Shweta Pandit लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Shweta Pandit लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

चलते चलते यूँ ही - Chalte Chalte Yun Hi (Mohabbatein)



Movie/Album: मोहब्बतें (2000)
Music By: जतिन ललित
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: श्वेता पंडित, सोनाली भटवडेकर, पृथा मजुमदार, उद्भव, मनोहर शेट्टी, ईशान

चलते चलते यूँ ही रुक जाता हूँ मैं
बैठे बैठे कहीं खो जाता हूँ मैं
कहते कहते ही चुप हो जाता हूँ मैं
क्या यही प्यार है, क्या यही प्यार है
हाँ यही प्यार है, हाँ यही प्यार है

तुमपे मरते हैं क्यों, हम नहीं जानते
ऐसा करते हैं क्यों, हम नहीं जानते
बंद गलियों से छुप छुप के, हम गुज़रने लगे
सारी दुनिया से रह रह कर, हम तो डरने लगे
हाय ये क्या करने लगे
क्या यही प्यार है...

तेरी बातों में ये, इक शरारत सी है
मेरे होंठों पे ये, इक शिकायत सी है
तेरी आँखों को आँखों से, चूमने हम लगे
तुझको बाहों में ले लेकर, झूमने हम लगे
हाय ये क्या करने लगे
क्या यही प्यार है...


पैरों में बंधन है - Pairon Mein Bandhan Hai (Mohabbatein)



Movie/Album: मोहब्बतें (2000)
Music By: जतिन ललित
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: श्वेता पंडित, सोनाली भटवडेकर, पृथा मजुमदार, उद्भव, मनोहर शेट्टी, ईशान

पैरों में बंधन है, पायल ने मचाया शोर
सब दरवाज़े कर लो बंद, देखो आए, आए चोर
तोड़ दे सारे बंधन तू, मचने दे पायल का शोर
दिल के सब दरवाज़े खोल, देखो आए, आए चोर.
पैरों में बंधन है...

कहूँ में क्या, करूँ में क्या, शरम आ जाती है
ना यूँ तड़पा कि मेरी जां, निकलती जाती है
तू आशिक़ है, मेरा सच्चा, यकीं तो आने दे
तेरे दिल में अगर शक़ है, तो बस फिर जाने दे
इतनी जल्दी लाज का, घूँघट ना खोलूँगी
सोचूँगी फिर सोच के, कल परसों बोलूँगी
तू आज भी हाँ ना बोली, ओये कुड़िये
तेरी डोली ले ना जाए, कोई और
पैरों में बंधन है...

जिन्हें मिलना, है कुछ भी हो, अजी मिल जाते हैं
दिलों के फूल, तो पतझड़ में भी खिल जाते हैं
ज़माना दोस्तों, दिल को, दीवाना कहता है
दीवाना दिल, ज़माने को, दीवाना कहता है
ले में सैयाँ आ गयी, सारी दुनिया छोड़ के
तेरा बंधन बाँध लिए, सारे बंधन तोड़ के
एक दूजे से जुड़ जाएँ, आ हम दोनों उड़ जाएँ
जैसे संग पतंग और डोर
पैरों में बंधन है...


मधुबाला - Madhubala (Ali Zafar, Shweta Pandit, Mere Brother Ki Dulhan)



Movie/Album: मेरे ब्रदर की दुल्हन (2011)
Music By: सोहेल सेन
Lyrics By: इरशाद कामिल
Performed By: अली ज़फ़र, श्वेता पंडित

सर घूमे चक्कर खाए
दिल दिल से टक्कर खाए
अरे मैं खोया के तू खो गया

जो ना है दिखता जाए
जो है वो दिख ना पाए
अरे आँखों को ये क्या हो गया
हो बिन चाबी खुल जाए मस्ती का ताला
छोरी लागे जोरु जोरा लगे साला
पनघट पे नाचे
हाँ पनघट पे नाचे, नाचे रे नाचे मधुबाला

दिल के हैं छक्के छूटे छोकरे
लटकों-झटकों से अब ना रोक रे
तू तो नैनों में मेरे छा रहा
छुट्टी तुझको तू चाहे जो करे
अब अकल अकेली भटके रे
दिल सडक-सड़क सर पटके रे
ये बार-बार ही तुझपे अटके रे बेलिया
हो दिल ने चाहत का सिक्का ऐसा उछाला
सब के गालों पे लगे मुझको तिल काला
पनघट पे नाचे
हाँ पनघट पे नाचे, नाचे रे नाचे मधुबाला...

अरे थक गए क्या
अरे भैया यूपी आए और साला
ढोल नहीं बजा तो क्या खाक यूपी आए
अरे ओ भैया राजा, बजेगा तेरा बाजा
बनेगा दूल्हा राजा, तू आजा जल्दी आजा पिया
हो बिन चाबी खुल जाए मस्ती का ताला
छोरी लागे जोरु जोरा लागे साला
पनघट पे नाचे
हाँ पनघट पे नाचे, नाचे रे नाचे मधुबाला...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com