Sharda Rajan Iyengar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Sharda Rajan Iyengar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

चले जाना ज़रा ठहरो - Chale Jaana Zara Thahro (Mukesh, Sharda, Around the World)



Movie/Album: अराउंड द वर्ल्ड (1967)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: शारदा राजन इयेंगर, मुकेश

चले जाना ज़रा ठहरो
किसी का दम निकलता है
ये मंज़र देखकर जाना
चले जाना ज़रा...

अभी आए हो बैठो तो, ये मौसम भी सुहाना है
अभी तो हाल-ए-दिल तुमको निगाहों से सुनाना है
नज़र प्यासी, ये दिल प्यासा
किसी का दम...

हसीं झरनों के साये में, अकेला छोड़ जाते हो
हमारे दिल को आख़िर किसलिए तुम तोड़ जाते हो
ज़रा दम लो, कहा मानो
किसी का दम...

हमारी जान हो तुम भी, अगर चल दीं तो फ़िर क्या है
तुम्हारे बिन, बहारों में, ख़ुशी क्या है, मज़ा क्या है
ओ जान-ए-मन न जाओ तुम
किसी का दम...

क़सम खाती हूँ मैं अपनी, तुम्हें अब ना सताऊँगी
तुम्हारी बात जो भी हो, वही मैं मान जाऊँगी
भरी आँखें, रुकी सासें
किसी का दम...


दुनिया की सैर कर लो - Duniya Ki Sair Kar Lo (Mukesh, Sharda, Around the World)



Movie/Album: अराउंड द वर्ल्ड (1967)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: मुकेश, शारदा राजन इयेंगर

दुनिया की सैर कर लो, दुनिया की सैर कर लो
इन्साँ के दोस्त बनकर, इन्साँ से प्यार कर लो
अराउंड थे वर्ल्ड इन 8 डॉलर्स...

लॉस ऐन्जिलिस भड़कीला, जहाँ हॉलीवुड है रंगीला
देखो डिज़्नीलैंड में आकर, परियों का देश धरती पर
दुनिया की सैर कर...

जब ग्रैंड कैनियन देखा, याद आ गया वो अनदेखा
नहीं तेरा कोई भी सानी, अरे वाह रे वाह मयामी
दुनिया की सैर कर...

हम अमन चाहने वाले, हम प्यार पे मरने वाले
एक बात कहेंगे सबसे, नफ़रत को मिटा दो जग से
इन्सान के हाथ का टोना, मिट्टी को बनाया सोना
ये वाशिंगटन अलबेला, न्यूयॉर्क शहर का मेला
दुनिया की सैर कर...

लन्दन की दौड़ दीवानी, पेरिस की शाम मस्तानी
क़ुदरत के ये खेल निराले, ज़रा देख ले देखने वाले
बर्लिन का बदलता चेहरा, और रोम का रंग सुनहरा
वेनिस में नाव की सैरें, ये गीत गाती हुई लहरें
दुनिया की सैर कर...


तितली उड़ी उड़ जो चली - Titli Udi Ud Jo Chali (Sharda, Suraj)



Movie/Album: सूरज (1966)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: शारदा

तितली उड़ी, उड़ जो चली
फूल ने कहा, आजा मेरे पास
तितली कहे, मैं चली आकाश

खिले हैं गगन में, तारों के जो फूल
वहीं मेरी मंज़िल, कैसे जाऊँ भूल
जहाँ नहीं बंधन, ना कोई दीवार
जाना है मुझे वहाँ, बादलों के पार
तितली उड़ी, उड़ जो चली…

फूल ने कहा, तेरा जाना है बेकार
कौन है वहाँ जो करे तेरा इंतज़ार
बोली तितली, दोनों पंख पसार
वहाँ पे मिलेगा मेरा राजकुमार
तितली उड़ी, उड़ जो चली…

तितली ने पूरी जब कर ली उड़ान
नई दुनिया में हुई नई पहचान
मिला उसे सपनों का राजकुमार
तितली को मिल गया मनचाहा प्यार
तितली उड़ी, उड़ जो चली…


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com