Shakeel Badayuni लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Shakeel Badayuni लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

इन्साफ का मंदिर है ये - Insaf Ka Mandir Hai Ye (Md.Rafi, Amar)



Movie/Album: अमर (1954)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

इन्साफ का मंदिर है ये भगवान का घर है
कहना है जो कह दे तुझे किस बात का डर है

है खोट तेरे मन मे जो भगवान से है दूर
है पाँव तेरे फिर भी तू आने से है मजबूर
हिम्मत है तो आजा, ये भलाई की डगर है
इन्साफ का मंदिर है...

दुःख दे के जो दुखिया से ना इन्साफ करेगा
भगवान भी उसको ना कभी माफ़ करेगा
ये सोच ले हर बात की दाता को खबर है
हिम्मत है तो आजा, ये भलाई की डगर है
इन्साफ का मंदिर है...

है पास तेरे जिसकी अमानत उसे दे दे
निर्धन भी है इंसान, मोहब्बत उसे दे दे
जिस दर पे सभी एक हैं बन्दे, ये वो दर है
इन्साफ का मंदिर है...

मायूस ना हो हार के तक़दीर की बाज़ी
प्यारा है वो गम जिसमें हो भगवान भी राज़ी
दुःख दर्द मिले जिसमें, वही प्यार अमर है
ये सोच ले हर बात की दाता को खबर है
इन्साफ का मंदिर है...


तन रंग लो जी आज मन रंग लो - Tan Rang Lo Ji Aaj Mann Rang Lo (Lata, Rafi, Kohinoor)



Movie/Album: कोहिनूर (1960)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

तन रंग लो जी, आज मन रंग लो, तन रंग लो
खेलो खेलो, उमंग भरे रंग प्यार के ले लो, रंग लो
तन रंग लो जी...

आज नगरी में रंग है बहार है
गली गली देखो रस की फुहार है
पिचकरियों में रंग भरा प्यार है
इसी रंग में जीवन रंग लो
तन रंग लो...

नाचो नाचो री सखी रे होली आई रे
घर-घर में रंगीली रुत छाई रे
आज दुनिया ने मस्ती लुटाई रे
आशाओं का दामन रंग लो
तन रंग लो...

आज मुखड़े से घूँघटा हटालो जी
हो ज़रा सजना से अँखियाँ मिला लो जी
रंग झूठे मोरे तन पे न डालो जी
मन प्यार में साजन रंग लो
तन रंग लो...

राधा संग होली खेले रे बनवारी हो
अंग-अंग पे चलाए पिचकारी हो
कहे बैंया पकड़ के अनाड़ी
दिल रंग लो जी, धड़कन रंग लो
तन रंग लो...


खेलो रंग हमारे संग - Khelo Rang Hamare Sang (Shamshad, Lata, Aan)



Movie/Album: आन (1952)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: शमशाद बेगम, लता मंगेशकर

खेलो रंग हमारे संग
आज दिन रंग रंगीला आया

नज़र नज़र में रिमझिम रिमझिम
रंग अनोखा बरसे
कैसे मैं खेलूं खाक
मेरा दिल पिया मिलन को तरसे

देख मेरी चुनरी सखी धानी हैं
खो ना कहीं देना
ये प्यार की निशानी हैं
मैं हूँ तेरे संग बलम तु है मेरे संग
रंग डालो रंग डालो रंग
खेलो रंग हमारे संग...

आओ आओ सजन हमरे द्वार
रंग डालूंगी तुम पर हज़ार
आज कोई राजा न आज कोई रानी है
प्यार भरे जीवन की एक ही कहानी है
आई खुशी साथ लिए दिल के नए ढंग
रंग डालो रंग डालो रंग...


दो सितारों का ज़मीं पर है मिलन - Do Sitaron Ka Zameen Par Hai Milan (Rafi, Lata, Kohinoor)



Movie/Album: कोहिनूर (1960)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

दो सितारों का ज़मीं पर है मिलन आज की रात
मुस्कुराता है उम्मीदों का चमन आज की रात
रंग लायी है मेरे दिल की लगन आज की रात
सारी दुनिया नज़र आती है दुल्हन आज की रात
आज की रात...

हुस्न वाले तेरी दुनिया में कोई आया है
तेरे दीदार की हसरत भी कोई लाया है
तोड़ दे, तोड़ दे पर्दे का चलन आज की रात
मुस्कुराता है उम्मीदों का चमन आज की रात
दो सितारों क ज़मीं पर...

जिनसे मिलने की तमन्ना थी वो ही आते हैं
चाँद तारे मेरी राहों में बिछे जाते हैं
चूमता है तेरे कदमों को गगन आज की रात
सारी दुनिया नज़र आती है दुल्हन आज की रात
दो सितारों क ज़मीं पर...


मधुबन में राधिका नाचे रे - Madhuban Mein Radhika Nache Re (Md.Rafi, Kohinoor)



Movie/Album: कोहिनूर (1960)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

मधुबन में राधिका नाचे रे
गिरधर की मुरलिया बाजे रे
मधुबन में राधिका...

पग में घुँघर बाँध के
घुँघटा मुख पर डाल के
नैनन में कजरा लगा के रे
मधुबन में राधिका...

डोलत छम-छम कामिनी
चमकत जैसे दामिनी
चंचल प्यारी छब लागे रे
मधुबन में राधिका...

म्रिदंग बाजे तिरकिट धूम तिरकिट धूम ता ता
नाचत छूम छूम ताथई ताथई ता ता
छूम छूम छा ना ना ना, छूम छूम छा ना ना ना
क्रांध क्रांध क्रांध धा, धा धा धा
मधुबन में राधिका नाचे रे

मधुबन में राधिका
नी सा रे सा, गा रे मा गा, पा मा धा पा, नी धा सां नी
रें सां रे सा नी धा पा मा पा धा नी सां रें सां नी धा पा मा
गा मा धा पा गा मा रे सा

मधुबन में राधिका नाचे रे
सां सां, सां नी धा पा मा पा धा पा गा मा रे सा ऩी रे सा
सा सा गा मा धा धा नी धा सां
मधुबन में राधिका नाचे रे
मधुबन में राधिका

ओदे नादिर दिरधा नीता धारे दीम दीम तानाना
नादिर दिरधा नता धारे दीमदीम तानाना
ना दिर दिर धा नी ता धा रे दीम दीम ता ना ना
ना दिर दिर धा नी ता धा रे
ओ दे ताना दिर दिर ताना, दिर दिर दिर दिर दूम दिर दिर दिर
धा तिरकिट तक दूम तिरकिट तक
तिरकिट तिरकिट ता धा नी
ना दिर दिर धा नी ता धा रे


मुझे इश्क है तुझी से - Mujhe Ishq Hai Tujhi Se (Md.Rafi, Ummeed)



Movie/Album: उम्मीद (1971)
Music By: रवि
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

मुझे इश्क है तुझी से
मेरी जान-ए-ज़िन्दगानी
तेरे पास मेरा दिल है
मेरे प्यार की निशानी
मुझे इश्क है तुझी से...

मेरी ज़िन्दगी में तू है
मेरे पास क्या कमी है
जिसे ग़म नहीं खिज़ा का
वो बहार तूने दी है
मेरे हाल पर हुई है
तेरी ख़ास महरबानी
तेरे पास मेरा दिल...

तेरे हुस्न ने दिखाई
मुझे बेखुदी की राहें
ये हसीन लब नशीले
ये झुकी झुकी निगाहें
तेरी ज़ुल्फ़ से उठी है
ये घटाओं की जवानी
तेरे पास मेरा दिल...

न मुझे गम-ए-मुकद्दर
न मुझे गम-ए-ज़माना
तेरे दम से है सलामत
मेरे दिल का आशियाना
रहे उम्र भर जुबां पर
तेरे प्यार की कहानी
तेरे पास मेरा दिल...


चन्दन का पलना - Chandan Ka Palna (Hemant Kumar, Lata Mangeshkar)



Movie/Album: शबाब (1954)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: हेमंत कुमार, लता मंगेशकर

चन्दन का पलना, रेशम की डोरी
झूला झुलाऊँ निंदिया को तोरी
चन्दन का पलना...

सो जा तू ऐसे मोरी सजनिया
सजिया पे सोये जैसे दुल्हनिया
चन्दा का टीका माथे लगाऊँ
तारों की माला तुझको पिहनाऊँ
तोहे सुलाऊँ गा गा के लोरी
झूला झूलाऊँ निंदिया को तोरी
चन्दन का पलना...

ऊँचे गगन से कोई बुलाये
आई हैं परियां डोला सजाये
साजन से मिलने दूर चली जा
उड़के तू निंदिया फूर चली जा
चन्दा पुकारे आजा चकोरी
झूला झूलाऊँ निंदिया को तोरी
चन्दन का पलना...


दो हंसों का जोड़ा - Do Hanson Ka Joda (Lata Mangeshkar, Ganga Jumna)



Movie/Album: गंगा जमुना (1961)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: लता मंगेशकर

दो हंसों का जोड़ा बिछड़ गयो रे
गजब भयो रामा, जुलम भयो रे
दो हंसों का जोड़ा...

मोरा सुख चैन भी, जीवन भी मोरा छिन लिया
पापी संसार ने साजन भी मोरा छिन लिया
पिया बिन तड़पे जिया, रतिया बिताऊँ कैसे
बिरहा की अगनी को असुवन से बुझाऊँ कैसे
जिया मोरा मुश्किल में पड़ गयो रे
गजब भयो रामा...

रात की आस गयी, दिन का सहारा भी गया
मोरा सूरज भी गया, मोरा सितारा भी गया
प्रीत कर के कभी प्रीतम से ना बिछड़े कोई
जैसी उज़डी हूँ मैं, ऐसे भी ना उजड़े कोई
बना खेल मोरा बिगड़ गयो रे
गजब भयो रामा...

जीते जी छोडूँगी सैय्या ना डगरीयाँ तोरी
बीत जाएगी यूँ ही सारी उमरीया मोरी
नैनों से होती रहेगी यूँ ही बरसात बलम
याद में रोती रहूँगी तेरी दिन-रात बलम
नगर मोरे मन का उजड़ गयो रे
गजब भयो रामा...


दूर कोई गाये - Door Koi Gaaye (Shamshad Begum, Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Baiju Bawra)



Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By: नौशाद
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: शमशाद बेगम, मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

दूर कोई गाये, धून ये सुनाये
तेरे बिन छलिया रे, बाजे ना मुरलिया रे

मन के अंदर प्यार की अगनी
नैना खोये खोये, कि अरे रामा नैना खोये खोये
अभी से है ये हाल, तो आगे ना जाने क्या होये
नींद नहीं आये, बिरहा सताये
तेरे बिन छलिया रे...

मोरे अंगना लाज का पहरा
पाँव पड़ी जंजीर, कि अरे रामा पाँव पड़ी जंजीर
याद किसी की जब जब आये, लागे जिया पे तीर
आँख भर आये, जल बरसाये
तेरे बिन छलिया रे...


इन्सान बनो - Insaan Bano (Md.Rafi, Baiju Bawra)



Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By: नौशाद
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफी

निर्धन का घर लूटने वालों, लूट लो दिल का प्यार
प्यार वो धन है जिस के आगे, सब धन हैं बेकार

इन्सान बनो, इन्सान बनो, कर लो भलाई का कोई काम
दुनियाँ से चले जाओगे, रह जायेगा बस नाम

इस बाग में सूरज भी निकलता हैं लिए गम
फूलों की हंसी देख के रो देती है शबनम
कुछ देर की खुशियाँ हैं, तो कुछ देर का मातम
किस नींद में हो जागो, ज़रा सोच लो अंजाम
इन्सान बनो...

लाखों यहाँ शान अपनी दिखाते हुए आये
दम भर के लिए नाच गये धूप में साये
वो भूल गये थे के ये दुनियाँ हैं सराये
आता है कोई सुबह, तो जाता है कोई शाम
इंसान बनो...

क्यों तुमने लगाए हैं यहाँ ज़ुल्म के ढेरे
धन साथ ना जायेगा, बने क्यों हो लुटेरे
पीते हो ग़रीबों का लहू शाम सवेरे
खुद पाप करो, नाम हो शैतान का बदनाम
इंसान बनो...


झूले में पवन के - Jhoole Mein Pawan Ke (Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Baiju Bawra)



Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By:
नौशाद अली
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: लता मंगेशकर, मो.रफ़ी

झूले में पवन के आई बहार
नैनों में नया रंग लाई बहार
प्यार छलके, हो प्यार छलके
डोले मन मोरा सजना, डोले मन मोरा
हो जी हो
डोले मन मोरा सजना
चूनरिया बार-बार ढलके
झूले में पवन के...

मेरी तान से ऊँचा, तेरा झूलना गोरी
मेरे झूलने के संग तेरे प्यार की डोरी
तू है जीवन सिंगार. प्यार छलके
झूले में पवन के...

बादल झूमते आये, गागर प्यार की लाये
कोयल कूकती जाये, बन में मोर भी गाये
छेड़ें हम-तुम मल्हार, प्यार छलके
झूले में पवन के...


कोई सागर दिल को - Koi Sagar Dil Ko (Md.Rafi, Dil Diya Dard Liya)



Movie/Album: दिल दिया दर्द लिया (1966)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

कोई सागर दिल को बहलाता नहीं
बेख़ुदी में भी करार आता नहीं
कोई सागर दिल को...

मैं कोई पत्थर नहीं इन्सान हूँ
कैसे कह दूं गम से घबराता नहीं
कोई सागर दिल को...

कल तो सब थे कारवाँ के साथ-साथ
आज कोई राह दिखलाता नहीं
कोई सागर दिल को...

ज़िन्दगी के आईने को तोड़ दो
इसमें अब कुछ भी नज़र आता नहीं
कोई सागर दिल को...


मुझे दुनिया वालों - Mujhe Duniya Waalon (Md.Rafi, Leader)



Movie/Album: लीडर (1964)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

मुझे दुनिया वालों, शराबी ना समझो
मैं पीता नहीं हूँ, पिलाई गई है
जहाँ बेखुदी में कदम लड़खड़ाये
वो ही राह मुझको दिखाई गई है

नशे में हूँ लेकीन, मुझे ये खबर है
के इस ज़िन्दगी में सभी पी रहे हैं
किसी को मिले हैं छलकते प्याले
किसी को नजर से पिलाई गई है
मुझे दुनिया वालों...

किसी को नशा है, जहां में खुशी का
किसी को नशा है, गम-ए-ज़िन्दगी का
कोई पी रहा है, लहू आदमी का
हर इक दिल में मस्ती रचाई गई है
मुझे दुनिया वालों...

ज़माने के यारों, चलन हैं निराले
यहा तन हैं उजले, मगर दिल हैं काले
ये दुनिया है दुनिया, यहाँ मालोज़र में
दिलों की खराबी छुपाई गई है
मुझे दुनिया वालों...


मेरा यार बना है दूल्हा - Mera Yaar Bana Hai Dulha (Md.Rafi, Chaudhvin Ka Chand)



Movie/Album: चौदहवीं का चाँद (1960)
Music By: रवि
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

मेरा यार बना है दूल्हा, और फूल खिलें हैं दिल के
अरे मेरी भी शादी हो जाए दुआ करो सब मिल के

आज की खुशियाँ देख के मेरा दिल भी ले अंगड़ाई
मेरे भी घर हो धूम धड़क्का और बजे शहनाई
मैं भी सेहरा बाँध के बैठूं बीच भरी महफ़िल के
मेरा यार बना है दूल्हा...

ऐ मेरे मालिक, मेरे दाता, मेरे पालनहारा
यार को तूने दुल्हन दे दी, रह गया मैं ही कुंवारा
मुझको भी मेरी बुलबुल दे दे, मैं भी हँसू खिल-खिल के
मेरा यार बना है दूल्हा...

ऐ मेरे हमदम रहे हमेशा तेरी सलामत जोड़ी
आज तेरे सेहरे ने भैय्या, मुझपे क़यामत तोड़ी
मेरी भी आँखों में जागे, ख्वाब नई मंज़िल के
मेरा यार बना है दूल्हा...


दिल में एक जान-ए-तमन्ना - Dil Mein Ek Jaan-e-Tamanna (Md.Rafi, Benazir)



Movie/Album: बेनजीर (1960)
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी

आज शीशे में बार-बार उन्हें दिल की सूरत दिखाई देती है
अपनी सूरत नज़र नहीं आती मेरी सूरत दिखाई देती है

दिल में एक जान-ए-तमन्ना ने जगह पाई है
आज गुलशन में नहीं घर में बहार आई है

आ गया आ गया मेरे तसव्वुर में कोई परदानशीन
आज हर चीज़ नज़र आती है मुझको हसीं
क्या करूँ मैं बड़ी दिलकश मेरी तन्हाई है
आज गुलशन में नहीं ...

बहकी-बहकी नशा-ए-हुस्न में खोई-खोई
जैसे ख़्यालों की रंगीन रुबाई कोई
दिल के शीशे में परी बन के उतर आई है
आज गुलशन में नहीं ...

हुस्न के सामने इज़हार-ए-वफ़ा है मुश्किल
काश छुप कर ही वो सुन ले मेरा नाला-ए-दिल
जिसने प्यार की मंज़िल मुझे दिखलाई है
आज गुलशन में नहीं ...


मनमोहन मन में - Manmohan Mann Mein (Rafi, Sudha, Batish, Kaise Kahoon)



Movie/Album: कैसे कहूँ (1964)
Music By:
एस.डी.बर्मन
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी, सुधा मल्होत्रा, एस.डी.बतिश

मनमोहन मन में हो तुम्हीं
मोरे अंग अंग तुम्हीं समाये
जानो य जानो न हो तुमही
मनमोहन मन में
मनमोहन मन में मन में
हो तुम्हीं हो तुम्हीं हो तुम्हीं
मनमोहन मन में हो तुम्हीं
मोरे अंग अंग तुम्हीं समाये
जानो या जानो ना हो तुम्हीं
मनमोहन मन में ...

देख देख तोरी छब साँवरिया
देख देख तोरी छब साँवरिया
बनी है राधा तुम्हरी बाँवरिया
रोम रोम तुम्हरे गुण गाये
मानो या मानो ना हो तुम्हीं
मनमोहन मन में
देख देख तोरी छब साँवरिया
होओ बनि है राध तुम्हरी बाँवरिया
ऱ+S: देख देख तोरी छब साँवरिया
बनी है राधा तुम्हरी बाँवरिया
रोम रोम तुम्हरे गुण गाये
मानो या मानो न हो तुम्हीं
मनमोहन मन में


साक़िया आज मुझे नींद नहीं - Saaqiya Aaj Mujhe Neend Nahin (Asha Bhosle, Sahib Bibi Aur Ghulam)



Movie/Album: साहिब बीबी और ग़ुलाम (1962)
Music By: हेमंत कुमार

Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: आशा भोंसले

साकिया साकिया साकिया
आज मुझे, नींद नहीं, आएगी
नींद नहीं आएगी

साक़िया आज मुझे नींद नहीं आएगी
सुना है तेरी महफ़िल में रतजगा है
आँखों आँखों में यूँ ही रात गुज़र जायेगी
सुना है तेरी महफ़िल में रतजगा है

साकी है और शाम भी, उल्फत का जाम भी
हो तकदीर है उसी की जो ले इंतकाम भी
रंग-ऐ-महफ़िल है रात भर के लिए
सोचना क्या अभी सहर के लिए
तेरा जलवा हो तेरी सूरत हो
और क्या चाहिए नज़र के लिए
आज सूरत तेरी बेपर्दा नज़र आएगी
सुना है तेरी महफ़िल में रतजगा है
साक़िया आज मुझे नींद नहीं आएगी...

मुहब्बत में जो मिट जाता है
वो कुछ कह नहीं सकता
हाँ ये वो कूचा है जिसमें
दिल सलामत रह नहीं सकता
किसकी दुनिया यहाँ तबाह नहीं
कौन है जिसके लब पे आह नहीं
उस पर दिल ज़रूर आएगा
इससे बचने की कोई राह नहीं
ज़िन्दगी आज नज़र मिलते ही लुट जायेगी
सुना है तेरी महफ़िल में रतजगा है
साक़िया आज मुझे नींद नहीं आएगी...


पिया ऐसो जिया में - Piya Aiso Jiya Mein (Geeta Dutt, Sahib Bibi Aur Ghulam)



Movie/Album: साहिब बीबी और ग़ुलाम (1962)
Music By: हेमंत कुमार

Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: गीता दत्त

पिया ऐसो जिया में समाय गयो रे
के मैं तन मन की सुध-बुध गवाँ बैठी
हर आहट पे समझी वो आय गयो रे
झट घूँघट में मुखड़ा छुपा बैठी

मोरे अंगना में जब पुरवैया चली
मोरे द्वारे की खुल गई किवड़िया
मैंने जाना के आ गये सावारियाँ मोरे
झट फूलन की सजिया पे जा बैठी
पिया ऐसो जिया में...

मैंने सेंदूर से माँग अपनी भरी
रूप सैयाँ के कारण सजाया
इस डर से के पी की नजर ना लगे
झट नैनन में कजरा लगा बैठी
पिया ऐसो जिया में...


न जाओ सैयां - Na Jaao Saiyyan (Geeta Dutt, Sahib Bibi Aur Ghulam)



Movie/Album: साहिब बीबी और ग़ुलाम (1962)
Music By: हेमंत कुमार

Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: गीता दत्त

न जाओ सईय्याँ, छुड़ा के बईय्याँ
कसम तुम्हारी मैं रो पड़ूँगी
मचल रहा है सुहाग मेरा
जो तुम ना होगे, तो क्या करूँगी

ये बिखरी जुल्फें, ये खिलता गजरा
ये महकी चुनरी, ये मन की मदीरा
ये सब तुम्हारे लिए है प्रीतम
मैं आज तुमको ना जाने दूँगी, जाने ना दूँगी
न जाओ सैयां...

मैं तुम्हारी दासी, जनम की प्यासी
तुम ही हो मेरा सिंगार प्रीतम
तुम्हारे रस्ते की धूल ले कर
मैं माँग अपनी सदा भरूँगी, सदा भरूँगी
न जाओ सैय्याँ...

जो मुझसे अखियाँ चुरा रहे हो
तो मेरी इतनी अरज भी सुन लो
तुम्हारे चरणों में आ गई हूँ
यहीं जिऊँगी, यहीं मरूँगी, यहीं मरूँगी
ना जाओ सैयाँ...


भँवरा बड़ा नादान हाय - Bhanwra Bada Naadaan Haay (Asha Bhosle, Sahib Bibi Aur Ghulam)



Movie/Album: साहिब बीबी और ग़ुलाम (1962)
Music By: हेमंत कुमार

Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: आशा भोंसले

भँवरा बड़ा नादान हाय
बगियन का मेहमान हाय
फिर भी जाने ना, जाने ना, जाने ना
कलियन की मुस्कान हाय

कभी उड़ जाए, कभी मंडराए
भेद जिया के खोले ना
सामने आए, नैन मिलाए
मुख देखे कुछ बोले ना
भँवरा बड़ा नादान हाय...

अँखियों में रज के, चले बच बच के
जैसे हो कोई बेगाना
रहे संग दिल के, मिले नहीं मिल के
बन के रहे वो अन्जाना
भंवरा बड़ा नादान हाय...

कोई जब रोके, कोई जब टोके
गुनगुन करता भागे रे
ना कुछ पूछे, ना कुछ बुझे
कैसा अनाड़ी लागे रे
भंवरा बड़ा नादान हाय...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com