Shakti लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Shakti लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

जाने कैसे कब कहाँ - Jaane Kaise Kab Kahan (Kishore, Lata, Shakti)



Movie/Album: शक्ति (1982)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

जाने कैसे, कब कहाँ, इकरार हो गया
हम सोचते ही रह गये, और प्यार हो गया

गुलशन बनी, गलियाँ सभी
फूल बन गई, कलियाँ सभी
लगता है मेरा सेहरा तैयार हो गया
हम सोचते ही...

तुमने हमे बेबस किया
दिल ने हमे धोखा दिया
उफ़ तौबा जीना कितना दुश्वार हो गया
हम सोचते ही...

हम चुप रहे, कुछ ना कहा
कहने को क्या, बाकी रहा
बस आँखों ही आँखों में इज़हार हो गया
हम सोचते ही...


हमने सनम को खत लिखा - Humne Sanam Ko Khat Likha (Lata Mangeshkar, Shakti)



Movie/Album: शक्ति (1982)
Music By: राहुल देव बरमन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर

हमें बस ये पता है वो बहुत ही ख़ूबसूरत है
लिफ़ाफ़े के लिये लेकिन पते की भी ज़रूरत है

हमने सनम को ख़त लिखा, ख़त में लिखा
ऐ दिलरुबा, दिल की गली, शहर-ए-वफ़ा
हमने सनम को...

पहुँचे ये ख़त जाने कहाँ, जाने बने क्या दास्ताँ
उस पर रक़ीबों का ये डर, लग जाये उनके हाथ गर
कितना बुरा अंजाम हो, दिल मुफ़्त में बदनाम हो
ऐसा न हो, ऐसा न हो
अपने खुदा से रात दिन माँगे दुआ
हमने सनम को ख़त...

पीपल का ये पत्ता नहीं, काग़ज़ का ये टुकड़ा नहीं
इस दिल के ये अरमान है, इसमें हमारी जान है
ऐसा ग़ज़ब हो जाये ना, रस्ते में ये खो जाये ना
हमने बड़ी ताक़ीद की, डाला इसे जब डाक में
ये डाक बाबू से कहा
हमने सनम को खत...

बरसों जवाब-ए-यार का, देखा किये हम रास्ता
इक दिन वो ख़त वापस मिला और डाकिये ने ये कहा
इस डाक खाने में नहीं, सारे ज़माने में नहीं
कोई सनम इस नाम का, कोई गली इस नाम की
कोई शहर इस नाम का
हमने सनम को...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com