Vinod Rathod लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Vinod Rathod लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

अंग से अंग लगाना सजन - Ang Se Ang Lagana Sajan (Vinod Rathod, Alka Yagnik, Darr)



Movie/Album: डर (1993)
Music By: शिव-हरी
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: अलका याग्निक, विनोद राठोड़, सुदेश भोंसले

अरे जो जी में आए, तुम आज कर लो
चाहो जिसे इन बाँहो में भर लो

अंग से अंग लगाना सजन हमें ऐसे रंग लगाना
गालों से ये गाल लगा के, नैनों से ये नैन मिला के
होली आज मनाना सजन हमें ऐसे रंग लगाना
अंग से अंग लगाना...

ऊपर ऊपर रंग लगय्यो, ना करिओ कुछ नीचे
मोसे कुछ ना बोल, खड़ी रे चुप से अँखियाँ मीचे
बच के पड़ोसन जाने ना पाए
जाये तो वापस आने ना पाए
जुलमी ने ऐसे बाजू मरोड़ा
कजरा ना गजरा, कुछ भी ना छोड़ा
रपट लिखा दो थाने में
हम भर देंगे जुर्माना
अंग से अंग लगाना...
रंग बरसे...

कैसी खींचा तानी, भीगी चुनरी, भीगी चोली
होली का है नाम, अरे ये तो है आँख मिचोली
आज बना हर लड़का कान्हां, आज बनी हर लड़की राधा
तू राधा मैं कान्हां, ना ना ना ना (क्या)
बिजली और बादल, तुम दोनों हो पागल
है खूब ये जोड़ी, बस देर है थोड़ी
तुम जीवन साथी, हम सब बाराती
रंगों की डोली, ले आई होली
भर लो पिचकारी, कर लो तैयारी
एक निशाना बांध के तुम, नैनों के तीर चलाना
अंग से अंग लगाना...

भीगे भीगे तेरे तन से, जैसे शोले लपक रहे हैं
अपना रस्ता देखे मुसाफिर, तेरे नैनों भटक रहे हैं
मैं भूला रास्ता, रस्ते पे आजा
मैं थाम लूं बैय्याँ, मत छेड़ो सैय्याँ
तुम दिल मत तोड़ो, तुम आँचल छोड़ो
तुम काहे रूठी, मेरी चूड़ी टूटी
दिल मेरा टूटा, चल हट जा झूठा
तू नाच मैं गाऊं, तू बैठ मैं जाऊं
मुश्किल है जाना, तू है दीवाना
मुझे अंग लगा ले, बस रंग लगा ले
नीला के पीला, नीला न पीला
क्या लाल गुलाबी, तु बोल ओ भाभी
चुटकी भर सिन्दूर मंगाकर, इसकी मांग सजाना
अंग से अंग लगाना...


ऐ मेरे हमसफ़र - Ae Mere Humsafar (Vinod Rathod, Alka Yagnik, Baazigar)



Movie/Album: बाज़ीगर (1993)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: रानी मलिक
Performed By: विनोद राठोड़, अलका याग्निक

ऐ मेरे हमसफ़र, ऐ मेरी जान-ए-जां
मेरी मंजिल है तू, तू ही मेरा जहां
ऐ मेरे हमसफ़र ऐ मेरे जान-ए-जां
बन गए आज हम दो बदन एक जां
ऐ मेरे हमसफ़र...

भीगा भीगा आँचल, आँखों का ये काजल घायल ना कर दे मुझे
सीने की ये हलचल, बढ़ने लगी पल पल, पागल ना कर दे मुझे
पागल जो हम हो गए, बन जाएगी दास्ताँ
आहिस्ता बोलो सनम, सुन लेगा सारा जहां
मेरी मंजिल है तू...

सांसो के ये शोले, सांसो में तू घोले, पल में पिघल जाएँ हम
होठों के अंगारे, होठों पे हमारे रख दे तो जल जाएँ हम
ये प्यार वो आग है, जिसमें नहीं है धुंआ
लगती है जब ये अगन, जल जाते हैं जिस्म-ओ-जां
बन गए आज हम...


किताबें बहुत सी - Kitaabein Bahut Si (Asha Bhosle, Vinod Rathod, Baazigar)



Movie/Album: बाज़ीगर (1993)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: रानी मलिक
Performed By: आशा भोंसले, विनोद राठोड़

किताबे बहुत सी पढ़ी होंगी तुमने
मगर कोई चेहरा भी तुमने पढ़ा है
पढ़ा है मेरी जां, नज़र से पढ़ा है
बता मेरे चेहरे पे क्या क्या लिखा है

उमंगें लिखी है, जवानी लिखी है
तेरे दिल की सारी कहानी लिखी है
कहीं हाल-ए-दिल भी सुनाता है चेहरा
ना बोलो तो फिर भी बताता है चेहरा
ये चेहरा हकीकत में इक आईना है
बता मेरे चेहरे पे क्या क्या लिखा है
किताबे बहुत सी पढ़ी...

अगर हम कहें हमको उल्फत नहीं है
कहोगी भी कैसे मोहब्बत नहीं है
बड़े आये चेहरे पे ये मरने वाले
दिखावे का एहद-ए-वफ़ा करने वाले
दिखावा नहीं प्यार की इम्तहाँ है
बता मेरे चेहरे पे क्या क्या लिखा है
किताबे बहुत सी पढ़ी...


ढोली तारो ढोल बाजे - Dholi Taaro Dhol (Hum Dil De Chuke Sanam)



Movie/Album: हम दिल दे चुके सनम (1999)
Music By: इस्माईल दरबार
Lyrics By: महबूब
Performed By: कविता कृष्णामूर्ति, विनोद राठोड, करसन सरगाथिया

हे खा ना ना ना ना खनखना....
झनननन झंझनाट झांझर बाजे रे आज, टनननन टनटनाट मंजीरा बाजे
खनननन खनखनाक गोरी के कंगना आज, छनननन छ्ननाक पायल संग बाजे
सर पर चुनर ओढ़े निकलेगी आज राधे, लहरा, लहरा के गोपियों संग
कान्हां भी पीछे पीछे, टाँग कोई खींचे खींचे, मुरली से बरसाएगा सुर तरंग
धरती और वो गगन, झूमेंगे संग संग, सब पे चढ़ेगा आज प्रेम रंग
रंगीं गुलाल होगा, सोचो क्या हाल होगा, नाचेंगे प्रेम रोगी दम दमा दम दम
धम धम धातीलाल धातीलाल धिरकिट धिरकिट धिलाल
बाजे मृदंग धनाधन, धन धनाधन बाजे
छम छम छम छम छ्माक, झांझर झमझमाक
घुँघरू घम घम घमाक, चमक चम चमाके
हे बाजे रे बाजे रे बाजे रे बाजे रे, ढोल बाजे

हे बाजे रे बाजे रे बाजे रे
ढोली तारो ढोल बाजे, ढोल बाजे, ढोल बाजे, ढोल
के ढम ढम बाजे ढोल
कि ढोली तारो ढोल बाजे, ढोल बाजे, ढोल बाजे, ढोल
तो ढम ढम बाजे ढोल
हे हे, छोरी बड़ी अनमोल, मीठे मीठे इसके बोल
आँखें इसकी गोल गोल, गोल गोल, तो ढम ढम बाजे ढोल
हाँ हाँ छोरा छोरा है नटखट, बोले है पटपट
अरे छेड़े मुझे बोले ऐसे बोल, तो ढम ढम बाजे ढोल

रसीलो ये रूप तारो छूं लूं ज़रा
अरे ना, अरे हाँ
अरे हाँ हाँ हाँ हाँ
रात की रानी जैसे रूप मेरा, महका सा, महका सा, महका सा, महका सा
उड़ेगी महक मुझे छूना ना, तू क्यों बहका सा, बहका सा, बहका सा सा सा सा सा सा सा सा
पास आजा मेरी रानी, सुनूँ नहीं मैं दिवानी
करूँगा मैं मनमानी, मत कर शैतानी
अरे रेरेरेरे, सरे रेरेरे, परेरेरेरे
कि ढोली तारो....


हर तरफ है ये शोर - Har Taraf Hai Ye Shor (Vinod Rathod, Vaastav)



Movie/Album: वास्तव (1999)
Music By:
जतिन-ललित
Lyrics By:
समीर
Performed By: विनोद राठोड़

तुझा घरात नाहीं पानी घाघर उतानी रे गोपाळ
अरे गोविंदा रे गोपाला गोविंदा रे गोपाला
यशोदे चा कान्यावादा यशोदे चा कान्यावादा

अरे टोली बना के निकले ग्वाले, करने को हुड़दंग
गोविंदा के दिन सब हो गए हैं, गोविंदा के संग
अरे समझे
हर तरफ है ये शोर, आया गोकुल का चोर
आज हम लोग मस्ती करेगा
कहीं मटकी तोड़े, कहीं नैना जोड़े
आज गड़बड़ घोटाला चलेगा
हर तरफ है ये शोर...

आला रे आला गोविंदा आला
छत के ऊपर खड़ी देखना फुलझड़ी
हम करेंगे कोई छेड़खानी
ओ हम चलें झूमने, आसमान चूमने
आज मस्ती में है ज़िन्दगानी
हाँ दे दो दुआएं माँ-जी, मारेंगे हम तो बाजी
दुश्मन ज़माना जलेगा
हर तरफ है ये शोर...

दगडू मामा, दगडू मामा, पेटी वाज़व, मामा पेटी वाज़व
दोन कोंबड्या दीन नाहीतर पथावूँ सोडाव
इस गली उस गली, बात अपनी चली
हो गया अपना ही बोलबाला रे
हो जोश में होश का, दोस्तों काम क्या
हमसे टक्कर न ले कोई साला
हम सब हैं दिल के राजे, अपना ही डंका बाजे
अपना ही सिक्का चलेगा
हर तरफ है ये शोर...


छलक छलक - Chalak Chalak (Udit Narayan, Vinod Rathod, Shreya Ghoshal, Devdas)



Movie/Album: देवदास (2002)
Music By: इस्माइल दरबार
Lyrics By: नुसरत बद्र
Performed By: उदित नारायण, विनोद राठोड़, श्रेया घोषाल

हे शीशे से शीशा टकराये, जो भी हो अंजाम
ओ देखो कैसे छलक-छलक छल
छलक-छलक छलकाए रे
हे झांझ-पखावज ताशे-बाजे छलके जब ये जाम
ओ देखो कैसे धमक-धमक धम
धमक-धमक धमकाए रे
शीशे से शीशा टकराये

ये मदिरा हाँ ये मदिरा तो ले आती है यादों की बरसात
छलक-छलक के छलती जाये दिल को ये मदिरा
ये मदिरा होठों से उतरे, तो बोले, दिल के बात
गरज-गरज के दिल में गरजे ग़म के ये बदरा
दिल तक जैसे ये पहुँची, आई, आई, आई उसकी याद
उसकी एक झलक मिल जाये इतनी है फ़रियाद

हे नाचे मीरा जोगन बन के ओ मेरे घनश्याम
देखो-देखो
नाचे मीरा लहरा के बलखा के ओ मेरे घनश्याम
ओ देखो कैसे, झनक-झनक झन
झननन पायल बाजे रे
प्यार में तेरे दिल ये चाहे हो जाए बदनाम
ओ देखो कैसे, ओ देखो...
थिरक-थिरक दिल
थिरक-थिरकता जाए रे
हे धमक-धमक धम
धमक-धमकता जाए रे


मैं तो हूँ पागल मुंडा - Main To Hoon Pagal Munda (Alka Yagnik, Vinod Rathod, Army)



Movie/Album: आर्मी (1996)
Music By: आनंद-मिलिंद
Lyrics By: समीर
Performed By: अल्का याग्निक, विनोद राठोड़

मैं तो हूँ पागल मुंडा
तू है मेरी सोणी कुड़ी
ले के दिल के पिंजरे को
बुलबुल मेरी कहाँ उड़ी
रस्ते में खड़ा है, ज़िद पे क्यूँ अड़ा है
मेरे पीछे पड़ा है, तू दीवाना बड़ा है
रब्बा आई मुसीबत बड़ी
मैं तो हूँ पागल मुंडा...

पतली कमर से ठुमका जो मारे
हो जाये पागल सारे कंवारे
मिर्ची के जैसी बोली
नैनों से मारे गोली
देखो तो चेहरे से लगती है भोली
देखा कहीं ना ऐसा अनाड़ी
उल्टी चलाये चाहत की गाड़ी
मेरी मर्ज़ी ना जाने मेरी बातें न माने
छेड़े हैं राहों में कर के बहाने
मैं तो हूँ पागल मुंडा...

तीखी हसीना मीठी कटारी
कब तक रहेगी ऐसे कंवारी
ले के मैं डोली आऊँ
हाथी घोड़े भी लाऊँ
दीवानी दुल्हन मैं तुझको बनाऊँ
तेरी है तेरी मेरी जवानी
मैं भी बनूँगी ख़्वाबों की रानी
जल्दबाज़ी ना करना
ऐसे आँहें ना भरना
तेरी ही बाहों में है जीना मरना
मैं तो हूँ पागल मुंडा...


चाहत ना होती - Chaahat Na Hoti (Alka Yagnik, Vinod Rathod, Chaahat)



Movie/Album: चाहत (1996)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: निदा फ़ाज़ली
Performed By: अल्का याग्निक, विनोद राठोड़

चाहत नदिया चाहत सागर
चाहत धरती चाहत अम्बर
चाहत राधा चाहत गिरधर

दिल का धड़कना यही चाहत है
नींद न आना यही चाहत है
चाहत ना होती कुछ भी ना होता
मैं भी ना होती, तू भी ना होता
(तू भी ना होती, मैं भी ना होता)
दिल का धड़कना...

तुम मुझसे अलग कब हो
मैं तुमसे जुदा कब हूँ
पानी में कँवल जैसे
रहते हो मुझी में तुम
देखूँ तो तुम्हें देखूँ
सोचूँ तो तुम्हें सोचूँ
सागर में नदी जैसे
बहते हो मुझी में तुम

चाहत खुशबू, चाहत रंगत
चाहत मूरत, चाहत कुदरत
चाहत गंगा, चाहत जमुना
होश गँवाना यही चाहत है
जान से जाना यही चाहत है
चाहत ना होती...

जब तू नहीं होता है
उस वक्त भी हर शय में
हर गीत में हर लय में
तू ही नज़र आता है
बिखरा के कभी ज़ुल्फ़ें
चमका के कभी चेहरा
तुम ही मेरी दुनिया के
दिन रात सजाते हो

चाहत घूँघट, चाहत दर्पण
चाहत सजनी, चाहत साजन
चाहत पूजा, चाहत दर्शन
आँख भर आना यही चाहत है
जी घबराना यही चाहत है
चाहत ना होती...


All lyrics are property and copyright of their owners. All the lyrics are provided for educational purposes only. Copyright © Lyrics In Hindi | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com