Sholay लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Sholay लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

होली के दिन दिल खिल - Holi Ke Din Dil Khil (Kishore, Lata, Sholay)



Movie/Album: शोले (1975)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार, लता मंगेशकर

चलो सहेली, चलो रे साथी
ओ पकड़ो-पकड़ो रे इसे न छोड़ो
अरे बैंया न मोड़ो
ज़रा ठहर जा भाभी, अरे जा रे सराबी
क्या ओ राजा, गली में आजा
होली-होली, भांग की गोली
ओ नखरे वाली, दूँगी मैं गाली
ओ रामू की साली
होली रे होली

होली के दिन दिल खिल जाते हैं
रंगों में रंग मिल जाते हैं
गिले शिक़वे भूल के दोस्तों
दुश्मन भी गले मिल जाते हैं

गोरी तेरे रंग जैसा
थोड़ा सा मैं रंग बना लूँ
आ तेरे गुलाबी गालों से
थोड़ा सा गुलाल चुरा लूँ
जा रे जा दीवाने तू
होली के बहाने तू
छेड़ ना मुझे बेसरम
पूछ ले ज़माने से
ऐसे ही बहाने से
लिए और दिए दिल जाते हैं
होली के दिन दिल...

यही तेरी मरज़ी है तो
अच्छा चल तू ख़ुश हो ले
पास आ के छूना ना मुझे
चाहे मुझे दूर से भिगो ले
हीरे की कनी है तू
मट्टी की बनी है तू
छूने से टूट जाएगी
काँटों के छूने से
फूलों से नाज़ुक-नाज़ुक
बदन छिल जाते हैं
होली के दिन दिल...


हाँ जब तक है जाँ - Haan Jab Tak Hai Jaan (Lata Mangeshkar, Sholay)



Movie/Album: शोले (1975)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: लता मंगेशकर

हाँ, जब तक है जाँ
जाने जहां मैं नाचूँगी
हाँ, जब तक है जाँ...

प्यार कभी भी मरता नहीं
मौत से भी ये डरता नहीं
लुट जाएँगे, मिट जाएँगे, मर जाएँगे हम
ज़िन्दा रहेगी हमारी दास्ताँ
हाँ, जब तक है जाँ...

टूट जाए पायल तो क्या
पाँव हो जाए घायल तो क्या
दिल दिया है, दिल लिया है प्यार किया है तो
देना पड़ेगा मोहब्बत का इम्तिहाँ
हाँ, जब तक है जाँ...

ये नज़र झुक सकती नहीं
ये ज़ुबाँ रुक सकती नहीं
मैं कहूँगी, गम सहूँगी, चुप रहूँगी क्या
बेबस हूँ लेकिन नहीं मैं बेज़ुबाँ
हाँ, जब तक है जाँ...


कोई हसीना जब - Koi Haseena Jab (Kishore Kumar, Sholay)



Movie/Album: शोले (1975)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

कोई हसीना जब रूठ जाती है
तो और भी हसीन हो जाती है
टेसन से गाड़ी जब छूट जाती है
तो एक, दो, तीन हो जाती है

हाथों में चाबुक, होंठों पे गालियाँ
बड़ी नखरे वालियाँ, होती हैं तांगे वालियाँ
कोई तांगे वाली जब रूठ जाती है तो, है तो, है तो
और नमकीन हो जाती है
कोई हसीना जब रूठ...

ज़ुल्फ़ों में छैय्याँ, मुखड़े पे धूप है
बड़ा मज़ेदार गोरिये, ये तेरा रंग-रूप है
डोर से पतंग जब टूट जाती है तो, है तो, है तो
रुत रंगीन हो जाती है
कोई हसीना जब रूठ...


महबूबा महबूबा - Mehbooba Mehbooba (R.D.Burman, Sholay)



Movie/Album: शोले (1975)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: राहुल देव बर्मन

ऊ, हो
महबूबा महबूबा
गुलशन में गुल खिलते हैं
जब सेहरा में मिलते हैं
मैं और तू
महबूबा महबूबा...

फूल बहारों से निकला
चाँद सितारों से निकला
दिन डूबा,ऊ
महबूबा महबूबा...

हुस्न-ओ-इश्क़ के राहों में
बाहों में निगाहों में
दिल डूबा
महबूबा महबूबा...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com