Vinay Dave लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Vinay Dave लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मेरी मर्ज़ी - Meri Marzi (Devang Patel, Gambler)



Movie/Album: गैम्बलर (1995)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: विनय दवे
Performed By: देवांग पटेल

मेरी मर्ज़ी
मैं चाहे ये करूँ, मैं चाहे वो करूँ
मैं चाहे यहाँ जाऊँ, मैं चाहे वहाँ जाऊँ
गोरे को मैं कहूँ काला
जीजा को मैं बोलूँ साला
नदी को मैं बोलूँ नाला
चाबी बिना खोलूँ ताला
मेरे बारे में कुछ कहना नहीं
चुपचाप बैठे रहो बोलना नहीं
मुझे समझाना मत झूठ सही
चाहे पी जाऊँ मैं चाय-काफी डाल के दही

मेरी मर्ज़ी
हर चौराहे पर मैं अपनी मूर्ति लगवाऊँ
न्यूज़ पेपर काट के अपना सूट मैं बनवाऊँ
हॉस्पिटल में जा के मैं ज़ोरों से चिल्लाऊँ
पहलवान को गोद में ले के लोरी सुनाऊँ
दो-सौ तीन-सौ चार-सौ के छपवाऊँ नकली नोट
आलू टमाटर को मारूँ क्रिकेट के शॉट
स्विमिंग पूल में तैरने जाऊँ पहन के कुर्ता धोती
बड़ी लाटरी लगे कभी तो रखूँ सूरत रोती
मुझे अब रोको नहीं, मुझे अब टोको नहीं
मेरा कहा सुन के, तुम ऐसे अब चौंको नहीं
नकली दाढ़ी मूँछ लगा के बन जाऊँ मैं चोर
अपने घर में चोरी करके खूब मचाऊँ शोर
पानी पे मैं राशन रखूँ मुफ्त में बेचूँ तेल
कंकर पत्थर धूल डाल कर सबको दे दूँ भेल
मैं चाहे ये करूँ, मैं चाहे वो करूँ
मेरी मर्ज़ी

मेरी मर्ज़ी
मैं अपनी शादी में ना जाऊँ मेरी मर्ज़ी
मैं पैरों से तबले बजवाऊँ मेरी मर्ज़ी
मैं बीच सड़क बिस्तर लगवाऊँ मेरी मर्ज़ी
मैं कुतुब मीनार पे घर बनवाऊँ मेरी मर्ज़ी

टाई की जगह पे मैं बांधू लम्बा काला नाग
सफ़ेद कुर्ते पर लगवाऊँ बूट पॉलिश के दाग
त्योहारों में पहन के निकलूँ मैं जूतों का हार
बैलों के पीछे लगवाऊँ मैं तो मोटर कार
रसगुल्ले में मिर्ची डालूँ, दूध में डालूँ व्हिस्की
अपनी घरवाली से पूछूँ, तू है बीवी किसकी
तांगे वाले से उड़वाऊँ बोईंग जंबो जेट
भिखारी को भीख में दे दूँ, दो बेडरूम का फ्लैट
मुझे अब रोको नहीं, मुझे अब टोको नहीं
मेरा कहा सुन के तुम, ऐसे अब चौंको नहीं
हलवाई को नाई कह दूँ, धोबी को मैं माली
फिल्म फालतू देख के मैं तो खूब बजाऊँ ताली
सर पे अपने मोज़े पहनूँ, हाथ में पहनूँ बूट
पेट्रोल के संग ऑइल मिला के मारूँ दो-दो घूँट
मैं चाहे ये करूँ...

मेरी मर्ज़ी
मैं सूट के संग पहनूँगा साड़ी मेरी मर्ज़ी
मैं बांधूँ कुछ अपने पिछवाड़े मेरी मर्ज़ी
मैं भूतों की तस्वीरें खींचूँ मेरी मर्ज़ी
मैं शरबत से खेतों को सींचूँ मेरी मर्ज़ी

न्यूज़ रीडर को मैं बोलूँ गाओ तुम कव्वाली
लेक्चर दे कोई तो कह दूँ चुप हो जा मवाली
रिश्वत लेने वालों से मैं माँगूँ कन्सेशन
डॉक्टर के हाथों पे मारूँ घोड़े का इंजेक्शन
झूठ बोल कर चोरों को पहनाऊँगा चोली
देश के संग गद्दारों को मारूँगा मैं गोली
काला धन लेने वालों को दूँगा नकली नोट
ढोंगी समाजसेवक को ना दूँगा अपना वोट
मुझे अब रोको नहीं, मुझे अब टोको नहीं
मेरा कहा सुन के तुम, ऐसे अब चौंको नहीं
कोई दंगा करे जो उसको लगवाऊँगा जेल
फाँसी देकर आतंकवाद का ख़तम करूँगा खेल
मैं जीवन का ये गाना मेरी मर्ज़ी से गाऊँ
मैं अपनी मर्ज़ी से जीयूँ, मर्ज़ी से मर जाऊँ
मैं चाहे ये करूँ...

मेरी मर्ज़ी
ऐ लफड़े झगड़े गायब हो जा मेरी मर्ज़ी
ऐ देश के दुश्मन तू चुप हो जा मेरी मर्ज़ी
ऐ भारत देश तू आगे हो जा मेरी मर्ज़ी
ऐ मेरी मर्ज़ी तू सच हो जा मेरी मर्ज़ी
मैं चाहे ये करूँ...

मारूँगा मैं सौ जूते जो लगाओगे लांछन
मर जाओगे खुद ही जो सच्चे को दोगे टेंशन
भूले से भी लेना नहीं तुम मेरा नाम
गाना मेरा सुनो और करो अपना काम
मेरी मर्ज़ी
अब मेरे को नहीं गाना है
मेरी मर्ज़ी


स्टॉप दैट - Stop That (Devang Patel, Gambler)



Movie/Album: गैम्बलर (1995)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: विनय दवे
Performed By: देवांग पटेल

स्टॉप दैट, स्टॉप दैट, स्टॉप दैट, स्टॉप दैट, स्टॉप दैट, स्टॉप दैट
मैं अपने सर पे हाथ रख के कसम खाता हूँ
कि मैं जो भी कहूँगा सच कहूँगा
सच के सिवा कुछ भी नहीं कहूँगा
लेकिन मैं जब भी किसी से कुछ कहने जाता हूँ
तो वो लोग मुझे बोल देते हैं

मेरी बातें सुन कर देखो हँसना नहीं
उसे झूठ मान कर देखो फँसना नहीं
मैं सब सच कहता हूँ आपकी कसम
मैंने पिया नहीं व्हिस्की, बिअर या रम

माधुरी दीक्षित मिली रस्ते में
खाये चने हमने सस्ते में
उसने कहा तेरे संग शादी रचाऊँ
घर तेरे आके मैं पराठे पकाऊँ
माधुरी को कहा मेरे घर ना आना
श्रीदेवी को बोल दिया ना बाबा ना
चाहे दहेज में दे मुझे सोने की कार
या आके कोई दे दे मुझे हीरों का हार
पर शादी के लिए मैं तो कच्चा हूँ
अभी सौ साल का छोटा बच्चा हूँ
मेरे दद्दू पहने डायपर, चश्मे पर उनके वाइपर
डैडी की टूटे हड्डी, जब खेले वो कबड्डी
मैंने एवरेस्ट पे फुटबॉल खेला है
दोनों हाथों से ट्रेन को धकेला है
कुश्ती में दारा सिंह मेरा चेला है
मेरे घोड़ों का चाँद पे तबेला है

धीरू भाई अम्बानी ले के आये साइकिल
चाय पी गए तो देना पड़ा मुझे बिल
हर्षद मेहता मिला मुझे मंदिर के द्वार
पाँच रुपये माँगे उसने मुझसे उधार
ब्लैंक चेक दे के मैंने साइन कर दी
हर्षद ने उसमे से सूटकेस खरीदी
अब इनकम पे कोई टैक्स नहीं होगा
और सौ के नोट पे मेरा फोटो होगा
रिश्वत कंपल्सरी करने बड़ा अभियान होगा
सब मंत्रियों का ड्रेस चड्डी बनियान होगा
नेता जो चुनाव हारा, सर मुंडवायेगा सारा
जो देगा झूठे भाषण, ना मिलेगा उसे राशन
घरवाली मिलेगी सबको गूंगी
पुलिस पहनेंगे अब सिर्फ लुंगी
डॉक्टर मुफत में ऑपरेशन करेंगे
सरकारी कर्मचारी अब काम करेंगे

अंधे ने कहा चलो फिल्म देखें
लंगड़ा बोला नहीं आजा फुटबॉल सीखें
गंजा पूछे कहाँ गया मेरा कंघा
लूले ने मारा मुक्का तो हुआ दंगा
सुपारी खा के बुड्ढा मारे पिचकारी
साले ने देख उसे एक आँख मारी
गूंगा बिना सुर ताल गाने लगा गान
ये सुन बहरे ने बंद किये अपने कान
तभी एक टिंगू पेड़ से गिराए नारियल
अबसे ज्यादा बच्चों वालों को हो जाएगी जेल
पागल भी चेस खेलें, क्रिकेट खेलेगा पेले
मिस इंडिया रखे दाढ़ी, रेम्बो पहनेगा साड़ी
बुढ्ढे होने पे सबकी हाइट घटेगी
शुद्ध हवा पे सरकार टैक्स रखेगी
सिक्के बोने से पैसों की बेल खिलेगी
प्यार करने के लिए परमिट मिलेगी

आ रहा है मेरा एक पिक्चर नया
बच्चन है विलेन मेरी हीरोइन जया
सुभाष घई ने जब मुझे साइन किया
साथ बैठ हम दोनों ने वाइन पिया
जैकी चैन को सिखाई मैंने फाइट एक्शन
मेरे गानों को चुराए मायकल जैक्सन
एक्टर नहीं मैं क्रिकेटर भी हूँ
मैं तो कपिल से बढ़िया हार्ड हीटर भी हूँ
तभी घबराकर काम्बली ने शाउट किया
जब सचिन को मैंने बोल्ड आउट किया
मैं और रतन टाटा, जब लेने गए आटा
चक्की पे बैठे टायसन, सबको बेच रहा था बेसन
पी.टी. उषा ने मुझे ड्रिंक कोल्ड दिया था
जब ओलिंपिक की दौड़ में मैंने गोल्ड लिया था
एक ज्योतिष ने जब मेरा हाथ देखा था
ना होगा कोई मेरे जैसा ऐसा कहा था
मेरी बातें सुन के...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com