Shabab Sabri लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Shabab Sabri लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

जलते दीये - Jalte Diye (Harshdeep Kaur, Shabab Sabri, Anweshaa, Prem Ratan Dhan Payo)



Movie/Album: प्रेम रतन धन पायो (2015)
Music By: हिमेश रेशमिया
Lyrics By: इरशाद क़ामिल
Performed By: हर्षदीप कौर, शबाब सबरी, अन्वेषा

आज अगर मिलन की रात होती
जाने क्या बात होती
तो क्या बात होती

सुनते हैं जब प्यार हो तो
दीये जल उठते हैं
तन में, मन में और नयन में
दीये जल उठते हैं
आजा पिया आजा, आजा पिया आजा हो
आजा पिया आजा, तेरे ही तेरे ही लिए
जलते दीये
बितानी तेरे साये में, साये में, ज़िन्दगानी

कभी-कभी ऐसे दीयों से लग है जाती आग भी
धुले-धुले से आंचलों पे लग है जाते दाग भी
हैं वीरानों में बदलते देखे मन के बाग़ भी
सपनों में श्रृंगार हो तो दीये जल उठते हैं
ख्वाहिशों के और शर्म के दीये जल उठते हैं
आजा पिया आजा...

मेरा नहीं है वो दीया जो जल रहा है मेरे लिए
मेरी तरफ क्यूँ ये उजाले आये हैं इनको रोकिये
यूँ बेगानी रौशनी में, कब तलक कोई जिए
साँसों में झनकार हो तो दीये जल उठते हैं
झान्झारों में, कंगनों में, दीये जल उठते हैं
आजा पिया...


यहाँ ज़िन्दगी एक अलग ज़िन्दगी है - Yahan Zindagi Ek Alag Zindagi Hai (Shaan, Shabab, Sagarika, Page 3)



Movie/ Album: पेज 3 (2005)
Music By: शमीर टंडन
Lyrics By: अजय झिंगरन, संदीप नाथ
Performed By: शान, शबाब सबरी, सागरिका

यहाँ ज़िन्दगी, एक अलग ज़िन्दगी है
यहाँ ख्वाईशें, आसमां से बड़ी है
यहाँ ज़िन्दगी, एक अलग ज़िन्दगी है...

इरादें यहाँ पर समंदर से गहरे
ना कोई फिक्र, ना कहीं कोई पहरे
यहाँ ज़िन्दगी...

यहाँ हर जगह मौज है, मस्तियाँ है
यहाँ पर ज़माने की सब हस्तियाँ हैं
यहाँ दिल नए रूप में है मचलते
यहाँ चाँद-सूरज ना इक पल को ढलते
यहाँ ज़िन्दगी...


हमका पीनी है - Humka Peeni Hai (Wajid Ali, Master Saleem, Shabab Sabri, Dabanng)



Movie/Album: दबंग (2010)
Music By: साजिद-वाजिद
Lyrics By: जलीस शेरवानी
Performed By: वाजिद अली, मास्टर सलीम, शबाब सबरी

प्रेम गली है साँकरी
गए दरोगा जी भूल
लत्त डारी रे डारी रे
लत्त डारी है ऐसी बाँधी
रहे अधर में झूम

कारी आँखों के पैमाने, पैमाने कारी आँखों के
हो दो-दो जिंदा है मयखाने, मयखाने कारी आँखों के
ना कर साथी अड़िया-बड़िया पीनी है, पीनी-पीनी है
अरे देख ले ज़ालिम रतिया, झीनी-झीनी है, झीनी-झीनी है
हमका पीनी है, पीनी है, हमका पीनी है...

अरे छतिया में सुखा की बिजरी सी बौंदें
हाँ मनवा कहे रे पहली फुर्सत में पी ले
मटका में अपनी तू टौंटी लगाई ले
आ भर जाये मनवा तू ऐसी पिलई दे
ऐसी पी लई दे, ऐसी पिलई दे
हमका पिलायी दे साकी ऐसी पिलायी दे
अरे आदत अपनी ससुरी बहुत कमीनी है, बहुत कमीनी है
हमका पीनी है, पीनी है, हमका पीनी है...

हो थाना में बैठे दरोगा जी ले हिचकी
लगता है साहिब ने मारी है चुस्की
थाना में अपनी तू भट्टी लगई ले
रे धार बलि निकले तू मुंह से सटई ले
मुंह से सटई ले, बाबू मुंह से सटई ले
तबियत इनकी देखो बहुत रंगीनी है, बहुत रंगीनी है
हमका पीनी, पीनी-पीनी, हमका पीनी है...
कारी आँखों के पैमाने...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com