Sukhwinder Singh लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Sukhwinder Singh लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

अलविदा - Alvida (Nikhil D'Souza, Sukhwinder, Loy Mendosa, D-Day)



Movie/Album: डी-डे (2013)
Music By: शंकर एहसान लॉय
Lyrics By: निरंजन इयेंगर
Performed By: निखिल डी'सूज़ा, सुखविंदर सिंह, लॉय मेंडोसा

जाने कैसे टूटे रिश्तों से बिखरे हैं ये पल
मानो जैसे ग़म की पलकों से छलके हैं ये पल
क्यूँ अधूरी ये कहानी, क्यूँ अधूरा ये फ़साना
क्यूँ लकीरों में इसके अलविदा

उमर भर का साथ दे जो, क्यूँ वो ही प्यार हो
क्यूँ न मिट के जो फना हो, वो भी प्यार हो
ना अधूरी ये कहानी, ना अधूरी ये फ़साना
मर के भी ना हम कहेंगे अलविदा

बैरिया मेरे रब्बा, क्यूँ हुआ मेरे रब्बा
यूँ ना ढामी, यूँ ना ढामी
दो दिलां दी ये कहानी

मिट भी जाऊं, ना मिटे ये कैसी प्यास है
दूरियों में खो के भी तू मेरे पास है
क्यूंकि तू मेरी कहानी, क्यूंकि तू मेरा फ़साना
अब कभी फिर ना है कहना अलविदा

तेरी यादों को सहलाता हूँ (याद कितना)
पल में बन के बिखरता हूँ
जिस जहां में खो गयी हो तुम
क्या नहीं है वहाँ, टूटी तन्हाइयों का ग़म
बैरिया मेरे रब्बा...
जाने कैसे टूटे रिश्तों...


ये जो ज़िन्दगी है - Ye Jo Zindagi Hai (Sukhwinder, Sujata, Srinivas, 1947 Earth)



Movie/Album: 1947 अर्थ (1999)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: सुखविंदर सिंह, सुजाता त्रिवेदी, श्रीनिवास

जो अफ़साने दिल ने बुने
उनको कोई दिल ही सुने
हम हौले हौले प्यार की धुंधली फ़िज़ाओं में आये
गहरे गहरे हैं ख़्वाब की नीली घटाओं के साये
हम-तुम दोनों खोये खोये, सपने देखें जागे सोये
गुमसुम हैराँ

ये जो ज़िन्दगी है कोई दास्ताँ है
कब होगा क्या ये खबर कहाँ है
ये जो ज़िन्दगी है कोई कारवाँ है
कहाँ जायेगी ये खबर कहाँ है

सुजाता
बहती हैं चिंगारियाँ जैसे, सर से पाँव तक नस नस में
हल्का हल्का होश है लेकिन, कुछ भी नहीं अब मेरे बस में
मेरे अंग अंग में बेचैनी बिजली बनके लहराये
एक मीठे मीठे दर्द का बादल तन मन पर छाये
साँसें उलझे धड़के ये दिल, जाने कैसे मेरी मुश्किल
होगी आसाँ
ये जो ज़िंदगी है कोई दास्ताँ है...

सुखविंदर
अरे काश मेरी इन आँखों की अब रोशनी बुझ जाये
मैंने देखा था जो ख़्वाब वो मुझको न कभी याद आये
ऐसे बरसे ग़म के तीशे, टूटे दिल के सारे शीशे
दिल है वीराँ
ये जो ज़िंदगी है...


चक दे इंडिया - Chak De India (Sukhwinder Singh, Chak De India)



Movie/Album: चक दे इंडिया (2007)
Music By: सलीम-सुलेमान
Lyrics By: जयदीप साहनी
Performed By: सुखविंदर सिंह, सलीम मर्चेंट

कुछ करिए, कुछ करिए
नस नस मेरी खोले, हाय कुछ करिए
कुछ करिए, कुछ करिए
बस बस बड़ा बोले, अब कुछ करिए
हो कोई तो चल ज़िद्द फड़िए, तू बिदरिये या मरिये
चक दे हो चक दे इंडिया
चक दे हो चक दे इंडिया

कुचों में गलियों में, राशन की फलियों में
बैलों में बीजों में, ईदों में तीजों में
रेतों के दानों में, फिल्मों के गानों में
सड़को के गड्ढों में, बातों के अड्डों में
हुंकारा आज भर ले, दस बारह बार कर ले
रहना ना यार पीछे, कितना भी कोई खींचे
टस है ना मस है जी, ज़िद है तो ज़िद है जी
किसना यूँ ही, पिसना यूँ ही, पिसना यूँ ही
बस करिए
कोई तो चल ज़िद्द फड़िए...
चक दे हो चक दे इंडिया...

लड़ती पतंगों में, भिड़ती उमँगों में
खेलों के मेलों में, बलखाती रेलों में
गन्नों के मीठे में, खद्दर में, झींटें में
ढूँढो तो मिल जावे, पत्ता वो ईंटों में
रंग ऐसा आज निखरे, और खुलके आज बिखरे
मन जाए ऐसी होली, रग-रग में दिल के बोली
टस है ना मस है जी, ज़िद है तो ज़िद है जी
किसना यूँ ही, पिसना यूँ ही, पिसना यूँ ही
बस करिए
कोई तो चल ज़िद्द फड़िए...
चक दे हो चक दे इंडिया...


ये इलू इलू क्या है - Ye Ilu Ilu Kya Hai (Kavita, Manhar, Sukhwinder, Udit, Saudagar)



Movie/Album: सौदागर (1991)
Music By:
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: कविता कृष्णमूर्ति, मनहर उदास, सुखविंदर सिंह, उदित नारायण

इलू इलू, इलू इलू
ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
जब बाग़ में कोईफूल खिला, तो भँवरे ने कहा
इलू इलू...
पर्वत पे छाई काली घटा तो बोली हवा
इलू इलू...
जब कोई अच्छा लगता है, बड़ा प्यारा प्यारा लगता है
तो दिल करता है, इलू इलू

ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
इलू का मतलब, आई एल यू, आई एल यू
इलू का मतलब, आई लव यू

इलू इलू, इलू इलू
ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
जब मीठे बोल कोई बोले, मिसरी की मीठी डलियों से
जब मस्त बहारों का मौसम, गुज़रे गाँव की गलियों से
जब मिट्टी से आए खुशबू
तो दिल करता है, इलू इलू...
इलू इलू...
सावन के महीने में शायद, सारे पागल हो जाते हैं
जब मोर पपीहा कोयल सब, बागों में शोर मचाते हैं
आवाज़ आती है हर सूं
तो दिल करता है, इलू इलू...

इलू इलू, इलू इलू
ये इलू इलू क्या है, ये इलू इलू
कहते हैं लोग मोहब्बत में, ये दिल दिल से जुड़ जाता है
ये तो ऐसा पंछी है जो, पिंजड़ा लेकर उड़ जाता है
जब प्यार का चलता है जादू
तो दिल करता है, इलू इलू...
इलू इलू...
यारों इस झूठी दुनिया में, जब कोई सच्ची बात कहे
जब भोर भये पंछी जगे, और शिव मंदिर में शंख बजे
जब मस्जिद में हो अल्लाह-हू
तो दिल करता है, इलू इलू...


सौदागर सौदा कर - Saudagar Sauda Kar (Manhar, Kavita, Sukhwinder, Saudagar)



Movie/Album: सौदागर (1991)
Music By:
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मनहर उदास, कविता कृष्णमूर्ति

तू पंछी परदेसी, तू जोगी है कि जादूगर
इनमें से कोई भी नहीं, मैं सपनों का सौदागर
सौदागर, सौदा कर
दिल ले ले, दिल दे कर

हाथ किसी का वो पकड़े
जो छोड़े जग सारा
तू ऊंचे महलों वाली
मैं बेघर बंजारा
इक दूजे के दिल में रहेंगे
क्या करना है घर
सौदागर सौदा कर...

तेरे साथ मैं कैसे
प्यार का सौदा कर लूँ
ऐसा कोई वादा कर
मैं जिसपे भरोसा कर लूँ
जो चाहे लिखवा ले मुझसे
कोरे कागज़ पर
सौदागर सौदा कर...

दिल तो है पर दिल के
परवान कहाँ से लाऊँ
डोली सहरा कंगन
सब सामान कहाँ से लाऊँ
थोड़ा सा सिंदूर कहीं से
ले आ बस जा कर
सौदागर, सौदा कर
दिल ले ले, दिल दे कर
सोचा समझ ले
बाद में न पछताना
ये कहकर
सौदागर सौदागर...


ओमकारा - Omkara (Sukhwinder Singh, Omkara)



Movie/Album: ओमकारा (2006)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: सुखविंदर सिंह

धम धम धड़म धड़य्या रे
सबसे बड़े लड़य्या रे
ओमकारा, हे ओमकारा
आँखें तेज़ तकैय्या, दो-दो जीभ साँप का फुंकारा
ओमकारा, हे ओमकारा
अरे बिजुरी सा कौंधे सर पे जिसकी तलवार का झंकारा
ओमकारा, हे ओमकारा

माथे पर तिरसूल के जैसे, तीन-तीन बल पड़ते हैं
अरे कान पे जूं रेंगे तो भईया, रान बजा चल पड़ते हैं
गली गली में, अरे गली गली में
गली गली में भय बैठा है, चौक पे गूँजा हुँकारा
ओमकारा...

छत पर आ कर गिद्ध बैठें और परनालों से खून बहे
अरे कौन गिरा है, कौन कटा है, किसमा दम है, कौन कहे
छक्के छूट गए दुसमन के, ओमकारा
छक्के छूट गए दुसमन के, धरती माँगे छुटकारा
ओमकारा, हे ओमकारा...


बीड़ी जलाई ले - Beedi Jalai Le (Sukhwinder Singh, Sunidhi Chauhan, Omkara)



Movie/Album: ओमकारा (2006)
Music By: विशाल भारद्वाज
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: सुखविंदर सिंह, सुनिधि चौहान

ना गिलाफ़, ना लिहाफ़
ठंडी हवा भी खिलाफ, ससुरी
इत्ती सर्दी है किसी का लिहाफ लई ले
जा पड़ोसी के चूल्हे से आग लई ले

बीड़ी जलाई ले, जिगर से पिया
जिगर मा बड़ी आग है
धुंआ ना निकारी ओ लब से पिया
जे दुनिया बड़ी धांक है

ना कसूर,ना फतूर
बिना जुरम के हुजूर
मर गयी, हो मर गयी
ऐसे इक दिन दुपहरी बुलाई लियो रे
बाँध घुँघरू कचेहरी लगाई लियो रे
बुलाई लियो रे, बुलाई लियो रे, दुपहरी
लगाई लियो रे, लगाई लियो रे, कचेहरी
अंगेठी जलाई ले, जिगर से पिया
जिगर मा बड़ी आग है
बीड़ी जलाई ले...

ना तो चक्कुओं की धार
ना डराती, ना कटार
ऐसा काटे के दांत का निसान छोड़ दे
ये कटाई तो कोई भी किसान छोड़ दे
ओ ऐसे जालिम का छोड़ दे मकान छोड़ दे
रे बिल्लो, जालिम का छोड़ दे मकान छोड़ दे
ऐसे जालिम का, ओ ऐसे जालिम का
ऐसे जालिम का छोड़ दे मकान छोड़ दे
ना बुलाया, ना बताया
म्हाने नींद से जगाया, हाय रे
ऐसा चौकैल हाथ में नसीब आ गया
वो इलाईची खिलाई के करीब आ गया

कोयला जलाई ले, जिगर से पिया
जिगर मा आग है
इतनी सर्दी है...


घनन घनन - Ghanan Ghanan (Lagaan)



Movie/Album: लगान (2001)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: अलका याग्निक, उदित नारायण, सुखविंदर सिंह, शंकर महादेवन, शान

घनन-घनन घिर घिर आये बदरा
घन घनघोर कारे छाये बदरा
धमक-धमक गूँजे बदरा के डंके
चमक-चमक देखो बिजुरिया चमके
मन धड़काये बदरवा, मन धड़काये बदरवा
मन-मन धड़काये बदरवा

काले मेघा, काले मेघा, पानी तो बरसाओ
बिजुरी की तलवार नहीं, बूँदों के बान चलाओ
मेघा छाये, बरखा लाये
घिर-घिर आये, घिर के आये

कहे ये मन मचल-मचल, न यूँ चल सम्भल-सम्भल
गये दिन बदल, तू घर से निकल
बरसने वाल है अब अमृत जल

दुविधा के दिन बीत गये, भईया मल्हार सुनाओ
घनन-घनन घिर-घिर...

रस अगर बरसेगा, कौन फिर तरसेगा
कोयलिया गायेगी बैठेगी मुण्डेरों पर
जो पंछी गायेंगे, नये दिन आयेंगे
उजाले मुस्कुरा देंगे अंधेरों पर
प्रेम की बरखा में भीगे-भीगे तनमन
धरती पे देखेंगे पानी का दरपन
जईओ तुम जहाँ-जहाँ, देखियो वहाँ-वहाँ
यही इक समाँ कि धरती यहाँ
है पहने सात रंगों की चूनरिया
घनन-घनन घिर-घिर...

पेड़ों पर झूले डालो और ऊँची पेंद बढ़ाओ
काले मेघा, काले मेघा...

आई है रुत मतवाली, बिछाने हरियाली
ये अपने संग में लाई है सावन को
ये बिजुरी की पायल, ये बादल का आँचल
सजाने लाई है धरती की दुल्हन को
डाली-डाली पहनेगी फूलों के कंगन
सुख अब बरसेगा आँगन-आँगन
खिलेगी अब कली-कली, हँसेगी अब गली-गली
हवा जो चली, तो रुत लगी भली
जला दे जो तन-मन वो धूप ढली
काले मेघा, काले मेघा...


मैं अलबेली - Main Albeli (Kavita Krishnamurthy, Sukhwinder Singh, Zubeidaa)



Movie/Album: ज़ुबैदा (2001)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: कविता कृष्णमूर्ति, सुखविंदर सिंह

रंगीली हो, सजीली हो
ऊ अलबेली ओ

मैं अलबेली, घूमूँ अकेली
कोई पहेली हूँ मैं
पगली हवाएँ मुझे, जहाँ भी ले जाए
इन हवाओं की सहेली हूँ मैं

तू है रंगीली, हो
तू है सजीली, हो

हिरनी हूँ बन में, कलि गुलशन में
शबनम कभी हूँ मैं, कभी हूँ शोला
शाम और सवेरे, सौ रंग मेरे
मैं भी नहीं जानूँ, आखिर हूँ मैं क्या

तू अलबेली, घूमे अकेली
कोई पहेली है तू
पगली हवाएँ तुझे जहाँ भी ले जाए
इन हवाओं की सहेली है तू

तू अलबेली, घूमे अकेली
कोई पहेली, पहेली

मेरे हिस्से में आई हैं कैसी बेताबियाँ
मेरा दिल घबराता है मैं चाहे जाऊँ जहाँ
मेरी बेचैनी ले जाए मुझको जाने कहाँ
मैं एक पल हूँ यहाँ
मैं हूँ इक पल वहाँ

तू बावली है, तू मनचली है
सपनों की है दुनिया, जिसमें तू है पली
मैं अलबेली...

मैं वो राही हूँ, जिसकी कोई मंज़िल नहीं
मैं वो अरमां हूँ, जिसका कोई हासिल नहीं
मैं हूँ वो मौज के जिसका कोई साहिल नहीं
मेरा दिल नाज़ुक है
पत्थर का मेरा दिल नहीं

तू अनजानी, तू है दीवानी
शीशा ले के पत्थर की दुनिया में है चली
तू अलबेली...


दाग - Daag (Sukhwinder Singh, Bhoomi)



Movie/Album: दाग (2017)
Music By: सचिन-जिगर
Lyrics By: प्रिया सरैया
Performed By: सुखविंदर सिंह

इक बार बहे, सौ बार बहे
अब सूख गए मेरे नैना
रज-रज के बहे, रग-रग से बहे
अब रूठ गए जी नैना
नैनों में सपना जल गया हाँ
मेरा जो रूह कारी कर गया
वो गहरा दाग न छूटे माहिया रे
तेरा दाग न छूटे माहिया
नैनों में सपना जल गया हाँ
मेरा दाग लगा जी सो लगा
ये मैला दाग न छूटे माहिया रे
तेरा दाग न छूटे माहिया

उन गलियों की चौबारों की, उस मिट्टी की वो यादें
अक्सर आँखें कर जाती हैं, उन तस्वीरों से बातें
यादों की इन लहरों को, चाहूँ मिल जाए ठिकाना
ये कागज़ वाली कश्तियाँ, चाहूँ मैं पार लगाना
पर दिल डरता है फिर से कहीं सावन आये ना
दाग न छूटे माहिया...


बंटी और बबली - Bunty Aur Babli (Shankar Mahadevan, Title Track)



Movie/Album: बंटी और बबली (2005)
Music By: शंकर-एहसान-लॉय
Lyrics By: गुलज़ार
Performed By: जसपिंदर नरुला, लॉय मेंडोंसा, शंकर महादेवन, सिद्धार्थ महादेवन, सौम्या राव, सुखविंदर सिंह

चल चल चल चल चलत चलत
जब ठाठ दिखाए और बात दिखाए, ओये बंटी
पल पल पल पल पलट पलट
जब कमर घुमाए और होश उड़ाए, ओये बबली
अरे लट्टू घुमाई के, चक्कर चलाई के
लूट ले हो दुनिया को ठेंगा दिखाई के
हो ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको ठगा नहीं
ऐसी मारी लंगड़ी कि सोया जगा नहीं
चल चल चल...
बंटी और बबली, बंटी और बबली
इन दोनों की जोड़ी शामत
शामत और कयामत यारों
बंटी और बबली...

हो इश्काँ दे तेवर घने, तेवर घने
नखरों के ज़ेवर बने, ज़ेवर बने
देखो कहीं आते-जाते मिल जाएँ दोनों यहीं
रूठते-मनाते माफ़ करते मिलें
जूठे-जूठे होंठ साफ़ करते मिलें
चल चल चल...

हो खुश्बू ही खुश्बू पले, खुश्बू पले
इश्काँ जहाँ तू चले, हाँ तू चले
जाने कहाँ उड़ते-उड़ते मिल जाए दोनों यहाँ
इठला ते चलता हुआ बंटी मिले
इतरा के चलती हुई बबली मिले
दोनों की कहानियाँ ज़माना दोहराएगा
बताएगा, सुनाएगा, सदा
बंटी और बबली...


सिंघम - Singham (Sukhwinder Singh, Title Track)



Movie/Album: सिंघम (2011)
Music By: अजय-अतुल
Lyrics By: स्वानन्द किरकिरे
Performed By: सुखविंदर सिंह

मन भँवर उठे, तन सिहर उठे
जब खबर उठे के आवे, सिंघम
ना अगर चले, ना मगर चले
बस कहर चले जब आवे, सिंघम
बुरों को खींच के, भींच के धूल दमिच के, रैहपट पड़ जाये
भलों को खींच के, खींच के बाँहों में भींच के, झप्पी मिल जाये
ना किसी से ये कम, बड़ा इसमें है दम, नर सिंह है ये सिंघम
मन भँवर उठे...

दिल तो साचा है इस दिल में रख लो
सपना अच्छा है पलकों से ढक लो
दिल-विल से तो है ये इक बच्चा, शरारत करता ही फिरे
गर कभी समझे इसको कोई कच्चा, घूँसा ही मिले
ताज़ा है हवा का ये झोंका, यहाँ-वहाँ बहता ही फिरे
गर कभी इसका रास्ता रोका, तूफाँ सर चढ़े
बुरो को खींच के भींच के...

ये ना सबका है, रस्ते से कठोर
तगड़ा झटका है, दम है तो चख लो
अकड़म भी है जोश में चलता, पाँवों में बिजली सी चले
नज़रें शोला-शोला दुश्मन तो राख में जा मिले
जैसे कोई शेर सेहरा में चलता, सारा जग रौंदता चले
यारों बस लड़ने का इसे चस्का, परबत से भिड़े
बुरो को खींच के भींच के...


एक अजनबी - Ek Ajnabee (Sunidhi Chauhan, Sukhwinder Singh, Vishal Dadlani, Ek Ajnabee)



Movie/Album: एक अजनबी (2005)
Music By: विशाल-शेखर
Lyrics By: विशाल ददलानी
Performed By: सुखविंदर सिंह, सुनिधि चौहान, विशाल ददलानी

नज़रों से मिली नज़र और ये हो गया असर
मेरी रौशनी बेनूर हो गई
वो भी होश से गए, हम भी होश से गए
अपनी बेखुदी मशहूर हो गई
कभी-कभी Girls Can Make You Blind
कभी-कभी She Can Blow Your Mind
कभी-कभी Seldom Way You Cry
दिल को चुरा के गया
एक अजनबी...

मैं सच्चा यार हूँ, दिल का करार हूँ
बेवज़ह बन गया
बेरहम वो कर गया सितम
कभी-कभी Girls Can Make You Blind
कभी-कभी She Can Blow Your Mind
कभी-कभी Seldom Way You Cry
दिल को चुरा के ले गया एक अजनबी

क्या करना प्यार से, आ मर जा प्यार में
बेफ़िकर बेखबर बेसबर
दिल खो गया किधर
कभी-कभी Girls Can Make You Blind
कभी-कभी She Can Blow Your Mind
कभी-कभी Seldom Way You Cry
दिल को चुरा के...


अनारकली डिस्को चली - Anarkali Disco Chali (Sukhwinder Singh, Mamta Sharma, Housefull 2)



Movie/Album: हाउसफुल 2 (2012)
Music By: साजिद-वाजिद
Lyrics By: समीर
Performed By: सुखविंदर सिंह, ममता शर्मा

झूमर भी मैं भूल गयी जाने जाँ तेरे लिए
अरे मैं तो सब कुछ भूल गयी जाने जाँ तेरे लिए
तेरे लिए, तेरे लिए, तेरे लिए

अरे छोड़-छाड़ के अपने सलीम की गली
अनारकली डिस्को चली
अरे देख के तुझको मुझको
मची रे खलबली
अनारकली डिस्को चली

एक सितमगर ने मुझको, दीवारों में चुनवाया
मेरे दिल की धड़कन पे, लाख पहरे लगवाया
मुझको प्यारी आज़ादी, क़ैद में अब नहीं रहना
ज़ुल्म ज़ालिम वहशी का, अब ना मुझको है सहना
मुझको हिप-हॉप सिखा दे, बीट को टॉप करा दे
थोडा सा ट्रान्स बजा दे, मुझको एक चांस दिला दे
मैं घूम लूँ मैं झूम लूँ, मैं झूम लूँ
अरे छोड़-छाड़ के अपने सलीम की गली
अनारकली डिस्को चली...

हुआ मशहूर अब तो, तेरी मेरी लव स्टोरी
तेरी ब्यूटी ने मुझको, मार डाला ओ छोरी
थोड़ा सा दे अटेंशन, मिटा दे मेरी टेंशन
आग तेरा बदन है, तेरे टच में जलन है
तू कोई एटम बम है, मेरा दिल भी गरम है
ठंडा-ठंडा कूल कर दे, ब्यूटीफुल भूल कर दे
अरे तू है दवा मदर्द की, हर दर्द की
अरे छोड़-छाड़ के अपने सलीम की गली
अनारकली डिस्को चली...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com