो...

हम आते रहे हैं, हम आते रहेंगे
मुहब्बत की रस्में निभाते रहेंगे
जान-ए-वफ़ा तुम दो सदा होके दीवाना
हमको आना पड़ेगा
जो वादा किया वो...

हमारी कहानी तुम्हारा फ़साना
हमेशा हमेशा कहेगा ज़माना
कैसी बला, कैसी सज़ा, हमको है आना
हमको आना पड़ेगा
जो वादा किया वो...


पाँव छू लेने दो - Paaon Chhoo Lene Do (Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Taj Mahal)



Movie/Album: ताज महल (1963)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

पाँव छू लेने दो फूलों को इनायत होगी
वरना हमको नहीं, इनको भी शिकायत होगी

आप जो फूल बिछाए, उन्हें हम ठुकराएँ
हमको डर है, के ये तौहीन-ए-मोहब्बत होगी

दिल की बेचैन उमंगो पे करम फरमाओ
इतना रुक रुक, के चलोगी तो क़यामत होगी
पाँव छू लेने दो...

शर्म रोके हैं इधर, शौक उधर खेंचे हैं
क्या खबर थी, कभी इस दिल की ये हालात होगी

शर्म गैरों से हुआ करती है अपनों से नहीं
शर्म हमसे भी करोगी तो मुसीबत होगी
पाँव छू लेने दो...


हम इंतज़ार करेंगे - Hum Intezaar Karenge (Asha Bhosle, Md.Rafi, Bahu Begum)



Movie/Album: बहु बेगम (1967)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: आशा भोंसले, मो.रफ़ी

हम इंतज़ार करेंगे तेरा क़यामत तक
ख़ुदा करे के क़यामत हो, और तू आए

ये इंतज़ार भी एक इम्तिहां होता है
इसी से इश्क़ का शोला जवां होता है
ये इंतज़ार सलामत हो और तू आए
ख़ुदा करे कि...

बिछाए शौक़ से, सिजदे वफ़ा की राहों में
खड़े हैं दीप की हसरत लिए निगाहों में
क़ुबूल-ए-दिल की इबादत हो और तू आए
ख़ुदा करे कि...

वो ख़ुशनसीब है जिसको तू इंतख़ाब करे
ख़ुदा हमारी मोहब्बत को क़ामयाब करे
जवां सितारा-ए-क़िस्मत हो और तू आए
ख़ुदा करे कि...


उसको नहीं देखा हमने कभी - Usko Nahin Dekha Humne Kabhi (Mahendra Kapoor, Manna Dey, Daadi Maa)



Movie/Album: दादी माँ (1966)
Music By: रौशन
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: महेंद्र कपूर, मन्ना डे, उषा मंगेशकर

उसको नहीं देखा हमने कभी
पर इसकी ज़रुरत क्या होगी
ऐ माँ, ऐ माँ तेरी सूरत से अलग
भगवान की सूरत क्या होगी, क्या होगी
उसको नहीं देखा हमने कभी

इनसान तो क्या देवता भी
आँचल में पले तेरे
है स्वर्ग इसी दुनिया में
क़दमों के तले तेरे
ममता ही लुटाये जिसके नयन
ऐसी कोई मूरत क्या होगी
ऐ माँ, ऐ माँ तेरी सूरत...

क्यों धूप जलाए दुखों की
क्यों गम की घटा बरसे
ये हाथ दुआओं वाले
रहते हैं सदा सर पे
तू है तो अँधेरे पथ में हमें
सूरज की ज़रुरत क्या होगी
ऐ माँ, ऐ माँ तेरी सूरत...

कहते हैं तेरी शान में जो
कोई ऊँचे बोल नहीं
भगवान के पास भी माता
तेरे प्यार का मोल नहीं
हम तो यही जानें तुझसे बड़ी
संसार की दौलत क्या होगी
ऐ माँ, ऐ माँ तेरी सूरत...


ए री जाने न दूँगी - Ae Ri Jaane Na Dungi (Lata Mangeshkar, Chitralekha)



Movie/Album: चित्रलेखा (1964)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: लता मंगेशकर

आली ए री, रोको ना कोई
करने दो मुझको मनमानी
आज मेरे घर आए प्रीतम
जिनके लिए सब नगरी छानी
आज कोई बंधन ना भाए
आज है खुल खेलन की ठानी

ए री जाने न दूँगी, ए री जाने न दूँगी
मैं तो अपने रसिक को नैनों में रख लूँगी
पलकें मूँद-मूँद
ए री जाने न दूँगी...

अलकों में कुंडल डालो और देह सुगंध रचाओ
जो देखे मोहित हो जाये, ऐसा रूप सजाओ
आज सखी
ध प म रे प, म प ध नि ध, प ध प प सां
रे सा ध, प रे
आज सखी पी डालूँगी
मैं दर्शन-जल की बूँद-बूँद
ए री जाने न दूँगी...

मधुर मिलन की दुर्लभ बेला, यूँ ही बीत न जाये
ऐसी रैन जो व्यर्थ गँवाए, जीवन भर पछताये
सेज सजाओ
ध प म रे प, म प ध नि ध, प ध प प सां
रे सा ध, प रे
सेज सजाओ मेरे साजन की
ले आओ कलियाँ गूँद-गूँद
ए री जाने न दूँगी...


फूल गेंदवा न मारो - Phool Gendwa Na Maaro (Manna Dey, Dooj Ka Chand)



Movie/Album: दूज का चाँद (1964)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मन्ना डे

अजी फुल गेन्दवा न मारो, न मारो
लगत करेजवा में चोट
दूँगी मैं दुहाई
काहे चतुर बनत
ठिठोरी करत हरजाई
फूल गेंदवा न मारो...

हे दहका हुआ ये अंगारा, अंगारा
दहका हुआ ये अंगारा
जो गेन्दवा कहलाये है
अजी तन पर जहाँ गिरे पापी
वहीं दाग़ पड़ जाये है
अंग-अंग मोरा पीर करे
और करके कहे
फुल गेन्दवा न मारो...

रुक जाओ, रुक जाओ
रुक जाओ, रुक जाओ
रुक जाओ
ना सताओ मोहे जुलमी बलम, ओ बलम
मान जाओ बिनती अबला की
देखो-देखो अब दूँगी दुहाई
काहे चतुर बनत
ठिठोरी करत हरजाई
फुल गेन्दवा न मारो
न मारो, न मारो, न

प प ध
ध ध ध, ध ध ध, ध नि ध
प म ग प म
ग म ग रे स
सं स सं स सं स
फुल गेन्दवा न मारो
न मारो -३
लगत करेजवा में चोट
करेजवा में चोट, करेजवा में चोट
सं गं, गं रें, रें सं
सं मं, मं गं, गं रें, रें सं
सं नि नि नि, सं ध ध ध, सं प प
प सं प सं प सं प सं
प नि म
फुल गेन्दवा न -३
न मारो -३
अरे फुल गेन्दवा न मारो...


ख्यालों में किसी के - Khayalon Mein Kisi Ke (Geeta Dutt, Mukesh, Bawre Nain)



Movie/Album: बावरे नैन (1950)
Music By: रौशन
Lyrics By: किदार नाथ शर्मा
Performed By: गीता दत्त, मुकेश

ख्यालों में किसी के, इस तरह आया नहीं करते
किसी को बेवफ़ा आ, आ के तड़पाया नहीं करते
ख्यालों में किसी के...

दिलों को रौंदकर, दिल अपना बहलाया नहीं करते
जो ठुकराये गये हों, उनको ठुकराया नहीं करते
दिलों को रौंदकर...

हसीं फूलों की दो दिन, चाँदनी भी चार दिन की है
मिली हो चाँद की सूरत तो इतराया नहीं करते
किसी को बेवफा...

जिन्हें मिटना हो, वो मिटने से डर जाया नहीं करते
मोहब्बत करने वाले, ग़म से घबराया नहीं करते
किसी को बेवफा...

मोहब्बत का सबक सीखो, ये जाकर जलने वालों से
के दिल की बात भी लब तक कभी लाया नहीं करते
जो ठुकराये...


काहे तरसाए जियरा - Kahe Tarsaye Jiyara (Asha Bhosle, Chitralekha)



Movie/Album: चित्रलेखा (1964)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By:आशा भोंसले

काहे तरसाए जियरा
यौवन ऋतु सजन जा के ना आए
काहे तरसाए जियरा
काहे तरसाए...

नित-नित जागे ना
सोया श्रृंगार
झनन झन झनन, नित ना बुलाए
काहे जियरा तरसाए
काहे तरसाए जियरा...

नित-नित बरसे ना
रस की फुहार
सपना बन गगन, नित ना लुटाए
काहे जियरा तरसाए
काहे तरसाए जियरा...

नित-नित आये ना
तन पे निखार
सावन मन सुमन, नित न खिलाये
काहे जियरा तरसाए
काहे तरसाए जियरा...


संसार से भागे फिरते हो - Sansar Se Bhage Firte Ho (Lata Mangeshkar, Chitralekha)



Movie/Album: चित्रलेखा (1964)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: लता मंगेशकर

संसार से भागे फिरते हो
भगवान को तुम क्या पाओगे
इस लोक को भी अपना न सके
उस लोक में भी पछताओगे
संसार सेे भागे फिरते हो...

ये पाप है क्या, ये पुण्य है क्या
रीतों पर धर्म की मोहरें हैं
हर युग में बदलते धर्मों को
कैसे आदर्श बनाओगे
संसार से भागे फिरते...

ये भोग भी एक तपस्या है
तुम त्याग के मारे क्या जानो
अपमान रचेता का होगा
रचना को अगर ठुकराओगे
संसार से भागे फिरते...

हम कहते हैं ये जग अपना है
तुम कहते हो झूठा सपना है
हम जन्म बिता कर जायेंगे
तुम जन्म गँवा कर जाओगे
संसार से भागे फिरते...


छा गया बादल - Chha Gaye Badal (Md.Rafi, Asha Bhonsle, Chitralekha)



Movie/Album: चित्रलेखा (1964)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले

छा गये बादल नील गगन पर
घुल गया कजरा सांझ ढले

देख के मेरा मन बेचैन
रैन से पहले हो गई रैन
आज हृदय के स्वप्न फले
घुल गया कजरा...

रूप की संगत और एकान्त
आज भटकता मन है शान्त
कह दो समय से थम के चले
घुल गया कजरा...

अंधियारों की चादर तान
एक होंगे दो व्याकुल प्राण
आज न कोई दीप जले
घुल गया कजरा...


सखी री मेरा मन - Sakhi Ri Mera Man (Lata Mangeshkar, Chitralekha)



Movie/Album: चित्रलेखा (1964)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: लता मंगेशकर

सखी री मेरा मन उलझे तन डोले
अब चैन पड़े तब ही जब उनसे मिलन हो ले
सखी री मेरा मन...

लाख जतन करूँ ध्यान बँटे न
ये रसवन्ती रैन कटे न
पवन अगन सी घोले
अब चैन पड़े तब ही
जब उनसे मिलन हो ले
सखी री मेरा मन...

साँस भी लूँ तो आँच-सी आये
चंचल काया पिघली जाये
अधरों में तृष्णा बोले
अब चैन पड़े तब ही
जब उनसे मिलन हो ले
सखी री मेरा मन...

अलके बिखरे आँचल ढलके
अंग-अंग से मदिरा छलके
यौवन बाँहें खोले
अब चैन पड़े तब ही
जब उनसे मिलन हो ले
सखी री मेरा मन...


मारा गया ब्रह्मचारी - Mara Gaya Brahmachari (Manna Dey, Chitralekha)



Movie/Album: चित्रलेखा (1964)
Music By: रोशन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मन्ना डे

लागी मनवा के बीच कटारी
कि मारा गया ब्रह्मचारी, हाय
कैसी ज़ुल्मी बनायी तैने नारी
कि मारा गया ब्रह्मचारी

ऐसा घुँघरू पायलिया का छनका
मोरी माला में अटक गया मनका
मैं तो भूला प्रभु सुध-बुध सारी
कि मारा गया ब्रह्मचारी...

कोई चंचल, कोई मतवाली है
कोई नटखट, कोई भोली-भाली है
कभी देखी न थी ऐसी फ़ुलवारी
कि मारा गया ब्रह्मचारी...

बड़े जतनों साध बनायी थी
मोरी बरसों की पुण्य कमायी थी
तैने पल में भसम कर डारी
कि मारा गया ब्रह्मचारी...

मोहे बावला बना गयीं वाकी बतियाँ
अब कटती नहीं हैं मोसे रतियाँ
पड़ी सर पे बिपत अति भारी
कि मारा गया ब्रह्मचारी...

मोहे उन बिन कछु न सुहाये रे
मोरी अँखियों के आगे लहराये रे
गोरे मुखड़े पे लट कारी-कारी
कि मारा गया ब्रह्मचारी...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com