Takkar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Takkar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

आँखों में बसे हो तुम - Aankhon Mein Base Ho Tum (Abhijeet, Alka Yagnik, Takkar)



Movie/Album: टक्कर (1995)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: माया गोविन्द
Performed By: अभिजीत, अल्का याग्निक

आँखों में बसे हो तुम
तुम्हें दिल में छुपा लूँगा
जब चाहूँ तुम्हें देखूँ
आईना बना लूँगा

आँखों में बसे हो तुम
तुम्हें दिल में छुपा लूँगी
जब चाहूँ तुम्हें देखूँ
आईना बना लूँगी
आँखों में बसे हो...

तकदीर मेरी अब तो तकदीर तुम्हारी है
जहाँ दिल था कभी मेरा तस्वीर तुम्हारी है
ये लब जो तेरे लरज़े, मेरे दिल में हुई हलचल
मेरा चैन चुराता है तेरी आँख का काजल
अभी चैन चुराया है
कल तुम्हें चुरा लूँगी
जब चाहूँ तुम्हें देखूँ...

तू पास जो मेरे है, क्या काम बहारों से
ये चमकीले नैना क्या काम सितारों से
तेरे नाम की धड़कन हो, तेरे नाम की साँसें हो
इक पल ना जुदा हो तुम आँखों में आँखें हो
कोई नाम-ए-वफ़ा पूछे
मैं नाम तेरा लूँगा
जब चाहूँ तुम्हें देखूँ...


आँखों में बसाया था - Aankhon Mein Basaya Tha (Kumar Sanu, Takkar)



Movie/Album: टक्कर (1995)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: माया गोविन्द
Performed By: कुमार सानू

आँखों में बसाया था
तुम्हें दिल में छुपाया था
जब चाहूँ तुम्हें देखूँ
आइना बनाया था
आँखों में बसाया...

आँखों में अँधेरा है, विराना सेहरा है
ना जाने मेरा वो चाँद, किस शहर में उतरा है
जीने का बता तू ही, अब क्या अरमान करूँ
मर जाने का ऐ दिल, कोई सामान करूँ
एक साथ जीयेंगे हम
क्यों ख़्वाब दिखाया था
जब चाहूँ तुम्हें देखूँ...

क्या जान सकोगे तुम, दिन कैसे गुज़रता है
इक पल भी नहीं गुज़रे, हाँ ऐसे गुज़रता है
ना चैन ही आता है, ना नींद ही आती है
तेरी याद आती है, आकर तड़पाती है
मैंने तो तुझे जानम
पलकों पे बिठाया था
जब चाहूँ तुम्हें देखूँ...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com